1xbet.com
Mother's Day

Heart Touching Speech on Mother in Hindi – माँ के ऊपर प्यार भरा और रुला देने वाला भाषण

Heart Touching Speech on Mother in Hindi
Written by Himanshu Grewal

आज का हमारा शीर्षक माँ के ऊपर है| “माँ पर भाषण – Speech on Mother in Hindi” तो आईये, पढ़ना शुरू करते है|

नमस्ते दोस्तों, मै हिमांशु ग्रेवाल आप सबका आपकी अपनी वेबसाइट HimanshuGrewal.com पर स्वागत करता हूँ.

दोस्तों इससे पहले पोस्ट में मेने माँ पर निबंध लिखा था जिसको अधिकतक लोगो ने पसंद किया है और मुझे उम्मीद है की आप सबको भी मेरा वो लेख पसंद आया होगा.

आज में माँ पर भाषण (Mother Hindi Speech) लिखने जा रहा हूँ और मै अब भी ये उम्मीद करता हूँ की मेरा ये लेख भी आप सबको जरूर पसंद आएगा.

माँ के ऊपर जो भाषण में आज आप सबको देने जा रहा हूँ इस भाषण को आप Mother’s Day (मातृ दिवस) पर या फिर किसी स्कूल फंक्शन पर स्पीच के रूप में बोल सकते है.

माँ की भूमिका और माँ का मन, इस बारे में आपको मै तो क्या कोई भी नहीं समझा सकता| लेकिन उस माँ के ऊपर में कुछ बाते लिखकर उस माँ के नाम सरहाना चाहता हूँ उस माँ की गुणवत्ता के कुछ गुण अपने भाषण के रूप में आप सबके सामने रखना चाहता हूँ.

मातृ दिवस त्यौहार का महत्व, मदर डे क्यों और कब मनाया जाता है?

Best Speech on Mother in Hindi – माँ का महत्व

Emotional Speech on Maa in Hindi

कैसी होती है माँ ?

माँ ना होती तो हम ना होते, माँ के बिना हम अपने जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते| में शुक्रगुजार हूँ उस माँ का जिस माँ ने मुझे इस दुनिया में लेकर आने का कष्ट उठाया.

एक माँ इस दुनिया में हर चीज का मोब त्यागकर सिर्फ और सिर्फ अपने बच्चे से सबसे ज्यादा प्यार करती है| वो अपने बच्चे के लिए हर मुसीबत से लड़ना जानती है, वो माँ जो कभी घर से भार भी नहीं जाती, जो किसी से फालतू मतलब नहीं रखती, जो कम बोलती हो, जो डरी सहमी सी रहती हो वो माँ भी अपने बच्चे के ऊपर आती आंच को देखकर कुछ भी कर गुज़रने को त्यार हो जाती है| ऐसी होती है.

माँ पूरी जिंदगी अपने परिवार और अपने बच्चों के ऊपर अपना जीवन समर्पित कर देती है, अपने पति के सम्मान के लिए झुकती है, अपने बच्चों में आदर्श और गुण इक्क्ठे करने के लिए खुद का बलिदान करती है, ऐसी होती है माँ..!

Emotional Speech on Maa in Hindi – Latest Mother Essay in Hindi

मै अब कभी मंदिर नहीं जाता| कही जाकर सजदा नहीं करता| क्यूंकि मेरा भगवान् मुझे मेरे माँ बाप में दिखता है.

अगर आप मंदिर जाते है, मस्जिद जाते है और माँ बाप की नहीं सुनते तो आप मंदिर और मस्जिद सिर्फ ढोंग करने जाते है| पूजना है तो उसे पूजो जिसने नौ महीने अपनी कोख में रखकर हमें पाला है, जिसने बिस हड्डीयो के टूटने जितना दर्द सहकर हमें जन्म दिया है, जिसने अपने शरीर का ना देखकर हमारे तन को सवारा है.

उस माँ के हाथो में जादू है जब वो सर पर हाथ फेरती है तो लगता है भगवान् उस आसमा से उत्तर कर सिर्फ मेरे लिए मेरे सर पर हाथ फेरकर मुझे आशीर्वाद देने आया है.

मेरे भगवान् है मेरे माँ बाप, मै बहुत खुशनसीब हूँ की मेरे माँ और बाप है| मैं अपनी माँ से लड़ता भी हू झगड़ता भी हूँ लेकिन जितना मै अपनी माँ से प्यार करता हूँ इतना मै किसी और से प्यार ना तो करता हूँ और न ही कभी कर पाऊंगा| क्योंकि मेरी माँ मेरे लिए सबसे स्पेशल है वो मेरी जिंदगी के हर कदम पर मेरे साथ रही है.

एग्जाम मेरे होते है पढ़ता भी मै हूँ लेकिन मेरी माँ मेरे सर पर बेठी रहती है और देखती है की पढ़रहा है या नहीं|

में कभी ये नही समझता की मेरी माँ मुझपे नज़र रख रही है वो बस ये कहती है में गलत न चलू| सिर्फ और सिर्फ अपने सपना और अपनी माँ का सपना को पूरा करने के लिए कदम बढ़ाते जाओ.

जब बच्चा छोटा होता है सिर्फ हु हां करता है तो माँ उसकी हर बात को इशारे से ही समझ जाती है और जब वही बच्चा बड़ा हो जाता है तो कहता है की माँ तू कुछ नही समझती, तुझे कुछ समझ नहीं आता.

फिर भी उस माँ की दुआए हमारे लिए नहीं रुकती उस माँ की दुआओ में जन्नत है उसके आँचल में स्वर्ग है और उसके में में सिर्फ और सिर्फ ममता है.

जिस माँ ने हमें ऊँगली पकड़ कर चलना सिखाया, जिस माँ ने हमें कदम डगमगाने कर गिरने से फिर से उठाकर चलना सिखाया आज जब उस माँ को हमारी जरुरत होती है तब वो माँ हमें बोझ लगती है.

मुझे तो ये समझ नही आता की मेरी माँ का कंधा इतना मजबूत कैसे है मेरी जितनी भी ख्वाहिश होती है वो सब झेल लेती है और कभी उफ़ तक नही करती| किसी ने व्रत रखा तो किसी ने उपवास रखा| मेने वो सब पुण्य तो नहीं कमाए लेकिन अपने माँ बाप को अपने पास रखा.

मै जब छोटा था तो मेरी माँ ने मेरा बहुत पागल बनाया| कही जाती थी तो कहती थी तू घर ही रहना कही बाहर मत जाना बाहर शेर है| मै उसे मार कर आती हूँ.

अब अगर वो बाते याद आती है तो हसी आती है| मै कैसे शेर का नाम सुनकर घर से बाहर झाँकता भी नहीं था और जब भी में गिरता था तो कहती थी देख तो ज़रा चीटी मर गयी और में ढूंढ़ता रहता था की चींटी मर तो गयी कहा गई यही कही होनी चाहिये.

जब भी मै नहाता नहीं था कहती थी झोली बाबा आकर ले जाता है जो बच्चा नहीं नहाता| अपनी माँ कसम आज भी कोई माँगने वाला झोला लेकर घूमता है तो लगता है मुझे ही उठाने आया है.

Emotional Speech on Mother in Hindi For School Student

मेरी माँ मुझे माफ़ कर देना अगर मेने कभी तेरा दिल दुखाया तो| हाँ में जानता हूँ में तेरी कोई बात नहीं मानता, तेरी हर बात टाल देता हूँ, तेरे लाख मना करने पर भी बाहर खाता हूँ और फिर घर आकर तेरी डाट भी तो खाता हूँ| माँ तू मेरी ढाल है जो मुझे हर चट्टान से बचाती है.

हमारे भारत देश में अलग अलग भाषा है अलग अलग लोग है लेकिन सब अपनी जननी को माँ ही कहते है| अलग अलग भाषा होने के बाद भी माँ को माँ ही पुकारा जाता है.

हमारी माँ ही हमारे अस्तित्व का निर्माण करती है हमारी माँ ही हमें एक आदर्श व्यक्ति बनाती है| वह हमारे आत्मविश्वास को कभी घटने नहीं देती और हमें हमेशा प्रेरित ही करती है ताकि हम आगे बढ़ते रहे कभी रुके नहीं.

माँ हमारे जीवन की वो नीव है जिसकी वजह से हम मजबूत रहते है| माँ हमें शारीरिक और मानसिक दोनों रूप से मजबूत बनाती है.

दोस्तो मै आप सब से एक बात कहना चाहता हूँ की आप सब अपनी जिंदगी में कुछ ऐसा कीजिये की आपके माँ बाप कहे की हर जन्म में हमें यही औलाद मिले, कुछ ऐसा कीजिये जिससे की आपके माता पिता को आपके उपर गर्व हो की ये हमारा बच्चा है.

दोस्तों कभी अपने अपनी माँ और पिता का दिल ना दुखाना क्युकी माँ और बाप बहुत नसीब से मिलते है जिनके नसीब में नहीं होती माँ उन्हें पता होता है की माँ की अहमीयत क्या होती है इसिलए जिनके नसीब में है माँ वो किसी खुशनसीब से कम नहीं| “धन्यवाद”

Speech on Mother in Hindi का यह लेख पसंद आया हो तो इस लेख को फेसबुक, ट्विटर, गूगल+ अथवा व्हाट्सएप्प पर शेयर करें और कमेंट के माध्यम से अपनी माँ के प्रति एक, दो शब्द लिखे|

माँ के लिए और भी बेहतरीन लेख⇓

About the author

Himanshu Grewal

मेरा नाम हिमांशु ग्रेवाल है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमे आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, इंग्लिश स्पीकिंग, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

7 Comments

Leave a Comment