Children's Day Song

लकड़ी की काठी काठी पर घोड़ा लिरिक्स

Lakdi Ki Kathi Lyrics in Hindi
Written by Himanshu Grewal
FREE YouTube Video Tutorials

लकड़ी की काठी | Lakdi Ki Kathi Lyrics in Hindi

वर्ष 1983 में आई मासूम मूवी के इस गाने लकड़ी की काठी, काठी पर घोड़ा के गायक का नाम है विनीता मिश्रा। Bollywood Film Industry को वनिता मिश्रा ने कई सारे हिट गाने दिए हैं। इस गाने के अलावा “है मुबारक आज का दिन” “डैडी तुम आंटी से प्यार करती हो” “पहेली छोटी सी” जैसे गानों की वजह से वनीता मिश्रा के काम की खूब तारीफ की गई। 80 के दशक में रिलीज की गई मूवी आमने-सामने बॉक्सर और चोर पुलिस जैसी फिल्मों में उनके गानों ने उन्हें नई पहचान दी।

Lakdi Ki Kathi Lyrics in Hindi

लकड़ी की काठी मासूम लिरिक्स

लकड़ी की काठी काठी पे घोड़ा
घोडे की दुम पे जो मारा हथौड़ा
दौड़ा दौड़ा दौड़ा घोड़ा दुम उठा के दौड़ा

लकड़ी की काठी काठी पे घोड़ा
घोड़े की दुम पे जो मारा हथौड़ा
दौड़ा दौड़ा दौड़ा घोड़ा दुम उठा के दौड़ा
लकड़ी की काठी काठी पे घोड़ा
घोड़े की दुम पे जो मारा हथौड़ा
दौड़ा दौड़ा दौड़ा घोड़ा दुम उठा के दौड़ा

घोड़ा पोहचा चौक में चौक में था नाई
घोड़े जी की नाई ने हजामत जो बनाई
टग बग टग बग
चग बग चग बग
घोड़ा पोहचा चौक में चौक में था नाई
घोड़े जी की नाई ने हजामत जो बनाई
दौड़ा दौड़ा दौड़ा घोड़ा दुम उठा के दौड़ा
लकड़ी की काठी काठी पे घोड़ा
घोड़े की दुम पे जो मारा हथौड़ा
दौड़ा दौड़ा दौड़ा घोड़ा दुम उठा के दौड़ा

ला ला ला ला ला ला ला
ला ला ला ला ला ला ला

घोड़ा था घमंडी पोहचा सब्जी मंडी
सब्जी मंडी बरफ पड़ी थी बरफ में लग गई ठंडी
टग बग टग बग
टग बग टग बग
घोड़ा था घमंडी पोहचा सब्जी मंडी
सब्जी मंडी बरफ पड़ी थी बरफ में लग गई ठंडी
दौड़ा दौड़ा दौड़ा घोड़ा दुम उठा के दौड़ा
लकड़ी की काठी काठी पे घोड़ा
घोड़े की दुम पे जो मारा हथौड़ा
दौड़ा दौड़ा दौड़ा घोड़ा दुम उठा के दौड़ा

घोड़ा अपना तगड़ा है देखो कितनी चर्बी है
चलता है महरौली में पर घोड़ा अपना अरबी है
घोड़ा अपना तगड़ा है देखो कितनी चर्बी है
चलता है महरौली में पर घोड़ा अपना अरबी है
बाँह छुड़ा के दौड़ा दौड़ा दुम उठा के दौड़ा
लकड़ी की काठी काठी पे घोड़ा
घोड़े की दुम पे जो मारा हथौड़ा
दौड़ा दौड़ा दौड़ा घोड़ा दुम उठा के दौड़ा

Who has written the lyrics of Lakdi Ki Kathi song?

लकड़ी की काठी गाने के लिरिक्स और संगीत के लेखक का नाम है गुलज़ार है जिनका पूरा नाम है सम्पूर्ण सिंह कालरा

इस गाने का ऑडियो वर्शन पहली बार 15 अगस्त वर्ष 1983 को रिलीज किया गया। आप इस गाने को YouTube पर भी वीडियो के फार्म में देख सकते हैं। वर्ष 1983 में रिलीज हुई मूवी masoom के इस गाने को गौरी बापत, गुरप्रीत कौर, वनीता मिश्रा द्वारा गाया गया था। इस गाने के म्यूजिक डायरेक्टर का नाम राहुल देव बर्मन है। साथ ही गाने में कुछ बड़े नाम Naseeruddin Shah, Shabana Azmi, Tanuja, Jugal Hansraj, Aradhana, Saeed Jaffrey जैसे कई नाम जारी किए गए हैं।


Gulzar Biography in Hindi

गुलज़ार जीवनी
नामगुलज़ार
पूरा नामसम्पूर्ण सिंह कालरा
जन्म18 अगस्त 1934
जन्मस्थान
दीना, झेलम जिला, पंजाब, ब्रिटिश भारत
राष्ट्रीयताभारतीय
व्यवसाय
निर्देशक, गीतकार, पटकथा लेखक, निर्माता, कवि
सक्रिय वर्ष1961 – वर्तमान
पत्नीराखी गुलज़ार
बच्चेमेघना गुलज़ार
पितामक्खन सिंह कालरा
मातासूजन कौर
पुरस्कार
  • Sahitya Akademi Award (2002)
  • Padma Bhushan (2004)
  • Dadasaheb Phalke Award (2013)
  • Academy Award for Best Original Song (2008)

Lakdi Ki Kaathi With Lyrics | Masoom (1983)

MovieMasoom (1983)
SongLakdi Ki Kaathi
StarcastUrmila Matondkar and Jugal Hansraj
SingerGauri Bapat, Gurpreet Kaur, Vanita Mishra
Music DirectorR.D. Burman
LyricistGulzar

लकड़ी की काठी | Children’s Day Special Video


Where I can find the lakdi ki kathi Lyrics in hindi

इस गाने के लिरिक्स को आप इंटरनेट पर बड़ी आसानी से प्राप्त कर सकते हैं। गूगल पर यदि आप लकड़ी की काठी सॉन्ग लिरिक्स सर्च करते हैं तो रिजल्ट में आपको इस गाने के लिरिक्स प्राप्त हो जाएंगे। इसके अलावा आप लकड़ी की काठी गाने के लिरिक्स HimanshuGrewal.com पर भी पढ़ सकते हो।


What is the movie name of lakadi ki kathi song

यह सॉन्ग वर्ष 1983 में रिलीज हुई एक हिंदी भाषी हिट मूवी मासूम का एक हिट गाना है जो आज भी लोगों की जुबान पर है।

फिल्म की कहानी एक ऐसे व्यक्ति की है जिसकी जिंदगी में अचानक तब परिवर्तन आता है जब उसे यह मालूम होता है कि उसके अफेयर की वजह से उसका एक नाजायज बेटा भी है। फिल्म में लीड रोल नसीरुद्दीन शाह और शबाना आजमी ने निभाया। बच्चों के जीवन पर आधारित इस फिल्म में मुख्यतः तीन बच्चे जुगल हंसराज, उर्मिला मातोंडकर और आराधना पर्दे पर दिखाए गए हैं।

मासूम फिल्म का यह गाना बच्चों की खुशी और उनके उत्साह को प्रकट करता है। यह गाना आपको अपने बचपन की यादों को तरोताजा करवा देता है। यह फिल्म बचपन के उन दृश्यों को आपके सामने लाती है जिसमें दर्शाया गया है कि गर्मी एवं सर्दी में किस तरह बच्चे घर हो या बाहर हर समय खेलने के लिए तैयार रहते है, पेड़ों पर चढ़ते है, घोड़े की दुम को खींचा करते है।

यह फिल्म निर्माता शेखर कपूर के निर्देशन पर बनी उनकी पहली फिल्म थी जिसमें तनुजा, सुप्रिया पाठक, सईद जाफरी जैसे कलाकारों के साथ नसीरुद्दीन शाह तथा शबाना आजमी जैसी सुपरहिट कलाकारों ने इस फिल्म में अपने कार्य से खूब सराहना प्राप्त की।

फिल्म की एक्टर्स से लेकर इसकी स्क्रिप्ट तक सभी चीजें दर्शकों को पर्दे पर पसंद आई। इसलिए मासूम मूवी वर्ष 1983 साल की सबसे हिट मूवी में से एक थी। लेकिन उस समय इस फिल्म रिलीज़ होने से पूर्व filmmakers को कई कठिनाइयों का भी सामना करना पड़ा। कम अनुभव के चलते शेखर कपूर की इस फिल्म की स्क्रिप्ट में बदलाव लाने की कोशिश की गई लेकिन शेखर कपूर कहते है कि वह इसमें किसी भी हाल में परिवर्तन नहीं करना चाहते थे।

आज के समय में शेखर कपूर एक मशहूर फिल्म मेकर हैं जिनकी बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री में एक विशेष पहचान है। उन्होंने हाल ही में सोशल मीडिया पर अपनी सुपरहिट फिल्मों में से एक मासूम से जुड़ी एक पोस्ट में यह मैसेज अपने प्रशंसकों के साथ शेयर किया। उन्होंने कहा मैं बागी था जो इस फिल्म की स्क्रिप्ट में किसी भी परिवर्तन को स्वीकार नहीं करता था। ज्ञानी, अनुभवी और मशहूर लोगों ने मुझे कहा कि इस फिल्म में न तो कोई ड्रामा है ना ही कोई विलेन ऐसी फिल्म भला लोगों को कैसे पसंद आएगी? भले ही मुझे इस इंडस्ट्री में ज्यादा अनुभव नहीं था लेकिन मैं सीधा साधा और बागी था मैं कामयाब रहा उन लोगों की आवाज को दबाने में जो इस फिल्म का विरोध कर रहे थे।


लकड़ी की काठी गाने ने पाए कई अवार्ड

इस फिल्मी गाने ने 80 के दौर में खूब चर्चाएं पाई। इस फिल्म ने कई फिल्म फेयर अवार्ड भी प्राप्त किए। इस गाने के म्यूजिक डायरेक्टर देव बर्मन को इस सुपरहिट गाने में अपनी भूमिका के लिए सर्वश्रेष्ठ संगीतकार के अवार्ड से भी नवाजा गया।


लकड़ी की काठी गाने के बोल हैं बड़े शानदार

लकड़ी की काठी वाले इस गाने में बच्चे एक घोड़े की कहानी को बता रहे है। घोड़ा लकड़ी का बना हुआ है लकड़ी के फ्रेम पर टिका हुआ है। जब भी घोड़े की दुम पर बच्चों द्वारा हथोड़ा मारा जाता है तो यह घोड़ा डर कर भागने लगता है। गाने के यह बोल गुलजार द्वारा लिखे गए थे। यह गीत दर्शाते हैं कि किस तरह गुलजार ने अपने शब्दों से एक खेल को एक सुपर हिट गीत में तब्दील कर दिया।


आपको लकड़ी की काठी काठी पर घोड़ा गाना कैसा लगा हमें कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं। और इस लेख को अन्य सभी लोगों के साथ साझा अवश्य करें। धन्यवाद

Lakdi Ki Kathi Lyrics in Hindi

About the author

Himanshu Grewal

मेरा नाम हिमांशु ग्रेवाल है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमें आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, इंग्लिश स्पीकिंग, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

Leave a Comment