Mother's Day

Mother’s Day Essay in Hindi – Best Speech on Mothers Day in Hindi

Mother's Day Essay in Hindi for Students
Written by Himanshu Grewal

शीर्षक : Mother’s Day Essay in Hindi

माँ के बिना जीवन सम्भव नही है, माँ जननी है असहनीय शारीरिक कष्ट के उपरान्त वे शिशु को जन्म देती हैं| अपने स्वार्थको को त्यागकर, अपने कष्टों को भूलकर वह बच्चे का पालन-पोषण करती हैं.

-विज्ञापन-

अपनी सन्तान की सुख के लिए माँ अनेक कष्टों को भी सहज स्वीकार कर लेती है| माँ के स्नेह और त्याग का पृथ्वी पर दूसरा कोई उदाहरण मिलना सम्भव नही हैं.

हमारे शास्त्रों में माँ को देवताओं समान पूजनीय बताया गया है| माँ के बारे में जितना कहे उतना कम है, माँ सबसे अच्छी है, सबसे प्यारी है.

जरुर पढ़े » माँ के प्रेम में 4 बेहतरीन हिंदी कविता

Best Mother’s Day Essay in Hindi Font

Best Mother's Day Essay in Hindi Font

-विज्ञापन-

मेरी माँ बहुत प्यारी है| वे रोज सुबह घर में सबसे पहले उठ जाती हैं| घर के सब लोगों का ध्यान मेरी माँ रखती हैं| वे दादा-दादी का पूरा ध्यान रखती है.

पापा, मेरी और मेरी छोटी बहन की हर एक छोटी बड़ी बातों की परवाह भी मेरी माँ करती है.

दादी कहती हैं कि मेरी माँ घर की लक्ष्मी हैं| मैं भी माँ को भगवन के समान मानता हूँ और उनकी हर बात मानता हूँ.

मेरी माँ जॉब भी करती है, घर और ऑफिस दोनों की जिम्मेदारी वे बहुत ही अच्छे से निभाती हैं| उनके सरल और सुलझे व्यवहार की तारीफ उनके ऑफिस के सारे लोग करते हैं.

मेरी माँ गरीबों और बीमारों की भी हर संभव मदद करती हैं| मेरी माँ मेरी सबसे अच्छी दोस्त हैं.

मैं जब कोई गलती करता हूँ तब माँ मुझे डांटती नहीं है बल्कि प्यार से मुझे समझती हैं.

जब मैं दुखी होता हूँ तब मेरी माँ ही मेरे मुरझाए चेहरे पर मुस्कुराहट लेकर आती हैं. उनके प्यार और ममतामयी स्पर्श को पाकर मैं अपने सारे दुख भूल जाता हूँ.

मेरी माँ ममता की देवी समान हैं वे मुझे और मेरी बहन को हमेशा अच्छी-अच्छी बातें बताती हैं.

मेरी माँ आदर्श हैं वे मुझे सच के रस्ते पर चलने की सीख देती हैं समय का महत्व बताती हैं संस्कार सिखाती हैं.

कहते हैं कि माँ ईश्वर के द्वारा हमें दिया गया एक वरदान है जिसकी आंचल की छांव में हम अपने आप को सुरक्षित महसूस करते है और अपने सारे गम भूल जाते हैं.

मैं अपनी माँ से बहुत प्यार करता हूँ और भगवन को धन्यवाद देता हूँ कि उन्होंने मुझे दुनिया की सबसे अच्छी माँ दी|

जरुर पढ़े : माँ के ऊपर प्यार भरा और रुला देने वाला भाषण

Best Hindi Essay on Maa For Class 1 to 12

Best Hindi Essay on Maa For Class 1 to 12

माँ हमारे लिए सबसे प्यार और देखभाल करने वाली महिलाओ में से एक है| इस दुनिया में मेरी माँ सबसे अच्छी दोस्त है| वे मुझे बेहद प्रेम करती है, वे मेरी सारी गलती पर मुझे कभी डाटती भी नही बल्कि मुझे प्यार से समझाती है.

कोई भी इतना अच्छा नही हो सकता जितना की मेरी प्यारी माँ है| किसी ने सही कहा है की भगवान सब जगह नही हो सकते इसलिए उन्होंने माँ को बनाया है.

कोई भी दयालुता का कर्ज नही चूका सकता| माँ महन्ती, दयालु, देखभाल व प्यार करने वाली है| माँ के मन में हमारे प्रति उनके प्यार की कोई सीमा नही है और परिवार में हर कोई उनकी प्रशंशा करता है.

मेरी माँ हम सबसे पहले उठती है और हम सब के बाद ही सोती है| उनका प्यार व देखभाल मेरे लिए प्रेरणा का काम करती है|

माँ हमारे लिए खाना बनाती है, हमारे कपड़े धोती है और हमारी सभी आवश्यकताओ व आराम का भी ध्यान रखती है| मेरी माँ काम करती है तब भी वह अपने चहरे में दिखने नही देती है की वो थकी हुई है.

-विज्ञापन-

अगर मैं बीमार भी हो जाता हूँ तो मेरी माँ मेरे ठीक हो जाने का हर संभव प्रयास करती है| क्योकि एक माँ अपने बच्चे को कभी भी बीमार नही देख सकती है.

वह अपने बच्चे को खुश और स्वस्थ ही देखना चाहती है, और यदि जब तक हम ठीक नही हो जाते है तब तक वह हमारी सेवा करती रहती है क्योकि उन्हें हमारी सेवा करना अच्छा लगता है और हम सभी उनकी सेवा और त्याग को कभी भूल नही सकते है.

अगर मेंरी माँ बीमार पड़ जाती है तब पूरा घर अस्त-व्यस्त हो जाता है और जिसकी वजह से हम ख़ुद बीमारों जैसे हो जाते है और हम सभी उसके अच्छे हो जाने के लिए प्रार्थना करते है.

वह घर के सारे काम स्वय करती है, घर का भोजन बनाना और भोजन को बनाने के बाद वो सबको प्यार से खिलाती भी है और मैं अपनी माँ की घर का थोडा कार्य करवाने में उनकी सहायता भी करता हूँ.

इतना ही नही मेंरी माँ शाम को हमारे साथ खेलती भी है और रामायण, महाभारत आदि धार्मिक ग्रंथो और महापुरुषो की कहानिया भी सुनाती है और हमारे घर का सारा खर्चा भी अच्छे तरीके से चलाती है| मेंरी माँ वाकई सर्वगुण सपंन्न है.

माँ हमारी पढाई का भी पूरा ध्यान रखती है और विद्यालय में जाकर हमारी अध्यापिका से भी मिलती है और हमारी पढाई की प्रगति के बारे में जानकारी लेती रहती है.

मेरी माँ को भजन गाना उन्हें बेहद पसंद है वह प्रतिदिन ईश्वर की पूजा करती है और तुलसी को जल भी चडाती है और वह हमेशा प्रसन्न रहती है| और हमारे स्वास्थ्य और शरीर की देखभाल एक नर्स की तरह करती है| क्योकि मेंरी माँ मुझसे बहुत प्यार करती है.

जरुर पढ़े : मेरी प्यारी माँ पर निबंध (हिंदी में भाषण)

Mother’s Day Essay in Hindi For School Students – माँ पर निबंध और महत्व

Mother's Day Essay in Hindi For School Students

माँ एक ऐसा शब्द है जिसको शब्दों में बया करना बहुत ही कठिन है| जब हम पहली बार बोले थे तब हमारे मुह से जो पहला शब्द निकलता है वो माँ ही होता है, और जब हम छोटे होते है तो माँ ही है जो हमे चलना सिखाती है और अच्छे और बुरे का फर्क बताती है.

भगवान हर जगह होता है और मुझे मेरा भगवान मेरी माँ में दिखता है और माँ हमारी परवरिश ईश्वर की तरह करती है, यदि धरती पर कोई भगवान को देखना चाहता है तो वो अपनी माँ को देखे माँ भगवान का दूसरा रूप होती है.

माँ हमे बहुत प्यार करती है| वह हमारे लिए सुबह-सुबह उठ जाती है और वह सबसे पहले सब के लिए खाना बनाती है और फिर वह हमे स्कूल जाने के लिए तैयार करती है और इस दुनिया में हम माँ के प्यार को किसी भी वस्तु से नही तोल सकते है.

कभी कभी हमारी माँ हमे किसी कार्य को करने से यदि रोक भी देती है तो हमे यह नही सोचना चाहिए की हमारी माँ हमे कोई कार्य करने से रोक रही है तो उसमे हमारी ही भलाई होगी| एक माँ ही तो है जो हमे अच्छे और बुरे में फर्क बताती है.

अन्य लेख ⇓

मै उम्मीद करता हूँ की आपको Mother’s Day Essay in Hindi Language का यह लेख अत्यंत पसन्द आया होगा.

आपको Mother’s Day Hindi Essay का यह लेख कैसा लगा हमको कमेंट करके जरुर बताये और माँ के प्रति अपने विचार हमारे साथ शेयर जरुर करें.

अगर आपको माँ का यह लेख पसंद आया हो तो इस लेख को आप सोशल मीडिया जैसे की फेसबुक, ट्विटर, गूगल+ और व्हाट्सएप्प पर शेयर जरुर करे. “धन्यवाद”

About the author

Himanshu Grewal

मेरा नाम हिमांशु ग्रेवाल है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमे आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, इंग्लिश स्पीकिंग, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

1 Comment

  • रुको तो चाँद जैसी है चले तो हवाओं से जैसी है भाई वो माँ ही है तो धुप में छाँव जैसी हैं!

Leave a Comment