श्री शनि चालीसा अर्थ सहित… जयति जयति शनिदेव दयाला

आज के इस लेख के माध्यम से मैं आपको Shri Shani Chalisa (श्री शनि चालीसा) के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी देने जा रहा हूँ.

यदि आप शनि चालीसा सर्च कर मेरी वेबसाइट पर पहुचे हैं तो यकीनन ही आप बिलकुल सही जगह पर हैं क्यूंकि इस लेख में आपको Shani Chalisa in Hindi के साथ साथ Shani Chalisa PDF Download करने को भी मिलेगी.

श्री शनि चालीसा हिंदी में

हिंदू धर्म में खास तौर पर शनिवार के दिन शनि चालीसा का पाठ करके शनि देव की पूजा की जाती है और इनको दंडाधिकारी माना जाता है.

दंडाधिकारी शब्द का अर्थ है जिसको दंड यानि सज़ा देना का अधिकार हो…

यदि आपको ज्ञात नहीं है तो मैं आपको बता दूँ कि शनिदेव, सूर्यपुत्र हैं और इस बारे में लोगों के बीच कई मिथ्या अर्थात कल्पित कथा चर्चित हैं.

मान्यता यह है कि भगवान शनि देव जातकों को केवल उसके अच्छे और बुरे कर्मों का ही फल देते हैं, अर्थात आपने जैसे कर्म किए हैं शनिदेव आपको उसी के अनुसार फल भी देंगे.

यदि आपके जीवन में अनेक प्रकार की कठिनाई हैं और वो समाप्त होने का नाम ही नही ले रही है तो आपको शनिदेव की पूजा कैसे करें वो सीखे उसके बाद शनिदेव की पूजा करें.

मैं Shani Dev Ji Ki Pooja इसलिए करने को बोल रहा हूँ क्यूंकि कहा जाता है कि शनि देव की पूजा अर्चना करने से जातक के जीवन की कठिनाइयां दूर होती है.

शिव पुराण में यह वर्णित है कि अयोध्या के राजा दशरथ (प्रभु श्री राम के पिता जी) ने शनिदेव को “शनि चालीसा के जाप” से प्रसन्न किया था.

नोट : शनि साढ़ेसाती और शनि महादशा के दौरान ज्योतिषी भी शनि चालीसा का पाठ करने की सलाह अक्सर देते हैं.

यदि आप भी शनि देव का जाप करना चाहते हैं तो मैं आपको बता दूँ कि इस लेख में मैंने आपके लिए Shani Chalisa in Hindi Language में अपडेट किया है.

यदि आप चाहे तो अपने ब्राउज़र में ऊपर स्टार बने साइन पर क्लिक कर के इसे बुकमार्क के तौर पर अपने डिवाइस में सेव कर के रख सकते हैं और जब कभी भी आपको शनि चालीसा का जाप करने को मन करे तब आप बहुत ही सरल तरीके से शनि चालीसा लीरिक्स इन हिन्दी को पढ़ सकते हैं.

अब समय को मध्य नजर रखते हुए आइए अब श्री शनि देव चालीसा अर्थ सहित पढ़ते हैं और इसके लीरिक्स का अर्थ समझने की कोशिश करते हैं.

Shari Shani Chalisa Lyrics in Hindi

Shari Shani Chalisa Lyrics in Hindi

|| दोहा ||

जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल,
दीनन के दुःख दूर करि, कीजै नाथ निहाल,
जय जय श्री शनिदेव प्रभु, सुनहु विनय महाराज,
करहूँ कृपा हे रवि तनय, राखहु जन की लाज !!

॥ चौपाई ॥

#1.

!! जयति जयति शनिदेव दयाला करत सदा भक्तन प्रतिपाला,
चारि भुजा, तनु श्याम विराजै माथे रतन मुकुट छवि छाजै,
परम विशाल मनोहर भाला टेढ़ी दृष्टि भृकुटि विकराला,
कुण्डल श्रवन चमाचम चमके हिये माल मुक्तन मणि दमकै !!

#2.

!! कर में गदा त्रिशूल कुठारा पल बिच करैं अरिहिं संहारा,
पिंगल, कृष्णो, छाया, नन्दन यम, कोणस्थ, रौद्र, दुःख भंजन,
सौरी, मन्द शनी दश नामा भानु पुत्र पूजहिं सब कामा,
जापर प्रभु प्रसन्न हवैं जाहीं रंकहुं राव करैं क्षण माहीं !!

#3.

!! पर्वतहू तृण होइ निहारत तृणहू को पर्वत करि डारत,
राज मिलत वन रामहिं दीन्हयो कैकेइहुँ की मति हरि लीन्हयो,
वनहुं में मृग कपट दिखाई मातु जानकी गई चुराई,
लषणहिं शक्ति विकल करिडारा मचिगा दल में हाहाकारा !!

#4.

!! रावण की गति-मति बौराई रामचन्द्र सों बैर बढ़ाई,
दियो कीट करि कंचन लंका बजि बजरंग बीर की डंका,
नृप विक्रम पर तुहि पगु धारा चित्र मयूर निगलि गै हारा,
हार नौलखा लाग्यो चोरी हाथ पैर डरवायो तोरी !!

#5.

!! भारी दशा निकृष्ट दिखायो तेलहिं घर कोल्हू चलवायो,
विनय राग दीपक महँ कीन्हों तब प्रसन्न प्रभु ह्वै सुख दीन्हयों,
हरिश्चन्द्र नृप नारि बिकानी आपहुं भरे डोम घर पानी,
तैसे नल पर दशा सिरानी भूंजी-मीन कूद गई पानी !!

#6.

!! श्री शंकरहिं गह्यो जब जाई पारवती को सती कराई,
तनिक विकलोकत ही करि रीसा नभ उड़ि गयो गौरिसुत सीसा,
पाण्डव पर भै दशा तुम्हारी बची द्रोपदी होति उघारी,
कौरव के भी गति मति मारयो युद्ध महाभारत करि डारयो !!

#7.

!! रवि कहँ मुख महँ धरि तत्काला लेकर कूदि परयो पाताला,
शेष देव-लखि विनती लाई रवि को मुख ते दियो छुड़ाई,
वाहन प्रभु के सात सुजाना हय जग दिग्गज गर्दभ मृग स्वाना,
जम्बुक सिंह आदि नख धारी सो फल ज्योतिष कहत पुकारी !!

#8.

!! गज वाहन लक्ष्मी गृह आवैं हय ते सुख सम्पत्ति उपजावै,
गर्दभ हानि करै बहु काजा सिंह सिद्ध्कर राज समाजा,
जम्बुक बुद्धि नष्ट कर डारै मृग दे कष्ट प्राण संहारै,
जब आवहिं स्वान सवारी चोरी आदि होय डर भारी !!

#9.

 !! तैसहि चारि चरण यह नामा स्वर्ण लौह चाँदी अरु तामा,
लौह चरण पर जब प्रभु आवैं धन जन सम्पत्ति नष्ट करावैं,
समता ताम्र रजत शुभकारी स्वर्ण सर्वसुख मंगल भारी,
जो यह शनि चरित्र नित गावै कबहुं न दशा निकृष्ट सतावै !!

#10.

!! अद्भुत नाथ दिखावैं लीला करैं शत्रु के नशि बलि ढीला,
जो पण्डित सुयोग्य बुलवाई विधिवत शनि ग्रह शांति कराई,
पीपल जल शनि दिवस चढ़ावत दीप दान दै बहु सुख पावत,
कहत राम सुन्दर प्रभु दासा शनि सुमिरत सुख होत प्रकाशा !!

॥ दोहा ॥

!! पाठ शनिश्चर देव को, की हों ‘भक्त’ तैयार,
करत पाठ चालीस दिन, हो भवसागर पार !!

Shani Chalisa, Shani Stuti, Shani Aarti (शनि चालीसा शनि स्तुति शनि आरती)

Album Name:Sampoorna Shani Vandana
Singer:Shailendra Bharti
Music Director:Shailendra Bhartti
Lyrics:Traditional
Music Label:T-Series

Shree Shani Chalisa in Hindi Lyrics with Meaning

॥ दोहा ॥

जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल।
दीनन के दुख दूर करि, कीजै नाथ निहाल॥
जय जय श्री शनिदेव प्रभु, सुनहु विनय महाराज।
करहु कृपा हे रवि तनय, राखहु जन की लाज॥

अर्थात – हे भगवान गणेश जिनके लिए एक पर्वत एक फूल की तरह है, कृपया दया करें, यातनाओं के कष्टों को दूर करो और हमारी चेतना को बढ़ाओ।

हे शनि देव – कृपालु भगवान, मेरी प्रार्थना सुनो ओ विजयी एक, हमें अपनी दया दिखाओ, हे भगवान और अपने भक्तों की विनय और पवित्रता की रक्षा करो।

॥ चौपाई ॥

जयति जयति शनिदेव दयाला। करत सदा भक्तन प्रतिपाला॥
चारि भुजा, तनु श्याम विराजै। माथे रतन मुकुट छबि छाजै॥

अर्थात – आप को विजय, हे उदार शनि देव, आप अपने में शरण लेने वाले भक्तों को अनंत सुरक्षा प्रदान करते हैं| आपके पास चार भुजाएँ हैं, एक सुंदर गहरी त्वचा, और एक माथे जो मोती से बने मुकुट से सजाया गया है।

परम विशाल मनोहर भाला। टेढ़ी दृष्टि भृकुटि विकराला॥
कुण्डल श्रवण चमाचम चमके। हिय माल मुक्तन मणि दमके॥1॥

अर्थात – आपके पास एक स्मार्ट व्यक्तित्व के साथ-साथ एक विशाल और उज्ज्वल भाला है, एक दूरदर्शी दृष्टि और एक कातिलों की अभिव्यक्ति, आपके कान के छल्ले प्रकाश में चमकते हैं, और ऐसा ही मोती आपकी गर्दन के चारों ओर होता है।

कर में गदा त्रिशूल कुठारा। पल बिच करैं अरिहिं संहारा॥
पिंगल, कृष्ण, छाया नन्दन। यम, कोणस्थ, रौद्र, दुखभंजन॥

अर्थात – तुम अपने साथ गदा, त्रिशूल और युद्ध-कुल्हाड़ी लेकर चलते हो, एक ही बार में अपने दुश्मनों को मार डालना| पिंगलो, कृष्णा, छैया का बेटा, यम, कोणस्थ, रौद्र और पीड़ा और पीड़ा के निवारक।

सौरी, मन्द, शनी, दश नामा। भानु पुत्र पूजहिं सब कामा॥
जा पर प्रभु प्रसन्न ह्वैं जाहीं। रंकहुँ राव करैं क्षण माहीं॥2॥

अर्थात – सौरी, मंदा – ये दस नाम जो आपके हैं, हे भगवान सूर्य के पुत्र, आप उनके लिए प्रसिद्धि लाते हैं। जब आप किसी से प्रसन्न या नाराज होते हैं, आप तुरंत उसे एक भिखारी से राजा या रिवर्स में बदल सकते हैं।

पर्वतहू तृण होई निहारत। तृणहू को पर्वत करि डारत॥
राज मिलत बन रामहिं दीन्हयो। कैकेइहुँ की मति हरि लीन्हयो॥

अर्थात – आप काम को जटिल और थकाऊ बना सकते हैं, और आपके आशीर्वाद से सबसे कठिन कार्य सरल प्रतीत होते हैं। भगवान राम को अपना राज्य दिए जाने के बजाय निर्वासन में रहने के लिए मजबूर होना पड़ा, राजा दशरथ की पत्नी – रानी कैकेयी की मुड़ इच्छा के कारण।

बनहूँ में मृग कपट दिखाई। मातु जानकी गई चुराई॥
लखनहिं शक्ति विकल करिडारा। मचिगा दल में हाहाकारा॥3॥

अर्थात – जंगल में भगवान राम एक भ्रामक हिरण से विचलित थे, और परिणामस्वरूप सीता – माँ प्रकृति का अवतार – का अपहरण कर लिया गया। यहां तक ​​कि भगवान राम के भाई लक्ष्मण भी बेहोश हो गए, भगवान राम की सेना के प्रत्येक सदस्य में प्रेरणादायक भय।

रावण की गतिमति बौराई। रामचन्द्र सों बैर बढ़ाई॥
दियो कीट करि कंचन लंका। बजि बजरंग बीर की डंका॥

अर्थात – रावण ने अपनी सूझबूझ और समझदारी से स्पर्श को खो दिया, और भगवान राम के खिलाफ लड़ाई को समाप्त करते हुए, लेकिन जैसे ही बजरंग बली (भगवान हनुमान) ने रावण की लंका पर हमला किया, गोल्डन लंका को खंडहर में बदल दिया गया था।

नृप विक्रम पर तुहि पगु धारा। चित्र मयूर निगलि गै हारा॥
हार नौलखा लाग्यो चोरी। हाथ पैर डरवाय तोरी॥4॥

अर्थात – जब राजा विक्रमादित्य शनि के दशा चरण से पीड़ित थे, चित्रित मयूर ने अपना बहुमूल्य हार निगल लिया था। यहां तक ​​कि भगवान कृष्ण को भी चोरी के आरोपों का सामना करना पड़ा, और परिणामस्वरूप बुरी तरह पीटा गया।

भारी दशा निकृष्ट दिखायो। तेलिहिं घर कोल्हू चलवायो॥
विनय राग दीपक महं कीन्हयों। तब प्रसन्न प्रभु ह्वै सुख दीन्हयों॥

अर्थात – शनि देव के महा दशा काल के दौरान जो प्रतिकूलता से भरा होता है, भगवान कृष्ण को एक आम आदमी के घर में काम करना था। अपनी शक्ति के साथ और शुद्ध भक्ति के साथ, भगवान कृष्ण ने आपसे प्रार्थना की कि हे शनि देव, और केवल जब आप प्रसन्न थे, क्या उसे वह सब कुछ दिया गया था जिसकी वह कामना करता था।

हरिश्चन्द्र नृप नारि बिकानी। आपहुं भरे डोम घर पानी॥
तैसे नल पर दशा सिरानी। भूंजीमीन कूद गई पानी॥5॥

अर्थात – यहाँ तक कि राजा हरिश्चंद्र ने आपके दशा काल के दौरान, उसने वह सब खो दिया जो उसके पास था और यहां तक ​​कि उसकी पत्नी भी बेच दी गई थी। उन्हें पुरुषवादी काम करने के लिए मजबूर किया गया, एक गरीब सफाई कर्मचारी के घर पर।

श्री शंकरहिं गह्यो जब जाई। पारवती को सती कराई॥
तनिक विलोकत ही करि रीसा। नभ उड़ि गयो गौरिसुत सीसा॥

अर्थात – जब आपने भगवान शिव के राशि चक्र के माध्यम से संक्रमण किया, उनकी पत्नी पार्वती (सती के रूप में अपने पहले अवतार में) को अग्नि में भस्म से चोट का सामना करना पड़ा। जब आपने युवा भगवान गणेश को देखा, उसका सिर आकाश में उछलकर नष्ट हो गया।

पाण्डव पर भै दशा तुम्हारी। बची द्रौपदी होति उघारी॥
कौरव के भी गति मति मारयो। युद्ध महाभारत करि डारयो॥6॥

अर्थात – जब पांडव आपके दशा काल से गुजर रहे थे, उन्होंने अपनी पत्नी द्रौपदी को भी एक शर्त में खो दिया और कोई सामान नहीं छोड़ा गया। यहां तक ​​कि कौरवों को भी नहीं बख्शा गया और उन्होंने अपनी सूझबूझ और ज्ञान खो दिया, पांडवों के खिलाफ महाभारत के महान युद्ध की शुरुआत।

रवि कहँ मुख महँ धरि तत्काला। लेकर कूदि परयो पाताला॥
शेष देवलखि विनती लाई। रवि को मुख ते दियो छुड़ाई॥

अर्थात – हे शनि देव, आपने सूर्य को निगल लिया, और तीसरी दुनिया में चले गए। केवल जब सभी अन्य देवता आपसे प्रार्थना करने के लिए एक साथ आए, क्या सूर्य को शाश्वत अस्पष्टता से बचाया गया था?

वाहन प्रभु के सात सजाना। जग दिग्गज गर्दभ मृग स्वाना॥
जम्बुक सिंह आदि नख धारी।सो फल ज्योतिष कहत पुकारी॥7॥

अर्थात – हे शनि देव, आपके पास परिवहन के लिए सात विशिष्ट वाहन / पशु वाहन हैं, एक एक हाथी, एक घोड़ा, एक गधा और एक हिरण, एक कुत्ता, एक सियार और एक शेर – नाखून वाले सभी जानवर और इसी के आधार पर ज्योतिषी घोषणा करते हैं।

गज वाहन लक्ष्मी गृह आवैं। हय ते सुख सम्पति उपजावैं॥
गर्दभ हानि करै बहु काजा। सिंह सिद्धकर राज समाजा॥

अर्थात – हाथी पर सवार होकर शनिदेव अपने साथ धन लाते हैं, घोड़े पर सवार होकर, शनि देव घर में आराम और धन लाते हैं। गधे पर सवार होकर, शनि देव अनंत तरीकों से हार मानते हैं, सिंह पर सवार होकर, शनि देव धन, राज्य और प्रसिद्धि प्राप्त करते हैं।

जम्बुक बुद्धि नष्ट कर डारै। मृग दे कष्ट प्राण संहारै॥
जब आवहिं प्रभु स्वान सवारी। चोरी आदि होय डर भारी॥8॥

अर्थात – एक सियार पर सवार, शनि देव, सभी ज्ञान, बुद्धि और बुद्धि को दूर कर देते हैं, हिरण पर सवार होकर, शनि देव मृत्यु और पीड़ा को दूर करते हैं। कुत्ते पर सवार, शनि देव चोरी के आरोपों के साथ एक को शाप देते हैं, शापित को भिखारी बनाना और नीच पत्थर के बराबर।

तैसहि चारि चरण यह नामा। स्वर्ण लौह चाँदी अरु तामा॥
लौह चरण पर जब प्रभु आवैं। धन जन सम्पत्ति नष्ट करावैं॥

अर्थात – इसी तरह से, आपके पैरों के चार अलग-अलग रूप हैं, गोल्ड, आयरन, सिल्वर और कॉपर से बना है| जब आप अपने लोहे के पैरों के साथ घर आते हैं, आप सभी के धन और सामान को नष्ट कर देते हैं।

समता ताम्र रजत शुभकारी। स्वर्ण सर्व सर्व सुख मंगल भारी॥
जो यह शनि चरित्र नित गावै। कबहुं न दशा निकृष्ट सतावै॥9॥

अर्थात – आपके कॉपर के पैरों से संकेत मिलता है कि चीजें अनियंत्रित रह जाएंगी, जबकि चांदी के पैर कई फायदे बताते हैं, और उन सभी में सबसे उज्ज्वल, आपके सुनहरे पैर सभी प्रकार की खुशी लाते हैं| जो कोई इस तरह से आपकी प्रार्थना गाता है, हे शनि देव, वह कभी भी आपके प्रतिकूल समय से परेशान नहीं होता है।

अद्भुत नाथ दिखावैं लीला। करैं शत्रु के नशि बलि ढीला॥
जो पण्डित सुयोग्य बुलवाई। विधिवत शनि ग्रह शांति कराई॥

अर्थात – आप अपने भक्तों के सामने अपने जादुई कार्यों को प्रदर्शित करते हैं, अपने दुश्मनों को मारकर छोड़ देना| शिक्षित पुरुष और पुजारी जो आपकी पूजा करते हैं (पवित्र अनुष्ठान), वैदिक विधियों के माध्यम से आपको प्रसन्न करने का प्रबंध करें।

पीपल जल शनि दिवस चढ़ावत। दीप दान दै बहु सुख पावत॥
कहत राम सुन्दर प्रभु दासा। शनि सुमिरत सुख होत प्रकाशा॥10॥

अर्थात – जो प्रत्येक शनिवार को पीपल के पेड़ (शनि देव का प्रतिनिधित्व) करता है, और आपके चरणों में धूप / सुगंध और दीपक अर्पित करता है, राम कहते हैं, तुम भक्त शनिदेव, आराम, स्वास्थ्य और धन प्राप्त करेंगे।

॥ दोहा ॥

पाठ शनिश्चर देव को, की हों भक्त तैयार।
करत पाठ चालीस दिन, हो भवसागर पार॥

अर्थात – एक भक्त जो शनि देव की भक्ति के साथ गाने के लिए तैयार है, और चालीस दिनों के लिए श्री शनि चालीसा का जाप करें, आसानी से स्वर्ग के लिए अपना रास्ता खोज लेंगे।

प्रिय भक्तों, यह थी Shani Chalisa Lyrics in Hindi, यदि आपको यह लेख पसंद आया हो तो इसे अन्य भक्तों के साथ सोशल मीडिया के माध्यम से शेयर करना ना भूलें.

Shani Chalisa PDF Download in Hindi

यदि आपको Shani Chalisa Download करनी है तो नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करके आप शनि चालीसा डाउनलोड कर सकोगे.

Shani Dev Chalisa PDF (शनि चालीसा पीडीऍफ़ डाउनलोड) करने के लिए Shani Chalisa PDF in Hindi पर क्लिक करें.

Shani Dev Images Full HD Free Download
Shani Dev Images Free Download
Shani Dev Images Free Download
Shanidev Ji Ki Aarti
Shanidev Ji Ki Aarti
Shanidev Photo Download
Shanidev Photo Download

Shani Chalisa in Hindi, Shri Shani Chalisa (श्री शनि चालीसा) का लेख अब यही पर खत्म होता है.

यदि इस लेख से जुड़ा कोई प्रश्न आपके जेहन में आता है तो नीचे दिये गए कमेंट बॉक्स में कमेंट कर के ज़रूर पूछे.

इस लेख को अंत तक पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद, मैं प्रार्थना करूंगा कि शनि देव आपके जीवन की सभी परेशानियों का हल निकाल कर उसे आपके जीवन से दूर जरूर करें.

अन्य चालीसा पढ़े ⇓

Shree Shani Chalisa Lyrics
श्री शनि चालीसा अर्थ सहित... जयति जयति शनिदेव दयाला

|| दोहा || :जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल, दीनन के दुःख दूर करि, कीजै नाथ निहाल, जय जय श्री शनिदेव प्रभु, सुनहु विनय महाराज, करहूँ कृपा हे रवि तनय, राखहु जन की लाज !!

Editor's Rating:
5
Himanshu Grewal

मेरा नाम हिमांशु ग्रेवाल है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमे आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, इंग्लिश स्पीकिंग, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

1 thought on “श्री शनि चालीसा अर्थ सहित… जयति जयति शनिदेव दयाला”

Leave a Comment

0 Shares
Share via
Copy link