Sad and Small Poem on Maa in Hindi – माँ पर कविता हिंदी में

माँ का दिन यानि मदर्स डे जो कि बहुत ही जल्द आने वाला है, और आज उसी के उपलक्ष में मैं कुछ Best Poem on Maa in Hindi Language में अपडेट करने जा रहा हूँ, जो आपको अत्यंत पसंद आयेंगे.

आज के समय में मदर्स डे एक पर्व की तरह हो गया है, जहाँ हर बच्चा अपनी माँ को स्पेशल महसूस कराने में लगा होता है तो वही उनकी माँ के चेहरे पर मुस्कान की एक अलग चमक झलकती है.

इस मदर डे पर भी आपने अपनी माँ को स्पेशल महसूस कराने के लिए तैयारी तो कर ली होगी, लेकिन यदि आप अपने स्नेह को जो आपके मन में आपकी माँ के प्रति है उसको ज़ाहिर करने के लिए इन कविता का सहारा लेते हैं तो यकीनन ही मदर डे और खास हो जाएगा.

आज के इस लेख के माध्यम से मुझे अपनी माँ और दुनिया की सभी माताओं के प्रति अपनी भावनाओं को व्यक्त करने का एक जबरदस्त मौका मिला है, जिसको मैं बर्बाद नहीं जाने दूंगा.

मेरी माँ के लिए ⇓

Mother Essay in Hindi – Poem on Maa in Hindi

Mother Essay in Hindi Language

निश्चित रूप से कोई भी शब्द हमारी माताओं के लिए हमारी भावनाओ का वर्णन नहीं कर सकता है, वह सर्वशक्तिमान से हमारे लिए सबसे कीमती उपहार है जिसका हम भगवान को जितना भी धन्यवाद कहे वो कम ही है.

भले ही इंसान ने भगवान को अपने अनुसार 4 अलग – अलग धर्म में तब्दील कर दिया है लेकिन यह तो आप सभी जानते हैं कि हर जगह भगवान खूद मौजूद नहीं हो सकता था, इसलिए उसने इस नुकसान का खामियाजा भरने के लिए माताओं को बनाया है.

आज हमारे देश में बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ के नारे लग रहे हैं, लेकिन सही मायनों में एक लड़की को उसका अधिकार आज भी नहीं मिल सका है.

हमारे देश में औरत को देवी का रूप माना जाता है और उसकी पूजा भी की जाती है, लेकिन जो देवी का रूप हमारे घर में है उसकी तो कई लोग ढंग से आदर सम्मान भी नहीं करते हैं.

मैं उन लोगों से यही बोलना चाहूँगा की माँ की भूमिका सर्वोच्च है, क्यूंकी हर महान व्यक्ति की सफलता के पीछे उसकी माँ की प्रेरणा छुपी होती है| वह हमारी पहली शिक्षक, पहली मार्गदर्शिका और पहली दोस्त है.

जब एक औरत माँ बनती है तो उसके जीवन का उसे दूसरा पट्टा मिलता है, जब उसका बच्चा मुस्कुराता है तो वो भी मुसकुराती है.

जब वो बच्चा रोता है तो उसकी माँ का मन भी बेचैन हो जाता है अर्थात माँ बनने के उपरांत एक औरत की खुशी का सबसे बड़ा स्रोत उसका बच्चा ही बन जाता है.

मुझे यकीन है कि ऊपर लिखी पंक्तियों को जब आपने पढ़ा होगा, तो आपके भी मन में यही ख्याल आया होगा की अब से आप भी अपनी माँ के भाव को समझेंगे और उसकी खुशियो का ख्याल रखेंगे.

इतना ही नहीं दोस्तों, वह परिवार के प्रत्येक सदस्य को खुश करने के लिए साल में 365 दिन बिना रुके हर वो काम करना सीख जाती है जो उससे पहले उसने कभी सोचा भी नहीं होता है करने के लिए.

माँ, दुनिया की एकमात्र ऐसी प्राणी है जिसके समक्ष भगवान भी झुकते हैं| वह प्रेम, स्नेह, त्याग और उदारता का प्रतीक है| दुनिया में उसकी मौजूदगी पीड़ित मानवता को एकांत प्रदान करती है| उसका मुस्कुराता चेहरा दुनिया के सभी दुख और तकलीफों को दूर करता है.

एक प्रकार से देखा जाये तो हमारी माँ के बिना हमारे पिता अधूरे हैं| तो एक तरह से, वह परिवार का नाभिक है अर्थात न माँ, न परिवार कोई परिवार नहीं, कोई समाज नहीं| और न समाज, न देश, न दुनिया और न ही इंसानों का कोई अस्तित्व.

मैं इससे ज्यादा नहीं कह सकता, आपने मेरे भाव इतने ध्यान पूर्वक पढ़ा उसके लिए धन्यवाद, आप सभी को मातृ दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं..!

चलिये दोस्तों, अब एक – एक हम कविता को पढ़ते हैं, और आपको जो कविता अच्छी लगे उसे आप अपनी माँ के साथ सोशल मीडिया के माध्यम से शेयर करना बिलकुल ना भूलें.

अन्य लेख ⇓

Poem on Maa in Hindi For Class 1, 2. 3, 4, 5

Poem on Maa in Hindi For Class 1

⇓ Mother’s Day Poem in Hindi ⇓

मैं अपने छोटे मुख कैसे करूँ तेरा गुणगान
माँ तेरी समता में फीका-सा लगता भगवान

माता कौशल्या के घर में जन्म राम ने पाया
ठुमक-ठुमक आँगन में चलकर सबका हृदय जुड़ाया
पुत्र प्रेम में थे निमग्न कौशल्या माँ के प्राण
माँ तेरी समता में फीका-सा लगता भगवान

दे मातृत्व देवकी को यसुदा की गोद सुहाई
ले लकुटी वन-वन भटके गोचारण कियो कन्हाई
सारे ब्रजमंडल में गूँजी थी वंशी की तान
माँ तेरी समता में फीका-सा लगता भगवान

तेरी समता में तू ही है मिले न उपमा कोई
तू न कभी निज सुत से रूठी मृदुता अमित समोई
लाड़-प्यार से सदा सिखाया तूने सच्चा ज्ञान
माँ तेरी समता में फीका-सा लगता भगवान

कभी न विचलित हुई रही सेवा में भूखी प्यासी
समझ पुत्र को रुग्ण मनौती मानी रही उपासी
प्रेमामृत नित पिला पिलाकर किया सतत कल्याण
माँ तेरी समता में फीका-सा लगता भगवान

‘विकल’ न होने दिया पुत्र को कभी न हिम्मत हारी
सदय अदालत है सुत हित में सुख-दुख में महतारी
काँटों पर चलकर भी तूने दिया अभय का दान
माँ तेरी समता में फीका-सा लगता भगवान..!

सबकी पसंद ⇓

Poem on Mother in Hindi for Class 8 – माँ पर कविताएं

Poem on Mother in Hindi for Class 8

धुप में छाया जैसे,
प्यास में दरिया जैसे,
तन में जीवन जैसे,
मन में दर्पण जैसे,
हाथ दुआओं वाले रोशन करे उजाले,
फूल पे जैसे शबनम, सांस में जैसे सरगम,
प्रेम की मूरत दया की सूरत,
ऐसे और कहाँ है ,जैसी मेरी माँ है|

जब भी अँधेरा छा जाये,
वोह दीपक बन जाए,
जब इक अकेली रात सताए,
वोह सपना बन जाए,
अन्दर नीर बहाए,
बाहर से मुस्काए,
काया वोह पावन सी,मथुरा-वृन्दावन जैसी,
जिसके दर्शन में हो भगवन,
ऐसी और कहाँ है, जैसी मेरी माँ है….

Motherland Poem in Hindi – Mothers Day Best Poem in Hindi

Mothers Day Best Poem in Hindi

है माँ…..
हमारे हर मर्ज की दवा होती है माँ….
कभी डाँटती है हमें, तो कभी गले लगा लेती है माँ…..
हमारी आँखोँ के आंसू, अपनी आँखोँ मेँ समा लेती है माँ…..
अपने होठोँ की हँसी, हम पर लुटा देती है माँ……
हमारी खुशियोँ मेँ शामिल होकर, अपने गम भुला देती है माँ….
जब भी कभी ठोकर लगे, तो हमें तुरंत याद आती है माँ…..
दुनिया की तपिश में, हमें आँचल की शीतल छाया देती है माँ…..
खुद चाहे कितनी थकी हो, हमें देखकर अपनी थकान भूल जाती है माँ….
प्यार भरे हाथोँ से, हमेशा हमारी थकान मिटाती है माँ…..
बात जब भी हो लजीज खाने की, तो हमें याद आती है माँ……
रिश्तों को खूबसूरती से निभाना सिखाती है माँ…….
लब्जोँ मेँ जिसे बयाँ नहीँ किया जा सके ऐसी होती है माँ…….
भगवान भी जिसकी ममता के आगे झुक जाते हैँ…!

जरुर पढ़े ⇓

Poem on My Mother in Hindi for Class 3 – Best Heart Touching Poems on Mom in Hindi

 Best Heart Touching Poems on Mom in Hindi

मेरे सर्वस्व की पहचान
अपने आँचल की दे छाँव
ममता की वो लोरी गाती
मेरे सपनों को सहलाती
गाती रहती, मुस्कराती जो
वो है मेरी माँ।

प्यार समेटे सीने में जो
सागर सारा अश्कों में जो
हर आहट पर मुड़ आती जो
वो है मेरी माँ।

दुख मेरे को समेट जाती
सुख की खुशबू बिखेर जाती
ममता की रस बरसाती जो
वो है मेरी माँ।

Poem on Maa in Hindi For Class 8 – Emotional Poems on Mother in Hindi

Poem on Maa in Hindi For Class 8

माँ तेरा आँचल ढूंढता हूँ|

माँ तेरा आँचल ढूंढता हूँ,
होता हूँ जब किसी उलझन में।

अन्धकार में खो गया हूँ,
क्योंकि ढूँढ न पाया तेरा आँचल मैं।

इतना फंस गया हूँ,
जिंदगी के कशमकश में।

दुलार तेरा ढूंढ रहा हूँ,
ढूँढ रहा हूँ तुझे कण-कण में।

एहसास दिलाता है मुझे,
तेरा सर पर हाथ फिराना।

भले ही न हो साथ मेरे,
पर न भूल पाया, तुम्हारे प्यार का खजाना।

होता जब बीमार मैं,
तुम्हारा पास में आकर बैठना।

जब लगती चोट मुझे,
तेरा वो प्यार से डांटना।

पहले लगता था बुरा मुझे,
अब महसूस तुम्हें सिर्फ करता।

पहले लड़ता था तुमसे मैं,
अब रह गया तुम्हें सिर्फ याद करना।

जाते वक्त भी न तुमको देख पाया मैं,
उस मनहूस घड़ी को मैं कोसता।

लिपट कर तुम्हारे मृत शरीर से,
तुम्हारे आँचल को पकड़ता।

कि शायद तुम वापस आ जाओ,
और प्यार से हाथ फेरकर मुझे पुकारो।

पर न तो मैं तुम्हें रोक ही पाया,
और न थाम ही पाया तुम्हारे आँचल को।

माँ तेरा आँचल ढूंढता हूँ,
होता हूँ जब किसी उलझन में।

अन्धकार में खो गया हूँ,
क्योंकि ढूँढ न पाया तेरा आँचल मैं।

Mother Daughter Poem in Hindi – Sad Poem on Maa in Hindi

Sad Poem on Maa in Hindi

गोदी
जब कभी,
आँख लगती थी मेरी,
मै,
सो जाती थी|

क्या पता,
क्या हो जाता था मुझे,
दिल-ही-दिल मे,
घबरा जाती थी |

आंसू,
बहते थे आँखों से,
तेरे पल्लू से,
पोछ देती थी उसे |

गोदी,
मे सो जाती थी मै,
लोरी,
को सुनती थी मै |

तू मुझे,
कहानियां सुनाती,
और मै खयालो मे खो जाती |

उस पल मे,
है इतना प्यार भरा,
कोई भी,
इसे चुरा न सका |

मीठे,
सपने बुनती थी मै,
उन लोरियों को,
ध्यान से सुनती थी मै |

तेरी गोदी,
मुझे याद आती है,
उसकी नर्मी,
मुझे याद आती है|

मुझे तेरी हर बात,
आज है समझ आई,
क्या पता क्यो मैने,
है तुझसे की लड़ाई |

छोटी-छोटी बातो पर,
होती थी नोक -झोक,
कुछ करना चाहूँ,
तो होती थी रोक-टोक |

चोट लगती थी,
तो तेरे नरम हाथ,
मुझे यह एहसास दिलाते थे,
कि तू थी मेरे साथ |

मुझे कोई अफसोस नही,
कि तू सुन नही सकती,
तेरी गोदी ने मुझे सिखाया,
कि हर माँ मे होती है ममता |

उसे है ईश्वर ने बनाया कुछ इस तरह,
कि अपने दिल मे किसी को भी दे दे वह जगह,
बस थोड़ा सम्मान और आदर है मांगती,
मेरी मां है सब कुछ जानती |

आज मैंने आप सभी के समक्ष Top 6 Poem on Maa in Hindi के ऊपर प्रस्तुत करी है, उम्मीद है की आपको यह सभी Maa Par Kavita अत्यंत पसंद आई होगी.

आपको यह कविता कैसी लगी, हमको कमेंट के माध्यम से बताना मत भूलियेगा और जितना हो सके माँ के इस लेख को फेसबुक, व्हाट्सएप्प, ट्विटर पर शेयर करें|

आप सभी को मदर्स डे की हार्दिक शुभकामनाएँ…!

अन्य लेख ⇓

महत्वपूर्ण जानकारी : गलती से भी ऐसा काम न करों जिससे आपकी माँ को दुख पहुंचे| जितना हो सके अपने माता पिता को खुश रख सके, उनकी हर एक बात माने, उनके काम में हाथ बढ़ाये.

Himanshu Grewal

मेरा नाम हिमांशु ग्रेवाल है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमे आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, इंग्लिश स्पीकिंग, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

Leave a Comment

0 Shares
Share via
Copy link