CV और Resume में क्‍या फर्क और अंतर होता है ?

Difference Between CV and Resume in Hindi

क्या आपको CV, रिज्यूम और बायोडाटा में अंतर पता है? यदि आपका जवाब नहीं है तो इस लेख को पढ़े और फर्क को जाने|

रोजाना हम अपनी जिंदगी में कुछ न कुछ नया जरूर सीखते हैं, यदी आप एक सफल व्यक्ति बनना चाहते हैं तो आपको अपने जीवन में यह करना चाहिए| (अर्थात कुछ न कुछ नया जरूर सीखना चाहिए)

एक दिन अपने एक दोस्त से बात करते वक्त मुझे यह ज्ञात हुआ कि हम कई ऐसे टर्म को रोज बोलते हैं, जिनका अर्थ बिलकुल एक्जेक्ट वही नहीं होता है जो वहाँ पर होना चाहिए|

परंतु हमे यह लगता है, कि इसका अर्थ भी वही तो हम सही शब्द की जगह कोई दूसरे शब्द का प्रयोग भी कर देते हैं|

हालाँकि कुछ समय तक आपकी बातों पर ज्यादा गौर नहीं फरमाया जाता है लेकिन जब आप कभी किसी बड़े प्लेटफॉर्म पर इसी काम को करेंगे तो यकीनन ही आपकी निंदा हो सकती है|

बड़े प्लेटफॉर्म से मेरा अर्थ आप यह भी लगा सकते हैं कि जब आप कभी 100 लोगों के सामने कुछ बोलते हैं, तब आपके भाव के साथ-साथ लोग आपके शब्दों पर भी बहुत ध्यान देते हैं और ऐसे में ही फिर हसी का कारण भी इंसान बन जाता है|

चलिये एक उदाहरण से मैं आपको इस बात को समझा देता हूँ – इंग्लिश भाषा के दो शब्द है Advice and Suggestion.

मुझे यकीन है कि आप इन दोनों शब्दों से वाकिफ ज़रूर होंगे परंतु आप इन दोनों शब्दों का एक ही अर्थ समझ कर जहाँ Advice शब्द का प्रयोग होना चाहिए वहाँ आप Suggestion शब्द का इस्तेमाल भी कर देते होंगे|

चलिये पहले मैं आपको इन दोनों शब्दों के एगजेक्ट मीनिंग बताता हूँ और फिर आपको कौन सा शब्द किस वाक्य में प्रयोग में लाना है वो बताता हूँ|

इसे भी पढ़े: क्या आप जानते हैं RAM और ROM के बीच का अंतर?

Difference Between Advice and Suggestion in Hindi

  1. Suggestion – सुझाव
  2. Advice – सलाह

देखिए अर्थ भी अलग-अलग है, लेकिन कही ना कही हम इन दोनों शब्दों का प्रयोग तब करते हैं जब हम किसी अनुकूल परिस्थिति में हो और हमे समझ में ना आए कि इसका हल कैसे निकाला जा सकता है|

और फिर उस परिस्थिति में दूसरे लोगों की सलाह या सुझाव की आवश्यकता पड़ती है, आइये अब इन दोनों का शब्दों पर हम सही तरीके से इस्तेमाल करना सीखते हैं|

सलाह और सुझाव में क्या अंतर है ?

Suggestion यानि सुझाव वो राय है जो हम खूद किसी को बोल कर मांगते हैं, जैसे कि – यार मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा, कुछ अच्छा सा सुझाव दे| (Suggest me some good ideas)

Advice यानि सलाह, उस तरह कि राय होती है जिसे हम मांगने नहीं जाते, हमे दूसरे इंसान अपने अनुभव के अनुसार खूद देने लग जाते हैं|

इंग्लिश का एक फेमस डायलॉग भी है – You can get thousands of free advice.

मुझे यकीन है कि आपको इनके बीच का अंतर अब अच्छे से समझ में आ गया गा, इसलिए आज के बाद जब भी आप किसी ऐसी परिस्थिति में हो तो शब्दों का प्रयोग थोड़ा ध्यान पूर्वक करें|

यदि Advice and Suggestion इन दोनों शब्दों के अर्थ या फिर प्रयोग किस तरह से किन वाक्यो में किया जाये समझने में आपको डाउट है तो नीचे दिये गए कमेंट बॉक्स में कमेंट कर उसे क्लियर कर सकते हैं|

दोस्तो यह तो बहुत ही छोटे से दो शब्दों के उदाहरण से मैंने आपको समझाया, कि किस तरह हम गलती कर देते हैं| लेकिन जब आप बड़े हो जाते हैं तब भी आप यदि इसी तरह से गलती करेंगे तो वह नजरअंदाज नहीं की जाती|

बड़े होने से मेरा अर्थ है कि जब आप पढ़ाई के उपरान्त नौकरी करने जाओ, वही कई सैक्टर में शब्दों के खेल से सारा काम होता है| जैसे कि – Motivational Speaker, Teacher, Consultant, Counsellor, Poet, Debaters, Editors इत्यादि|

भारत जैसे देश में पैसा कमाने के कई साधन हैं, हर इंसान अपनी योग्यता के अनुसार अपनी जिंदगी में पैसे कमा रहा है और अपनी जिंदगी को जी रहा है|

कुछ लोग जहाँ बिजनेस कर लाखों कमा रहे हैं, तो वही कुछ लोग उनके लाखों के बिज़नस में कुछ हज़ार रुपए कमाते हैं|

लाखो के बिज़नस में जो हजारो रुपए कमाते हैं, उनको किसी भी कंपनी में निषेध होने से पहले अपना Interview देना होता है|

हर कंपनी ने अपने इंटरव्यू के फ़ारमैट को अपने अनुसार सेट किया हुआ है, वही कुछ कंपनी सिर्फ एक्सपिरियन्स को देखती है तो कुछ डिग्री होने के साथ आपकी योग्यता को भी मापती है|

हर पढ़े-लिखे व्यक्ति को अपनी लाईफ में कभी न कभी रिज्यूम की जरूरत पड़ती है, क्योंकि नौकरी पाने का रास्ता आपके रिज्यूम, सीवी या बायोडाटा से होकर ही जाता है|

जब भी आप नई नौकरी की खोज में जाते है तो वहाँ सबसे पहले आपसे आपके रिज्यूम या सीवी के बारे में ही पूछा जाता है|

दोस्तों यदि आप इसी सेक्टर से हैं, तो यकीनन ही आपको ज्ञात होगा कि जॉब के लिए कुछ लोग रिज्यूम की मांग रखते है तो कुछ लोग सीवी लाने के लिए आपको बोलते हैं|

ऐसे में अधिकतर कैंडिडेट को रिज्यूम और सीवी के बीच का फर्क ही मालूम नही होता है और वे रिज्यूम की जगह सीवी या सीवी की जगह रिज्यूम लेकर चले जाते है| जिसकी वजह से मिलने वाले जॉब के चांस बहुत हद तक कम हो जाते है|

क्या आपके साथ या आपके किसी जानकार के साथ कभी ऐसा हुआ है, यदि हुआ है तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करने के माध्यम से अपना अनुभव जरूर शेयर करें| और आज के बाद आपसे यह गलती ना हो, आप सीवी और रेस्यूम के बीच का फर्क समझ जाएँ इसलिए मैंने इस लेख को आपके लिए लिखा है|

अंतर जाने :

Difference Between CV and Resume in Hindi

दोस्तों, दरअसल रिज्यूम और सीवी दोनों दो शब्द होने के साथ-साथ इनका अर्थ भी दोनों से अलग होता है लेकिन फिर भी इन दोनों में आपके बारे में ही लिखा जाता है जिसकी वजह से लोगों को इसके बीच का अंतर समझ नही आ पता है|

अगर आपको किसी जॉब में रिज्यूम या फिर सीवी जमा करने के लिए कहा जाता है, तो आपको पता होना चाहिए कि जिस जॉब के लिए आप अप्लाई कर रहे है उसके लिए आखिर मांगा क्या है (सीवी और रिज्यूम की) और देना क्या है|

यदि आप भी रिज्यूम और सीवी के बीच कंफ्यूज है तो आइये जानते है रिज्यूम और सीवी के बीच का अंतर जो आपके आज तक के सारे कंफ्यूजन को यकीनन ही दूर कर देगाऑ

रिज्यूम और सीवी में अंतर – CV and Resume Difference in Hindi

रिज्यूम क्या है – Resume Meaning in Hindi | Resume in Hindi

Resume Meaning in Hindi

जब भी आप किसी नौकरी के लिए अप्लाई कर रहे है और अगर आपको रिज्यूम जमा करने के लिए कहा जाता है, तो इसका मतलब यह है कि आपके बायोडाटा (biodata) का वो फॉर्मेट जिसमें आपके बारे में शॉर्ट में लिखा हो|

रिज्यूम सिर्फ सरसरी (Overview) निगाह से देखा जाता है, इसलिए इसमें आपके बारे में जो भी लिखा जाता है वह शॉर्ट में ही लिखा जाता है|

नौकरी के लिए इंटरव्यू तक पहुचने का रास्ता आपके रिज्यूम से होकर ही गुजरता है जो आज कल एडवांस टेक्नोलॉजी होने के कारण अधिकतर ही ईमेल के द्वारा भेजा जाता है|

इसलिए रिज्यूम में हर चीज शॉर्ट में रखी जाती है जिसमे आपकी स्किल्स, क्वालिफिकेशन और आपका किस क्षेत्र के स्पेशलाइजेशन हैं उसके बारे में लिखा होता है|

रिज्यूम के माध्यम से recruiter यानि आप जिसको जॉब चाहिए उसके अनुभव और उस जॉब के लिए दिए गये क्वालिफिकेशन के बारे में पता लगाया जाता है|

रिज्यूम सिर्फ एक या दो पेज का ही होता है, रिज्यूम में सिर्फ जरूरी बाते ही लिखी जाती है ये जरूरी नही कि इसमें आपके द्वारा किए गए हर जॉब, आपके द्वारा हासिल किए गए अवार्ड और अचीवमेंट्स के बारे में लिखा जाए|

आपका रिज्यूम सिर्फ आपको उस जॉब के इंचरव्यू तक पहुंचने का एक रास्ता है और सबसे महत्वपूर्ण बात – इंटरव्यू के दौरान आपसे सीवी मांगा जाता है, रिज्यूम नही|

क्या अब आपको रिज्यूम शब्द का अर्थ एवं उसका उपयोग कब और कैसे किया जाता है ज्ञात हो गया?

यदि तो हाँ तो चलिये अब सीवी के बारे में जानते हैं और यदि आपको कोई कन्फ्यूजन है तो नीचे दिये गए कमेंट बॉक्स में कमेंट कर डाउट क्लियर करे|

आगे पढ़े :

सीवी क्या होता है – Curriculum Vitae Meaning in Hindi | CV in Hindi

Curriculum Vitae Meaning in Hindi

चलिये सबसे पहले हम सीवी की फुल फॉर्म को जानते है Curriculum Vitae जो कि लैटिन भाषा के शब्दों से मिलकर बना है जिसका साधारण शब्दों में यदि हम अर्थ समझे तो “कोर्स ऑफ लाइफ”।

सीवी हमेशा आपके बारे में डिटेल में बताता है और इसकी लंबाई 2 से 3 पेज तक की होती है, कभी-कभी ज्यादा डिग्री और अचीवमेंट्स होने की वजह से यह 4 पेज का भी हो सकता है लेकिन इससे ज्यादा नही|

सीवी में आपकी अब तक की सारी डिटेल होती है जैसे स्किल्स की लिस्ट, अब तक के सभी जॉब्स और पोजिशन, डिग्री के बारे में और स्पेशलाइजेशन के बारे में लिखा होता है|

सीवी में आप अपने लाईफ के अचीवमेंट्स के बारे में भी लिख सकते है साथ ही आपकी अब तक के किए गये काम में आपके योगदान और अचीवमेंट के बारे में भी लिखा होता है|

सीवी हमेशा इंटरव्यू के दौरान ही आपसे मांगा जाता है ताकि आपके बारें में सब कुछ डिटेल में जाना जा सके।

सीवी अधिकतर फ्रेशर कैंडिडेट से मांगा जाता है क्योंकि उन लोगों को जॉब्स के बारे में ज्यादा कुछ पता नही होता|

Difference Between CV and Resume in Hindi – CV and Resume Difference in Hindi
रेस्यूमसीवी
इसमे आपके बारे में शॉर्ट में डीटेल लिखी जाती है|
इसमे आपके बारे में पूरी डीटेल में जानकारी दी जाती है|
इंटरव्यू तक पहुचने का माध्यम रेस्यूम है|
इंटरव्यू के दौरान आपसे सीवी की डिमांड की जाती है|
यहाँ आपके स्किल्स, क्वालिफिकेशन और आपका किस क्षेत्र के स्पेशलाइजेशन हैं, उसका ज्ञात लगाया जाता है|
स्किल्स, क्वालिफिकेशन, क्षेत्र के स्पेशलाइजेशन के साथ-साथ आपके द्वारा की गई सभी नौकरी और अचीवमेंट्स के बारे में लिखा होगा जाएगा|
यह एक या दो पेज का होता है|
इसमे अधिक से अधिक 4 पेज का हो सकता है|
Conclusion

Question. CV Full Form in Hindi
Answer. Curriculum Vitae

तो दोस्तों, यह थे Resume और CV में क्‍या फर्क होता है के बीच का अंतर|

यदि कोई डाउट हो तो कमेंट के माध्यम से क्लियर करें और इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया के माध्यम से शेयर करना ना भूलें|

यदि आपके दोस्त या आपका कोई जानकार जॉब करने की सोच रहे हैं, तो उनके लिए भी इन दोनों के Resume vs CV के बीच का फर्क जानना बहुत ही आवश्यक है|

आपने इस लेख को अंत तक पढ़ा उसके लिए आपका धन्यवाद!!

Related To Difference Between CV and Resume in Hindi ⇓

CV vs Resume
CV और Resume में क्‍या फर्क और अंतर होता है ?

CV : A curriculum vitae, Latin for "the course of your life", often shortened as CV or vita, is a written overview of someone's life's work. Vitae often aim to be a complete record of someone's career, and can be extensive.

Editor's Rating:
5
Himanshu Grewal

मेरा नाम हिमांशु ग्रेवाल है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमे आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, इंग्लिश स्पीकिंग, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

1 thought on “CV और Resume में क्‍या फर्क और अंतर होता है ?”

Leave a Comment

0 Shares
Share via