एनसीसी क्या है? NCC Ka Full Form, Rules, Benefits
करेंट अफेयर्स शिक्षा सरकारी नौकरी सामान्य ज्ञान

एनसीसी क्या है? NCC के फायदे, नियम, सर्टिफिकेट

एनसीसी क्या है
Written by Himanshu Grewal

NCC in Hindi: एनसीसी क्या है बताने से पहले मैं आपको एनसीसी की फुल फॉर्म क्या होती है वो बता देता हूँ।

NCC की फुल फॉर्म राष्ट्रीय कैडेट कोर है यह भारत का सैन्य कैडेट कोर है जो छात्र और छात्राओं को सैन्य प्रशिक्षण प्रदान करता है। इसका मुख्यालय नई दिल्ली में है यह देश के युवाओं को जागृत करने और उनमें जोश लाना और सेना में हिस्सा लेने के लिए प्रोत्साहित करता है।

एनसीसी स्वैच्छिक रूप से स्कूल और कॉलेज के छात्रों के लिए खोला गया है। हमारे भारत की नौसेना, वायु सेना, थल सेना इन NCC Cadet को ट्रेनिंग देती है।

सबसे पहले एनसीसी की शुरुआत जर्मनी में हुई थी। भारत में एनसीसी की शुरुआत 1948 में हुई थी।

सेना की कमी के कारण एन सी सी की उत्पत्ति की गयी थी। एनसीसी के तीन सर्टिफिकेट होते है ‘A’,’B’, ‘C’ ये तीन सर्टिफिकेट एनसीसी कैडेट प्राप्त कर सकता है। इन तीनो सर्टिफिकेट में प्रवेश करने के नियम अलग अलग होते है। एनसीसी को तीन स्कन्ध में बाँटा गया है:-

  1. थल सेना
  2. वायु सेना
  3. नौसेना

ठाठ एनसीसी कैडेट को प्रशिक्षण के आधार पर तीन डिवीजन में बाटा गया है:-

  1. सीनियर डिवीजन
  2. जूनियर डिवीजन
  3. गर्ल्स डिवीजन

अब भारत देश में 15 लाख से ज्यादा एनसीसी कैडेट है जबकि इसकी शुरुआत के समय यह सिर्फ 20,000 के साथ ही शुरू हुई थी।

एनसीसी क्या है अथवा NCC का उद्देश्य क्या है?

Information About NCC in Hindi

NCC क्या है?राष्ट्रीय कैडेट कोर नई दिल्ली में अपने headquarters के साथ भारतीय सैन्य कैडेट कोर है। यह स्वैच्छिक आधार पर स्कूल और कॉलेज के छात्रों के लिए खुला है। भारत में राष्ट्रीय कैडेट कोर एक स्वैच्छिक संगठन है जो पूरे भारत में उच्च विद्यालयों, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों से कैडेटों की भर्ती करता है। कैडेटों को छोटे हथियारों और परेडों में बुनियादी सैन्य प्रशिक्षण दिया जाता है।
Motto of NCC (एनसीसी का मोटो)Unity and Discipline “एकता और अनुशासन”

NCC के मोटो को 12 अक्टूबर, 1980 को अपनाया गया था।

NCC Full Form in Hindi & English

NCC Ka Full Form in Hindiनेशनल कैडेट कोर
NCC Full Form in EnglishNational Cadet Corps

NCC के तीन मुख्य उद्देश्य है

  1. देश के युवाओं में चरित्र सहचर्य, नेतृत्व, अनुशासन, धर्मनिरपेक्षता, रोमांच और निस्वार्थ सेवा भाव का संचार करना।
  2. संघटित प्रशिक्षित व प्रेरित युवाओं का एक मानव संसाधन तैयार करना जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में नेतृत्व प्रदान करना व देश की सेवा के लिए सदैव तत्पर रहना।
  3. सशस्त्र सेना में करियर बनाने के लिए युवाओं को प्रेरित करना और उचित वातावरण प्रदान करना।

एनसीसी गीत के बोल

NCC गान ‘हम सब भारतीय है’ यह सभी NCC कैडेट को अच्छे से याद रहता है इसका उद्देश्य एनसीसी कैडेट्स के मन से भेदभाव की भावना दूर कर सबको एकता का मार्ग दिखाना है।

हम सब भारतीय है गीत के लेखक सुदर्शन फ़ाकिर है इनको अपने पहले गाने के लिए ही फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार मिला था।

Hum Sab Bharatiya Hain NCC Song Lyrics in Hindi

हम सब भारतीय हैं, हम सब भारतीय हैं.
अपनी मंज़िल एक है, हा हा हा एक है, हो हो हो एक है.
हम सब भारतीय हैं.

कश्मीर की धरती रानी है, सरताज हिमालय है,
सदियों से हमने इस को अपने खून से पाला है.
देश की रक्षा की खातिर हम शमशीर उठा लेंगे,
हम शमशीर उठा लेंगे.

बिखरे-बिखरे तारे हैं हम, लेकिन झिलमिल एक है,
हा हा हा एक है, हो हो हो एक है,
हम सब भारतीय है.

मंदिर, गुरूद्वारे भी हैं यहाँ, और मस्जिद भी है यहाँ,
गिरिजा का है घड़ियाल कहीं मुल्ला की कहीं है अजां
एक ही अपना राम हैं, एक ही अल्लाह ताला है,
एक ही अल्लाह ताला हैं.

रंग बिरंगे दीपक हैं हम, लेकिन जगमग एक है,
हा हा हा एक है, हो हो हो एक है.
हम सब भारतीय हैं, हम सब भारतीय हैं

How many Colours are there in the NCC flag?

NCC FLAG

एनसीसी ध्वज: एनसीसी का ध्वज तीन रंगों की पट्टी में बना हुआ है।

  1. पहली पट्टी लाल रंग की है।
  2. बीच वाली पट्टी नीले रंग की है।
  3. तीसरी पट्टी आसमानी रंग की है जो क्रमशः: थल सेना, वायुसेना, नौसेना को दर्शाता है।

ध्वज के बीच में दो गेहूं की बालियां बनी है। ध्वज के मध्य में एनसीसी शब्द स्वर्ण रंग से NCC का ध्येय सूत्र या मोटो ‘एकता और अनुशासन’ लिखा होता है।

Information About NCC in Hindi

  • एनसीसी में शामिल होने के नियम:

राष्ट्रीय कैडेट कोर में नामांकन अपनी इच्छा के अनुसार होता है। कैंडिडेट तेरह वर्ष की आयु में एनसीसी में शामिल हो सकता है। यह प्रशिक्षण दो वर्ष का होता है। यहाँ आपकी उम्र तेरह वर्ष से सत्रह से अठारह वर्ष तक होती है, यहां प्रशिक्षण आपको स्कूल के अंतरगर्त दिया जाता है इसे जूनियर डिवीजन कहते है और इसके बाद आप जब विद्यालय में पहुंच जायेंगे तब आप बचे एक साल का प्रशिक्षण करेंगे। यहां आप सीनियर डिवीजन में होंगे।

यदि आप एनसीसी में प्रवेश चाहते है तो कक्षा ग्यारह में इसे स्कूल में एडमिशन ले जहां पर NCC हो वहां आपको NCC मिल जाएगी।

अगर आप बारहवीं पास कर चुके है तो आप इसे डिग्री कॉलेज में प्रवेश ले जहां पर NCC का प्रशिक्षण दिया जाता हो वहां आप ग्रेजुएशन के साथ साथ एनसीसी का तीन साल का प्रशिक्षण पूरा कर लेंगे।

एनसीसी के दस दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का समापन

एनसीसी में कई तरह के शिविर लगाए जाते है जिनमें अलग अलग रूप से कैडेट्स को प्रशिक्षण दिया है। यहां पर कैडेट की पूरी जिम्मेदारी एनसीसी की ही होती है।

कैडेट को उसकी बटालियन से लेकर जाने से शुरू करने से पूरे दस दिन का प्रशिक्षण देने के बाद वापस उसकी बटालियन तक ही छोड़ने की पूरी जिम्मेदारी एनसीसी की होती है।

NCC Information For Schools in Hindi

अब मैं आपको कुछ एनसीसी शिविर के नाम बताता हूँ।

  1. एनुअल ट्रेनिंग कैंप
  2. इंटर ग्रुप कंपटीशन कैंप
  3. थल सेना कैंप
  4. नो सेना कैंप
  5. वायु सेना कैंप
  6. रोक स्लीपिंग कैंप
  7. आल इंडिया ट्रैकिंग कैंप
  8. एडवेंचर ट्रेनिंग कैंप
  9. आल इंडिया माउंटेन ट्रेनिंग कैंप
  10. पैरा ट्रेनिंग कैंप

NCC के फायदे

क्या आपको पता है एनसीसी से क्या फायदा है? अगर नहीं तो इसके फायदे जानिए।

NCC Benefits in Police in Hindi

एनसीसी के सर्टिफिकेट ‘C’ के धारक के लिए रक्षा सेवा में कमीशन हेतु निम्न पद आरक्षित है।

आर्मीIMA [इंडियन मिलिट्री एकेडमी] देहरादून और SSB के INTERVIEW में प्रत्येक वर्ष 64 रिक्तिया OTA  [ऑफिसर ट्रेनिंग एकेडमी] चेन्नई शॉर्ट सर्विस कमीशन के लिए प्रतिवर्ष 100 रिक्तिया।
नौसेनाप्रत्येक कार्य के लिए 6 रिक्तियां और SSB इंटरव्यू में पॉइंट्स।
एयरफोर्सउड़ान प्रशिक्षण कोर्स सहित सभी कोर्स में 10 प्रतिशत कवक SSB साक्षात्कार सैनिक, नो सैनिक, वायु सैनिक की भर्ती में 5 से 10 प्रतिशत तक बोनस अंक दिए जाते है और जिन धारको के पास ‘C’ सर्टिफिकेट होता है उनकी कोई लिखित परीक्षा नहीं होती है छूट दी जाती है।

डिग्री कॉलेज में प्रवेश लेने पर यदि प्रवेश होने में समस्या आती है या अंक कम होते है तो आपको एनसीसी कैडेट होने की वजह से प्रवेश होने में समस्या नही आएगी और एनसीसी कैडेट होने की वजह से आपके अंको में 2 प्रतिशत की बढ़ोतरी की जाएगी।

आज मैंने आपको एनसीसी के बारे में बताया है अब मैं आप सबको एक बात और बता दू की एनसीसी ईएसआई संस्था है जहां आपको हर चीज सरकार द्वारा दी जाती है। जब भी आप किसी शिविर में जायेंगे तब आपसे कोई पैसा नही लिया जायेगा। आपका आने जाने रहने खाने पीने सभी का पैसा सरकार देती है।

एनसीसी एक अकेली संस्था है जहां कैडेट को सेना की तरह का प्रशिक्षण बिलकुल नि:शुल्क दिया जाता है। आप सबको एनसीसी में प्रवेश अवश्य लेना चाहिए इससे आपके व्यक्तित्व में एक अलग ही रूप आ जायेगा और आप बाकी सामान्य लोगों से कुछ अलग लगेंगे, एनसीसी आपको प्रभावित भी बनाती है।


NCC B Certificate Kya Hai?

एनसीसी बी सर्टिफिकेट के फायदे: जैसा कि आप जानते हैं कि NCC में कुल 3 तरीके से सर्टिफिकेट एक व्यक्ति प्राप्त कर सकता है, तो चलिये मैं आपको बताता हूँ कि NCC B Certificate क्या है और इसके क्या फायदे हैं? लेकिन उससे भी पहले हम जानते हैं कि NCC B Certificate के लिए Eligibility क्या है?

Eligibility For NCC B Certificate in Hindi

  1. जिस कैडेट के पास NCC Certificate A होता है उसे NCC certificate B में 10 बोनस मार्क्स दिए जाते है।
  2. कैडेट के द्वारा NCC सीनियर विंग ट्रेनिंग प्रोग्राम के प्रथम तथा द्वितीय वर्ष के कम से कम 75% पीरियड अटेंड किये जाने चाहिए।
  3. कैडेट के द्वारा परीक्षा से पहले एक annual training camp NIC/COC/RDC अटेंड करना अनिवार्य है।

NCC B Certificate Kya Hota Hai

NCC Kya Hai in Hindi: जब एक कैडेट NCC का A Certificate प्राप्त कर लेता है तो उसके बाद एनसीसी में सफलता पाने के लिए उसे दूसरी सीढ़ी NCC B Certificate को प्राप्त करना होता है।

What are the benefits of an NCC B certificate in a government job in Hindi

  1. मुख्य तौर पर NCC B सर्टिफिकेट होल्डर को सोल्जर रिक्रूटमेंट की लिखित परीक्षा में 10 मार्क्स बोनस मिलते है।
  2. NCC से कैडेट को आर्मी का एक्सपोजर मिलता है, नए नए स्थान घूमने को मिलते है तथा एडवेंचर लाइफ जीने का मौका मिलता है।

एनसीसी के फायदे क्या है? Benefits of NCC in Hindi

शायद आपको ज्ञात ना हो कि यदि आपने NCC कर लिया तो आपको कितने फायदे मिल सकते हैं। चलिये एक एक कर मैं आपको बताता हूँ.

  • जनरल ड्यूटी, क्लर्क, SKT, टेक्निकल तथा नर्सिंग असिस्टेंट का रिटेन एग्जाम (Common Entrance Exam) नही देना पड़ता है।
  • यदि आपको NCC C Certificate मिल जाता है जिसमे 100% मार्क्स दिए जाते है तो आपको आर्मी में एंट्री करने के लिए केवल फिजिकल फिटनेस टेस्ट तथा मेडिकल पास करना होता है।
  • जो NCC A Certificate होल्डर होते हैं उनको रिक्रूटमेंट की लिखित परीक्षा में 5 मार्क्स बोनस दिया जाता है।
  • NCC C Certificate होल्डर, इंडियन आर्मी NCC Entry Scheme के जरिये Short Service Commission भी ले सकते है।
  • इसमें उन्हें लिखित परीक्षा की आवश्यकता नही होती और shortlisted कैंडिडेट्स को SSB Interview के लिए कॉल किया जाता है।

नोट : NCC Entry scheme में आवेदन करने के लिए NCC C Certificate में B grading होना आवश्यक हैं।

NCC History in Hindi

वर्ष 1947 में जब भारत को आजादी मिली तब यह महसूस किया गया कि भारत में सैनिक बहुत ही कम मात्रा में है तभी पंडित हृदय नाथ कुंजरू जी के द्वारा सुझाव दिया गया कि देश में एक नेशनल लेवल की सैनिक छात्र संस्था होनी चाहिए।

कुछ महीने पश्चात 16 अप्रैल 1948 में National Cadet Corps की स्थापना हुई, जिसमे कुल 20,000 छात्र थे लेकिन आज के समय में यह मात्रा बढ़ कर कुल 13 लाख तक पहुच चुकी है.


NCC Rules in Hindi

  1. हमेशा मुस्कान के साथ आज्ञा का पालन करो।
  2. हमेशा समय पर आए।
  3. बिना किसी गड़बड़ के कठिन परिश्रम करो।
  4. कभी बहाना नहीं बनाना और झूठ नहीं बोलना।

एन सी सी दिवस हर चाल नवम्बर महीने के चौथे रविवार को मनाया जाता है।


NCC Book PDF in Hindi

नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक कर के आप एनसीसी बूक पीडीएफ़ इन हिन्दी डाउनलोड कर सकते हैं, जिसमे आपको एनसीसी के बारे में सारी जानकारी मिल जाएगी.

PDF Download

NCC Kaise Join Kare

NCC स्कूल में पढ़ने वाले छात्रों को आर्मी लाइफ जीने का अवसर प्रदान करती है तथा छात्रों की जिंदगी में अनुशासन, नियमितता के महत्व को बताती है.

NCC Join के लिए सबसे पहले स्टूडेंट्स अपने स्कूल या इंस्टीट्यूट के माध्यम से एनसीसी अप्लाई करना होता है.

आइये सबसे पहले हम जानते हैं कि एनसीसी जॉइन करने के लिए क्या-क्या शर्ते हैं?


Eligibility to Join NCC in Hindi
  1. NCC के लिए अप्लाई करने के लिए किसी भी स्कूल या एजुकेशन इंस्टीट्यूट में एडमिशन या एनरोलमेंट होना आवश्यक है।
  2. छात्र का मोरल कैरेक्टर अच्छा होना चाहिए।
  3. एप्लिकेंट भारत का नागरिक होना चाहिए।
  4. मेडिकली फिट होना चाहिए।
  5. जूनियर विंग के लिए अप्लाई करने के लिए छात्र की आयु 12 वर्ष से 18.5 वर्ष होनी चाहिए।
  6. सीनियर विंग के लिए अप्लाई करने के लिए उम्र 26 वर्ष से कम होनी चाहिए।
  7. जूनियर विंग का एनरॉलमेंट का समय 2 वर्ष तथा सीनियर विंग का 3 वर्ष होता है।

एनसीसी क्या है और NCC कैसे ज्वाइन करें?

National Cadet Corps

National Cadet Corps (NCC) की पूरे देश में एरिया वाइज यूनिट में वितरिन की जाती है जिसके माध्यम से स्कूल, कॉलेज में पढ़ने वाले छात्रों को NCC training दिलाई जाती है.

इन यूनिट में आर्मी अफसर, JCO तथा जवान रहते है जो NCC join करने वाले छात्रों को ट्रेनिंग देते है.

दोस्तों मैं आपको बता दूँ कि प्रत्येक जिले के सरकारी तथा प्राइवेट स्कूल NCC यूनिट से जुड़े हुए होते है, तो जिस किसी एरिया में आप रहते हैं वहाँ के बारे में आप जानकारी ले सकते हैं.

NCC से जुड़ने के लिए, स्कूल को सभी शर्ते मान कर उसे पूरी करनी होती है और उसके फॉरमेट के अनुसार अप्लाई करना होता है उसके बाद उस स्कूल को NCC कमांडिंग अफसर से अप्रूवल मिल जाता है.

नोट: स्कूल, इंस्टीट्यूट तथा कॉलेज जिनमे NCC की सुविधा होती है केवल उन्हीं स्कूल के छात्र NCC के लिए अप्लाई कर सकते है.

दोस्तों मैं आपको बता दूँ कि यदि किसी छात्र के स्कूल में NCC की सुविधा नही है तो वह नजदीकी NCC यूनिट के कमांडिंग अफसर से परमिशन लेकर किसी नजदीकी स्कूल (जिसमे NCC की सुविधा हो) के माध्यम से अप्लाई कर सकता है.

जूनियर विंग के लिए अप्लाई करने के लिए स्टूडेंट को स्कूल हेडमास्टर (जिसमे NCC हो) को दिए गए फॉरमेट के अनुसार एप्लीकेशन के माध्यम से अप्लाई करना होता है.

सीनियर विंग के लिए अप्लाई करने के लिए छात्र को नजदीकी NCC यूनिट के कमांडिंग अफसर को दिए गए एप्लीकेशन फॉरमेट में अप्लाई करना होता है|

इसके पश्चात स्कूल हेडमास्टर (जूनियर विंग) तथा NCC यूनिट कमांडिंग अफसर (सीनियर विंग) छात्र की एप्लीकेशन को वेरीफाई करते है तथा यह सुनिश्चित करते है कि छात्र मेडिकल फिट हो.

इसके पश्चात छात्र (यदि 18 वर्ष से ज्यादा का है) द्वारा साइन किया हुआ डिक्लेरेशन फॉर्म लेते है यदि छात्र 18 वर्ष से कम है तो उसके माता पिता या गार्डियन द्वारा साइन किया हुआ डिक्लेरेशन फॉर्म (Declaration Form) लेते है.


NCC का मुख्यालय कहां है?

एनसीसी का मुख्यालय भारत की राजधानी नई दिल्ली में स्थित है।


कैडेट्स ने जाना एनसीसी का इतिहास क्या है?

अब हम इतिहास के पन्नों को पलटते हुए NCC की शुरुआत के बारे में विस्तार से जानते हैं।

पहली बार विश्व में एनसीसी की शुरुआत जर्मनी देश से हुई थी जब भारत में NCC को लेकर 1940 के दशक में विचार विमर्श किया गया।

पहली बार हृदय नाथ कुंजरू ने राष्ट्रीय कैडेट कोर की स्थापना को लेकर अपने विचार प्रस्तुत किए, उन्होंने कहा राष्ट्रीय स्तर पर NCC की शुरुआत स्कूल एवं कॉलेज से की जाए। अतः इस तरह देश में पहली बार आजादी से पूर्व ही एनसीसी को शुरू करने की योजना बन चुकी थी।

वर्ष 1948 में एनसीसी का गठन किया गया। बता दें जब उस समय राष्ट्रीय कैडेट कोर अधिनियम पारित किया गया और उस समय के गवर्नर जनरल द्वारा इस एक्ट को लेकर अपनी सहमति दी।

इसी वर्ष एनसीसी में छात्राओं की भी भागीदारी को देखते हुए एनसीसी के Girls Division की शुरुआत की गई ताकि स्कूल एवं कॉलेज जाती उन छात्राओं को भी समान अवसर प्रदान हो सके जो स्वयं के जीवन में तथा देश के लिए कुछ करना चाहती है।

शुरुआत में एनसीसी की ट्रेनिंग अनिवार्य नहीं की गई थी लेकिन वर्ष 1962 में जब भारत-चीन युद्ध हुआ तो भारत की उस युद्ध में करारी हार झेलनी पड़ी और उसी के बाद से NCC के अंतर्गत ट्रेनिंग को जरूरी माना गया और इसी ट्रेनिंग का फायदा भारत को वर्ष 1965 में हुए भारत पाकिस्तान युद्ध हुआ जिसमें पाकिस्तान को बुरी तरह से पराजित किया गया।

इस युद्ध में एनसीसी कैडेट्स ने सीना के साथ मिलकर सेकंड लाइन ऑफ डिफेंस के तौर पर सहयोग दिया और उसके बाद आगामी युद्ध वर्ष 1971 में हुए पाकिस्तान बांग्लादेश के बीच विभाजन को लेकर छिड़ी जंग में भी एनसीसी ने अपनी अहम भूमिका फिर से निभाई।


एनसीसी दिवस कब मनाया जाता है?

प्रतिवर्ष नवंबर माह के चौथे रविवार को नेशनल कैडेट कॉर्प्स दिवस के रूप में मनाया जाता है।

एनसीसी दिवस को मनाने के पीछे का कारण यह है कि वर्ष 1947 में एनसीसी की दिल्ली में पहली यूनिट इसी दिन खड़ी हुई थी। वर्ष 1946 में हृदय नाथ कुंजरू जी द्वारा सेट की गई कमेटी में पंडित जवाहरलाल नेहरू ने दिशा निर्देश जारी किए गए। इस मीटिंग का उद्देश्य था एक राष्ट्रव्यापी कैडेट कोर की स्थापना।

देश में पहली बार वर्ष 1948 के नवंबर माह में देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित नेहरू ने NCC यूनिट की स्थापना समारोह की अध्यक्षता की और इसीलिए प्रतिवर्ष हम नवंबर माह के चौथे रविवार को NCC Day के रूप में मनाते आ रहे हैं।


NCC में हाइट कितनी चाहिए?

एनसीसी ज्वाइन करने के इच्छुक छात्रों के मन में यह सवाल आता है कि क्या एनसीसी ज्वाइन करने के लिए लंबाई मैटर करती है? तो बता दें कि वैसे तो NCC Join करने के लिए कोई लंबाई का पैमाना निर्धारित नहीं किया गया है। क्योंकि यह निर्धारित करता है कि आप किस NCC यूनिट को ज्वाइन कर रहे हैं?

जैसा कि आप जानते हैं स्कूल एवं कॉलेज दोनों में NCC ज्वाइन करने के लिए अलग-अलग प्रक्रिया होती है।


What is the age limit to join NCC in Hindi

एनसीसी जो कोई भी छात्र या छात्रा ज्वाइन करना चाहते हैं उनके लिए उम्र निर्धारित की गई है।

यदि आप जूनियर विंग से NCC को ज्वाइन करना चाहते हैं अर्थात आप स्कूल में पढ़ाई करते हैं तो 13 से 18½ एनसीसी ज्वाइन कर सकते हैं। यदि आपकी उम्र अधिक हो गई है तो आप एनसीसी के सीनियर विंग को ज्वाइन कर सकते है। एनसीसी के सीनियर विंग के लिए छात्र छात्राएं 26 वर्ष से पहले ज्वाइन कर सकते हैं।


 NCC C Certificate के लाभ और फायदे

क्या आप जानते है भारतीय सेना में भर्ती होने के अलावा भी एनसीसी सर्टिफिकेट C का जॉब्स में भी कई बार फायदा मिल जाता है। हालांकि हर बार ऐसा होना संभव नहीं है परंतु एनसीसी के C सर्टिफिकेट को प्राइवेट सेक्टर में भी कई कंपनियां एवं संस्थाएं नौकरी देने के लिए इस्तेमाल करती है जैसे कि Indian Airlines, Pawan Hans Ltd, The National Small Industries Corp. Ltd.

NCC व्यक्ति की पर्सनैलिटी को एवं अनुशासन को दर्शाता है इसलिए जब आप किसी जॉब में Resume के साथ एनसीसी सर्टिफिकेट करते हैं तो कई बार कंपनी के लिए NCC के आधार पर उस व्यक्ति का चयन करने की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए न सिर्फ सेना में भर्ती होने के लिए आपको NCC Join करनी चाहिए बल्कि NCC व्यक्ति में अनुशासित जीवन जीने एवं राष्ट्र के लिए बेहतर व्यक्ति बनने के गुणों को विकसित करता है।

इस प्रकार से कोई भी छात्र जिसको एनसीसी ज्वाइन करने की इच्छा हो वो NCC जूनियर विंग तथा सीनियर विंग के लिए अप्लाई कर सकते है।


एनसीसी के प्रथम निर्देशक कौन थे?

NCC के प्रथम निदेशक Gopal Gurunath Bewoor है। उनका जन्म 11 अगस्त 1917 में मध्य प्रदेश के सिवनी में हुआ था। 15 जनवरी 1973 गोपाल गुरुनाथ बेवूर को 9वे सेना अध्यक्ष के रूप में भारतीय सेना का कार्यभार सौंपा गया। गोपाल गुरुनाथ बेवूर देहरादून के रॉयल इंडियन मिलिट्री कॉलेज (RIMC) के छात्र थे। जुलाई 1937 में उन्होंने देहरादून में भारतीय सैन्य अकादमी में कमीशन प्राप्त किया। भारतीय सैन्य अकादमी में रहकर उन्होंने ऑलराउंडर कैडेट और प्रतिष्ठित स्वॉर्ड ऑफ ऑनर होने के लिए स्वर्ण पदक हासिल किया।

1947 में गोपाल गुरुनाथ बेवूर सेना विभाजन समिति के सचिव थे। उन्होंने ही उस समय यह निर्धारित किया था कि कितनी मात्र में हथियारों, उपकरणों और रेजिमेंटों को पाकिस्तान भेजा जाएगा। चूंकि उस समय उनकी मूल रेजिमेंट – बलूच – पाकिस्तान चली गई थी। तो उन्हें डोगरा रेजिमेंट में ट्रांसफर कर दिया गया और फिर दिसंबर 1947 में उन्हे लेफ्टिनेंट कर्नल के रूप में पदोन्नत किया गया।

लेफ्टिनेंट कर्नल बनने से पहले, उन्होंने अक्टूबर 1947 में 2 डोगरा की कमान संभाली थी। स्कूल और कॉलेज के छात्र को बुनियादी सैन्य प्रशिक्षण प्रदान करने की दृष्टि से उन्हें अप्रैल 1948 में कर्नल के रूप में NCC (राष्ट्रीय कैडेट कोर) के निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया था। गोपाल गुरुनाथ बेवूर को 31 मार्च 1948 में एनसीसी का पहला डायरेक्टर बनाया गया। प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू जी के नेतृत्व में उन्होंने डायरेक्टर का कार्य बहुत ही अच्छे से निभाया।


NCC इंटरव्यू में कैसे प्रश्न पूछे जाते हैं?

अब हम NCC में पूछे जाने वाले प्रश्न क्या है? उस विषय में जान लेते हैं।

NCC Interview को पार करना किसी भी छात्र के लिए आसान नहीं होता है। अच्छी तैयारी और कड़ी मेहनत के बाद ही छात्र-छात्राएं NCC Interview में पूछे सवालों का जवाब दे पाते हैं। NCC interview में एनसीसी से संबंधित कई सारे सवाल पूछे जाते हैं। आप यह समझ सकते हैं कि एनसीसी इंटरव्यू में एनसीसी को ही आधार मानकर सभी प्रश्न पूछे जाते हैं। एनसीसी इंटरव्यू में कुछ इस तरह के सवाल पूछे जाते हैं-

National Cadet Corps क्या है?

एनसीसी एक यूथ डेवलपमेंट मूवमेंट है जिसके द्वारा नौजवानों के भीतर अपने देश के प्रति प्रेम को उजागर किया जाता है और साथ ही उन्हें कई अलग-अलग तरह की शिक्षाएं जैसे एकता, अनुशासन, ड्यूटी, कमिटमेंट जैसे चीजों का महत्व समझाया जाता है।

NCC Ki Sthapna Kab Hui

National Cadet Corps को National Cadet Corps Act XXXI 1948 के तहत 16 अप्रैल 1948 में पास किया गया था। लेकिन यह 16 जुलाई 1948 में अस्तित्व में आया। इसीलिए 16 जुलाई 1948 को ही एनसीसी प्रोग्राम को फाउंडेशन डे माना जाता है।

एनसीसी प्रोग्राम Compulsory होते हैं या Voluntarily होते हैं?

नहीं, एनसीसी प्रोग्राम अनिवार्य नहीं होते हैं कोई भी छात्र इसे अपने मर्जी से कर सकता है या फिर अगर वह नहीं चाहे तो वह नहीं कर सकता। दूसरे शब्दों में कहें तो एनसीसी प्रोग्राम voluntarily होते हैं।

National Cadet Corps educational activity का हिस्सा है या Military activity का हिस्सा है?

National Cadet Corps पूरी तरह से एक एजुकेशनल एक्टिविटी का हिस्सा है क्योंकि इसके अंतर्गत बच्चों को अनुशासन और एकता सिखाया जाता है।

एनसीसी का उद्देश्य क्या है?

National Cadet Corps का उद्देश्य छात्र छात्राओं में एकता और अनुशासन की भावना पैदा करना है।

NCC Flag में लाल रंग क्या दर्शाता है?

National Cadet Corps में लाल रंग आर्मी का प्रतीक माना जाता है और आर्मी को दर्शाता है।

कमल का फूल एनसीसी में किस चीज को प्रदर्शित करता है?

कमल का फूल National Cadet Corps में हमारे देश के 17 state directorates को दर्शाता है।

NCC day kab manaya jata hai

NCC की स्थापना 16 अप्रैल 1948 को और मान्यता 15 जुलाई 1948 में की गई थी लेकिन NCC Day पूरे देश में नवंबर के 4 तारीख को मनाया जाता है। इसीलिए यह सवाल बहुत सारे लोगों के मन में आता है कि आखिर NCC Day 4 तारीख को क्यों मनाया जाता है?

4 नवंबर 1947 में पहली बार NCC के पहले unit की स्थापना की गई थी। इसीलिए हर साल 4 नवंबर के दिन NCC Day मनाया जाता है। NCC के पहले बैच की स्थापना पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू जी के नेतृत्व में बनाई गई थी। चूंकि NCC के पहले यूनिट को NCC के फंक्शन में पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू जी ने बनाया था। इसीलिए हर साल इसी दिन NCC Day मनाया जाता है।

Who is the ADG of NCC in 2021

सूत्रों के अनुसार मेजर जनरल रंजन महाजन साल 2021 में National Cadet Corps (NCC) के additional director general के पद पर विराजेंगे। मेजर जनरल रंजन महाजन आईएमए, देहरादून के छात्र रह चुके हैं। उन्हें दिसंबर 1987 में राजपूताना राइफल्स रेजिमेंट में कमीशन दिया गया था। इन्होंने अपनी 34 वर्ष के कार्यकाल में NCC और उनके छात्राओं के लिए बहुत कुछ किया है।

आज मैंने आपको एनसीसी क्या है के बारे में सब कुछ बता दिया है। अगर आपको अन्य कुछ पूछना है तो कमेंट के जरिये पूछ सकते हैं अथवा अगर आप अपनी कुछ बात शेयर करना चाहते हो तो कमेंट के माध्यम से अपनी बात हमारे साथ शेयर कर सकते है।

अन्य लेख ⇓

About the author

Himanshu Grewal

मेरा नाम हिमांशु ग्रेवाल है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमें आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, इंग्लिश स्पीकिंग, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

34 Comments

Leave a Comment