Christmas Day

क्रिसमस पर निबंध (बड़ा दिन की कहानी)

Written by Himanshu Grewal

हेल्लो दोस्तों और प्यारे बच्चो आज HimanshuGrewal.com मैं, में आपको क्रिसमस पर निबंध के बारे में बताने जा रहा हूँ. अक्सर स्कूल में जो बच्चे होते है उनको teacher क्रिसमस के बारे में लिखने को बोल देते है. तो स्कूल के बच्चे इस निबंध को लिख सकते है.”

सिर्फ स्कूल में पढ़ रहे बच्चे ही नही, ऐसे कई लोग है जिनको क्रिसमस का त्योहार के बारे में नही पता. तो यह आर्टिकल मैंने उन सभी लोगो के लिए ही लिखा है जिनको christmas day के बारे में नही पता.

निबंध शुरू करने से पहले आपको क्रिसमस की थोड़ी बहुत जानकारी बता देता हूँ की हम क्रिसमस क्यों मनाते है ? इस दिन मतलब 25 दिसम्बर को ईसा मसीह का जन्म हुआ था. ईसा मसीह एक आम इन्सान थे पर फिर भी उनको भगवान के समान समझा जाता था. ईसा मसीह के बारे में और जानने के लिए यह वाला आर्टिकल पढ़े. ईसा मसीह कौन थे, ईसा मसीह की कहानी

वैसे सिर्फ ईसा मसीह ही नही बल्कि क्रिसमस पर सांता क्लॉज़ का भी बहुत बड़ा हाथ है. अगर आपको santa clause की कहानी पढनी है तो आप यह वाला पोस्ट रीड करे. Santa Claus ki story 2017. दोस्तों अब हम शुरू करते है अपने निबंध को.

Essay on Christmas day in Hindi

क्रिसमस पर निबंध | Short essay on christmas day

आप सबको शायद एक बात पता न हो की क्रिसमस को बड़ा दिन के नाम से भी जाना जाता है. आईये जानते है की ऐसा क्यों?

क्रिसमस को बड़ा दिन क्यों कहते है ?

बड़ा दिन ईसाईयों का एक पवित्र पर्व है. यह पर्व प्रति वर्ष (हर साल) 25 दिसम्बर को मनाया जाता है. इस दिन ईसा मसीह का जन्म हुआ था. उसी ख़ुशी में यह पर्व मनाया जाता है. यह दिन महत्व की द्रष्टी से सबसे बड़ा है इसलिए इसको सब बड़ा दिन कहते है.

25 दिसम्बर क्रिसमस पर क्या करते है ?

पर्व से पूर्व अर्थात् 24 दिसम्बर की प्रातः से ही लोग अपने-अपने घरों को विभिन तरीके से सजाते हैं. 24 दिसम्बर की रात्रि को सभी लोग अपने घरों को प्रकाश से जगमगा देते हैं क्योंकि 24 december को ठीक अर्द्धरात्रि (आधी रात) में ईसा मसीह का जन्म हुआ था.

उसी ख़ुशी में लोग अपने घरों को प्रकाशित कर देते है.ठीक रात्रि 12 बजे गिरजा घरों में प्राथना के लिए चल पड़ते है. उसके बाद बड़ा दिन का त्यौहार (क्रिसमस का त्यौहार) शुरू हो जाता है.

रात्रि 1 बजे से 25 december का बड़ा दिन शुरू हो जाता है. रात्रि प्राथना सभा में शामिल होकर सभी ईसाई भाई एक दूसरे को क्रिसमस की बधाई देते हुए अपने-अपने घर आते है.

उस दिन घर में धूम-धाम से उत्सव मनाया जाता है. घर में स्वादिष्ट पकवान बनते है और उस पकवान को अपने परिवार व सम्बन्धियों के साथ मिल बैठकर खाते है. दूसरे घर्मो के लोग भी ईसाई बन्धुओ को बधाई देते है.

बड़ा दिन मानव मात्र के भाई चारा व प्रेम का दिन है. इस दिन प्रभु यीशू इस धरती पर आये थे. उन्होंने दीन-दु:खियों को गले लगाया. सभी को प्रेम का पाठ पढ़ाया. क्षमा व सहनशीलता की शिक्षा दी. इसलिए क्रिसमस का दिन महान है.”

इनको भी जरुर पढ़े  🙂

दोस्तों 25 दिसम्बर को आता है क्रिसमस और उसके ठीक 6 दिन बाद नया साल चालू हो जाता है जिसको हम happy new year बोलकर celebrate करते है. आगर आपको latest happy new year 2017 image download करनी है तो आप इस आर्टिकल पर जाए. Download free happy new year 2017 wallpaper

दोस्तों क्रिसमस पर निबंध का यह आर्टिकल अब यही पर खतम हुआ. अगर आपको इस आर्टिकल से रिलेटेड कुछ भी पूछना हो या फिर ऐसी कोई भी बात जो आप हमारे साथ शेयर करना चाहते हो तो आप कमेंट करके हमारे साथ शेयर कर सकते हो और हाँ इस आर्टिकल को social media पर शेयर करना न भूले| क्रिसमस की शुभकामनाए 🙂

About the author

Himanshu Grewal

मेरा नाम हिमांशु ग्रेवाल है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमे आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, इंग्लिश स्पीकिंग, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

2 Comments

Leave a Comment