हिंदी दिवस कब है? | Hindi Diwas Kab Hai Kyu Manaya Jata Hai
हिंदी दिवस

हिंदी दिवस कब मनाया जाता है और क्यों मनाया जाता है?

हिंदी दिवस कब है?
Written by Himanshu Grewal

प्रत्येक वर्ष हमारी मातृभाषा को गौरवान्वित करने के लिए देश के अनेक स्कूलों, कॉलेजों में एक दिवस मनाया जाता है जिसे हिंदी दिवस कहा जाता है। आज पश्चिमी संस्कृति के प्रभाव की वजह से भले ही विदेशी भाषाओं को शिक्षित लोगों द्वारा अधिक महत्व दिया जा रहा हो लेकिन हिंदी का महत्व एवं योगदान कभी कम नहीं होगा। हिंदी दिवस निकट है अतः इस विशेष अवसर पर अगर आप हिंदी दिवस के इतिहास, हिंदी दिवस के महत्व को जानना चाहते हैं तो इस लेख में आपके साथ हिंदी दिवस से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियां साझा की जा रही है। जैसे कि हिंदी दिवस कब है?, हिंदी को राजभाषा का दर्जा कब मिला, 14 सितंबर हिंदी दिवस पर निबंध, इत्यादि।

हिंदी दिवस कब है?

हर साल की तरह इस साल भी भारत में बड़े ही जोश और आनंद के साथ हिंदी दिवस मनाया जाएगा। साल 2022 में हिंदी दिवस 14 सितंबर के दिन हैं। स्कूल कॉलेज के साथ-साथ NGO में भी हिंदी दिवस मनाया जाएगा। अंतरराष्ट्रीय और विश्व स्तर पर भी हिंदी दिवस मनाने की बात कही जा रही हैं। 14 सितंबर 1949 में सर्वप्रथम गांधी जी ने एक सम्मेलन में हिंदी भाषा को राष्ट्रभाषा घोषित करने के बात जारी की थी। भारतीय संविधान की 343 धारा के अनुसार देवनागरी लिपि में हिंदी भाषा को मातृभाषा घोषित किया गया था।


हिंदी दिवस कब मनाया जाता है और क्यों?

14 सितंबर के दिन पूरे भारतवर्ष में हिंदी दिवस मनाया जाता है। इस दिन हिंदी विषय से संबंधित कई अलग-अलग तरह की प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती हैं। साथ ही साथ स्कूल और कॉलेज जैसे बड़े-बड़े स्थानों पर हिंदी दिवस के अवसर पर बड़ा अनुष्ठान आयोजित किया जाता है।

हर साल 14 सितंबर के दिन हिंदी दिवस मनाए जाने के पीछे एक बड़ा कारण यह है कि इस दिन 1949 में भारत की संविधान सभा ने दुनिया भर में सबसे ज्यादा बोली जाने वाली लोकप्रिय भाषा हिंदी को राष्ट्रभाषा घोषित किया था। इस दिन हिंदी को राष्ट्रभाषा घोषित किया गया था इसीलिए हर साल इस दिन को स्मरण रखने के लिए हिंदी दिवस मनाया जाता है।

हिंदी दिवस मनाने के पीछे और एक बड़ा कारण यह है कि इस दिन युवा पीढ़ी को हिंदी भाषा के महत्व से अवगत कराया जाता है साथ ही साथ पश्चिमी सभ्यता से प्रभावित हुए लोगों को हमारी संस्कृति के महत्व का एहसास दिलाया जाता है। आजकल लोगों के दिल में हिंदी भाषा के प्रति सम्मान घटते जा रहा हैं, अतः लोगों में हिंदी भाषा में मौजूद अपने पन की अलख जगाने के लिए हिंदी दिवस को हर साल बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है।


10 जनवरी को कौन सा दिवस मनाया जाता है?

10 जनवरी के दिन हर साल विश्व हिंदी दिवस मनाया जाता है। हिंदी प्रेमियों के लिए यह दिवस बहुत ही खास होता है। भारत के पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने साल 2006 में विश्व हिंदी दिवस मनाए जाने की घोषणा 10 जनवरी के दिन की थी तब से आज तक 10 जनवरी के दिन विश्व हिंदी दिवस मनाया जाता है। पूरे विश्व में हिंदी भाषा का प्रचार करने के लिए और हिंदी को अंतरराष्ट्रीय भाषा बनाने के लिए मुख्यमंत्री ने इस दिवस को मनाने की बात जारी की थी। विश्व हिंदी दिवस की घोषणा हो जाने के बाद देश में कई स्थानों पर हिंदी दिवस सम्मेलन किए गए।

हिंदी दिवस के अवसर पर पूरे भारत को एक सूत्र में बांधने का प्रयत्न किया जा रहा है ताकि सभी लोग हिंदी भाषा को वह सम्मान दे सके जो उसे पहले मिला था जिससे वह हमारे देश की संस्कृति को भी समझ सके। विश्व हिंदी दिवस के दिन कई अलग-अलग तरह के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं और इस दिन सादर देश प्रेमी एक दूसरे को हिंदी दिवस की शुभकामनाएं देते हैं।

विश्व हिंदी दिवस को मनाने की बात सर्वप्रथम 10 जनवरी 1975 में लागू की गई थी। इस सम्मेलन को नागपुर में रखा गया था। इस सम्मेलन में 122 प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया था जो विश्व के 30 देशों से आए थे। दुनिया भर में हिंदी भाषा को मानने वाले बहुत से लोग हैं लेकिन अभी इस भाषा को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्वीकार किया जाना ही बाकी है।


अंतरराष्ट्रीय हिंदी भाषा दिवस कब मनाया जाता है?

अंतरराष्ट्रीय हिंदी भाषा दिवस हर साल 10 जनवरी के दिन मनाया जाता है। अंतरराष्ट्रीय हिंदी भाषा दिवस विश्व स्तर पर मनाया जाने वाला एक त्यौहार है। इस दिवस को ना सिर्फ भारत में मनाया जाता है बल्कि अन्य कई देशों में भी मनाया जाता है। हिंदी भाषा चौथी विश्वव्यापी भाषा है। बहुत से ऐसे देश है जो मूल रूप से हिंदी भाषा का ही प्रयोग करते हैं। इसके अलावा हमारे भारतीय भाई-बहन दुनिया के अलग-अलग क्षेत्रों में बसे हुए हैं जिसके कारण उन क्षेत्रों में भी हिंदी भाषा का प्रचार प्रसार हो रहा है।

लोग पश्चिमी सभ्यता से प्रेरित होकर पश्चिमी सभ्यता को अपनाते जा रहे हैं जिससे हमारी देश की संस्कृति और उसके मूल्यों में भी कमी आ रही है। लोग पहनावे के साथ-साथ बोलचाल, रहन-सहन हर चीज पश्चिमी सभ्यता की अपनाते जा रहे हैं। यही कारण है कि 10 जनवरी के दिन विश्व हिंदी दिवस और 14 सितंबर के दिन हिंदी दिवस मनाया जाता है। ताकि देशवासियों को न सिर्फ भारतीय सभ्यता और संस्कृति के विषय में जागरूक किया जा सके। साथ ही साथ हिंदी भाषा के महत्व को भी लोगों को समझाया जाता है।


भारत में सर्वप्रथम हिंदी दिवस कब मनाया गया था?

भारत में सर्वप्रथम हिंदी दिवस 14 सितंबर 1949 ईसवी में मनाया गया था। आप यह समझ सकते हैं कि 1949 में हिंदी भाषा को हमारे देश की मातृभाषा घोषित किया गया था। हजारों वर्षों पुरानी इस भाषा को यूं ही आगे आने वाले समय में जनमानस तक पहुंचाने के लिए देशवासियों को इसी भाषा में संवाद करने के लिए प्रोत्साहित किया गया था।


हिंदी को राष्ट्रभाषा क्यों बनाया गया?

यह एक बहुत ही व्यापक प्रश्न है क्योंकि हिंदी भाषा को ही हमारे देश की मातृभाषा बनाया गया था। हमारे देश में हिंदी भाषा को राष्ट्रभाषा बनाने के पीछे एक नहीं बल्कि कई कारण हैं।

👉 पहला कारण तो यह है कि हमारा देश सिंधु नदी के घाटी के पास है जिसके कारण इसे हिंदुस्तान कहा जाता है। हिंदुस्तान एक फारसी शब्द है।

हम सभी हिंदुस्तान में निवास करते हैं इसीलिए हिंदी शब्द भी हिंदुस्तान के हिंदी शब्द से लिया गया है इसीलिए इसे हमारे देश की राष्ट्रीय भाषा बनाया गया। जब हमारे देश में किसी भी भाषा को राष्ट्रभाषा घोषित नहीं किया गया था तब हमारे देश में कई अलग-अलग तरह की भाषाएं बोली जाती थी। जिसमें सबसे ज्यादा हिंदी भाषा ही बोली जाती थी इसलिए सरकार ने हिंदी जो की सर्वव्यापी भाषा है उसे ही हमारे देश की राष्ट्रभाषा घोषित कर दिया।


विश्व हिंदी दिवस 2022 की थीम क्या है?

विश्व हिंदी दिवस के लिए हर साल पूरे देश में एक थीम फॉलो किया जाता है इतना ही नहीं इस थीम को भारत के अलावा भी कई देश फॉलो करते है। विश्व हिंदी दिवस के दिन हर साल ऐसा ही थीम सेलेक्ट किया जाता है जो हिंदी भाषा के अनुरूप हो, और वह भारतीय संस्कृति को सम्मान प्रदान करें। यह थीम हमारे देश के तिरंगे से मिलती-जुलती रहेगी।


भारत के राष्ट्रपति हिंदी दिवस के दिन कौन सा पुरस्कार देते हैं?

हिंदी दिवस के दिन भारत के राष्ट्रपति युवा पीढ़ी को और विशेषकर छात्र छात्राओं को हिंदी पढ़ने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए पुरस्कार देते हैं। हिंदी दिवस के दिन उन लोगों को पुरस्कार दिया जाता है जो हिंदी के क्षेत्र में कार्य करते हैं या फिर दसवीं और बारहवीं जैसी परीक्षाओं में हिंदी में अच्छे अंकों से उत्तीर्ण होते हैं। हिंदी दिवस के अवसर पर राष्ट्रपति के द्वारा राजभाषा कीर्ति पुरस्कार और राष्ट्रभाषा गौरव पुरस्कार दिया जाता है। यह पुरस्कार पाना किसी भी व्यक्ति के लिए बड़ी गर्व की बात है। लोग इस अवार्ड को प्राप्त करने के लिए बहुत मेहनत करते हैं।


हिंदी दिवस का महत्व क्या है?

हिंदी दिवस के महत्व को एक शब्द में समझा पाना बहुत ही मुश्किल है। हिंदी दिवस का महत्व बेहद खास है, इस दिवस के मायने एवं इसे मनाने के प्रमुख कारण निम्नलिखित है।

  • पूरे भारतवर्ष में हिंदी भाषा के महत्व को लोगों को समझाने के लिए बड़े स्तर पर अनुष्ठान आयोजित किया जाता है।
  • हिंदी दिवस के दिन सभी लोग स्वाभाविक रूप से एक दूसरे को हिंदी दिवस की बधाई देते हैं और हिंदी भाषा के प्रति सम्मान अर्पित करते हैं।
  • हमारे देश में हिंदी भाषा बोलने का प्रचलन बड़ी ही तेजी से कम होता चला जा रहा है जो हमारे देश के लिए बड़े ही अपमान की बात है इसीलिए हिंदी भाषा के महत्व को लोगों को बता कर उन्हें हिंदी के प्रति जागरूक करने का प्रयत्न किया जा रहा है।
  • हिंदी दिवस के दिन स्कूल कॉलेजों में अनुष्ठान आयोजित किया जाता है जिसमें हिंदी से संबंधित कई बड़ी-बड़ी प्रतियोगिताएं रखी जाती है।
  • हिंदी दिवस के दिन हिंदी से संबंधित लेखन और वाद विवाद से संबंधित चीजों को प्रोत्साहित किया जाता है।
निष्कर्ष

हमें पूर्ण आशा है कि इस लेख को पढ़ने के बाद हिंदी दिवस कब है? (Hindi Diwas Date, Hindi Diwas Kab Hai) अब आपको अपने प्रश्न का जवाब मिल चुका होगा। अगर आप इस लेख में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो इसे साझा करना बिल्कुल ना भूलें।

About the author

Himanshu Grewal

मेरा नाम हिमांशु ग्रेवाल है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमें आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, इंग्लिश स्पीकिंग, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

Leave a Comment