जय माँ लक्ष्मी चालीसा का पाठ… ॐ जय लक्ष्मी माता

एक बार फिर से आपका स्वागत है, भक्ति के इस लेख में… आज के इस लेख के माध्यम से मैं आपके साथ Maa Laxmi Chalisa in Hindi Language शेयर करने जा रहा हूँ.

हिन्दू साहित्य के अनुसार देवी लक्ष्मी जी को धन, समृद्धि और वैभव की देवी माना जाता है, इसके साथ ही ऐसी मान्यता है कि लक्ष्मी जी की नियमित रूप से पूजा करने से मनुष्य के जीवन में कभी दरिद्रता नहीं आती हैं.

प्रिय भक्तों, मैं आपको बताना चाहता हूँ कि लक्ष्मी जी की पूजा में कई मंत्रों का प्रयोग होता है और लक्ष्मी माता की आराधना में चालीसा का भी विशेष महत्व है.

माँ लक्ष्मी चालीसा का पाठ करने के लाभ

वेदों के अनुसार ऐसी मान्यता है कि माँ लक्ष्मी या देवी लक्ष्मी धन और समृद्धि की देवी हैं। माँ लक्ष्मी चालीसा के नियमित रूप के जाप के माध्यम से आपको निम्न प्रकार के लाभ मिलेंगे-

Laxmi Chalisa Padhne Ke Fayde

Laxmi chalisa ke fayde तो बहुत सारे है, आइये उन्ही में से कुछ लक्ष्मी चालीसा पढ़ने के फायदे जानते हैं.

  1. समृद्धि प्राप्त करें – भौतिक और भावनात्मक दोनों
  2. ज्ञान, बुद्धि और जागरूकता प्राप्त करें
  3. आत्म-स्वीकृति की यात्रा पर प्रगति और अपनी खामियों और कमियों को गले लगाओ
  4. संतुष्ट रहें और मानसिक शांति रखें
  5. आपके द्वारा उठाए जाने वाले कार्यों में सफलता
  6. अपने पापों के लिए क्षमा मांगो और परमात्मा को समर्पण करो

तो दोस्तों यदि माँ लक्ष्मी चालीसा का पाठ से आपको इतने लाभ मिल सकते हैं तो क्या आप पीछे हटेंगे? नहीं ना, तो चलिये जानते हैं माँ लक्ष्मी चालीसा का पाठ करने की विधि.

इसके प्रभाव को बढ़ाने के लिए मां लक्ष्मी की प्रतिमा या मां लक्ष्मी की मूर्ति के समक्ष Maa Lakshmi Chalisa Ka Path करना चाहिए.

लक्ष्मी चालीसा का जाप शुरू करने से पहले आपको अपने शरीर को साफ़ करना चाहिए (स्नान या कम से कम अपने हाथ और पैर धोना चाहिए).

तो चलिये अब मैं आपके साथ लक्ष्मी चालीसा इन हिन्दी शेयर करता हूँ, जिसके साथ मैं आपको हर दोहे एवं चौपाई का अर्थ भी बताऊँगा ताकि आपको लक्ष्मी चालीसा अच्छे से समझ में आ जाए.

अन्य चालीसा पढ़े ⇓



Mata Laxmi Chalisa in Hindi PDF Download

यदि आप चाहे तो श्री लक्ष्मी चालीसा आरती का स्क्रीनशॉट लेकर अपने डिवाइस में सेव कर के रख सकते हैं, और जब कभी आपको जाप करने का मन करे तो आप बिना इंटरनेट कनेक्शन के भी अपने कार्य को सफल तरीके से कर सकते हैं.

यदि आप Laxmi Chalisa PDF Download करना चाहते हैं, तो आप नीचे दिये लिंक पर क्लिक कर के लक्ष्मी चालीसा पीडीऍफ़ डाउनलोड कर सकते हैं.

Shri Laxmi Chalisa Lyrics in Hindi

॥ दोहा ॥

मातु लक्ष्मी करि कृपा करो हृदय में वास।
मनोकामना सिद्ध कर पुरवहु मेरी आस॥
सिंधु सुता विष्णुप्रिये नत शिर बारंबार।
ऋद्धि सिद्धि मंगलप्रदे नत शिर बारंबार॥ टेक॥

॥ सोरठा ॥

यही मोर अरदास, हाथ जोड़ विनती करूं।
सब विधि करौ सुवास, जय जननि जगदंबिका॥

॥ चौपाई ॥

सिन्धु सुता मैं सुमिरौ तोही।
ज्ञान बुद्घि विघा दो मोही ॥

तुम समान नहिं कोई उपकारी। सब विधि पुरवहु आस हमारी॥
जय जय जगत जननि जगदम्बा। सबकी तुम ही हो अवलम्बा॥1॥

तुम ही हो सब घट घट वासी। विनती यही हमारी खासी॥
जगजननी जय सिन्धु कुमारी। दीनन की तुम हो हितकारी॥2॥

विनवौं नित्य तुमहिं महारानी। कृपा करौ जग जननि भवानी॥
केहि विधि स्तुति करौं तिहारी। सुधि लीजै अपराध बिसारी॥3॥

कृपा दृष्टि चितववो मम ओरी। जगजननी विनती सुन मोरी॥
ज्ञान बुद्घि जय सुख की दाता। संकट हरो हमारी माता॥4॥

क्षीरसिन्धु जब विष्णु मथायो। चौदह रत्न सिन्धु में पायो॥
चौदह रत्न में तुम सुखरासी। सेवा कियो प्रभु बनि दासी॥5॥

जब जब जन्म जहां प्रभु लीन्हा। रुप बदल तहं सेवा कीन्हा॥
स्वयं विष्णु जब नर तनु धारा। लीन्हेउ अवधपुरी अवतारा॥6॥

तब तुम प्रगट जनकपुर माहीं। सेवा कियो हृदय पुलकाहीं॥
अपनाया तोहि अन्तर्यामी। विश्व विदित त्रिभुवन की स्वामी॥7॥

तुम सम प्रबल शक्ति नहीं आनी। कहं लौ महिमा कहौं बखानी॥
मन क्रम वचन करै सेवकाई। मन इच्छित वांछित फल पाई॥8॥

तजि छल कपट और चतुराई। पूजहिं विविध भांति मनलाई॥
और हाल मैं कहौं बुझाई। जो यह पाठ करै मन लाई॥9॥

ताको कोई कष्ट नोई। मन इच्छित पावै फल सोई॥
त्राहि त्राहि जय दुःख निवारिणि। त्रिविध ताप भव बंधन हारिणी॥10॥

जो चालीसा पढ़ै पढ़ावै। ध्यान लगाकर सुनै सुनावै॥
ताकौ कोई न रोग सतावै। पुत्र आदि धन सम्पत्ति पावै॥11॥

पुत्रहीन अरु संपति हीना। अन्ध बधिर कोढ़ी अति दीना॥
विप्र बोलाय कै पाठ करावै। शंका दिल में कभी न लावै॥12॥

पाठ करावै दिन चालीसा। ता पर कृपा करैं गौरीसा॥
सुख सम्पत्ति बहुत सी पावै। कमी नहीं काहू की आवै॥13॥

बारह मास करै जो पूजा। तेहि सम धन्य और नहिं दूजा॥
प्रतिदिन पाठ करै मन माही। उन सम कोइ जग में कहुं नाहीं॥14॥

बहुविधि क्या मैं करौं बड़ाई। लेय परीक्षा ध्यान लगाई॥
करि विश्वास करै व्रत नेमा। होय सिद्घ उपजै उर प्रेमा॥15॥

जय जय जय लक्ष्मी भवानी। सब में व्यापित हो गुण खानी॥
तुम्हरो तेज प्रबल जग माहीं। तुम सम कोउ दयालु कहुं नाहिं॥16॥

मोहि अनाथ की सुधि अब लीजै। संकट काटि भक्ति मोहि दीजै॥
भूल चूक करि क्षमा हमारी। दर्शन दजै दशा निहारी॥17॥

बिन दर्शन व्याकुल अधिकारी। तुमहि अछत दुःख सहते भारी॥
नहिं मोहिं ज्ञान बुद्घि है तन में। सब जानत हो अपने मन में॥18॥

रुप चतुर्भुज करके धारण। कष्ट मोर अब करहु निवारण॥
केहि प्रकार मैं करौं बड़ाई। ज्ञान बुद्घि मोहि नहिं अधिकाई॥19॥

॥ दोहा ॥

त्राहि त्राहि दुःख हारिणी हरो बेगि सब त्रास।
जयति जयति जय लक्ष्मी करो शत्रुन का नाश॥
रामदास धरि ध्यान नित विनय करत कर जोर।
मातु लक्ष्मी दास पर करहु दया की कोर॥

Laxmi Chalisa in Hindi with Meaning | श्री लक्ष्मी चालीसा अर्थ सहित

॥ दोहा॥

मातु लक्ष्मी करि कृपा, करो हृदय में वास।
मनोकामना सिद्घ करि, परुवहु मेरी आस॥

अर्थात : मां लक्ष्मी कृपा करें, और मेरे हृदय में निवास करो| कृपया मेरी सभी इच्छाओं को पूरा करें, मेरी आपसे बस यही प्रार्थना है|

॥ सोरठा॥

यही मोर अरदास, हाथ जोड़ विनती करुं।
सब विधि करौ सुवास, जय जननि जगदंबिका॥

अर्थात : यह मेरी प्रार्थना है, मैं आपसे हाथ जोड़कर विनती करता हूं, कृपया मेरे द्वारा की गई सभी इच्छाओं को पूरा करें। आप को विजय हे जननी जगदम्बिका|

॥ चौपाई ॥

सिन्धु सुता मैं सुमिरौ तोही।
ज्ञान बुद्घि विघा दो मोही ॥

अर्थात : ओह शाश्वत माँ और सिंधु की बेटी, मेरे मन में हमेशा तुम्हारे लिए है, मुझे ज्ञान, बुद्धि और जागरूकता से आशीर्वाद दें|

तुम समान नहिं कोई उपकारी। सब विधि पुरवहु आस हमारी॥
जय जय जगत जननि जगदम्बा। सबकी तुम ही हो अवलम्बा॥1॥

अर्थात : ब्रह्माण्ड में आपके जैसा धर्मार्थ कोई नहीं है, कृपया हमारी इच्छाओं को हर संभव तरीके से पूरा करें| जीत तुम्हारी, ओह जननी जगदंबिका, आप सभी को सहायता प्रदान करने वाले हैं|

तुम ही हो सब घाट – घाट की बासी, विनती यही हमारी ख़ासी||
जगजननी जय सिन्धु कुमारी। दीनन की तुम हो हितकारी॥2॥

अर्थात : आप वो हैं जो हर जगह बसते हैं, यह अकेले हमारा आपसे विशेष अनुरोध है| हे विश्व की माता, आपके लिए विजय, ओह राजकुमारी सिंधु, आप वह हैं जो दीन-दुखियों का भला करते हैं|

विनवौं नित्य तुमहिं महारानी। कृपा करौ जग जननि भवानी॥
केहि विधि स्तुति करौं तिहारी। सुधि लीजै अपराध बिसारी॥3॥

अर्थात : आप परम वास्तविकता हैं, आप महान रानी हैं, कृपया अपनी दया दिखाओ, हे माँ भवानी – दुनिया की निर्माता| मैं आपसे कैसे प्रार्थना करूँ, हे माँ लक्ष्मी? मैं अफसोस के साथ स्वीकार करता हूं कि मुझे नहीं पता कि आपकी सही तरीके से पूजा कैसे की जाए|

कृपा दृष्टि चितववो मम ओरी। जगजननी विनती सुन मोरी॥
ज्ञान बुद्घि जय सुख की दाता। संकट हरो हमारी माता॥4॥

अर्थात : कृपया मुझे अपनी आँखों में दयालुता से देखें और मेरी कमियों को क्षमा करें, हे ब्रह्मांड के निर्माता, कृपया मेरी प्रार्थना सुनें| ज्ञान, ज्ञान, विजय और आनंद के दाता, कृपा करो सब दुख हरो, हमारी माता|

क्षीर सिन्धु जब विष्णु मथायो। चौदह रत्न सिन्धु में पायो॥
चौदह रत्न में तुम सुखरासी। सेवा कियो प्रभु बनि दासी॥5॥

अर्थात : जब भगवान विष्णु ने दूधिया समुद्र को हिंसक रूप से मंथन किया, समुद्र में चौदह रत्न पाए गए उन में से, आप सबसे बेशकीमती और मूल्यवान व्यक्ति थे, और आपने अपनी दासी बनकर प्रभु की सेवा में स्वयं को प्रस्तुत किया|

जब जब जन्म जहां प्रभु लीन्हा। रुप बदल तहं सेवा कीन्हा॥
स्वयं विष्णु जब नर तनु धारा। लीन्हेउ अवधपुरी अवतारा॥6॥

अर्थात : जब भी भगवान ने अलग-अलग स्थानों पर अलग-अलग अवतार में जन्म लिया है, आपने अपने आप को तैयार किया है और ख़ुशी से वहाँ उसकी सेवा की है| जब भगवान विष्णु ने स्वयं को मनुष्य का रूप धारण किया, और अयोध्या में भगवान राम के रूप में प्रकट हुए|

तब तुम प्रगट जनकपुर माहीं। सेवा कियो हृदय पुलकाहीं॥
अपनाया तोहि अन्तर्यामी। विश्व विदित त्रिभुवन की स्वामी॥7॥

अर्थात : हे माता, आप जनकपुरी में प्रकट हुईं, उसकी सेवा करने और अपने भक्तों के दिलों को खुशी से भरने के लिए| सर्वज्ञ भगवान ने आपको एक समान माना, वह जो ब्रह्माण्ड में होने वाले सभी के बारे में जानता है और तीनों लोकों का स्वामी है|

तुम सम प्रबल शक्ति नहीं आनी। कहं लौ महिमा कहौं बखानी॥
मन क्रम वचन करै सेवकाई। मन इच्छित वांछित फल पाई॥8॥

अर्थात : तुम्हारे समान कोई अन्य शक्ति नहीं है, हे माता, और कोई भी वर्णन वास्तव में आपकी महिमा का वर्णन नहीं कर सकता है| मेरे विचारों, भाषण और कार्यों के माध्यम से मैं आपकी सेवा करता हूं, ओह मदर, ताकि मुझे मेरे मन में जो फल मिले, वह मुझे मिल जाए|

तजि छल कपट और चतुराई। पूजहिं विविध भांति मनलाई॥
और हाल मैं कहौं बुझाई। जो यह पाठ करै मन लाई॥9॥

अर्थात : मैं अपने विचारों से छल, कपट और बेईमानी को खत्म करता हूं, इसलिए मैं आपकी पूजा करने में अपनी सारी मानसिक शक्तियों को केंद्रित करता हूं| मैं अपनी मानसिक स्थिति के बारे में और क्या बताऊं, केवल इस प्रार्थना को आप पर ध्यान केंद्रित करने और एक स्पष्ट मन के साथ गाने के अलावा|

ताको कोई कष्ट नोई। मन इच्छित पावै फल सोई॥
त्राहि त्राहि जय दुःख निवारिणि। त्रिविध ताप भव बंधन हारिणी॥10॥

अर्थात : वह किसी भी कठिनाई से छुआ नहीं जाएगा, और वह कुछ भी हासिल करेगा जो वह अपने मन में चाहता है| मेरी मदद करो, मेरी मदद करो, ओह विजिटर मदर एंड रिमूवर ऑफ सोरेस, हे तीन प्रकार की कठिनाइयों और सभी भयों का नाश करने वाला|

जो चालीसा पढ़ै पढ़ावै। ध्यान लगाकर सुनै सुनावै॥
ताकौ कोई न रोग सतावै। पुत्र आदि धन सम्पत्ति पावै॥11॥

अर्थात : जो कोई भी इस प्रार्थना को पढ़ता है और दूसरों को भी ऐसा करने के लिए मिलता है, और एकाग्रता के साथ इस प्रार्थना को सुनता है और दूसरों को सुनाता है| वह किसी भी बीमारी से पीड़ित नहीं होगा, और उसे संतान, धन और समृद्धि की प्राप्ति होगी|

पुत्रहीन अरु संपति हीना। अन्ध बधिर कोढ़ी अति दीना॥
विप्र बोलाय कै पाठ करावै। शंका दिल में कभी न लावै॥12॥

अर्थात : जब वह बच्चा निःसंतान हो या ऐसा व्यक्ति जिसके पास धन और संपत्ति की कमी हो, और इसी तरह अंधे, बहरे, गरीब और दलित| अगर उनके पास आपको खुश करने के लिए अनुष्ठान और प्रार्थना करना सीखना है, किसी भी समय अपनी शक्तियों में संदेह के बिना|

पाठ करावै दिन चालीसा। ता पर कृपा करैं गौरीसा॥
सुख सम्पत्ति बहुत सी पावै। कमी नहीं काहू की आवै॥13॥

अर्थात : यदि वे प्रतिदिन यह चालीस वचन (चालीसा) आपको सुनाते हैं, आप उन पर दया और कृपा करेंगे, हे माँ गौरी| वे बहुत से सुख और समृद्धि प्राप्त करेंगे, और उनके जीवन में कभी भी किसी चीज की कमी महसूस नहीं करेंगे|

बारह मास करै जो पूजा। तेहि सम धन्य और नहिं दूजा॥
प्रतिदिन पाठ करै मन माही। उन सम कोइ जग में कहुं नाहीं॥14॥

अर्थात : जो कोई बारह महीने तक आपकी पूजा करता है, क्या कोई भी ऐसा नहीं है जो उतना ही गुणी और धन्य हो जितना वह है| जो हर दिन अपने मन में इस प्रार्थना को पढ़ते हैं, उनके पास दुनिया में कोई नहीं होगा जो महिमा और प्रतिष्ठा में उनके बराबर है|

बहुविधि क्या मैं करौं बड़ाई। लेय परीक्षा ध्यान लगाई॥
करि विश्वास करै व्रत नेमा। होय सिद्घ उपजै उर प्रेमा॥15॥

अर्थात : कई मायनों में और सब कुछ में, मैं तुम्हारी प्रशंसा करता हूं ओह माँ, मैं हर तरह से आपका ध्यान करता हूं| जो आप में अटूट विश्वास रखते हैं और आपके नाम का व्रत रखते हैं, अपने प्यार के माध्यम से निपुण और आत्मनिर्भर बनें|

जय जय जय लक्ष्मी भवानी। सब में व्यापित हो गुण खानी॥
तुम्हरो तेज प्रबल जग माहीं। तुम सम कोउ दयालु कहुं नाहिं॥16॥

अर्थात : तुम पर विजय, हे माँ लक्ष्मी, हे माँ भवानी, आपके दिव्य गुण आपके सभी भक्तों में प्रकट हो सकते हैं| इस दुनिया में आपकी महिमा का वर्णन नहीं किया जा सकता है, तुम्हारे जैसा दयालु और चरित्रवान कोई नहीं है, हे माँ लक्ष्मी|

मोहि अनाथ की सुधि अब लीजै। संकट काटि भक्ति मोहि दीजै॥
भूल चूक करि क्षमा हमारी। दर्शन दजै दशा निहारी॥17॥

अर्थात : कृपया मुझे अपनी शरण में ले लो – एक अनाथ की तरह जिसे माँ की ज़रूरत है, कृपया मेरी सभी बाधाओं को नष्ट करें और मुझे आप पर पूर्ण श्रद्धा की शक्ति प्रदान करें| कृपया हमारे द्वारा की गई किसी भी गलती और दोष को क्षमा करें, कृपया हमें अपनी छवि को देखने और अपने जीवन की स्थिति को बढ़ाने का अवसर दें|

बिन दर्शन व्याकुल अधिकारी। तुमहि अछत दुःख सहते भारी॥
नहिं मोहिं ज्ञान बुद्घि है तन में। सब जानत हो अपने मन में॥18॥

अर्थात : आपकी दिव्यता की दृष्टि के बिना, हम बेहद चिंतित हैं, कृपया हमें इस दुख के सागर से बचाएं| मेरे मन में ज्ञान और ज्ञान दोनों की कमी है, लेकिन आप अपने मन में सर्वज्ञ हैं, माँ लक्ष्मी|

रुप चतुर्भुज करके धारण। कष्ट मोर अब करहु निवारण॥
केहि प्रकार मैं करौं बड़ाई। ज्ञान बुद्घि मोहि नहिं अधिकाई॥19॥

अर्थात : अपना पाया हुआ रूप मानकर, हे माता, कृपया हमें सभी दुखों और दर्द से तुरंत राहत दिलाएं| मैं किस तरीके से आपकी स्तुति करता हूँ, हे माँ लक्ष्मी, ऐसा करने में सक्षम होने के लिए मेरे पास अपर्याप्त ज्ञान और ज्ञान है|

॥ दोहा॥

त्राहि त्राहि दुख हारिणी, हरो वेगि सब त्रास।
जयति जयति जय लक्ष्मी, करो शत्रु को नाश॥
रामदास धरि ध्यान नित, विनय करत कर जोर।
मातु लक्ष्मी दास पर, करहु दया की कोर॥

अर्थात : हमें बचाओ! हमें बचाओ! ओह रिमूवर्स ऑफ सोर्रोस, सभी बुराइयों को नष्ट करें जो हमें परेशान करती हैं, जय विजय, तुम पर विजय, हे माँ लक्ष्मी, हमारे शत्रुओं का नाश करो, ध्यान के माध्यम से अपने दिमाग को रोजाना अग्रणी करते हुए, मैं आप पर ध्यान केंद्रित करता हूं, हे मां लक्ष्मी, आप के इस भक्त पर अपनी कृपा बरसाएं|

Lakshmi जी का जाप करने के अलावा, चालीसा की प्रत्येक पंक्तियों के अर्थ को याद करने का प्रयास करें ताकि यह आपके जीवन पर अधिकतम संभव प्रभाव डाले.

Full HD Laxmi Mata Photo Download

Maa Laxmi Chalisa PDF Download in Hindi

अगर आप laxmi chalisa download करना चाहते हो pdf format में तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके आप laxmi chalisa in hindi pdf download कर सकते हो.

Lakshmi Chalisa PDF Download

Maa Laxmi Mantra in Hindi | धन लक्ष्मी मंत्र हिंदी में
Lakshmi Mantra : ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं त्रिभुवन महालक्ष्म्यै अस्मांक दारिद्र्य नाशय प्रचुर धन देहि देहि क्लीं ह्रीं श्रीं ॐ ।
Lakshmi Mantra : ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं ऐं सौं ॐ ह्रीं क ए ई ल ह्रीं ह स क ह ल ह्रीं सकल ह्रीं सौं ऐं क्लीं ह्रीं श्री ॐ।
Mahalakshmi Mantra in Hindi : ॐ सर्वाबाधा विनिर्मुक्तो, धन धान्यः सुतान्वितः। मनुष्यो मत्प्रसादेन भविष्यति न संशयः ॐ ।।
Lakshmi Gayatri Mantra in Hindi : ॐ श्री महालक्ष्म्यै च विद्महे विष्णु पत्न्यै च धीमहि तन्नो लक्ष्मी प्रचोदयात् ॐ ।।

Maa Laxmi Chalisa in Hindi (माँ लक्ष्मी चालीसा) के लेख को मैं यही पर समाप्त कर रहा हूँ, इस लेख को अंत तक पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद.

आप चाहे तो Laxmi Chalisa Lyrics in Hindi को लेख को अन्य भक्तों के साथ सोशल मीडिया के माध्यम से शेयर भी कर सकते हैं.

यदि इस लेख को पढ़ कर आपके जहन में कोई सवाल उत्पन्न होता है तो नीचे दिये गए कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल करके अपने सवाल का जवाब खोजे.

जय माँ लक्ष्मी चालीसा का पाठ
जय माँ लक्ष्मी चालीसा का पाठ... ॐ जय लक्ष्मी माता

॥ चौपाई ॥ सिन्धु सुता मैं सुमिरौ तोही। ज्ञान बुद्घि विघा दो मोही ॥

Editor's Rating:
5
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Himanshu Grewal

मेरा नाम हिमांशु ग्रेवाल है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमे आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, इंग्लिश स्पीकिंग, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

Leave a Comment