Lohri

लोहड़ी माता की कथा और कहानी

लोहड़ी माता की कथा
Written by Himanshu Grewal

सभी भक्तों को लोहड़ी की हार्दिक शुभकामनाएँ, आज मै आप सभी को बहुत ही महत्वपूर्ण लोहड़ी माता की कथा और कहानी बताने जा रहा हूँ जिसको सुन कर आप सभी के मन में माता लोहड़ी के लिए प्रेम जाग उठेगा.

लोहड़ी का पर्व पंजाबी त्यौहार है, एक खुशियाँ मनाने का सबसे ज्यादा लोकप्रिय त्यौहार माना जाता है| पंजाबियों के साथ साथ हिन्दू धर्म के लोग भी इस त्यौहार को मनाने से पीछे नहीं होंगे.

उम्मीद करूंगा की आपको लोहड़ी माता की कथा का ये लेख बहुत ही अच्छा लगेगा, और अगर अच्छा लगे तो इसको व्हाट्सएप्प, ट्विटर, फेसबुक पर शेयर करने से पीछे मत हटना.

लोहड़ी का त्यौहार माता सती की याद में मनाया जाता है| लोहड़ी के त्यौहार के पीछे एक बहुत ही बड़ी कहानी है जिसे आप नीचे पड़ेंगे|

लोहड़ी के पीछे दुल्ला भट्टी नामक खूंखार डाकू की कहानी भी है, लेकिन ये दुल्ला भट्टी डाकू केवल गलत लोगों के लिए ही गलत थे.

लोहड़ी का त्यौहार रेवड़ियों, गज्जक, मूंगफलियों को बांटने का त्यौहार होता है| ढेर सारी खुशियों को बांटने का त्यौहार है.

वैसे तो भारत में अनेकों त्यौहार मनाए जाते हैं ठीक उसी तरह लोहड़ी का त्यौहार भी मनाया जाता है, लोहड़ी का त्यौहार पंजाबी धर्म के लोगों में मनाया जाता है, लोहड़ी का त्यौहार जनवरी के मास में मनाया जाता है.

लोहडी का त्यौहार उत्तर भारत का एक प्रसिद्ध त्योहार है| यह मकर संक्रांति के एक दिन पहले मनाया जाता है| मकर संक्रांति की शाम को इस त्यौहार का उल्लास रहता है.

रात्रि में खुले स्थान में परिवार और आस-पड़ोस के लोग मिलकर कुछ सूखी लकड़ियां, गोबर के उपले, आदि की आग लगाते है और उस आग के किनारे घेरा बना कर बैठते हैं| इस समय रेवड़ी, मूंगफली, लावा आदि खाए जाते हैं.

लोहड़ी का त्यौहार कब मनाया जाता है ?

लोहड़ी पूजा विधि

लोहड़ी का त्यौहार जनवरी में प्रत्येक वर्ष मनाया जाता है| ये वर्ष के सबसे ज्यादा ठंडे मौसम में मनाई जाती है| लोहड़ी का त्यौहार पौष मौसम के आखिरी दिन, सूरज डूबने के बाद, माघ संक्रांति से पहली रात को मनाया जाता है| लोहड़ी का त्यौहार प्रत्येक वर्ष 12 से 13 जनवरी को ही पड़ता है.

सभी धर्मो के लोगों के अलग अलग त्यौहार मनाए जाते हैं ठीक उसी तरह ही लोहड़ी का त्यौहार पंजाब में मनाया जाने वाला त्यौहार है, लोहड़ी का त्यौहार पंजाबी मनाते है.

लोहड़ी द्योतार्थक (एक्रॉस्टिक) शब्द लोहड़ी की पूजा के समय व्यवहृत होने वाली वस्तुओं के द्योतक वर्णों का समुच्चय सुनाई पड़ता हैं.

लोहड़ी में ल (लकड़ी) + ओह (गोहा = सूखे उपले) + ड़ी (रेवड़ी) = “लोहड़ी” के प्रतीक हैं| लोहड़ी का त्यौहार बड़ी ही मान्यताओं से जुड़ा हुआ है|

लोहड़ी क्यों मनाई जाती है – Why We Celebrate Lohri Festival in Hindi

लोहड़ी माता की कथा पढ़ने से पहले आईये जानते है की क्यों हम लोहड़ी का पर्व मनाते है ?

लोहड़ी का त्यौहार लोगों के बीच प्रेम संबंध को बनाए रखने का त्यौहार है| लोहड़ी से सम्बंध परम्पराओं और रीति रिवाजों से पता चलता है की इतिहास गाथाएँ कहानियाँ इससे जुड़ी हुई है.

दक्ष प्रजापति की पुत्री सती के योगाग्नि दहन की याद में ही यह अग्नि जलाई जाती है| जी हाँ सती जी ये कोई और नहीं हमारे भोले बाबा की पत्नी ही थी जो की अपने पिता दक्ष के सभी यज्ञ में आहुति दे दी थी.

हुआ ये था की राजा दक्ष ने उस यज्ञ में सब को बुलाया था लेकिन भोले बाबा को नहीं बुलाया क्योंकि वो बोले बाबा को पसंद नहीं करते थे| अब इतने बड़े यज्ञ में भगवान शंकर को न बुलाये जाने पर सती माता ने इसे बहुत बड़ी बेइज्जती समझा और अपने पिता के यज्ञ में जाकर हवन कुंड में आहूत दे दी| जिसे आज के समय में लोहड़ी कहा जाता है.

लोहड़ी पर विवाहिता पुत्रियों को माँ के घर से “त्योहार” (वस्त्र, मिठाई, रेवड़ी, फलादि) भेजा जाता है|

यज्ञ के समय अपने जामाता शिव का भाग न निकालने का दक्ष प्रजापति का प्रायश्चित्त ही इसमें दिखाई पड़ता है| उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल में “खिचड़वार” और दक्षिण भारत के “पोंगल” पर भी-जो “लोहड़ी” के समीप ही मनाए जाते हैं| बेटियों को भेंट जाती है.

क्यों और कैसे मनाई जाती है लोहड़ी – Essay on Lohri Festival in Hindi

भारत में अन्य त्यौहारों की तरह लोहड़ी का त्यौहार भी हजारों लाखों लोग मनाते हैं| करीब 15-20 दिन पहले ही घरों के बालक, बालिकाएँ लोहड़ी के गाने, गाने के लिए प्रकटीस शुरू कर देती है.

लकड़ियाँ इकट्ठी करने में उपले इखट्टी करने में लग जाते हैं| संचित सामग्री से चौराहे या मोहल्ले के किसी खुले स्थान पर आग जलाई जाती है| मोहल्ले या गाँव भर के लोग अग्नि के चारों और आसन जमा लेते हैं.

घर और व्यवसाय के कामकाज से निपटकर प्रत्येक व्यक्ति अपने परिवार अग्नि की परिक्रमा करता है|

रेवड़ी (और कहीं कहीं मक्की के भुने दाने) अग्नि की भेंट किए जाते हैं तथा ये ही चीजें प्रसाद के रूप में सभी उपस्थित लोगों को बाँटी जाती हैं| घर लौटते समय “लोहड़ी” में से दो चार दहकते कोयले, प्रसाद के रूप में, घर पर लाने की प्रथा भी है.

कहा जाता है की जिन घरों में परिवारों में लड़के का विवाह होता है या जिनको पुत्र प्राप्ति होती है, उनसे पैसे लेकर मोहल्ले या गाँव भर में बच्चे ही बराबर रेवड़ी बांटते हैं.

लोहड़ी के दिन या उससे दो चार दिन पूर्व बालक बालिकाएँ दुकानदार तथा पथिकों से “मोहमया” या महामाई (ये दोनों लोहड़ी के ही दूसरे नाम है) के पैसे माँगते हैं और इकट्ठे हुए पैसों से लकड़ी और उपलों रेवड़ियों, गज्जक, मूंगफलियों आदि को खरीदकर लोगों में मोहल्ला में बांटते हैं.

लोहड़ी व्याहना क्या होता है – Lohri Essay in Hindi For School Student

गाँव शहर में लोहड़ी का त्यौहार लोग बड़ी ही धूम धाम से मनाते हैं, शहर गाँव के शरारती बच्चे दूसरे की लोहड़ी की आग निकाल कर अपने घर लेकर भाग जाते है| यह “लोहड़ी व्याहना” कहलाता है.

कई बार छीना झपटी में सिर फुटौवल भी हो जाती है| मँहगाई के कारण पर्याप्त लकड़ी और उपलों के अभाव में दुकानों के बाहर पड़ी लकड़ी की चीजें उठाकर जला देने की शरारतें भी चल पड़ी हैं.

ऐसे तो लोहड़ी का त्यौहार पंजाबियों हरयानियों में बड़ी ही धूम धाम के साथ मनाया जाता है| यह लोहड़ी का त्यौहार लगभग भारत के सभी राज्यों में मनाया जाने लगा है| लेकिन अधिकतर ये त्यौहार पंजाब, हरयाणा, दिल्ली, जम्मू और कश्मीर और हिमाचल में बड़ी ही धूम धाम से मनाया जाता है.

लोहड़ी का त्यौहार उत्पत्ति के बारे में घड़ी मान्यता है जो की पंजाब के त्यौहार से जुड़ी हुई मानी जाती है.

घर के बड़े बुजुर्गों का मानना है की यह लोहड़ी का त्यौहार जाड़े की ऋतु के आने का द्योतक के रूप में मनाया जाता है| आज के समय में ये लोहड़ी का त्यौहार सिर्फ पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, जम्मू कश्मीर और हिमाचल में ही नहीं बल्कि बंगाल और उडिया लोगों द्वारा भी मनाया जा रहा है.

अब तो बाहर अमेरिका, न्यूजीलैंड, कनाडा जैसे देशों में लोहड़ी का त्यौहार मनाया जाने लगा है| पंजाबी लोगों का यह त्यौहार देश विदेशों में बड़ी ही धूम धाम से मनाया जाने लगा है.

लोहड़ी माता की कथा – दुल्ला भट्टी की कहानी हिंदी में

लोहड़ी का त्यौहार जो की एक बड़ी ही कहानी की हकदार है| लोहड़ी का त्यौहार एक कहानी दुल्ला भट्टी की एक कहानी से जुड़ी हुई है| लोहड़ी की सभी गानों को दुल्ला भट्टी से ही जुड़ा हुआ माना गया है| दुल्ला भट्टी मुगल शासक अकबर के समय में पंजाब में रहता था.

दुल्ला भट्टी एक प्रसिद्ध डाकू था जो की डकैती की राशि से गरीब लड़कियों की शादी कराया करता था| दुल्ला भट्टी को उस समय का नायक घोषित कर दिया गया था.

उस समय संदल बार की जगह पर लड़कियों को गुलामी के बल पूर्वक अमीर लोगों को बीच जाता था जिसे दुल्ला भट्टी ने एक योजना के तहत लड़कियों को केवल छुड़ाया ही नहीं उनकी शादी हिन्दू लड़कों से करवा दी और शादी की पूरी व्यवस्था करा दी थी.

दुल्ला भट्टी एक विद्रोही डाकू था| जिसकी वंशवली भट्टी राजपूत थे| दुल्ला भट्टियों के शासक थे जो की संदल बार में था आज के समय में संदल बार पाकिस्तान में है.

दुल्ला भट्टी के डाकू होने पर भी लोग उन्हे अपना नायक मानते है| लोगों को दुला भट्टी के अच्छे इरादे से कोई भी नुकसान नहीं पहुंचता था.

लोहड़ी पर्व को भारत में कहाँ कहाँ पर मनाया जाता है?

सिख समुदाय द्वारा मनाए जाने वाला लोहड़ी का पर्व उत्तर भारत के राज्यों में मनाया जाता है। सबसे ज्यादा इस पर्व की धूम धाम पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश और भारत की राजधानी दिल्ली में देखी जाती है। आनंद और खुशियों का प्रतीक माने जाने वाला यह पर्व शरद ऋतु के जाने पर मनाया जाता है। इस दिन सभी राज्य के गुरुद्वारों पर श्रद्धालुओं का ताँता बंधा रहता है। कई जगहों पर इस मौके पर डीजे, ढोल नगाड़े बजाए जाते है और हर जगह इस त्योहार की रौनक देखने को मिलती हैं। बता दें देश के कई स्थानों पर हिन्दुओं द्वारा भी इस पर्व को सद्भावना के साथ मनाया जाता है।


क्या लोहड़ी पर्व को दूसरे देशों में भी मनाया जाता है?

अमेरिका, कनाडा समेत विश्व में जिन देशों में सिख समुदाय के लोग निवास करते हैं। वहां लोहड़ी का पर्व हर साल आनंद एवं उल्लास से मनाया जाता है। अतः इस धार्मिक एवं सांस्कृतिक त्यौहार के आने की खुशी एवं उत्साह पहले ही लोगों में देखी जा सकती है।


लोहड़ी पर्व का मुख्य प्रसाद क्या है?

मूंगफली, तिल, रेवड़ी तथा गजक को लोहड़ी पर्व का मुख्य प्रसाद माना जाता है। इस मौके पर इन खाद्य पदार्थों की मांग काफी बढ़ जाती है इसलिए बाजार में बिक्री खूब होती है। लोहड़ी के दिन इस प्रसाद को अग्नि में डालकर चढ़ाया जाता है। इस अग्नि को अलाव कहा जाता है। मान्यता है प्रसाद को अलाव में चढ़ा कर भगवान से धन-धान्य,समृद्धि आशीर्वाद लिया जाता है। उसके बाद बाकी बचा प्रसाद एक दूसरे के बीच बांटकर खाया जाता है। बता दें जिन घरों में नन्हे शिशु का जन्म हुआ हो या फिर नव विवाहित जोड़े हों, लोहड़ी का पर्व वहाँ नाच गाने बड़े आनंद के साथ मनाया जाता है। साथ ही रात्रि भोज में सरसों का साग और मक्की की रोटी से इस पर्व का आनंद दोगुना हो जाता है।


लोहड़ी के बाद कौन सा त्यौहार मनाया जाता है?

लोहड़ी का पर्व मकर संक्रांति के ठीक 1 दिन पहले मनाया जाता है। तो इस त्यौहार के बाद अगला दिन मकर संक्रांति का होता है। मान्यता है जिस दिन सूर्य मकर राशि पर आता है तो पौष माह का यह दिन मकर संक्रांति के त्योहार के रूप में जाना जाता है। मकर संक्रांति के त्योहार के इतिहास को देखें तो मान्यता है इस दिन भगवान शनि देव जो सूर्य भगवान के पुत्र हैं। उनके पिता स्वयं मकर राशि के स्वामी कहे जाने वाले भगवान शनि देव के घर पधारते हैं, हिंदू धर्म में इस दिन को मकर संक्रांति के तौर पर भी जाना जाता है।

साथ ही इस त्यौहार से जुड़ी एक और पौराणिक कथा यह है कि मकर संक्रांति के दिन ही गंगा जी भगीरथ के पीछे आती हुई कपिल मुनि जी जिन्हें प्राचीन भारत के सबसे प्रभावशाली मुनियों में गिना जाता है, उनके आश्रम से होते हुए गंगा जी सागर में मिल गई थीं। यही नहीं भारत की धरती पर लड़े गए महाभारत के युद्ध में गंगा पुत्र भीष्म ने यही दिन अपनी देह को त्यागने के लिए चुना था। इसलिए इस दिन की पौराणिक मान्यताएं देशवासियों के लिए काफी मायने रखती है।

देश के विभिन्न राज्यों में मनाए जाने वाला यह पर्व अलग अलग अंदाज में मनाया जाता है। तमिलनाडु में जहां इसे पोंगल के रूप में मनाते है, केरला में इस पर्व को सिर्फ संक्रांति के तौर पर संबोधित किया जाता है। मान्यता है इस दिन तिल, गुड़, दाल-चावल, खिचड़ी का दान करने से अशुभ परिणामों में कमी आती है। और जीवन में शुभ कार्य होते हैं। इसलिए इस दिन तिल गुड़ का दान किया जाता है साथ ही उनसे बने स्वादिष्ट व्यंजन भी पकाए जाते हैं।


लोहड़ी बंपर पंजाब 2021

हर साल की तरह ही पंजाबियों के इस पावन पर्व के मौके पर हर जगह धूम धाम देखी जाती है। इस मौके पर किस्मत आजमाने वाले लोगों के सामने कुछ बंपर इनाम जीतने का भी मौका होता है। जिसके लिए हर साल बंपर लॉटरी खोली जाती है, जिसके तहत करोड़ों रुपए के इनाम भी शामिल होते हैं।

कई लोग नए साल का जश्न मनाने और अपने भाग्य को आजमाने के लिए इन लॉटरी में भाग लेते हैं। जिसकी टिकट आम तौर पर ₹200 तक होती है, बात करें 2020 में तो लोहड़ी बंपर ड्रा में 2 करोड रुपए का इनाम निर्धारित किया गया था जिसका परिणाम 17 जनवरी को घोषित किया गया था। इस बंपर लोटरी में एक टिकट नंबर दिया जाता है, जिसके आधार पर विजेताओं के नाम घोषित किए जाते हैं। अगर आप भी न्यू ईयर पर अपनी किस्मत आजमाना चाहते है तो लोहड़ी के मौके पर अपने नजदीकी लोहड़ी बंपर पर जाकर जानकारी हासिल कर सकते हैं।


लोहड़ी का त्यौहार किस राज्य में सबसे धूमधाम से मनाया जाता है?

पंजाब राज्य को सिख समुदाय का गढ़ माना जाता है इसलिए इस पर्व की सबसे अधिक धूमधाम पंजाब राज्य में देखी जाती है। इस मौके पर जहां लड़कियां पंजाब का प्रसिद्ध लोक नृत्य गिद्दा करती हैं वहीं लड़के ढोल की धुन में भांगड़ा डांस करते हैं। आधुनिक दौर में देश के कई राज्यों में लोहड़ी का त्यौहार मनाया जाता है। लेकिन पंजाब में इस पर्व की रौनक अलग ही होती है, गली चौराहे पर इस पर्व की चहल-पहल देखने को मिलती है।

बता दें लोहड़ी पर्व आने से लगभग 30 दिन पूर्व बच्चे लोहड़ी के लोकगीत गाकर अलाव के लिए लकड़ियां, उपले इक्कठा करते हैं। और लोहड़ी के दिन लकड़ियों को चौराहे या मोहल्ले जैसे किसी खुले स्थान पर जलाते है और समूह में पंजाबियों द्वारा लोहड़ी का पूजन किया जाता है, जिसके पश्चात उसमें तिल, गुड़, रेवड़ी मूंगफली इत्यादि खाद्य पदार्थ का भोग चढ़ाया जाता है।

इस अवसर पर रात्रि के समय पंजाब के विभिन्न स्थानों में ढोल नगाड़ों की गूंज और भांगड़ा और गिद्दा नृत्य देखने को मिलता है। शाम से शुरू होने वाला यह नृत्य देर रात तक चलता है। लोहड़ी के बाद अगला दिन मकर संक्रांति का होता है। जिसकी सुबह लोहड़ी की शाम को जलाई गई लकड़ियां और उपलों में हाथ सेकते हुए बच्चे, बुजुर्ग अपने घरों की ओर आते हैं। बता दें, इस उत्सव के दौरान बच्चे घर-घर जाकर लोकगीत गाते है और कई बार उन्हें बड़ों की तरफ से इस मौके पर पैसे भी मिल जाते है जिससे उनकी खुशी दोगुनी हो जाती है।


लोहड़ी पर लोकप्रिय गीत

लोहड़ी के पर्व आते ही हर साल कुछ लोकप्रिय गीतों के स्वर हमें सुनने को मिलते हैं। लोहड़ी के इस पर्व को खास बनाने के लिए आप भी इन गीतों को गुनगुना सकते हैं। यहां लिखित सभी गीतों के नाम आपको यूट्यूब पर सर्च करने पर मिल जाएंगे।

  1. Lodi (Veer Zaara)
  2. Lohri (Asa Nu Maan Watna Da)
  3. Sundar Mundariye (Daler Mehndi)
  4. Massan Leya (Raj Ghumman) लोहड़ी पर्व 2021
  5. Balle Balle (Mel Karade Rabba)

इस वर्ष 2021 में लोहड़ी पर्व 13 जनवरी बुधवार के दिन मनाया जाएगा। यह त्यौहार पंजाब राज्य तक ही सीमित नहीं है बल्कि विभिन्न राज्यों में किसानों द्वारा फसल के पकने की खुशी में लोहड़ी का पर्व मनाया जाता है। इसलिए हर साल की तरह इस साल भी हिंदू पंचांग के अनुसार मकर संक्रांति के ठीक 1 दिन पहले लोहड़ी का पर्व मनाया जाएगा। हालांकि हर साल की तरह इस बार परिस्थितियां सामान्य नहीं है। क्योंकि देश भर में कोरोना के संकट की वजह से इस साल अन्य सांस्कृतिक एवं राष्ट्रीय पर्व में होने वाली चहल-पहल में भी कमी देखी गई है। तो ऐसी स्थिति में इस बार भी इस जानलेवा वाइरस से बचाव हेतु सभी सुरक्षा नियमों का पालन करते हुए प्रशासन द्वारा नागरिकों को इस त्यौहार को मनाने के लिए कहा जाएगा।

तो दोस्तों उम्मीद करता हूँ की आपको लोहड़ी माता की कथा का ये लेख बहुत ही पसंद आया होगा| लोहड़ी का त्यौहार खुशियों का त्यौहार है लोहड़ी के इस लेख में आपको सभी जानकरी मिल ही गयी होगी.

लोहड़ी के इस लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर कर दीजिये| हो सके तो इसे इतना शेयर कीजिये की भारत के कोने कोने तक लोगों को ये पता चल जाये की लोहड़ी का त्यौहार क्यों मनाया जाता है.

लोहड़ी का त्यौहार दिलवालों का त्यौहार है| प्यार से मनाइए, थोड़ी सी लोहड़ी उनके घर भी भिजवाए जहां तक लोहड़ी की एक किरण तक नहीं पहुँच पा रही हो| “धन्यवाद”

लोहड़ी के अन्य लेख ⇓

About the author

Himanshu Grewal

मेरा नाम हिमांशु ग्रेवाल है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमें आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, इंग्लिश स्पीकिंग, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

5 Comments

Leave a Comment

close