Mother's Day

इमोशनल Mothers Day Speech in Hindi – माँ के उपर हिन्दी भाषण (रुला देने वाली कहानी)

Emotional Mothers Day Speech in Hindi
Written by Himanshu Grewal

मदर्स डे आने वाला है और इस दिन हम अपने कॉलेज और स्कूल में Mothers day speech तियार करते है जिसको हम सभी छात्रों के सामने प्रस्तुत कर सके और अपनी माँ के प्रति अपना प्यार जाहिर कर सके.

अगर आप भी अपनी माँ के लिए मदर्स डे पर भाषण लिखना चाहते हो जिसको आप अपने स्कूल/कॉलेज में सभी अध्यापकगण के सामने बोल सको तो इस आर्टिकल मैं आपको Best Mothers day hindi speech मिलेगी जिसको आप कॉपी करके अपने स्कूल में सभी छात्रों के सामने बोल पाओगे.

ये जो Mother’s day best hindi speech आपको नीचे पढ़ने को मिलेगी, इसको मैंने लड़की के लिए लिखा है. अगर आप लड़के हो तो इस स्पीच को आप अपने हिसाब से अपने तरीके से किसी पेपर पर उतार सकते हो.

मदर्स डे के दिन mothers day speech के अलावा और भी बहुत कुछ है जिनका प्रयोग आप मदर डे के दिन कर सकते हो जैसे की mother’s day wallpaper, mother’s day wishes, मदर्स डे पर कविता इत्यादि.

अगर आपको अपनी मदर के लिए यह सब चीजे फ्री डाउनलोड करनी है तो आप Mother’s day वाली केटेगरी पर क्लिक करके डाउनलोड कर सकते हो.

आईये दोस्तों अब हम अपनी heart touching emotional story को शुरू करते है:-

नोट :- अगर आपको Mothers day speech पसंद आई तो इस स्पीच पर अपना कमेंट जरुर दे और इसको फेसबुक, ट्विटर, व्हाट्सएप्प पर शेयर करके सभी को मातृ दिवस की शुभकामनाएं दे.

Heart Touching Mothers day Speech in Hindi Language

पहली धरकन भी मेरी, धरकी की तेरे भीतर जमीन को तेरी छोरकर बता फिर में जाऊ कहा. आँखे खोली जब पहली दफ़ा तेरा चेहरा ही दिखा जिंदगी का हर लम्हा जीना तुझसे ही सिखा.

खामोश सी मेरी जुबाह को सुर भी तुने ही दिया श्वेत पड़ी मेरी अभिलाशाओ को रंगों से तूने भर दिया.

अपना निवाला छोर कर मेरी खातिर तूने भण्डार भरे…. में भले नाकामियाब रही फिर भी मैरे होने का तूने अहंकार भरा.

वो रात को छिपकर जब तू अँधेरे में अकेले रोया करती थी दर्द होता था मुझे भी शिश्किया मैंने भी सुनी थी….. नासमझ थी में जब इतनी खुद का भी मुझे भान नही था तू ही बस वो एक थी जिसे मेरी भुक प्यास का पता था.

पहले जब मै बेतहाशा धुल मैं खेला करती थी तेरी चूडियो तेरी पायल की आवाज से डर लगता था, लगता था तू आयेगी बहुत डाटेगी और कान पकड़ कर मुझे ले जाएगी.

माँ आज भी जब किसी दिन मुझे धुँध-धुंध सा लगता है. चूडियो के बीच से तेरी उड़ते गुस्से भरी आवाज को सुनने का मन करता है, मन करता है तू आजाये बहुत डांटे और कान पकड़ कर मुझे ले जाये.

जाना चाहती हूँ उस बचपन में फिरसे जहाँ तेरी गोद में सोया करती थी. जब काम ना हो कोई मेरे मन का तो हर बात पर रोया करती थी जब बिना तेरी लोरियो, कहानियों के लिए पलके जगा नही करती थी माथे पर बिना तेरे मीठे स्पर्श के ये आँखे जगा नही करती थी.

अब और नही घिसने देना चाहती तेरे इन मुलायम हाथों को, चाहती हूँ पूरा करना तेरे सपनों में दिखे हर बातों को…… खुश होगी माँ एक दिन तू भी जब लोग मुझे तेरी बेटी कहेंगे.

जीत लुंगी उस दिन में सारी दुनिया जब मेरी कामियाबी पर हस्ताक्षर लेरे लगे लगेंगे. आई लव यू माँ

मिलते जुलते आर्टिकल 🙂

मेरे प्यारे दोस्तों मुझे उम्मीद है की आपको Mothers day speech पसंद आयी होगी और आप इस स्पीच को अपने भाषण में इस्तेमाल जरुर करोगे.

आपको मदर्स डे स्पीच कैसी लगी हमको कमेंट करके जरुर बताये और इस स्पीच को जितना हो सके उतना सोशल मीडिया पर शेयर करें. आपको हिमांशु ग्रेवाल की तरफ से मातृ दिवस की हार्दिक और ढेरो शुभकामनाएं…! 🙂

About the author

Himanshu Grewal

मेरा नाम हिमांशु ग्रेवाल है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमे आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, इंग्लिश स्पीकिंग, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

9 Comments

Leave a Comment

22 Shares
Share18
Tweet
+1
Pin1
Share2
Stumble1