Difference Between Growth and Development in Hindi – वृद्धि और विकास में अंतर क्या है?

क्या आप जानते हो की ग्रोथ और डेवलपमेंट में क्या अंतर है ? What is The Difference Between Growth and Development in Hindi.

कई लोगों का मानना है कि ग्रोथ एंड डेवलपमेंट ये दोनों टर्म लगभग एक समान ही है, कहने का अर्थ है कि इन दोनों शब्दों का एक ही अर्थ है| लेकिन मैं आपको बताना चाहता हूँ कि भले ही यह दोनों शब्द हम से और हमारे शरीर से जुड़े हुए हैं, परंतु यह दोनों शब्द एक दूसरे से बहुत भिन्न है.

यदि आपने मनोविज्ञान की पढ़ाई की है तो यकीनन ही आप मेरी बातों से सहमत भी होंगे, और यदि आपने नहीं पढ़ा तो कोई बात नहीं मैं इस लेख के अंत तक दोनों शब्दो का फर्क समझा दूंगा|

नोट ⇒ Central Teacher Eligibility Test (CTET) के परीक्षा में लगभग 10-15 प्रशन इसी टॉपिक पर पूछे जाते हैं, तो यदि आप या आपका कोई जानकार CTET की परीक्षा देना चाहता है तो आप उनके साथ इस लेख को शेयर करना ना भूले.

चलिये, अब समय का बचाव करते हुए चलते हैं सीधे-सीधे अपने टॉपिक की ओर और जानते हैं वृद्धि एवं विकास के मध्य अंतर क्या है?

जरुर पढ़े ⇓

Difference Between Growth and Development in Hindi

Growth and Development Difference जानने के लिए जरूरी है कि पहले आप इन दोनों टर्म को अच्छे से समझे, तो चलिये पहले इसे समझते हैं.

What is Growth in Hindi – वृद्धि क्या है ? परिभाषा सहित जानिये

Difference Between Growth and Development in Hindi - वृद्धि और विकास में अंतर क्या है?

यदि हम आसान शब्दों में इसका अर्थ समझे तो ग्रोथ का अर्थ शारीरिक वृद्धि से है, जिसको की आका या मापा जा सकता है|

हमारे शरीर में शारीरिक बृद्धि हमारे जन्म से पूर्व ही होना शुरू हो जाती है, और यह एक सीमित स्टेज पर आ कर रूक जाती है, अब आप सोच रहे होंगे कि ऐसा कैसे मुमकिन है?

चलिये अब आपके इस सवाल का जवाब दिया जाये|

जब से एक शिशु अपनी माँ के गर्व में आता है तब से धीरे-धीरे उसका दिल, आँख, नाक, कान, हाथ पैर और शरीर बनने में करीब वो 9 महीने का समय लेने के उपरांत इस दुनिया में जन्म लेता है| (तो इस प्रकार हम कह सकते हैं, कि ग्रोथ यानि वृद्धि हमारे जन्म से पूर्व शुरू होने वाली प्रक्रिया है|)

उसके बाद जब इस दुनिया में एक शिशु आता है तब धीरे-धीरे समय के साथ उसके शरीर की लंबाई, कद (यानि हाइट) शरीर का वजन, मांसपेशियां, हड्डियाँ, दाँत इत्यादि की वृद्धि होती है.

दाँत, हड्डियाँ और कद यह एक उम्र में आकर रूक जाती है, (जैसा की आपने विज्ञान में पढ़ा होगा कि शिशु के 6 महीने से 2 वर्ष तक की आयु में दाँत आ जाते हैं और लड़कियों की लम्बाई 18 वर्ष की आयु तक बढ़ती है वही लड़को की 19-20 वर्ष की आयु तक भी बढ़ जाती है|)

तो दोस्तों, अब आप समझ गए होंगे की कैसे यह प्रक्रिया हमारे जन्म से पूर्व शुरू होती है और किस आयु तक इसका सम्पूर्ण तरीके से वृद्धि होने के बाद रूक जाती है.

तो चलिये अब हम वृद्धि के कुछ विशेषताएं को जानते हैं|

Few Characteristics of Growth in Hindi

  1. Intrinsic Process : (आंतरिक प्रक्रिया)
  2. Extrinsic changes : (अजनबी बदलाव)
  3. Growth is measurable : (वृद्धि को मापा जा सकता है)
  4. Growth is dependable on multiple factors : (वृद्धि कई फेक्टर पर निर्भर करती है)
  5. Growth is not continuous : (यह निरंतर प्रक्रिया नहीं है)

आइये अब हम कुछ फेमस मनोविज्ञानी के द्वारा वृद्धि का दिया हुआ परिभाषा को पढ़ते हैं| जिसको की यदि आप याद कर अपनी परीक्षा में लिखेंगे तो यकीनन ही आपको अच्छे अंक की प्राप्ति होगी.

Herbert Sorenson

यह बहुत ही जाने माने मनोविज्ञानी हैं और इनके शब्दों के अनुसार “शारीरिक अंगो में भार तथा आकार में वृद्धि होना, जिसको की मापा जा सके” वृद्धि कहलता है|

Frank

इनके अनुसार “शरीर के किसी विशेष पक्ष में जो परिवर्तन होता है, उसे वृद्धि कहते हैं| इस प्रकार से वृद्धि शरीर के विभिन्न अंगो के आकार में परिवर्तन के साथ-साथ शरीर के लम्बाई, चौड़ाई ऊंचाई एवं भार (वज़न) को बताता है.

अब मैं आपको बताता हूँ कि ग्रोथ भी दो प्रकार के होते हैं – एक तो जो आपने ऊपर पढ़ा अर्थात जिसको हम Physical Growth बोल सकते हैं वही दूसरा है Growth rate, जिसको की कोनॉमिक्स में पढ़ा जाएगा और इसका अर्थ आप इन शब्दों से समझ सकते हैं.

What is Growth Rate in Hindi – ग्रोथ रेट क्या है? (GDP)

किसी देश की प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में वृद्धि आर्थिक वृद्धि (Economic Growth) कहलाती है| आर्थिक वृद्धि केवल उत्पादित वस्तुओं एवं सेवाओं का परिमाण बताती है.

यदि यहाँ तक आपको अच्छे से समझ आ गया है तो चलिये अब इसके दूसरे हिस्से यानि डेवलपमेंट को पढ़ते एवं समझते हैं| यदि आपको ऊपर लिखे कंटेंट (आर्टिकल) में कोई डाउट है तो आप कमेंट के माध्यम से अपना डाउट क्लियर कर सकते हैं.

What is Development in Hindi – Difference Between Growth and Development in Hindi

Difference Between Growth and Development in Hindi

विकास क्या है ? (Development) ⇒ जहाँ वृद्धि हमारे शरीर से जुड़े बदलाव थे, जो कि हमारे जीन्स के अनुसार होते हैं वही विकास हमारे जीन्स के साथ हमारे आस-पास के वातावरण से जुड़ कर हमारा निर्माण करते हैं.

यही वजह है कि बोला जाता है की बच्चों को अच्छा वातावरण देना चाहिए, ताकि उनका विकास सही प्रकार से हो सके.

चलिये अब हम विकास शब्द की परिभाषा को मनोविज्ञानी के द्वारा जो दिया गया है उसे समझते हैं|

Harlock

“विकास, अभिवृद्धि तक ही सीमित नहीं है, इसके बजाय इसमें परिपक्वावस्था के लक्ष्य की ओर परिवर्तन का प्रगतिशील क्रम निहित रहता है.

विकास के परिणाम स्वरूप व्यक्ति के नवीन विशेषताएं और नवीन योग्यताएं प्रकट होती है.

Gesell

“विकास, प्रत्यय से अधिक है, इसके देखा, जाँचा और किसी सीमा तक तीन प्रमुख दिशाओं – शरीर अंत विश्लेषण, शरीर ज्ञान तथा व्यवहारात्मक में मापा जा सकता है.

इस सब में व्यावहारिक संकेत ही सबसे अधिक विकासात्मक स्तर और विकासात्मक शक्तियों को व्यक्त करने का माध्यम है.

इन दोनों परिभाषा से हम यह बोल सकते हैं कि :- Development is complete physique of body.

Characteristic of Development – विकास की विशेषताएं
  1. Continuous Process : (लगातारा चलने वाली प्रक्रिया है|)
  2. Wider and Comprehensive Term : (यह अपने आप में ही बहुत बड़ी और विख्यात टर्म है|)
  3. Changes in body as well as behavior : (शरीर के साथ-साथ आदतों में भी बदलाव आता है|)
  4. Integrated process : (एकीकृत प्रक्रिया)
  5. Subject to assessment : (इसको जाँचा एवं मापा जा सकता है|)

टिप्स – दोस्तों, वैसे विशेषताओं को भी पढ़ कर आप अपने शब्दों में विकास की परिभाषा बना कर लिख सकते हैं जरूरी नहीं है कि आप चीजों को रटे|

जिस प्रकार मैंने आपको ऊपर वृद्धि के दो रूप बताए, ठीक उसी प्रकार विकास के भी कई रूप है| उन्ही में से एक है Economic Development.

मैंने Economic विषय की पढ़ाई तो नहीं कि, लेकिन इसका अर्थ जो मुझे समझ में आता है वो मैं आपके साथ जरूर शेयर करूंगा.

हर व्यक्ति अपने जीवन में किसी न किसी काम को कर के कुछ ना कुछ आय की प्राप्ति करते हैं| इस आय से व्यक्ति अपनी आवश्यकता की वस्तुएं खरीदते एवं अपने जीवन को जीते हैं|

यदि देश के सभी व्यक्तियों की आय को जोड़ दिया जाए तो प्राप्त योगफल को राष्ट्रीय आय कहेंगे तथा इसे देश की जनसंख्या से भाग दिया जाए तो प्राप्त भागफल देश की प्रति व्यक्ति आय कहलाएगा|

इसे कई बार आपने ग्राफ या पाई चार्ट के रूप में देखा होगा, उससे ही भारत के Economic Development की जानकारी की प्राप्ति की जाती है.

आइए अब हम विकास के कुछ स्टेज के बारे में जान लेते हैं.

Stages of Development in Child in Hindi

  • Infant (0-2 years)
  • Early Childhood (2-6 years)
  • Later Childhood (7-12 years)
  • Adolescence (12-18 years)

दोस्तों, यदि आपको विकास के स्टेज पर और डिटेल में पढ़ना है तो आप मुझे कमेंट कर के जरूर बताएं, ताकि फिर मैं उस पर आपके लिए एक और लेख अपडेट कर सकू|

यहाँ मैंने आपके साथ जो स्टेज शेयर किए हैं विकास के वो सिर्फ बच्चों से जुड़े हैं, इसलिए आप ध्यान से पढ़े| मानव विकास के स्टेज इससे अलग है|

इस लेख में आपको विकास के बारे में इतनी ही सूचना मिलेगी, यदि इतना समझने में कोई डाउट है तो कमेंट या मेल कर के आप अपना डाउट क्लियर कर सकते हैं.

अब हमने Growth and Development (वृद्धि और विकास) दोनों ही टर्म को काफी डिटेल में पढ़ लिया है, और आशा है कि आपको समझ में भी आ गया होगा.

तो चलिये अब आगे बढ़ते हैं, और जानते हैं Growth and Development के बीच का फर्क (वैसे शायद अब आप खूद भी इसमे फर्क कर सकते हैं|)

Difference Between Growth and Development in Hindi – Growth and Development Difference in Hindi
वृद्धिविकास
यह सम्पूर्ण विकास का एक हिस्सा है|
विकास अपने आप में ही एक बड़ी टर्म है, जिसका वृद्धि एक छोटा सा हिस्सा है|
यह निरंतर चलने वाली प्रक्रिया नहीं है|
यह निरंतर चलने वाली प्रक्रिया है| अर्थात जन्म के पूर्व से शुरू हो के मृत्यु तक एक इंसान का विकास होता है|
वृद्धि का परिवर्तन किसी विशेष पहलू में ही होता है|
यदि अच्छा वातावरण मिले तो विकास स्मपूर्ण पहलू में बादल सकता है|
सिर्फ हमारे मात्रात्मक गुणो से जुड़ा होता है|
मात्रात्मक के साथ गुणात्मक गुणो से यह जुड़ा है|
एकीकृत प्रक्रिया नहीं है|एकीकृत प्रक्रिया है|
इसको सिर्फ मापा जा सकता है|
मापने के साथ-साथ आप इसको जाँच भी सकते हैं|
ज़रूरी नहीं है कि वृद्धि के साथ-साथ विकास भी हो|विकास बिना वृद्धि के भी पॉसिबल है|

उम्मीद है अब आपको Difference Between Growth and Development in Hind में क्या अंतर है सब कुछ अच्छे से समझ में आ गया होगा.

आप इसे अपने मित्रों खास कर जो टीचर बनने की सोच रहे हैं, उनके साथ सोशल मीडिया के माध्यम से जरूर शेयर करें.

अन्य लेख ⇓

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Himanshu Grewal

मेरा नाम हिमांशु ग्रेवाल है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमे आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, इंग्लिश स्पीकिंग, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

Leave a Comment