Mother's Day

मदर्स डे कब है 2022 में?

Mother Day Kab Manaya Jata Hai
Written by Himanshu Grewal

क्या आपको पता है Mother Day Kab Manaya Jata Hai?

अधिकतम देशों में, मातृ दिवस का त्यौहार हाल ही में पालन की गई छुट्टियों से व्युत्पन्न है ये उत्तरी अमेरिका और यूरोप में विकसित हुई है।

मदर्स डे का त्यौहार अन्य देशों और संस्कृतियों के द्वारा अपनाया गया था तब से इसको दूसरा अर्थ दिया गया, जो अलग-अलग घटनाओं जैसे की (पौराणिक, ऐतिहासिक अथवा धार्मिक) से जुड़े थे। तभी से यह पर्व व उत्सव अलग-अलग तारीखों पर मनाये जाते थे।

मातृत्व का सम्मान करने के लिए कुछ देशों में पहले से ही एक समारोह था और उन्होंने उस समारोह का पालन और उसकी श्रद्धा को बनाये रखने के लिए अपनी स्वयं की माँ को गुलनार फुल और अन्य उपहार देने जैसी कई बाहरी विशेषताएं से अमेरिका से छुट्टियां ली गयी। इस प्रसिद्ध समारोह को मनाने का सभी का अपना और अलग तौर-तरीका है।

अगर किसी देश में मातृत्व दिवस के ऐतिहासिक उपलक्ष्य पर उनकी माँ को सम्मानित नहीं किया गया तो उसको अपराध माना जाता है।

कुछ देशों में मदर्स डे का त्यौहार छोटे से प्रसिद्ध पर्व व समारोह के रूप में मनाया जाता है, जो मीडिया तथा प्रवासियों के मुताबिक विदेशी संस्कृति की देन है। जिस तरह ब्रिटेन और अमेरिका में दिवाली का त्यौहार

Mother Day Kab Hota Hai

धर्म

कैथोलिक धर्म के अनुसार यह छुट्टी वर्जिन मेरी के श्रद्धांजली देने की प्रथा से साथ जुड़ा हुआ है।

हिन्दू परंपरा में इसको 2 नाम से कहा जाता है।

  1. माता तीर्थ औंसी
  2. मदर पिल्ग्रिमेज फोर्टनाइट

इस त्यौहार को हिन्दू जनसंख्या वाले देशों में बड़े की विशेष रूप से मनाया जाया है, जैसे की नेपाल।

Mother Day Kab Manaya Jata Hai

इंग्लिश कैलेंडर के अनुसार प्रतिवर्ष मई महीने के दूसरे रविवार को मदर्स डे का दिन मनाया जाता है।

मेरा मानना है कि माँ का कोई दिन नहीं होता, माँ का हर दिन होता है। आपकी क्या राय है नीचे दिए कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताएं।

कोई भी लड़की जब अपने गर्व में शिशु धारण करती है, उसी दिन से वो अपने शिशु से प्यार करने लगती है और यही कारण है कि कहा जाता है कि एक बच्चे का उसकी माँ से सबसे पहले रिश्ता जुड़ता है अर्थात इस पृथ्वी पर अगर एक इंसान का किसी से सबसे पहले रिश्ता बनता है तो वो उसकी माँ के साथ होता है।

प्रिय पाठकों, हर व्यक्ति के जीवन में उसकी माँ बहुत ही खास होती है और यही कारण है कि माँ और उसके बच्चे का प्यार दुनिया के किसी भी तराजू पर तौला नहीं जा सकता है। एक माँ अपने बच्चे के लिए हर दुख, दर्द, तकलीफ से गुजरती है सिर्फ इसलिए ताकि उसका बच्चा खुश रह सके उसे किसी भी तरह कि दिक्कत या परेशानी का सामना ना करना पड़े।

कहते हैं ना – भगवान हर जगह नहीं हो सकता इसलिए उसने माँ को बनाया है, जो हर वक्त उसके साथ रहती है।

यकीनन ही आप सभी लोग मानुषी छिल्लर को जानते होंगे जो कि हरियाणा राज्य है और उन्होंने मिस वर्ल्ड 2017 का खिताब भी जीता है।
खिताब जीतने के बाद उनसे पूछा गया कि आपके अनुसार इस पृथ्वी पर सबसे ज्यादा राशी दी जाने वाली नौकरी कौन सी होती है? तो उनका जवाब वाकई प्रशंसा भरा था।

  • मानुषी छिल्लर ने अपने जवाब में कहा – मेरे ख्याल से सबसे ज्यादा राशि दी जाने वाली नौकरी एक माँ की होनी चाहिए, हम किसी भी रोजगार में देखें वहां छुट्टी जरूर मिलती है, लेकिन एक माँ हफ्ते के 8 दिन और साल के 365 दिन बिना किसी पैसे के अपने काम को बखूबी निभाती है।
  • उन्होंने यह भी कहा कि मेरे ख्याल से शायद इस कार्य के लिए किसी भी माँ को कितना पैसा मिलना चाहिए इसका अंदाजा लगा पाना भी असंभव है।

मातृ दिवस कब मनाया जाता है?

क्या आपको पता हैं Mother Day Kab Aata Hai? अगर नहीं तो नीचे दी गई जानकारी को पढ़ें।

Mother Day Kab Hai

मातृ दिवस कब मनाया जाता है

अफ्रीकी देश

ब्रिटिश परंपरा के अनुसार ही कई अफ़्रीकी देशों ने मातृ दिवस मनाने का तरीका अपनाया है। हालांकि देखा जाये तो मातृ दिवस मनाने के कई ऐसे समारोह और घटनाएं है जो अफ्रीका के यूरोपीय शक्तियों द्वारा औपनिवेशिक होने से पहले ही कई ऐसी विभिन्न और संस्कृतियों के अंतर्गत ही अफ्रीकन महाद्वीप में मनाया जाता था।

बोलीविया

बोलीविया में मातृ दिवस 27 मई के दिन बड़ी ही धूम धाम से मनाया जाता है।

बोलीविया में कोरोनिल का युद्ध को स्मरण करने के लिए 8 नवम्बर 1927 को कानून पारित किया गया। जिस जगह पर यह युद्ध हुआ था वो जगह अब कोचाबम्बा का शहर कहलाता है, यह युद्ध 27 मई 1812 को हुआ था। इस दिन जो महिलाएं देश की आजादी के लिए लड़ रही थी, उनका स्पेनिश सेना द्वारा सरेआम कत्ल कर दिया गया था।

चीन

चीन में मातृ दिवस बहुत ही लोकप्रिय होता जा रहा है। मातृ दिवस के दिन सभी माताओं को उपहार के रूप में गुलनार का फूल🌹 देते है जो बहुत ही लोकप्रिय है और सबसे ज्यादा बिकते भी है। 1997 में गरीब माताओं की मदद करने के लिए यह पर्व निर्धारित किया गया था।

पीपुल्स डेली में, जो चीन के कम्युनिस्ट पार्टी की पत्रिका हैं, उसमें एक लेख में लिखा गया है कि संयुक्त राष्ट्र में इस दिन का प्रादुर्भाव होने के बावजूद, चीन के सभी व्यक्ति इस छुट्टी को बिना किसी हिचकिचाहट के और बड़ी धूम धाम से मनाते है। यह पर्व इसलिए इतनी धूम धाम से मानते है क्योंकि ये परम्परागत नीतियों, बुजुर्गों के प्रति सम्मान और संतानों द्वारा मात-पिता के प्रति प्रेम जाहिर करने के लिए किया जाता है।

ग्रीस

ग्रीस में मातृ दिवस थोड़ा भिन्न तरीके से मनाया जाता है। इस दिन मदर दे के रूप में यीशु की प्रस्तुति मंदिर में पूर्वी रूढ़िवादी उत्सव मनाया जाता है। यह उत्सव इसलिए मनाया जाता है क्योंकि थियोटोकोस जो कि (परमेश्वर की मां) जो मसीह को यरूशलेम के मंदिर तक लाने के कारण प्रमुख रूप से इस उत्सव से संलग्न हैं इसलिए यह दावत माताओं के साथ जुड़ी हैं।

जापान

जापान में मदर्स डे का पर्व शोवा अवधि के दौरान मनाया जाता है। ये पर्व महारानी कोजुन जोकि सम्राट अकिहितो की मां थी, उनके जन्मदिन के रूप में मनाया जाता था। आज कल यह एक विपणन छुट्टी बन गई है जिसमें लोग अपनी माताओं को गुलनार के फूल अथवा गुलाब उपहार के रूप में देते हैं।

थाईलैंड

थाईलैंड में मातृत्व दिवस का पर्व थाईलैंड की रानी के जन्मदिवस की ख़ुशी पर मनाया जाता है।

रोमानिया

रोमानिया में ये दो अलग-अलग छुट्टियों के रूप में मनाया जाता है। मातृ दिवस और महिला दिवस।

यूनाइटेड किंगडम और आयरलैंड

आयरलैंड और यूनाइटेड किंगडम में, मदरिंग सन्डे लेंट के चौथे रविवार को पड़ता है, जोकि ईस्टर संडे के ठीक तीन सप्ताह पहले पड़ता है (23 मार्च 2009 को)। इतिहास में ऐसा माना गया हैं कि इसका प्रादुर्भाव 16वीं सदी में ईसाइयों के द्वारा प्रत्येक साल अपनी माता के गिरिजाघर में जाने से हुआ हैं, इसका यह मतलब है कि अधिकतर जो माताएं है वो इस दिन अपने संतानों से मिल सकेंगी। जल्द से जल्द मदरिंग संडे 1 मार्च के दिन (उस साल जब ईस्टर दिवस 22 मार्च को पड़ता है) या देर हुई तो 4 अप्रैल को (जब ईस्टर दिवस 25 अप्रैल को पड़ता है) तब यह पर्व मनाया जाता हैं।

संयुक्त राज्य अमेरिका / कनाडा

कनाडा और संयुक्त राज्य अमेरिका में मातृ दिवस मई के दूसरे रविवार को मनाते हैं।

वियतनाम

ले वू-लैन के नाम से वियतनाम में मातृ दिवस का पर्व मनाया जाता है और ये त्यौहार चंद्रनामा के सातवें महीने के पन्द्रहवें दिन मनाया जाता हैं। जितने भी लोग अपनी माँ के साथ रहते है उनको भगवान का शुक्रगुजार होना चाहिए, और अगर किसी की माता की मृत्यु हो गई है तो उनको अपने माँ की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करनी चाहिए।

माँ पर कविता, Poem about Mother in Hindi

Mothers Moral Stories in Hindi

आपने बचपन से बहुत कहानी सुनी होगी जिसमें माँ का उसके बच्चो के प्रति स्नेह को दर्शाया गया होगा। इस लेख में भी मैं आपके साथ एक माँ पर कहानी शेयर कर रहा हूँ।

Maa Ki Kahani in Hindi

एक गाँव में एक गरीब और विधवा माँ अपने बेटे के साथ रहती थी, बेटे की छोटी से लेकर बड़ी सभी जरूरत को पूरा करने के लिए वो मजदूरी करती थी, कभी मजदूरी नहीं होती तो वो दूसरों के यहाँ बर्तन धोती।

एक दिन घर में सिर्फ एक ही व्यक्ति का राशन था। माँ ने खाना बना दिया और उसके बाद अपने बेटे को खाना देते हुए बोली बेटा ये ले जल्दी से खाना खा ले, और बेटे को खाना दे के वो दूसरा काम करने चली तभी थाली में दाल खत्म हो जाने पर बेटा चूल्हे के पास रखे भगोने में दाल लेने जाता है तो देखता है कि उसमें दाल नहीं है।

खाली भगोने को देख वो सोचता है कि मेरी माँ खुद भूखी है लेकिन मुझे खाना खिला रही है। इस तरह से अपना पेट काट के उसकी माँ ने अपने बेटे को पाल पोसकर बड़ा किया। बेटे की बड़े होने पर अच्छी कंपनी में नौकरी लगी और फिर उसका विवाह एक सुंदर लड़की से हो गई। शादी के बाद माँ बेटा और बहू साथ रहने लगे लेकिन बहू को उसकी सास अच्छी नहीं लगती थी और यही कारण था कि वो उनको हमेशा परेशान करती थी और अपने पति के कान भर्ती थी।

एक दिन बेटे ने बीवी के रोज – रोज के दिक्कत से पीछा हटाने के लिए अपनी माँ को गाँव भेज दिया और खुद अपनी बीवी के साथ शहर में रहने लगा। कुछ समय बाद बेटे की तबीयत खराब होती है और उसे पता चलता है कि उसके गुर्दे ने काम करना बंद कर दिया है, इलाज के लिए उसको दूसरे गुर्दे की जरूरत थी। उसने अपने सभी रिश्तेदारों को फोन कर मदद मांगी और सब जगह से उसे असफलता ही मिली, फिर अचानक एक दिन उसको एक गुर्दा मिलता है जो कि किसने दिया होता है यह उसको मालूम नहीं होता।

ऑपरेशन होने के 15 दिन बाद जब वो घर लौटता है तो उसको उसकी बीवी बोलती है कि देखा तुम्हारी मां कैसी है, तुम्हें सब देखने आए लेकिन वो देखने तक नहीं आई।

बेटे को बीवी की बात पर बहुत गुस्सा आता है और तभी उसको गाँव से फोन आता है कि उसके घर से बहुत बदबू आ रही है और गाते भी बंद है और गाँव जा के देखता है तो उसकी माँ की मृत्यु हो चुकी होती है और अंदाजा लगाया जाता है कि शायद मौत को 4-5 दिन हो चुके होते हैं।भी कुछ पड़ोसी आकर उसको बताते है कि तुम्हारी माँ ने जिंदगी भर मेहनत कर के तुम्हें एक अच्छा व्यक्ति बनाया और अंत में जरूरत पड़ने पर उसने तुम्हें अपना गुर्दा भी दे दिया परंतु तुम कैसे बेटे हो जो देखने तक नहीं आए?

उस बेटे को उस समय बहुत बुरा लगा और वह बहुत रोया परंतु अब तो देर हो चुकी थी वो कुछ भी नहीं कर सकता था।

दोस्तों, आपको यह कहानी कैसी लगी? नीचे दिये कमेंट बॉक्स में बताना मत भूलना।


यह थी थोड़ी बहुत जानकारी मदर्स डे कब है उस विषय में।

अगर आपको मातृ दिवस के बारे में जानकारी पता है जिसको आप हमारे साथ शेयर करना चाहते हो तो आप कमेंट के माध्यम से हमारे साथ शेयर कर सकते हो।

माँ के लेख को सोशल मीडिया पर सभी बच्चों के साथ शेयर जरूर करें और अपनी माँ को धन्यवाद अवश्य दे।

Mother Day Kab Manaya Jata Hai

About the author

Himanshu Grewal

मेरा नाम हिमांशु ग्रेवाल है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमें आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, इंग्लिश स्पीकिंग, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

3 Comments

Leave a Comment

close