क्रिसमस और सांता क्लॉस की कहानी

Christmas 2020 Essay in Hindi के लेख को शुरू करने से पहले आप सभी को क्रिसमस की हार्दिक शुभकामनाएं. आप सभी बच्चों के लिए मैंने Santa Claus Story in Hindi Language में अपडेट करी हैं.

क्रिसमस जो कि 25 दिसंबर को मनाया जाता है। इस दिन सभी लोग और बच्चे Christmas Day Images Download करते है, क्रिसमस डे पर कविता लिखते है।

उसी को देखते हुए मैं यहां आपके लिए लेकर आया हूँ Christmas Essay in Hindi का लेख जिसको आप पढ़ सकते हो और सांता क्लॉस स्टोरी पसंद आने पर इस लेख को social media पर शेयर भी कर सकते हो. तो चलिए सांता की कहानी पढ़ना शुरू करते है.”

 

10 Sentences About Christmas in Hindi

Christmas Essay in Hindi

25 दिसंबर का इंतजार आप सभी बच्चे बड़ी बेसब्री से करते है, क्योंकि Santa Claus अपनी Sledge पर बहुत सारे गिफ्ट लेकर आते है पर कभी आपको यह ख्याल आया की अगर सांता बीमार हो जाए और आपके मोजे में Gift ना डाल पाए तब क्या होगा?

एक बार ऐसा ही कुछ हुआ…. December में सर्दी भरे दिन थे, नीला आसमान साफ़ था और लम्बे-लम्बे pine trees यानी देवदार के पेड़ सफ़ेद बर्फ की चादर ओढ़े हुए थे, हवाओं में मानो Merry Christmas छाया हुआ था.

Christmas Festival की तैयारी जोरों से शुरू हो चुकी थी। घर, शहर, बाजार, सब सज रहे थे पर उपर north pole यानी उत्तरी ध्रुव में Santa के घर में ना कोई उत्सव था और ना ही उल्लास।”

क्रिसमस डे, जो कि सांता के लिए सबसे खास दिन है उसकी कोई तैयारियां नही हो रही थी. बस सन्नाटा छाया हुआ था और उनके दरवाजे पर उनके सुंदर रेंदीर्स याने Baarah Singha उदास बैठे हुए थे। इसका कारण था सांता की बीमारी.”

Santa पलंग पर लेते थे और बिल्लियाँ, गिल्ल्हारी, पोलर बियर सब उदास बैठे उनके चारों तरफ एक घेरे बनाए हुए थे। Santa ने उदास स्वर में कहा…

“Hey Ishwar यह क्या हो गया मुझे. अब मेरे प्यारे-प्यारे बच्चों का क्या होगा जो पूरे साल मेरे आने का इंतजार करते है. मुझे देखते ही उनके चेहरे खिल उठते हैं और उनकी खुशी का ठिकाना नही होता. क्रिसमस के आने के पहले से ही उनकी आँखें आसमान में मुझे तारों के बीच ढूँढा करती है”

यह कह कर सांता उदास हो गए और यही सोचने लगे के अब क्या करें?

अचानक कुछ आवाजें सांता का ध्यान अपनी तरफ आकर्षित करने लगी, शोर बढ़ता ही जा रहा था.

Santa खिड़की के पास गए और देखा के उनके 9 Barasingha चुप-चाप खड़े थे और जोर-जोर से हांफ रहे थे, मानो लंबी दूरी का सफ़र तय करके आए हो.”

वहां पर एकदम से बच्चों की आवाज़ आने लगी। Santa सोचने लगे की यह आवाज़ कहाँ से आ रही थी? Santa यहाँ-वहां देखने लगे और यह क्या….

Santa को अपनी आँखों पर विश्वास नहीं हो रहा था. Barasingha के पीछे लगी sledge पर एक लंबी कतार लगी हुई थी. यही नही… उन पर रंग बिरंगे पोशाक पहने प्यारे-प्यारे बच्चे बैठे थे.

Santa को देखते ही एक-एक करके सब sleigh से कूद कर सांता के घर के तरफ दौड़ पड़े.

बच्चों ने अब दरवाजा खटखटाया…

सांता दरवाजे की तरफ दौड़े और दरवाजा खोला.

उनके सामने मुस्कुराते हुए प्यारे-प्यारे बच्चे खड़े थे. इतने में नन्ही शिवानी ने अपना टेडी बेयर सांता को देते हुए कहा.”

“आप बीमार है ना सांता, यह मेरा सबसे प्यारा टेडी है आपके लिए.”

सांता बोले…

“oh ho नन्ही शिवानी.”

इतने में नटखट हिमांशु हाथ में एक येलो पैकेट लिए आया और तुतलाते हुए बोला, “Santa यह शॉल खास आपके लिए मेरी माँ ने बुनी है. यह इतनी गर्म है की आपको ठण्ड नही लगेगी और आप अब कभी बीमार ही नहीं पड़ोगे.”

हिमांशु की बात सुनते ही सांता जोर से हंस पड़े… ha ha ha ha..

इसी तरह एक-एक करके सारे बच्चे सांता के लिए कोई ना कोई गिफ्ट लेकर आये थे. Santa का घर तोहफों से भर गया। बच्चों का प्यार देख कर सांता की आँखों से ख़ुशी के आंसू निकल पड़े.” Santa बच्चों के साथ बाहर आए और बोले..

“चलो बच्चों हम सब मिल कर christmas tree को सजाते है और christmas manate hai.”

सारे बच्चे क्रिसमस ट्री को रंग बिरंगी बत्तियों से, रिबन से, स्टार्ट से सजाने लगे. Santa के पास जो गिफ्ट थे उससे उन्होंने बच्चों में वही बाँट दिया तभी बर्फ गिरना भी शुरू हो गई तो बच्चों ने snowman भी बना दिया.

सारे बच्चे Christmas Tree and Snowman को घेरे एक सर्किल बना कर नाचने लगे.

Santa Claus भी अपनी लंबी ड्रेस पहनकर बच्चों के बीच में नाच रहे थे.

Santa ने पहले कभी क्रिसमस को इतना मज्जे से नही मनाया था जितना वो आज बच्चों के साथ माना रहे थे.”

तभी शिवानी सांता के पास आई और पूछने लगी, “Santa आपको किसका gift सबसे अच्छा लगा?

Santa मुस्कुराए और बोले, “तुम सब ने आज जो मेरे प्रति प्यार और स्नेह दिखाया है, वही मेरे लिए एक नायाब तोहफा और सबसे अच्छा गिफ्ट है.

सांता ने सारे बच्चों को एक-एक करके गले लगाया और इसी के साथ बच्चों की किल्कारिया पूरे उत्तरी ध्रुव, यानि north pole में क्रिसमस की हवा के साथ बहने लगी.

यह थी क्रिसमस और सांता की एक कहानी, अब मैं आपको इसकी दूसरी कहानी बताता हूँ।

Real Santa Claus Story in Hindi

Real Santa Claus Story in Hindi

जैसा कि आप जानते हैं कि सांता को कई नामों से जाना जाता है – सांता क्लॉज़, सेंट निक, क्रिस क्रिंगल, या फादर क्रिसमस.

ऐसा माना जाता है कि वह उत्तरी ध्रुव पर रहते है, जहां उसके पास एक खिलौना कार्यालय भी है। वह दुनिया भर के बच्चों पर नज़र रखते है और क्रिसमस से ठीक पहले, बच्चे सांता को पत्र लिख कर क्रिसमस के लिए विशिष्ट खिलौने मांग कर सकते है.

क्रिसमस की पिछली शाम को, सांता खिलौनों से भरे एक बोरी के साथ अपने बेपहियों की गाड़ी को लोड करते है। उनकी आस्तीन 9 हिरण द्वारा खींची जाती है और वह सभी खिलौनों को देने के लिए छत से छत तक हवा के माध्यम से उड़ते है.

प्रत्येक घर में वह चुपचाप चिमनी से नीचे स्लाइड करते है और चिमनी को वापस जाने से पहले और अगले घर पर क्रिसमस ट्री के नीचे उपहार डालते हैं।

कुछ इस तरह की बातों को आपने सुना होगा या अपने बड़े भाई बहन या किसी लेख के माध्यम से जाना भी होगा..

लेकिन दोस्तों क्या आपने कभी यह सोचा है कि यदि क्रिसमस ईसाई धर्म के गुरु ईसा मसीह के जन्म का जश्न मनाने के बारे में है (जैसा कि मैंने अपने कई अन्य लेख में समझाया है), तो आखिर सांता की कहानी भी उसी समय कैसे विकसित हुई?

यदि यह पढ़ने के बाद अब इस प्रश्न का उत्तर खोजना चाहते हैं तो दोस्तों उसके लिए, आपको इस लेख को अंत तक पढ़ना होगा क्योंकि सांता की कहानी भी कई अलग-अलग ऐतिहासिक पात्रों का संयोजन है…

सेंट निकोलस – Story of Saint Nicholas in Hindi

आइए सेंट निकोलस पर एक नज़र डालते हैं।

निकोलस 1600 साल पहले मीरा नामक शहर में रहते थे (जो अब तुर्की का एक प्राचीन शहर है)। वह कम उम्र में अनाथ हो गए थे और विरासत का उपयोग करते हुए उनके माता-पिता ने उन्हें ज़रूरतमंद लोगों की मदद करने के लिए छोड़ दिया था.

वह एक दयालु, निस्वार्थ और उदार किस्म के व्यक्ति थे जिन्होंने अपना जीवन ईश्वर की सेवा में समर्पित कर दिया और बाद में उन्हें बिशप बना दिया गया।

उन्होने अक्सर अपनी ज़िंदगी को जरूरतमंदों, विशेषकर बच्चों को प्रस्तुत करता, अनाथ बच्चों पर विशेष ध्यान दिया। दोस्तों मैं आपको बता दूँ कि 6 दिसंबर, 343 को उनकी मृत्यु हो गई थी।

पूरे यूरोप में, 6 दिसंबर को अभी भी सेंट निकोलस दिवस के रूप में मनाया जाता है।

सेंट निकोलस ईव (5 दिसंबर) पर, सेंट निकोलस अभी भी अपने जूते में बच्चों के लिए छोटे व्यवहार छोड़ते है ! और यहीं से क्रिसमस के पास बच्चों को उपहार देने की परंपरा शुरू हुई.

सेंट निकोलस सिंटरक्लास (सिंटरक्लास की कहानी) नामक डच उत्तरी अमेरिका में आकर बस गए, तो वे अपने रिवाजों और परंपराओं को अपने साथ लेकर आए – जिसमें सेंट निकोलस ईव को मनाना भी शामिल था.

सिंटरक्लास अंग्रेजी बोलने वालों के लिए उच्चारण करना मुश्किल था, इसलिए यह सांता क्लॉस की तरह लग रहा था!

Christkindl

16 वीं शताब्दी में, जर्मनी में प्रोटेस्टेंट सुधार के दौरान, मार्टिन लूथर (उन्होने सुधार का नेतृत्व किया) को सेंट निकोलस की निरंतर लोकप्रियता पसंद नहीं थी, खासकर क्रिसमस के इतने करीब।

इसलिए उसने सोचा कि सेंट निकोलस पर ध्यान केंद्रित करने से लोग क्रिसमस के वास्तविक उद्देश्य से विचलित हो गए – ईसा मसीह के जन्म का जश्न मना रहे थे.

उन्होंने सेंट निकोलस को बदलने के लिए क्राइस्ट कैंडल (या ‘क्राइस्ट चाइल्ड’) के चरित्र को पेश किया।

क्राइस्ट कैंडल को एक छोटे बच्चे को गोरा बालों के साथ चित्रित किया गया था, जो एक सुनहरा मुकुट और परी पंख पहने हुए थे, जो क्रिसमस के समय बच्चों को उपहार लाएंगे.

जब यह यूरोपीय परंपरा अमेरिका में लाई गई, तो अंग्रेजी उच्चारण क्रिश क्रिंगल बन गया, अब सांता क्लॉज का दूसरा नाम।

सांता क्लॉस कौन थे ? (Who is Santa Claus in Hindi)

सुधार के बाद, इंग्लैंड ने एक कदम आगे बढ़कर क्रिसमस पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया!

लोगों ने धार्मिक आकृति के बजाय क्रिसमस पर अपने परिवार और बच्चों पर ध्यान केंद्रित किया। फादर क्रिसमस की पहचान बन गया।

उन्हें एक लंबे पतले आदमी के रूप में चित्रित किया गया था जिसने बहुत कुछ खाकर, पीकर और आम तौर पर विंटर सोलस्टाइस (दिसम्बर 21) और क्रिसमस के समय के आसपास मस्ती करते हुए मनाया था।

यद्यपि वह सेंट निकोलस के लिए एक प्रतिस्थापन था, वह एक धार्मिक व्यक्ति नहीं था और 19 वीं शताब्दी के अंत तक बच्चों को उपहार देने के साथ उसका कोई लेना-देना नहीं था!

19 वीं शताब्दी तक, इन सभी यूरोपीय परंपराओं को उत्तरी अमेरिका में लाया गया और क्रिसमस पर धार्मिक और गैर-धार्मिक दोनों परंपराओं को बनाने के लिए एक साथ मिलाया गया।

आखिरकार, सांता क्लॉस एक विशिष्ट अमेरिकी चरित्र में विकसित हुआ!

Essay on Christmas Santa Claus in Hindi

1832 में क्लेमेंट मूर ने सेंट निकोलस की एक मुलाक़ात नामक कविता लिखी। यह आमतौर पर क्रिसमस से पहले रात को अपने पहले कविता “night ट्वास” द्वारा जाना जाता है.

इस कविता ने उत्तरी अमेरिका में सांता की कथा में बहुत योगदान दिया! कविता में, पहली बार सांता (सेंट निक) को क्रिसमस की पूर्व संध्या पर यात्रा के रूप में वर्णित किया गया था, जो हिरण द्वारा खींची गई नींद में था जो छत से छत तक उड़ गया था.

उसने खिलौनों से भरा एक बोरा उठाया और उसने खिलौने को क्रिसमस के पेड़ के नीचे रखने के लिए चिमनी के नीचे सरका दिया।

उन्हें एक सफेद दाढ़ी के साथ एक गलफुला और मोटा जुली पुरानी योगिनी के रूप में वर्णित किया गया था, और सभी फर में कपड़े पहने हुए थे – उन्होंने अभी तक लाल सूट नहीं पहना था!

क्लेमेंट मूर की कविता से प्रेरित होकर, राजनीतिक कार्टूनिस्ट थॉमस नास्ट ने सांता की पहली तस्वीर खींची, जैसा कि हम आज उन्हें 1863 में हार्पर के साप्ताहिक नामक पत्रिका के कवर के लिए जानते हैं.

पहले कार्टून में सांता को दिखाया गया था जैसा कि मूर ने अपनी कविता के माध्यम से उसे बताया था: दाढ़ी के साथ एक छोटा सा योगिनी, आठ हिरण द्वारा खींची गई एक बेपहियों की गाड़ी में बैठे.

मूर की तरह, नास्त नामक एक व्यक्ति ने भी नए विवरण के साथ सांता की कथा को अलंकृत किया।

यह नास्ट था जिसने सांता को लाल सूट में रखा था और इतना ही नहीं दोस्तों सांता के उनके द्वारा बनाए कार्टून इतने लोकप्रिय थे कि उन्होंने अगले 30 वर्षों तक सांता को आकर्षित करना जारी रखा.

1900 के दशक के प्रारंभ में, एक अलग उत्तरी अमेरिकी सांता उभर कर आया था। ज्यादातर लोग मानते हैं कि सांता का हमारा आधुनिक विचार कोका-कोला विज्ञापनों से आया है, लेकिन यह सच नहीं है!

यह कोका-कोला द्वारा प्रकाशित एक मिथ अर्थात भ्रम है।

1931 के कोका-कोला विज्ञापन अभियान से पहले सांता को चित्रित करते हुए, मूर और नास्ट द्वारा कल्पना की गई सांता की अन्य छवियां व्यापक रूप से फैल गईं।

व्हाइट रॉक बेवरेजेस कंपनी ने 1915 से शुरू होने वाले विज्ञापनों में सांता का इस्तेमाल किया।

Norman Rockwell ने शनिवार शाम की पोस्ट के लिए अपने लाल सूट में सांता की तस्वीरें खींची.

1931 में शुरू हुआ और अगले 30 वर्षों तक जारी रहा, कोका-कोला ने अपने विज्ञापनों और क्रिसमस में सांता का इस्तेमाल किया। यह विज्ञापन व्यापक रूप से पत्रिकाओं में देखे गए और फिर बाद में टी.वी पर..

रूडोल्फ लाल नाक वाला बारहसिंगा

सांता का 9 वां हिरण – रूडोल्फ – 1939 में पेश किया गया था। रॉबर्ट मे ने अमेरिकी डिपार्टमेंटल स्टोर मॉन्टगोमेरी वार्ड के लिए काम करते हुए रुडोल्फ को रेड-नोज़्ड रिइन्डर लिखा.

उन्हें क्रिसमस पर बच्चों को दिए जाने के लिए एक कविता बनाने के लिए कहा गया था, इसलिए उन्होंने असामान्य रूप से उज्ज्वल, लाल रंग की नाक के साथ एक हिरण के बारे में एक कहानी बनाई, जिसे सांता द्वारा खराब मौसम के माध्यम से अपनी नींद का मार्गदर्शन करने के लिए कहा गया था.

इसे बाद में एक गीत में बदल दिया गया जो अब एक लोकप्रिय क्रिसमस कैरोल है!

यदि आपने क्रिसमस कैरोल नहीं सुना तो आप नीचे दिये गए लिंक को क्लिक कर उस पर पढ़ सकते हैं|

सांता क्लॉस की जानकारी अब यही पर खत्म हुई, Santa Claus Story in Hindi से हमको यह सीखने को मिलता है कि खुशियाँ हमेशा बांटने से बढती है और गम, दुख बांटने से कम होते है। तो खुशिया बाटते रहो, खुश रहो और मुस्कुराते रहो.

आपको Christmas Essay in Hindi की यह कहानी कैसी लगी हमें जरूर बताएं और Santa Claus Par Nibandh को अपने दोस्त और परिवार के साथ शेयर साझा करें।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Himanshu Grewal

मेरा नाम हिमांशु ग्रेवाल है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमे आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, इंग्लिश स्पीकिंग, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

4 thoughts on “क्रिसमस और सांता क्लॉस की कहानी”

Leave a Comment