भगवान विष्णु जी की चालीसा और मंत्र

संसार के पालनहार Shri Vishnu Chalisa in Hindi के इस लेख के माध्यम से मैं आपको बताऊंगा प्रभु विष्णु चालीसा से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी.

यह तो आप जानते ही हैं कि भगवान विष्णु वैष्णव धर्म के सर्वोच्च देवता हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि विष्णु जी को “नारायण” के रूप में भी जाना जाता है.

इसके साथ ही विष्णु जी को संरक्षक के रूप में भी माना जाता है और हिंदू त्रिमूर्ति (त्रिदेव) का मध्य भाग है जिसमें ब्रह्मा, विष्णु और महेश (महादेव) शामिल हैं.

वैष्णव या श्री हरि विष्णु के अनुयायी मानते हैं कि श्री विष्णु चालीसा का पाठ करना भगवान को आमंत्रित करने का सबसे सरल साधन है.

Shree Vishnu Chalisa Sanskrit में रची गई है और अनिवार्य रूप से श्री विष्णु के “पालनहार” (निरंतर और प्रस्तोता) के गुण गाती है.

श्री विष्णु चालीसा हिंदी में पढ़ने के उपरांत आपको यह ज्ञात तो हो ही जाएगा कि उन्हें (प्रभु विष्णु) को ब्रह्मांड के देवता के रूप में प्रतिष्ठित किया जाता है.

भगवान को श्री कृष्ण के रूप में संबोधित किया जाता है, अब तक उनका अंतिम अवतार पृथ्वी पर एक नश्वर के रूप में था.

उन्हें देवकी और वासुदेव की प्यारी संतान कहा जाता है, जो कि कमल के फूल की तरह सुंदर है, जो अपने भक्तों की सभी इच्छाओं को पूरा करते है.

Shri Vishnu Chalisa in Hindi में एक भक्त श्री हरि विष्णु के भौतिक रूप की भी प्रशंसा करता है, उनकी चार भुजाएं कमल, एक गदा, एक शंख और एक डिस्कस से सुशोभित हैं.

भगवान विष्णु को ब्रह्मांड का रक्षक माना जाता है। वर्णित और हजारों नामों से अलंकृत, भगवान विष्णु हिंदू धर्म में सबसे पसंदीदा देवताओं में से एक है.

ब्रह्मांड के रक्षक होने के नाते, भगवान विष्णु के पास सभी मनुष्यों की प्रार्थना सुनने और उन्हें उचित तरीके से जवाब देने का दिव्य मिशन है.

वह आसानी से उन प्रार्थनाओं से प्रसन्न होता है जो लोग करते हैं। विष्णु मंत्र का प्रतिदिन जाप करना स्वास्थ्य, समृद्धि और खुशी का मार्ग है और हम जीवन में जो कुछ भी चाहते हैं उसे हासिल कर सकते हैं.

नीचे अब मैं आपके साथ कुछ श्री विष्णु मंत्र शेयर करने जा रहा हूँ, जिसके साथ मैं आपको उसका अर्थ भी बताऊँगा जिससे आपके लिए श्री हरि विष्णु भगवान का मंत्र को समझ कर उसका जाप करना आसान हो जाएगा.

भगवान श्री कृष्ण से जुड़े महत्वपूर्ण लेख

Mangalam Bhagwan Vishnu Mantra in Hindi

  • शांताकारम भुजगशयनम मंत्र

अर्थात : शांतिपूर्ण और अत्यधिक आकर्षक रूप वाला; वह जो पाँच सिर वाले नाग आदिकेश पर पाठ करता है।

  • पद्मनाभम सुरेशम्

अर्थात : अपने नौसैनिकों से निकलने वाले स्वर्गीय कमल के साथ; वह जो सभी देवताओं का मुखिया हो।

  • विश्वधर्म कंगना सदृशम्

अर्थात : जो इस ब्रह्मांड का समर्थक है; वह जो अंतरिक्ष की तरह विशाल हो।

  • मेघ वर्णम शुभांगम

अर्थात : जो बादलों की तरह रंग में अंधेरा है; वह जो बहुत शुभ स्वरूप हो।

  • लक्ष्मी कांतम कमल नयनम

अर्थात : वह जो लक्ष्मी का स्वामी (धन की देवी) है; वह जिसके पास कमल की पंखुड़ियों की तरह आँखें हैं।

  • योगी हृद ध्याना गम्यम

अर्थात : वह जो ऋषियों की तपस्या के बाद मांगा जाता है।

  • वन्दे विष्णुं भव भय हरम

अर्थात : मैं भगवान विष्णु को नमन करता हूं जो सांसारिक बंधन और भय का निवारण करने वाले है।

  • सर्व लोकेका नाथम

अर्थात : मैं उसे सारी दुनिया के भगवान के रूप में जानता हूं।

Shri Vishnu Chalisa Lyrics in Hindi

|| Vishnu Songs Download ||

प्रिय भक्तों यह है विष्णु जी की चालीसा, यदि आप चाहे तो इसका अपने डिवाइस में स्क्रीनशॉट भी ले सकते हैं और फिर सुबह के समय जब आप स्नान कर लें उसके बाद पूजा करने बैठे तो श्री विष्णु चालीसा का जाप अपने मोबाइल में से देख कर कर सकते हैं.

यदि कभी भविष्य में आपके फोन में इंटरनेट ना हो या नहीं काम कर रहा हूँ, उस समय आपके लिए यह स्क्रीनशॉट काफी फायदेमंद साबित होगा.

यदि आपको पूजा करते समय मोबाइल में से Hindi Vishnu Chalisa पढ़ना सही ना लगे तो आप इस चालीसा को एक पेज पर भी लिख सकते हैं, और फिर पूजा के समय उसका इस्तेमाल किया जा सकता है.

Bhagwan Vishnu Chalisa in Hindi Lyrics

Vishnu Chalisa in Hindi
Shri Vishnu Images Download

।।दोहा।।

विष्णु सुनिए विनय सेवक की चितलाय ।
कीरत कुछ वर्णन करूं दीजै ज्ञान बताय ॥

।।चौपाई।।

नमो विष्णु भगवान खरारी, कष्ट नशावन अखिल बिहारी ।
प्रबल जगत में शक्ति तुम्हारी, त्रिभुवन फैल रही उजियारी ॥1॥

सुन्दर रूप मनोहर सूरत, सरल स्वभाव मोहनी मूरत ।
तन पर पीताम्बर अति सोहत, बैजन्ती माला मन मोहत ॥2॥

शंख चक्र कर गदा बिराजे, देखत दैत्य असुर दल भाजे ।
सत्य धर्म मद लोभ न गाजे, काम क्रोध मद लोभ न छाजे ॥3॥

सन्तभक्त सज्जन मनरंजन, दनुज असुर दुष्टन दल गंजन ।
सुख उपजाय कष्ट सब भंजन, दोष मिटाय करत जन सज्जन ॥4॥

पाप काट भव सिन्धु उतारण, कष्ट नाशकर भक्त उबारण ।
करत अनेक रूप प्रभु धारण, केवल आप भक्ति के कारण ॥5॥

धरणि धेनु बन तुमहिं पुकारा, तब तुम रूप राम का धारा ।
भार उतार असुर दल मारा, रावण आदिक को संहारा ॥6॥

आप वाराह रूप बनाया, हरण्याक्ष को मार गिराया ।
धर मत्स्य तन सिन्धु बनाया, चौदह रतनन को निकलाया ॥7॥

अमिलख असुरन द्वन्द मचाया, रूप मोहनी आप दिखाया ।
देवन को अमृत पान कराया, असुरन को छवि से बहलाया ॥8॥

कूर्म रूप धर सिन्धु मझाया, मन्द्राचल गिरि तुरत उठाया ।
शंकर का तुम फन्द छुड़ाया, भस्मासुर को रूप दिखाया ॥9॥

वेदन को जब असुर डुबाया, कर प्रबन्ध उन्हें ढुढवाया ।
मोहित बनकर खलहि नचाया, उसही कर से भस्म कराया ॥10॥

असुर जलन्धर अति बलदाई, शंकर से उन कीन्ह लडाई ।
हार पार शिव सकल बनाई, कीन सती से छल खल जाई ॥11॥

सुमिरन कीन तुम्हें शिवरानी, बतलाई सब विपत कहानी ।
तब तुम बने मुनीश्वर ज्ञानी, वृन्दा की सब सुरति भुलानी ॥12॥

देखत तीन दनुज शैतानी, वृन्दा आय तुम्हें लपटानी ।

हो स्पर्श धर्म क्षति मानी, हना असुर उर शिव शैतानी ॥13॥

तुमने ध्रुव प्रहलाद उबारे, हिरणाकुश आदिक खल मारे ।
गणिका और अजामिल तारे, बहुत भक्त भव सिन्धु उतारे ॥14॥

हरहु सकल संताप हमारे, कृपा करहु हरि सिरजन हारे ।
देखहुं मैं निज दरश तुम्हारे, दीन बन्धु भक्तन हितकारे ॥15॥

चहत आपका सेवक दर्शन, करहु दया अपनी मधुसूदन ।
जानूं नहीं योग्य जब पूजन, होय यज्ञ स्तुति अनुमोदन ॥16॥

शीलदया सन्तोष सुलक्षण, विदित नहीं व्रतबोध विलक्षण ।
करहुं आपका किस विधि पूजन, कुमति विलोक होत दुख भीषण ॥17॥

करहुं प्रणाम कौन विधिसुमिरण, कौन भांति मैं करहु समर्पण ।
सुर मुनि करत सदा सेवकाई हर्षित रहत परम गति पाई ॥18॥

दीन दुखिन पर सदा सहाई, निज जन जान लेव अपनाई ।
पाप दोष संताप नशाओ, भव बन्धन से मुक्त कराओ ॥19॥

सुत सम्पति दे सुख उपजाओ, निज चरनन का दास बनाओ ।
निगम सदा ये विनय सुनावै, पढ़ै सुनै सो जन सुख पावै ॥20॥

विष्णु मंत्र की प्रभावकारिता

Lord Vishnu Chalisa in Hindi Language में पढ़ने से पहले आइए एक बार भगवान विष्णु के बारे में थोड़ी बहुत जानकारी और जान लेते हैं.

भगवान विष्णु इतने कृपालु और दयालु हैं कि एक बार ऋषि भृगुत्रिमूर्ति (सृष्टि, जीव और विनाश के तीन देवता अर्थात ब्रह्मा, विष्णु और शिव) का परीक्षण करना चाहते थे कि कौन सबसे अधिक सहिष्णु है.

जब उन्होंने ब्रह्मलोक और शिवलोक में अपशब्दों का प्रयोग किया, तो उन्हें विधिवत शाप दिया गया और उन्हें दंडित किया गया।

फिर वह भगवान विष्णु के निवास स्थान वैकुंठ में चला गया था और फिर प्रभु के धैर्य और सहनशीलता को परखने के माध्यम से, उन्होंने अपने पैर से प्रभु को लात मारी.

एक बार भगवान विष्णु ने ऋषि के पैरों को पकड़ लिया और कहाँ कि लात मारकर, पैर ने कुछ दर्द को आमंत्रित किया होगा और इसलिए वह अपनी परेशानी कम करना चाहते थे.

ऋषि इस बात से बहुत आश्चर्यचकित थे कि भगवान किस हद तक बेईमानी का काम कर सकते हैं, यह घटना उनके लिए यह निष्कर्ष निकालने के लिए पर्याप्त थी कि भगवान विष्णु सबसे दयालु, प्रेम करने वाले और दयालु भगवान थे.

भगवान विष्णु से प्रार्थना कर उनका आशीर्वाद बहुतायत में प्राप्त करने का यह एक बहुत ही अच्छा तरीका है.

अक्सर विष्णु जी की दैनिक प्रार्थना अर्थात रोजाना सुबह स्नान करने के उपरांत पूजा करने से सबसे सकारात्मक परिणाम प्राप्त करने की सलाह दी जाती है.

ऐसा भी कहा जाता है कि जो लोग अपनी मनोकामना पूरी करना चाहते हैं, उन्हें प्रतिदिन 108 बार परिक्रमा पूरी करके विष्णु मंत्र का जाप करना चाहिए.

श्री विष्णु पूजन की सरल विधि और नियम

सुबह जल्दी उठें, भगवान विष्णु के चित्र या मूर्ति के सामने घी का दीपक और धूप जलाएं और किसी भी प्रसाद के अलावा कुछ शुद्ध पानी और फूल अर्पित करें, जिससे आप आराम महसूस कर सकते हैं.

वेदी के सामने बैठे और मंत्र का ईमानदारी से अर्थ पर चिंतन करें, भगवान विष्णु के आशीर्वाद से आप अपनी इच्छाओं को उचित रूप से पूरा कर पाएंगे.

मंत्रों के साथ – साथ यदि आप विष्णु चालीसा का जाप करेंगे तो यकीनन ही आपको इसका फल और बेहतर प्राप्त होगा.

अन्य चालीसा पढ़े :

Vishnu Chalisa PDF Download in Hindi and English

यदि आपको Vishnu Chalisa PDF Download करना है तो आप नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक कर के श्री विष्णु चालीसा पीडीएफ फ़ाइल डाउनलोड कर सकते हैं.

Shree Vishnu Chalisa in Hindi PDF Download

भगवान विष्णु के दस अवतार के नाम
1. मत्स्य2. कूर्म
3. वराह4. नरसिंह
5. वामन6. परशुराम
7. राम8. कृष्ण
9. बुद्ध10. कल्कि

श्री कृष्ण अवतार में श्रीमद्भगवद्गीता में श्रीकृष्ण के द्वारा कहा गया सबसे महत्वपूर्ण श्लोक:

यदा यदा ही धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत।
अभ्युथानम् अधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम्॥

परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम्।
धर्मसंस्थापनार्थाय संभवामि युगे-युगे॥

अर्थात् जब-जब धर्म की हानि और अधर्म का उत्थान हो जाता है, तब-तब सज्जनों के परित्राण और दुष्टों के विनाश के लिए मैं विभिन्न युगों में (माया का आश्रय लेकर) उत्पन्न होता हूँ। अधिक जानकारी के लिए विकिपीडिया का ये लेख पढ़े.

तो दोस्तों, यह था Vishnu Chalisa in Hindi का भक्ति लेख जिसमे मैंने आपके साथ विष्णु जी से जुड़ी अलग – अलग प्रकार की जानकारी शेयर की.

इस लेख को अंत तक पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद, यदि इस लेख को पढ़ कर आपके मन में किसी प्रकार का कोई प्रश्न उत्पन्न होता है तो आप नीचे दिये गए कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर उसमे कमेंट कर आप अपने प्रश्न का उत्तर प्राप्त कर सकते हैं.

Vishnu Bhagwan Ji Ki Aarti और Vishnu Chalisa in Hindi के इस लेख को सोशल मीडिया के माध्यम से अपने दोस्तों, परिवार वालो एवं रिश्तेदारों के साथ सोशल मीडिया के माध्यम से शेयर करना ना भूले.

Shri Vishnu Chalisa Lyrics in Hindi
भगवान विष्णु जी की चालीसा और मंत्र

।।दोहा।। विष्णु सुनिए विनय सेवक की चितलाय । कीरत कुछ वर्णन करूं दीजै ज्ञान बताय ॥

Editor's Rating:
5
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Himanshu Grewal

मेरा नाम हिमांशु ग्रेवाल है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमे आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, इंग्लिश स्पीकिंग, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

Leave a Comment