सुकन्या समृद्धि योजना क्या है, नियम, अकाउंट अपडेट और इंटरेस्ट रेट कितना है?

आज हम आपको एक बहुत ही महत्वपूर्ण सूचना देने जा रहे है जिसका शीर्षक है “सुकन्या समृद्धि योजना”.

यदि आप इस योजना के बारे में बिलकुल तेह तक की जानकारी हासिल करना चाहते हो तो इस लेख को अंत तक ध्यान से पढ़े|

लेख को शुरू करने से पहले मै आपको बताना चाहता हूँ कि आज के इस लेख को पढ़ते हुए आप लोगों को कई बार गुस्सा भी आएगा लेकिन दोस्तो मै आपको बस इतना ही कहना चाहूँगा कि अपने गुस्से पर काबू रखते हुये जरा सच्चाई को पास से देखिये और महसूस कीजिये|

भारत आज भी विकसित देशों की गिनती में नहीं आता है, आज भी हमारे देश का नाम विकास हो रहे देशों में गिना जा रहा है, कही न कही आज भी इसके पीछे की वजह लड़कियों को ही ठहराया जाएगा.

अब आप ही बताइये क्या मै गलत बोल रहा हूँ?

भारत के कई क्षेत्रों में आज भी कई ऐसी जगह है जहाँ लोग लड़का पैदा होने पर जश्न मनाते हैं वहीं दूसरी ओर लड़की का जन्म हो जाए तो खामोशी का सेहरा बाँध लेते हैं|

आए दिन महिलाएं सामाजिक, आर्थिक, और शैक्षणिक क्षेत्र में लिंग भेदभाव की शिकार होती रहती हैं, लेकिन चिंतित करने वाली बात यह है कि 21वीं सदी में आकर भी लिंग भेदभाव क्यूँ? क्या हमारा समाज आज भी रूढ़िवादी सोच के भवर में फसा हुआ है?

भारतीय योजनाएं ⇓

सुकन्या समृद्धि योजना की जानकारी हिंदी में

प्रचीन काल से ही भारत में महिलाओं को कमजोर वर्ग के रूप में समझा जाता रहा है| वह घर और समाज दोनों में शोषित, अपमानित और भेदभाव से पीड़ित होती हैं, यह भेदभाव किसी न किसी रूप में दुनिया में हर जगह प्रचलित है, लेकिन भारतीय समाज में तो बहुत अधिक है.

वैसे तो भारत के संविधान में महिलाओं और पुरुषों को समान अधिकार दिया गया है, कई ऐसे कानून भी हैं जिसके तहत समाज में किसी भी व्यक्ति के साथ उसके लिंग आधार पर भेदभाव नहीं किया जा सकता है, लेकिन इसके बाद भी लिंग भेदभाव केवल समाज में ही नहीं बल्कि कार्यस्थल पर भी देखा जा सकता है.

देखा जाए तो महिलाओं के प्रति समाज में भेदभाव के कारण गरीबी और शिक्षा की कमी है क्योंकि गरीबी और शिक्षा की कमी के कारण बहुत सी महिलाएं कम वेतन पर कार्य करने के लिए मजबूर हो जाती हैं.

उनके सामने न केवल कम कौशल की नौकरियां पेश की जाती हैं बल्कि उनसे उनकी क्षमता से अधिक कार्य भी करवाया जाता है, जिनका वेतन बहुत कम होता है| समान कार्य के लिए समान वेतन सिर्फ कागजो तक ही सीमित रह गया है.

आज के 21वी सदी में महिलाएं पुरुषों से कंधे से कन्धा मिलाकर चल रही हैं| हर क्षेत्र में उन्होनें अपना अच्छा प्रदर्शन दिया है, परन्तु फिर भी उनके साथ लिंग भेदभाव देखा जा सकता है| उन्हें बराबरी का दर्जा नहीं दिया जाता है.

आज भी भारत मे करीबन 35-40% इंसान आपको ऐसे जरूर मिल जाएंगे जिनकी सोच आज भी पिछड़ी हुई है, हर बात पर लड़की को रोकना, टोकना, डाटना, फटकारना, मारना, पीटना बस उनको किसी भी तरह से दबाना, उनको आगे ना बढ़ने देना जैसी होती है.

आज भी जब युग इतना आगे बढ़ गया है भारत के कई गाँव में लड़कियों को न तो पढ़ने दिया जाता है और तो और लोगों का कहना है कि अगर हम लड़की को पढ़ाने में खर्चा करेंगे तो उसकी शादी के वक्त पैसा कहा से लाएँगे?

वही कुछ लोग तो ऐसे भी है जो बेटी को जन्म देने से भी डरते हैं और एक औरत के गर्व शिशु के आते ही उनका लिंग जाच कर अगर लड़की निकले तो उसको तभी साफ करा दिया जाता है| इस भेद को मिटाने के लिए हमें जड़ से शुरुआत करनी होगी.

बचपन से ही बच्चों को लिंग समानता की सीख देनी होगी ताकि आगे चलकर इस मानसिकता को खत्म किया जा सके|

शिक्षण संस्थान और धार्मिक स्थल सम्मेलन में जागरुकता लाने की जरूरत है| साथ ही साथ सरकार नें इसकी रोकथाम के लिए बहुत सारी योजनाएं बनायी हैं उन्हें अच्छे से लागू करने की जरूरत है ताकि लड़कियां अपने आपको कमजोन न समझें और भयमुक्त होकर एक सशक्त समाज के निर्माण में सहयोग दे सके.

भारत की सरकार ने इन सब चीजों को मध्य नजर रखते हुए कई कड़े नियम भी बनाए, नियम का उलघन करने के लिए कड़े से कड़े सजा भी रखी| तभी भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंदर मोदी जी ने वर्ष 2015 में कुछ लोगो के सहयोग से एक नतीजे पर जा पहुचे और उन्होंने सुकन्या समृद्धि योजना का निर्माण किया|

सुकन्या समृद्धि योजना इन हिंदी – Sukanya Samriddhi Yojana in Hindi

यह भारत सरकार द्वारा चलाई गई एक ऐसी स्कीम है जिसमे कन्या के माता-पिता को खास तौर पर टार्गेट किया गया है| इस योजना के तहत माता पिता अपनी कन्या के भविष्य में की जाने वाली पढ़ाई या शादी-विवाह के लिए धीरे-धीरे पैसे जोड़ते हैं.

नरेंद्र मोदी जी ने 22 जनवरी 2015 में बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ कैंपेन के तहत इस स्कीम को लॉंच किया|

सुकन्या समृद्धि योजना इंटरेस्ट रेट – Sukanya Samriddhi Yojana Interest Rate in Hindi

वर्तमान समय में यह स्कीम 8.5 फीसदी के दर से इंटरेस्ट दे रही है.

यदि आप भी इस स्कीम के तहत अकाउंट खुलवाना चाहते हैं तो आप अपने नजदीकी भारतीय डाक घर जा के फॉर्म भर के अकाउंट खुलवा सकते हैं.

सुकन्या समृद्धि योजना कैलकुलेटर इन हिंदी – Sukanya Samriddhi Yojana Calculation in Hindi

किसी भी निवेश का लाभ केवल इस आधार पर निर्धारित किया जा सकता है कि समय के साथ निवेश कितना बढ़ता है|

तो चलिए देखते है कि कितने रुपया जमा करने पर आपको कितने प्रतिशत रिटर्न मिलेगा|

  • मान लें आपने वार्षिक निवेश ⇒ 1 लाख रूपये किया है|
  • निवेश की अवधि ⇒ 15 वर्ष
  • 15 वर्षों के अंत में निवेश की गई कुल राशि ⇒ 15 लाख रूपये|

15 वर्षों के अंत में सुकन्या समृद्धि निवेश का मूल्य 8% प्रति वर्ष ब्याज दर ⇒ 28.32 लाख रुपया हुआ|

इस प्रकार आप लंबी अवधि में इस गारंटीड रिटर्न निवेश में निवेश करके अपने पैसे को लगभग दोगुना कर सकते हैं.

सुकन्या समृद्धि योजना के नियम – Sukanya Samriddhi Yojana Detail in Hindi

आइये दोस्तो यदि अब आप भी इसके तहत अकाउंट खुलवाना चाहते हैं तो अब आपको कुछ खास बाते जान लेनी चाहिए, क्यूंकि अकाउंट खुलवाने के लिए भारत सरकार ने कुछ नियम व शर्ते भी रखी है.

1. सुकन्या समृद्धि योजना का खाता बेटी के जन्म से लेकर 10 वर्ष तक की आयु तक के बीच खुलवाया जा सकता है|

2. जमाकर्ता बेटी के नाम से सिर्फ एक ही खाता खोल सकता है| माता-पिता या संरक्षक दो बेटियों के अलग-अलग एक खाता खोल सकते हैं|

3. यदि जुड़वा बेटियां हैं तो जन्म संबंधी प्रमाणपत्र प्रस्तुत करना होगा जिसके बाद तीसरा खाता खोला जा सकता है|

4. खाता खोलने के लिए जरूरी राशि सुकन्‍या समृद्धि का एक खाता 1000 रुपए में शुरुआती जमा राशि पर खोला जा सकता है|

5. इससे पहले इस खाते में प्रति वर्ष 1000 रुपए न्‍यूनतम जमा राशि जमा करनी होती थी जो अब सिर्फ 250 रुपया है|

6. एक वित्तीय वर्ष में इस खाते में न्यूनतम 250 रुपया और अधिकतम 1 लाख 50 हजार रुपया जमा किया जा सकेगा|

7. यह पैसा अकाउंट खुलने के 14 साल तक ही जमा करवाना होगा|

8. बालिका के 10 वर्ष तक की आयु होने तक माता-पिता खाते को संचालित कर सकते हैं इसके बाद बेटी खुद खाता संचालित कर सकती है|

9. इसके अलावा इस योजना के अंतर्गत किसी भी पोस्‍ट ऑफिस ब्रांच और सरकारी बैंक में अकाउंट खुलवाया जा सकता है|

10. जमा राशि निकालने की शर्तें बालिका के 18 वर्ष की आयु पूरा कर लेने के बाद ही सुकन्या समृद्धि योजना के खाते में जमा राशि की केवल 50 फीसदी राशि निकाली जा सकती है|

11. यदि किसी कारणवश बालिका की मृत्यु हो जाती है तो संरक्षक द्वारा खाता बंद कर दिया जाएगा और पूरी जमा राशि ब्याज के साथ निकाल ली जाएगी|

12. बालिका का विवाह यदि 18 वर्ष के बाद या 21 वर्ष से पहले होता है तो शादी की तारीख के बाद खाता बंद कर दिया जाएगा|

आइये दोस्तो अब जानते हैं कि सुकन्या समृद्धि योजना के तहत अकाउंट कैसे खुलवाया जाये?

सुकन्या समृद्धि खाता कैसे खोले – How To Open Sukanya Samriddhi Account Online in SBI in Hindi

आप दो तरह से स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में सुकन्या समृद्धि का खाता खुलवाने के विषय में विस्तृत जानकारी प्राप्त कर सकते हैं|

पहला » आप अपने नजदीकी स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की शाखा में जाएं और वहां शाखा प्रबंधक से इस विषय में जानकारी मांगे|

शाखा प्रबंधक आपको इस योजना के विषय में हर बात बताएंगे|

दूसरा तरीका है कि आप इंटरनेट के माध्यम से स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की वेबसाइट पर जाएं और सुकन्या समृद्धि योजना के बारे में ऑनलाइन जानकारी प्राप्त करें.

सुकन्या समृद्धि अकाउंट खोलने के लिए जरूरी दस्तावेज
  • लड़की के जन्म का प्रमाण पत्र|
  • माता-पिता का फोटो पहचान पत्र|
  • एड्रेस प्रूफ बच्चे और माता पिता की तस्वीर|
सुकन्या समृद्धि खाता फॉर्म कैसे भरें – Sukanya Samriddhi Yojana Form Detail in Hindi
  1. आप एसबीआई की ऑफिसियल वेबसाइट पर विजिट कर सुकन्या समृद्धि योजना के फॉर्म को खोलिए.
  2. जैसे-जैसे उसमे डिटेल मांगी गई है आप उसके अनुसार डिटेल भर दीजिये और उसके साथ सारे दस्तावेजों को जमा करें, फिर फोटो के साथ कम से कम 1000 रुपया जमा करें| (अकाउंट या खाता खुलने के बाद आप पैसे चेक या डिमांड ड्राफ्ट के द्वारा भी जमा कर सकते हैं|)
  3. खाते में न्यूनतम राशि 250 रुपया या अधिकतम राशि 1,50,000 वार्षिक तौर पर जमा कराते रहे|

दोस्तो इससे अच्छा और क्या तरीका हो सकता है? भला आप ही बताए, इस तरह आप धीरे-धीरे पैसे भी जोड़ सकते हैं और पढ़ाई या विवाह के समय आप पर किसी प्रकार का कोई बोझ भी नहीं रहेगा.

प्रिय पाठकों, आशा करता हूँ आपको इस लेख में सुकन्या समृद्धि योजना से जुड़ी हर छोटी एवं बड़ी बात पता चल गई होगी, यदि आपको कोई डाउट है तो कमेंट के माध्यम से आप क्लियर कर सकते हैं.

अब आप इस जानकारी को उन लोगो के साथ शेयर जरूर कर सकते हैं जिनकी सोच है कि बेटी एक बोझ है और उसका इस दुनिया में नहीं आना ही बेहतर है.

सरकारी योजना ⇓

इनकी भी आपको जानकारी होनी चाहिए ⇓

सुकन्या समृद्धि योजना क्या है, नियम, अकाउंट अपडेट और इंटरेस्ट रेट कितना है?
5 (100%) 1 vote[s]

Leave a Reply