Patriotic Poems in Hindi for 26th January (Republic Day) and 15th August (Independence Day) – हार्ट टचिंग देश भक्ति पोएम

26 जनवरी और 15 अगस्त के इस पवित्र अवसर पर मैं आप सभी देशभक्तों के साथ Patriotic Poems in Hindi Language में प्रस्तुत करने जा रहा हूँ.

यह एक Desh Bhakti Patriotic Poems है जो स्पेशल Republic Day और Independence Day के लिए लिखी गई है.

यहाँ आज में आप सभी दोस्तों के साथ 3 Short Hindi Patriotic Poems शेयर करने जा रहा हूँ जिनको आप किसी भी समारोह में सुना सकते हो.

तो आईये दोस्तों भारत माता का नाम लेते हुए अपनी इस देशभक्ति हिंदी कविता को पढ़ना प्रारंभ करते है.

A Beautiful Patriotic Poems in Hindi for Class 1, 7, 10

अलग अलग गलियों कुचों में लोग कोन गिनता है|
साथ खड़े हों रहने वाले, देश तभी बनता है||

बड़ी बड़ी हम देश प्रेम की बात किये जाते हैं|
वक्त पड़े तो अपनों के भी काम नही आते हैं||

सरहद की रखवाली को सेना अपनी करती है|
पर अंदर सडकों पर लड़की चलने में डरती है||

युवा शक्ति का नारा सुनने में अक्सर आता है|
सही दिशा भी किसी युवा को नहीं दिखा पाता है||

खेत हमारी पूँजी है, और फसल हमारे गहने|
क्यों किसान फिर कहीं लगे हैं जान स्वयं की लेने||

थल सजा है कहीं परन्तु भूख नहीं लगती है|
किसी की बेटी भूख के मारे रात रात जगती है||

क्या सडसठ सालों में ये आजाद वतन अपना है|
क्या यही भगत सिंह और महात्मा गाँधी का सपना है||

क्या इसीलिए आज़ाद गोली खुद को मारी|
क्या इसीलिए रण में कूदी वह नन्ही सी झलकारी||

क्या इसीलिए बिस्मिल ने ‘फिर आऊंगा’ कह डाला था|
क्या ऊधम सिंह ने क्रोध को अपने इसलिए पाला था|

गर नहीं तो फिर कैसे चूके हम राष्ट्र नया गढ़ने में|
जिस आज़ादी के लिए लड़े उसकी इज्जत करने में||

जो फूल सूख कर बिखर गया वह फिर से नही खिलेगा|
जो समय हाथ से निकल गया वह वापस नहीं मिलेगा||

पर अक्लमंद को एक इशारा ही काफ़ी होता है|
सुधार ही हर गलती के लिए असली माफ़ी होता है||

देश प्रेम और राष्ट्रवाद के गान नहीं गाओ तुम|
अपने अंदर बसे भगत सिंह को जरा जगाओं तुम||

मंजिल दूर नहीं राही जब करले अटल इरादा|
अपना हाथ उठा कर ख़ुद से आज करो ये वादा||

मेरे सामने कोई कभी भी भूख से नही मरेगा|
मेरे रहते अन्याय से कोई नहीं डरेगा||

मैं पहले उसका जिसकी तत्काल मदद करनी है|
अपने आगे हर पीड़ित की हर पीड़ा हरनी है||

शपथ गृहण कर आज़ादी का उत्सव आज मनाते हैं|
देश बुलाता है आओ कुछ काम तो इसके आते हैं||

|| वन्दे मातरम् – भारत माता की जय ||

Patriotic Poem in Hindi for 26th January Republic Day

बहती जहाँ ज्ञान की धारा
वो भारत हमें जान से प्यारा
सीता राम की धरती है जो
ऐसा भारत देश हमारा

है भारत की शान तिरंगा
इसे न झुकने देंगे हम
वीरों की क़ुरबानी को
व्यर्थ न जाने देंगे हम

न जाति न भाषा देखा
सबको अपना मीत बनाया
हो बांग्लादेश या पाकिस्थान
हमने सबको गले लगाया

दी शरण हमने सबको
जब कोई है संकट आया
भूखे रहकर भी हमने
पड़ोसी को खाना खिलाया

भारत माँ के सेवक हैं हम
माँ की रक्षा हम करेंगे
बुरी नीयत से जो देखेगा
हम उसका अंत करेंगे||

Patriotic Poem for Independence day (15th August)

हमारी इस हिंदी कविता का शीर्षक है “भारत तुझको नमस्कार है” यह पोएम “अशोक कुमार वशिष्ट” द्वारा लिखी गई है.

भारत तुझसे मेरा नाम है,
भारत तू ही मेरा धाम है|

भारत मेरी शोभा शान है,
भारत मेरा तीर्थ स्थान है|

भारत तू मेरा सम्मान है,
भारत तू मेरा अभिमान है|

भारत तू धर्मो का ताज है,
भारत तू सबका समाज है|

भारत तुझमें गीता सार है,
भारत तू अमृत की धार है|

भारत तू गुरुओं का देश है,
भारत तुझमें सुख सन्देश है|

भारत जबतक ये जीवन है,
भारत तुझको ही अर्पण है|

भारत तू मेरा आधार है,
भारत मुझको तुझसे प्यार है|

भारत तुझपे जा निसार है,
भारत तुझको नमस्कार है|

आपके मन पसंद के आर्टिकल 🙂

प्यारे देशभक्त 🙂 आपको हमारी Patriotic Poems in Hindi Font में कैसी लगी हमको कमेंट के माध्यम से जरुर बताये और जितना हो सके इस आर्टिकल को फेसबुक, ट्विटर, गूगल+ और व्हाट्सएप्प पर शेयर करें. 🙂

6 Comments

  1. Harshita grewal August 15, 2017
  2. HindIndia August 15, 2017
  3. Deepanshu Saxena August 16, 2017
  4. SANAY GUPTA May 5, 2018
  5. Pragya Pandey August 10, 2018
  6. Rashmi tripathi January 24, 2019

Leave a Reply