श्री गणेश चालीसा… गणपति बप्पा मोरिया

गणपति बप्पा मोरिया : आज के इस लेख के माध्यम से मैं आपके साथ Ganesh Chalisa in Hindi शेयर करने जा रहा हूँ| इसके साथ ही इस लेख में मैं आपके साथ श्री गणेश चालीसा का अर्थ भी बताऊँगा.

श्री गणेश चालीसा 40 छंदों की एक कविता है (“चालीस” चालीस की संख्या के लिए हिंदी शब्द है।) जिसका उपयोग हिंदू गज भगवान की पूजा करने के लिए किया जाता है.

मैं आपको बता दूँ कि इसकी रचना भगवान राम के भक्त सुंदरदास ने की थी, जो ऋषि दुर्वासा के धर्मग्रंथ में रहते थे.

मैं आपको बता दूँ कि श्री गणेश चालीसा को कई अलग-अलग धुनों में गाया जा सकता है, इसलिए आप कभी आप कुछ अलग तरह से श्री गणेश चालीसा को सुने तो कृपया कर उसे गलत ना समझे.

भगवान गणेश, जिन्हें गणपति और विनायक जैसे विभिन्न नामों से भी पुकारा जाता है और इनके पिता जी भगवान शिव और माता जी देवी पार्वती हैं.

कहा जाता है कि जो इस भजन को पूरी ईमानदारी के साथ दोहराता है, वह सभी निष्ठा से धन्य होता है और साथ ही साथ अनुग्रहपूर्ण उपहार, जिनमें से नवीनता अधिक से अधिक रूप में बढ़ती है.

ऐसी मान्यता है कि सुबह जल्दी उठकर स्नान करने के उपरान्त गणेश जी की मूर्ति या तस्वीर के सामने बैठकर गणेश चालीसा का जाप करने से हर मनोकामना पूरी होती है.

तो आइए दोस्तों अब मैं आपके साथ हिन्दी में गणेश चालीसा शेयर करता हूँ.

आप चाहे तो इसका स्क्रीनशॉट लेकर भी अपने डिवाइस में सेव कर के रख सकते हैं और जब भी आप सुबह स्नान करने के बाद श्री गणेश चालीसा का जाप करने बैठे तो स्क्रीनशॉट की मदद ले सकते हैं, इससे आपका इंटरनेट और समय दोनों की बचत हो जाएगी.

श्री गणेश चालीसा के फायदे और श्री गणेश चालीसा के लाभ बहुत है जिसका पता आपको आर्टिकल में पता चलेगा. अगर आपको गणेश चालीसा के फायदे पता है तो आप कमेंट के माध्यम से अपने विचार हमारे साथ शेयर कर सकते हो.

Shree Ganesh Chalisa Lyrics in Hindi

श्री गणेश चालीसा वीडियो

श्री गणेश चालीसा (Shri Ganesha Chalisa in Hindi)

॥दोहा॥

जय गणपति सदगुणसदन, कविवर बदन कृपाल।
विघ्न हरण मंगल करण, जय जय गिरिजालाल॥
जय जय जय गणपति गणराजू।
मंगल भरण करण शुभ काजू ॥

॥चौपाई॥

जै गजबदन सदन सुखदाता। विश्व विनायक बुद्घि विधाता॥
वक्र तुण्ड शुचि शुण्ड सुहावन। तिलक त्रिपुण्ड भाल मन भावन॥
राजत मणि मुक्तन उर माला। स्वर्ण मुकुट शिर नयन विशाला॥
पुस्तक पाणि कुठार त्रिशूलं । मोदक भोग सुगन्धित फूलं ॥1॥

सुन्दर पीताम्बर तन साजित । चरण पादुका मुनि मन राजित ॥
धनि शिवसुवन षडानन भ्राता । गौरी ललन विश्वविख्याता ॥
ऋद्घिसिद्घि तव चंवर सुधारे । मूषक वाहन सोहत द्घारे ॥
कहौ जन्म शुभकथा तुम्हारी । अति शुचि पावन मंगलकारी ॥2॥

एक समय गिरिराज कुमारी । पुत्र हेतु तप कीन्हो भारी ॥
भयो यज्ञ जब पूर्ण अनूपा । तब पहुंच्यो तुम धरि द्घिज रुपा ॥
अतिथि जानि कै गौरि सुखारी । बहुविधि सेवा करी तुम्हारी ॥
अति प्रसन्न है तुम वर दीन्हा । मातु पुत्र हित जो तप कीन्हा ॥3॥

मिलहि पुत्र तुहि, बुद्घि विशाला । बिना गर्भ धारण, यहि काला ॥
गणनायक, गुण ज्ञान निधाना । पूजित प्रथम, रुप भगवाना ॥
अस कहि अन्तर्धान रुप है । पलना पर बालक स्वरुप है ॥
बनि शिशु, रुदन जबहिं तुम ठाना। लखि मुख सुख नहिं गौरि समाना ॥4॥

सकल मगन, सुखमंगल गावहिं । नभ ते सुरन, सुमन वर्षावहिं ॥
शम्भु, उमा, बहु दान लुटावहिं । सुर मुनिजन, सुत देखन आवहिं ॥
लखि अति आनन्द मंगल साजा । देखन भी आये शनि राजा ॥
निज अवगुण गुनि शनि मन माहीं । बालक, देखन चाहत नाहीं ॥5॥

गिरिजा कछु मन भेद बढ़ायो । उत्सव मोर, न शनि तुहि भायो ॥
कहन लगे शनि, मन सकुचाई । का करिहौ, शिशु मोहि दिखाई ॥
नहिं विश्वास, उमा उर भयऊ । शनि सों बालक देखन कहाऊ ॥
पडतहिं, शनि दृग कोण प्रकाशा । बोलक सिर उड़ि गयो अकाशा ॥6॥

गिरिजा गिरीं विकल है धरणी । सो दुख दशा गयो नहीं वरणी ॥
हाहाकार मच्यो कैलाशा । शनि कीन्हो लखि सुत को नाशा ॥
तुरत गरुड़ चढ़ि विष्णु सिधायो । काटि चक्र सो गज शिर लाये ॥
बालक के धड़ ऊपर धारयो । प्राण, मन्त्र पढ़ि शंकर डारयो ॥7॥

नाम गणेश शम्भु तब कीन्हे । प्रथम पूज्य बुद्घि निधि, वन दीन्हे ॥
बुद्घ परीक्षा जब शिव कीन्हा । पृथ्वी कर प्रदक्षिणा लीन्हा ॥
चले षडानन, भरमि भुलाई। रचे बैठ तुम बुद्घि उपाई ॥
चरण मातुपितु के धर लीन्हें । तिनके सात प्रदक्षिण कीन्हें ॥8॥

तुम्हरी महिमा बुद्घि बड़ाई । शेष सहसमुख सके न गाई ॥
मैं मतिहीन मलीन दुखारी । करहुं कौन विधि विनय तुम्हारी ॥
भजत रामसुन्दर प्रभुदासा । जग प्रयाग, ककरा, दर्वासा ॥
अब प्रभु दया दीन पर कीजै । अपनी भक्ति शक्ति कछु दीजै ॥9॥

॥दोहा॥

श्री गणेश यह चालीसा, पाठ करै कर ध्यान।
नित नव मंगल गृह बसै, लहे जगत सन्मान॥
सम्बन्ध अपने सहस्त्र दश, ऋषि पंचमी दिनेश।
पूरण चालीसा भयो, मंगल मूर्ति गणेश ॥

अन्य चालीसा पढ़े ⇓



Shri Ganesh Chalisa in Hindi with Meaning

Shri Ganesh Chalisa Lyrics in Hindi

Shri Ganesh Chalisa in Hindi Lyrics

।। दोहा ।।

जय गणपति सदगुण सदन, कविवर बदन कृपाल ।
विघ्न हरण मंगल करण, जय जय गिरिजालाल ।।

अर्थात : वैभव, यश, आपकी महिमा, हे गणेश; पूरी दुनिया आपके लिए श्रद्धांजलि अर्पित करती है कि आप शिव के आकर्षक पुत्र हैं और गौरी की प्रसन्नता और दुख, पीड़ा और कठिनाइयों का नाश करने वाले हैं|

।। चौपाई ।।

जय जय जय गणपति गणराजू । मंगल भरण करण शुभः काजू ।।
जै गजबदन सदन सुखदाता । विश्व विनायका बुद्धि विधाता ।।

अर्थात : गौरी और शिव के पुत्र को विजय; आप सभी भय और चिंताओं के विनाशक हैं। खुशी और सुरक्षा की सभी लड़ाइयों में विजय आपकी होगी। आप सभी अज्ञान, ज्ञान और बुद्धि के दाता हैं|

वक्र तुण्ड शुची शुण्ड सुहावना । तिलक त्रिपुण्ड भाल मन भावन ।।
राजत मणि मुक्तन उर माला । स्वर्ण मुकुट शिर नयन विशाला ।।

अर्थात : हे गणेश, आप अपने हाथी के चेहरे पर एक विशाल कलश लेकर चलते हैं और आपका पवित्र कुंड सुशोभित है| आप गहनों की एक माला पहनते हैं और आपकी आँखें पूरी तरह से खिले हुए कमल के फूल की तरह होती हैं और आपका सिर एक जड़ा हुआ मुकुट से सुशोभित होता है|

पुस्तक पाणि कुठार त्रिशूलं । मोदक भोग सुगन्धित फूलं ।।
सुन्दर पीताम्बर तन साजित । चरण पादुका मुनि मन राजित ।।

अर्थात : आप, गणेश, अपने भक्तों को चिंताओं और तनाव से मुक्ति दिलाते हैं। आप अपने हाथों में त्रिशूल और कुल्हाड़ी लेकर चलते हैं और आपके पसंदीदा लड्डू और सुगंधित फूल हैं|

धनि शिव सुवन षडानन भ्राता । गौरी लालन विश्व-विख्याता ।।
ऋद्धि-सिद्धि तव चंवर सुधारे । मुषक वाहन सोहत द्वारे ।।

अर्थात : दुनिया को सुख और शांति देने वाले, आप शिव और पार्वती के पुत्र और कार्तिकेय के भाई हैं| समृद्धि और पूर्णता प्रशंसकों के साथ आपकी सेवा करती है जबकि चूहे का आपका वाहन वैभव जोड़ता है|

कहौ जन्म शुभ कथा तुम्हारी । अति शुची पावन मंगलकारी ।।
एक समय गिरिराज कुमारी । पुत्र हेतु तप कीन्हा भारी ।।

अर्थात : आपके जन्म की अजीब, रहस्यमय कहानी के लिए, आपकी महानता का वर्णन कौन कर सकता है? एक कूवारी कन्या ने जाप कर के तुम्हें पुत्र के रूप में पाया है|

भयो यज्ञ जब पूर्ण अनूपा । तब पहुंच्यो तुम धरी द्विज रूपा ।।
अतिथि जानी के गौरी सुखारी । बहुविधि सेवा करी तुम्हारी ।।

अर्थात : शिव के रूप में प्रच्छन्न एक दानव, अक्सर गौरी को आदेश देने के लिए वहां आता था अपने डिजाइन को विफल करने के लिए, शिव की प्रिय पत्नी गौरी ने एक निर्माण किया उसके शरीर के मैल से दिव्य रूप।

अति प्रसन्न हवै तुम वर दीन्हा । मातु पुत्र हित जो तप कीन्हा ।।
मिलहि पुत्र तुहि, बुद्धि विशाला । बिना गर्भ धारण यहि काला ।।

अर्थात : अपने बेटे को निगरानी रखने के लिए कहकर, उसने उसे महल के दरवाजे पर तैनात कर दिया एक कामचोर की तरह। जब शिव स्वयं वहां आए थे, तो वे थे गैर-मान्यता प्राप्त घर में प्रवेश से इनकार कर दिया गया था|

गणनायक गुण ज्ञान निधाना । पूजित प्रथम रूप भगवाना ।।
अस कही अन्तर्धान रूप हवै । पालना पर बालक स्वरूप हवै ।।

अर्थात : शिव ने पूछा: बताओ, तुम्हारा पिता कौन है? मधुर के रूप में एक आवाज में, तुम ने उत्तर दिया, हेकेन, श्रीमान, मैं गौरी का पुत्र हूं; तुम अग्रिम की हिम्मत नहीं है इस बिंदु से परे भी एक कदम।

बनि शिशु रुदन जबहिं तुम ठाना । लखि मुख सुख नहिं गौरी समाना ।।
सकल मगन, सुखमंगल गावहिं । नाभ ते सुरन, सुमन वर्षावहिं ।।

अर्थात : हे सर! इससे पहले कि मैं आपको जाने की अनुमति दूं मैं अपनी मां की अनुमति ले सकता हूं के भीतर; मेरे जैसे एक मात्र स्ट्रिपलिंग के साथ संघर्ष करने से कोई फायदा नहीं होगा। गुस्से में, शिव ने अपना त्रिशूल उठाया और भ्रम से प्रेरित हो गए आप पर चोट की। आपका सिर, शिरिसा फूल की तरह कोमल था अलग हो गया और तुरंत वह आकाश में उड़ गया और वहां गायब हो गया|

शम्भु, उमा, बहुदान लुटावहिं । सुर मुनिजन, सुत देखन आवहिं ।।
लखि अति आनन्द मंगल साजा । देखन भी आये शनि राजा ।।

अर्थात : जब शिव खुशी-खुशी अंदर गए जहां पर्वत की बेटी गौरी राजा बैठा था, उसने मुस्कुराते हुए पूछा, बताओ, सती तुमने कैसे दिया बेटे को जन्म? पूरे प्रकरण को सुनने पर, रहस्य साफ हो गया|

निज अवगुण गुनि शनि मन माहीं । बालक, देखन चाहत नाहीं ।।
गिरिजा कछु मन भेद बढायो । उत्सव मोर, न शनि तुही भायो ।।

अर्थात : गौरी, हालांकि महान पर्वत राजा की बेटी (गतिहीनता के लिए मनाई गई) थी चले गए और व्याकुल होकर वह जमीन पर गिर गया और बोला, “आपके पास है।” मुझे बहुत बड़ा तिरस्कार मिला, मेरे प्रभु; अब जाओ और मेरे बेटे का सिर जहां से भी मिलें आप खोज कर लाओ!

कहत लगे शनि, मन सकुचाई । का करिहौ, शिशु मोहि दिखाई ।।
नहिं विश्वास, उमा उर भयऊ । शनि सों बालक देखन कहयऊ ।।
पदतहिं शनि दृग कोण प्रकाशा । बालक सिर उड़ि गयो अकाशा ।।
गिरिजा गिरी विकल हवै धरणी । सो दुःख दशा गयो नहीं वरणी ।।

अर्थात : सभी कौशलों में निपुण शिव ने विष्णु के साथ प्रस्थान किया, काफी सफर करने के बाद शनि देव ने पूछा क्या करोगे अगर किसी बच्चे का सिर नहीं मिला तो तभी फिर विश्वास रखते हुये शिव बोले आकाश में उड़ कर गया है तो यकीनन ही मिल जाएगा|

हाहाकार मच्यौ कैलाशा । शनि कीन्हों लखि सुत को नाशा ।।
तुरत गरुड़ चढ़ि विष्णु सिधायो । काटी चक्र सो गज सिर लाये ।।

अर्थात : लेकिन सिर को खोजने में जब वो हर जगह नाकाम रहे, तब वे एक हाथी को ले आए और उसे सूंड पर रख दिया और उसमें प्राण फूंक दिए|

बालक के धड़ ऊपर धारयो । प्राण मन्त्र पढ़ि शंकर डारयो ।।
नाम गणेश शम्भु तब कीन्हे । प्रथम पूज्य बुद्धि निधि, वर दीन्हे ।।

अर्थात : और फिर उस धड़ को आपके गले से जोड़ कर मंत्र पढ़ आपको जीवित किया| शिव ने ही आपका नाम गणेश रखा और आपको ज्ञान, बुद्धि और अमरता का आशीर्वाद दिया और यह भी कहा कि आप सबसे पहले पूजे जाएंगे|

बुद्धि परीक्षा जब शिव कीन्हा । पृथ्वी कर प्रदक्षिणा लीन्हा ।।
चले षडानन, भरमि भुलाई । रचे बैठ तुम बुद्धि उपाई ।।

अर्थात : जब आपके पिता जी अर्थात शिव जी ने आपकी और आपके भाई की परीक्षा ली, और कहा कि कौन पहले इस पृथ्वी के चक्कर लगता है तो आपने बैठ के बहुत ही अच्छे से अपना दिमाग लगाया|

चरण मातु-पितु के धर लीन्हें । तिनके सात प्रदक्षिण कीन्हें ।।
धनि गणेश कही शिव हिये हरषे । नभ ते सुरन सुमन बहु बरसे ।।

अर्थात : आप, हे गणेश, अत्यंत भक्ति के साथ, अपने माता-पिता, शिव और गौरी के चरण स्पर्श किए और सात बार पृथ्वी का परिक्रमा करने के बराबर आशीर्वाद प्राप्त किया और देवता आपसे इतने प्रसन्न हुए कि उन्होंने आप पर फूलों की वर्षा की|

तुम्हरी महिमा बुद्धि बड़ाई । शेष सहसमुख सके न गाई ।।
मैं मतिहीन मलीन दुखारी । करहूं कौन विधि विनय तुम्हारी ।।

|| भजत रामसुन्दर प्रभुदासा । जग प्रयाग, ककरा, दुर्वासा ।।
अब प्रभु दया दीना पर कीजै । अपनी शक्ति भक्ति कुछ दीजै ।।

अर्थात : ऋषि दुर्वासा के सानिध्य में रहते हुए, भगवान राम के भक्त सुंदरदास ने चालीस छंदों में भगवान गणेश के भजन की रचना की। जो लोग प्रतिदिन गणेश की महिमा गाते हैं, वे परम आनंद से धन्य होते हैं|

।। दोहा ।।

श्री गणेशा यह चालीसा, पाठ करै कर ध्यान ।
नित नव मंगल गृह बसै, लहे जगत सन्मान ।।
सम्बन्ध अपने सहस्त्र दश, ऋषि पंचमी दिनेश ।
पूरण चालीसा भयो, मंगल मूर्ती गणेश ।।

अर्थात : वह जो ईमानदारी के साथ भजन दोहराता है, उसे अनुग्रहपूर्ण उपहार मिलते हैं और उसकी नवीनता और सम्मान बढ़ता है। विक्रम वर्ष में भद्रा के महीने में दो हजार और दसवें दिन अंधेरे पखवाड़े के तीसरे दिन चालीस छंदों को पूरा किया गया। सुंदरदास ने इस प्रकार भगवान गणेश के प्रति अपनी असीम भक्ति दिखाई|


Shree Ganesh Chalisa in Hindi PDF Download

अब मैं आपके साथ श्री गणेश चालीसा पीडीऍफ़ फाइल अपलोड करने जा रहा हूँ जिसको आप फ्री में डाउनलोड कर सकते हो.

Shri Ganesh Chalisa Hindi PDF Download करने के बहुत फायदे है क्योंकि अगर कभी गणेश चालीसा पढ़ने के लिए आपके पास Internet नही है तो पीडीऍफ़ की मदद से आप गणेश चालीसा आरती को कभी भी कही भी पढ़ सकते है.

नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके आप गणेश चालीस डाउनलोड कर सकते हो.

“Ganesh Chalisa PDF in Hindi”

Ganesh Chalisa HD Image Download
Ganesh Ji Image Download
Ganesh Ji Image Download
Ganesh Ji Full HD Images Download
Ganesh Ji Full HD Images Download
Ganesh Ji Photo Download Full HD
Ganesh Ji Photo Download Full HD
गणेश चालीसा के फायदे – Ganesh Chalisa Ke Labh in Hindi

Ganesh Chalisa Padhne Ke Fayde इस प्रकार हैं:

ऐसे तो गणेश जी की चालीसा पढ़ने के अनेकों फायदे है, पर यहां मैं आपको थोड़े बहुत फायदे बताता हूँ.

  1. भगवान गणेश जी को परिवार का देवता माना जाता है.
  2. भगवान गणेश जी की पूजा अर्चना करने से परिवार की सभी समस्या दूर हो जाती है.
  3. भगवान गणेश जी रिद्धि-सिद्धि के दाता है, इनकी कृपा जब किसी पर पड़ती है तो वहां लाभ ही प्राप्त होता है, कहे तो शुभ समय आना शुरू हो जाता हैं.
  4. भगवान श्री गणेश चालीसा हिंदी में पढ़ने से भक्तों को जीवन में किसी भी प्रकार की कमी नही होती है.
  5. गणेश चालीसा का जाप करने से परिवार में सदैव सुख-शांति बनी रहती है.

प्रिय भक्तों, Ganesh Chalisa Lyrics in Hindi के इस लेख को मैं यही पर समाप्त कर रहा हूँ, यदि आप चाहे तो इस लेख को अन्य भक्तों के साथ सोशल मीडिया के माध्यम से शेयर कर सकते हैं.

आप चाहे तो इस लेख से Ganesh Chalisa PDF Download कर सकते हैं, इस लेख को आपने अंत तक पढ़ा उसके लिए आपका धन्यवाद.

कमेंट के माध्यम से Ganesh Chalisa in Hindi (श्री गणेश चालीसा) के विषय में दो, तीन शब्द लिखे.

महत्वपूर्ण लेख :

श्री गणेश चालीसा
श्री गणेश चालीसा... गणपति बप्पा मोरिया

॥दोहा॥ : जय गणपति सदगुणसदन, कविवर बदन कृपाल। विघ्न हरण मंगल करण, जय जय गिरिजालाल॥ जय जय जय गणपति गणराजू। मंगल भरण करण शुभ काजू ॥

Editor's Rating:
5
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Himanshu Grewal

मेरा नाम हिमांशु ग्रेवाल है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमे आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, इंग्लिश स्पीकिंग, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

2 thoughts on “श्री गणेश चालीसा… गणपति बप्पा मोरिया”

Leave a Comment