शादी पंजीकरण में कम समय बिताएं ऑनलाइन मंच प्रक्रिया से

Marriage Certificate Online : भारतीय विवाह अधिनियम के अनुसार, प्रत्येक नागरिक को अपने विवाह का पंजीकरण कराना अनिवार्य है। इस बात को छोड़ के की कौन सा उत्सव है और किसी व्यक्ति की धार्मिक भावनाएं जुड़ी है।

सभी विवाह को उप-मंडल मजिस्ट्रेट के साथ पंजीकृत होना होगा।

शादी पंजीकरण प्रक्रिया इतनी सरल नहीं है जितनी यह लग सकती है, जबकि इसमें कुछ उतार-चढ़ाव रहता ही हैं।

शादी पंजीकरण की आवश्यकताएं

भारतीय विवाह के लिए आचार संहिता में कहा गया है कि विवाहों को पंजीकृत करना होगा।

“हिंदू विवाह अधिनियम या विशेष विवाह अधिनियम”, जैसे कि नाम से पता चलता है दोनों के बीच विवाह करने वाले व्यक्तियों का धर्म है, जो मुख्य आवश्यकता है।

यदि दोनों पक्ष हिंदू, बौद्ध, जैन या सिख हैं, तो वह हिंदू विवाह अधिनियम के तहत शादी कर सकते हैं। पर यदि दोनों पक्ष में एक पक्ष अलग धर्म का हैं या तो दोनों पक्षों का धर्म अलग हैं, या तो वह भारतीय नहीं है तो उन्हें विशेष विवाह अधिनियम के माध्यम से शादी करनी होगी।

अगर किसी जोड़े ने पहले से ही शादी की रस्में निभाईं और समय पर अपनी शादी को पंजीकृत नहीं किया, तो उन्हें विशेष विवाह अधिनियम के तहत अपने शादी को पंजीकृत करना होगा।

विवाह पंजीकरण के लिए आवश्यकताएं काफी सीधी हैं और उनका नीचे उल्लेख किया गया है।

1. विवाह पंजीकरण ऑनलाइन

शादी करने वाले दोनों पक्षों, पति और पत्नी, को हस्ताक्षरित विवाह पंजीकरण प्रपत्र जमा करना होगा।

2.

उन्हें अपनी पहचान और तारीख के बारे में विवरण और प्रलेखन प्रदान करना होगा यह सुनिश्चित करने के लिए कि वे 21 वर्ष से अधिक आयु के हैं।

3.

उन्हें उस व्यक्ति का राशन कार्ड प्रदान करना होगा जिसके घर में वह शादी के बाद रहने जायेंगे। यदि वे किसी नए स्थान पर जा रहे हैं, तो उन्हें यह सबूत देना होगा की वह वहा 30 से अधिक दिन रह रहे हैं।

4.

दोनों लोगों द्वारा अपनी शादी की तारीख का उल्लेख करते हुए, जन्मतिथि, शादी की तारीख और वैवाहिक स्थिति इन सबका उल्लेख करते हुए उन्हें हस्ताक्षरित शपथ पत्र प्रदान करना होगा।

5.

उन्हें स्वयं के दो पासपोर्ट आकार के फोटो उपलब्ध कराने होंगे।

6.

यदि उपलब्ध हो तो उन्हें अपना विवाह निमंत्रण कार्ड देना होगा।

7.

उन्हें विवाह पंजीकरण की लागत का भुगतान करना होगा। यह राज्य के आधार पर भिन्न होता है इसलिए उनकी शादी जिस शहर में हुयी है उस शहर के अधिनियम तहत जहां वे अपनी शादी का पंजीकरण करा रहे हैं।

8.

यदि विवाह से संबंधित कोई अन्य दस्तावेज है, जैसे, पहले में विवाहित होना या एक किसी अलग देश से तो उन्हें आगे बढ़ने से पहले इसे जमा करना होगा।

शादी पंजीकरण की पूरी प्रक्रिया – Marriage Certificate Online

सब-डिविजनल मजिस्ट्रेट से मिलकर नियंत्रित की जाती हैं, जिसमे दोनों को मिलने के लिए निर्धारित समय तय करना होगा।

हालाँकि, अब पूरी प्रक्रिया को एक वेबसाइट के माध्यम से संभाला जा सकता है। जिसमे एजेंट आवेदन की ओर से शादी पंजीकरण करते हैं जिसे दोनों व्यक्ति अपने शादी के अन्य कार्यों पर अपना ध्यान केंद्रित कर सके।


निष्कर्ष

यह एक Sponsored post है। अगर आप भी HimanshuGrewal.com पर ‘Sponsored post’ पब्लिश करवाना चाहते हो तो आप [email protected] पर मेल करें.

अन्य sponsored post देखने के लिए यहाँ क्लिक करें।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Himanshu Grewal

मेरा नाम हिमांशु ग्रेवाल है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमे आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, इंग्लिश स्पीकिंग, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

Leave a Comment