C++ और Java के बीच क्या अंतर होता है ?

आज के इस पोस्ट के माध्यम से मैं आपको Difference Between C++ and Java in Hindi Language में बताने जा रहा हूँ, यदि आप भी C++ और Java के बीच अंतर जानना चाहते हैं तो इस लेख को ध्यान पूर्वक अंत तक जरूर पढ़े.

वैसे तो मैं C++ के बारे में एक लेख के माध्यम से आपको पहले ही विख्यात में बता चुका हूँ, जिसमे मैंने आपको C और C++ के बीच अंतर बताया था.

यदि आपने वो आर्टिक्ल अभी तक नहीं पढ़ा है, और पढ़ना चाहते हैं तो मैं आपके साथ उस लेख का लिंक शेयर कर रहा हूँ, आप पढ़ सकते हैं.

आइये अब हम डायरेक्ट टॉपिक की ओर चलते हैं और जानते हैं कि इन दोनों कंप्यूटर से जुड़े लैंग्वेज में क्या फर्क है या यह एक दूसरे से अलग किस प्रकार से है.

दोस्तों यदि आपने पहले भी इसके बारे में जानकारी हासिल की हो तो आपने यह नोटिस किया होगा कि जब भी हम Java को कम्पेयर करने की बात करते हैं तो ज्यादातर यह C++ Language से ही कम्पेयर किया जाता है|

क्योंकि जावा लैंग्वेज, C++ जो कि एक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है उसके syntax को inherit करता है.

नोट : कई एक्सपर्ट का कहना है कि जो व्यक्ति C और C++ के बारे में जानकारी रखता है वह जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को बहुत ही आसानी से सीख सकता है.

जावा और C++ के मध्य बहुत सारे अंतर हैं और इसके साथ के साथ इन दोनों में कई तरह के similarities भी हैं.

लेकिन आज के इस पोस्ट के टॉपिक को पढ़ कर आपको समझ में आ गया होगा कि आज हम Java और C++ के बीच कुछ top differences के बारे में जानेंगे, तो चलिये शुरू करते हैं.

इसे भी पढ़े: What is The Difference Between Ram and Rom in Hindi

C++ क्या है – What is C++ in Hindi

Object oriented programming language अर्थात C++ इसको इसी रूप में जाना जाता है| मैं आपको यह बताना चाहता हूँ कि इसको सम्पूर्ण तरह से object oriented programming language नही कहा जा सकता है.

ऐसा क्यों ?

क्योंकि इस प्रोग्राम को बिना class और object के भी बनाया जा सकता है.

यह एक platform dependent programming language है क्योंकि इसके प्रोग्राम को एक कंप्यूटर में लिखने के बाद दुसरे कंप्यूटर में Run नही किया जा सकता है| और इतना ही नही ये एक high level programming language भी है.

Java क्या है – What is Java in Hindi 

अगर हम जावा की बात करे तो इसको Purely Object Oriented programming language के नाम से जाना जाता है क्योंकि इसमें जो प्रोग्राम बनते है उसको हम बिना class और object के नही बना सकते.

सिर्फ इतना ही नही, इसको Platform Independent programming language के नाम से भी जाना जाता है, क्योंकि इसके byte code को हम किसी भी कंप्यूटर अथवा लैपटॉप में आसानी से execute भी कर सकते हैं.

नोट: Java goto statement को सपोर्ट नही करता हैं.

Difference Between C++ and Java in Hindi Language

Difference Between C++ and Java in Hindi

यदि आपके पास BCA, MCA या फिर कोई और technical degree है, जिसमे आपने लैंग्वेज के बारे में पढ़ा हो| और यदि आप एक वेब डिज़ाइनर है तो यकीनन ही आपको इन दोनों के मध्य का फर्क ज़रूर ज्ञात होगा.

लेकिन वही कुछ इंसान आपको मेरे जैसे ज़रूर मिल जाएंगे जिनको computer language के बारे में जीरो नॉलेज होगी, यदि आप भी मेरी ही तरह है तो बहुत ही अच्छी बात है|

क्योंकि मैं आपके परेशानी को समझ सकता हूँ, क्यूंकि मैंने इस परेशानी को झेला है और अब मैंने कई वेबसाइट और यूट्यूब पर विडियो देखने के बाद अब आपके लिए इस लेख को लिख पा रहा हूँ, ताकि आपको समझने में कोई भी परेशानी ना हो.

अंतर जाने: Difference Between RTGS and NEFT and IMPS in Hindi

C++ and Java Difference in Hindi – Difference Between Java and C++ in Hindi

चलिये दोस्तों, अब हम स्टेप बाई स्टेप C++ और Java के मध्य के फर्क को पढ़ते हैं, यदि आपको कोई डाउट हो तो आप नीचे दिये गए कमेंट बॉक्स में कमेंट कर के मुझसे आफ्ना डाउट क्लियर कर सकते हैं.

Object Oriented Programming in C++ and Java in Hindi

जैसा कि मैंने आपको उस लेख में भी बताया था कि C++ एक object oriented programming language है, लेकिन यहाँ मैं आपको एक नई बात बताने जा रहा हूँ और वो यह है कि-

  1. C++ पूरी तरह object oriented programming language नहीं है क्योंकि इसमें हम बिना क्लास और ऑब्जेक्ट के भी प्रोग्राम बना सकते हैं.
  2. वही दूसरी ओर यदि हम Java कि बात करे तो यह एक Purely Object Oriented programming language है, क्योंकि इसमें हम बिना क्लास और ऑब्जेक्ट के कोई भी नया प्रोग्राम नहीं बना सकते हैं.

Difference Between Platform Dependent and Platform Independent in Java and C++

  1. C++ का platform dependent programming language है क्योंकि यह एक कंप्यूटर में लिखे गए code को दुसरे Computer में Run नहीं करा सकते हैं.
  2. वही Java एक तरह का Platform Independent programming language है क्योंकि इसके byte code को हम किसी भी कंप्यूटर में आसानी से run करा सकते हैं.

Goto Statement in Java and C++ in Hindi

C++ प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में Goto statement उपलब्ध है, इसका अर्थ यह है कि C++ goto statement को सपोर्ट करता है वही Java goto statement को सपोर्ट नहीं करता है|

Operator Overloading in C++ and Java in Hindi

  1. C++ » Language Operator Overloading को support करता है|
  2. Java » Language operator overloading को support नहीं करता है|

Compiler and Interpreter Difference in Hindi

  1. C++ में केवल compiler ही इस्तेमाल होता है, इसका मतलब है कि C++ language में program code compiler के द्वारा Source code से Machine code में convert हो जाता है.
  2. वही दूसरे ओर यदि हम जावा की बात करे तो – Java Language Compiler और Interpreter दोनों का ही इस्तेमाल करता है.

सबसे पहले java program code (source code) Compiler के द्वारा byte code में convert होता है, उसके बाद फिर वो Interpreter उस byte code को Machine code में convert करता है जो कि Machine में execute होता है.

Multiple Inheritance in Java and C++ in Hindi

  1. C++ programming language Multiple inheritance को support करता है|
  2. वही Java Language क्लास के द्वारा Multiple inheritance को support नहीं करता है|

(Java language में Multiple Inheritance Interface के द्वारा apply किया जाता है|)

Pointer in C++ and Java in Hindi

  1. C++ programming language में आप Pointer का इस्तेमाल करके program code को लिख एवं बना सकते हैं|
  2. Java language में Pointer internally support करता है, और दोस्तों मैं आपको बता दूँ कि आज जावा लैंग्वेज में अलग से pointer program का इस्तेमाल कर के नहीं लिख सकते हैं|
Structure and Union Difference in C++ and Java in Hindi
  1. C++ programming language Structure और Union के concept को support करता है|
  2. Java programming language structure और union के concept को support नहीं करता है|
Memory Allocation and Deallocation in C++ and Java in Hindi
  1. C++ language में memory allocate और Deallocate करवाने की Responsibility programmer की होती है|
  2. Java में memory management JVM के द्वारा होता है मतलब की इसमें Memory allocate और Deallocate automatic होता है|
Access Specifier in Java and C++ in Hindi

C++ में तीन access specifier होते हैं:

  • Public
  • Private
  • Protected

वही Java में चार Access specifier होते हैं:

  • Public
  • Private
  • Protected
  • Default
Header file
  1. C++ में Header File का concept available होता है|
  2. Java में Header file का concept available नहीं होता है, इसमें header file की जगह package होता है|\
Virtual Keyword in Java and C++ in Hindi
  1. C++ में method को over ride करना है या नहीं इसके लिए Virtual Keyword available होता है मतलब की C++ Virtual keyword support करता है|
  2. Java में Virtual Keyword available नहीं होता है इसमें हम सभी non-static method को by default over ride कर सकते हैं| (Non-static methods by default virtual होता है|)
Call by value and Call by reference in Java and C++ in Hindi
  1. C++ में Call by value और call by reference दोनों ही support होता है|
  2. Java में केवल call by value को support करता है|
Destructor in C++ and Java in Hindi
  1. C++ Destructor को support करता है जो की memory को destroy करने का काम करता है|
  2. Java Destructor को support नहीं करता है क्योंकि इसमें automatic garbage collection available होता है|

Must Read: Difference Between http and https in Hindi

What is the Difference Between C++ and Java in Hindi – Java and C++ Difference in Hindi

चलिये दोस्तों अब हम टेबल के माध्यम से Key Differences Between C++ and Java in Hindi को एक बार पढ़ लेते हैं, ताकि आपको अच्छे से याद हो सके.

C++Java
C++ यह एक प्लेटफार्म डिपेंडेंट लैंग्वेज हैं।
Java एक प्लेटफार्म इंडिपेंडेंट लैंग्वेज हैं।
एक general purpose programming language है जो की C language का extended form है|
Java भी एक general purpose programming language है जो की C और C++ programming language के बहुत सारे syntax को inherit करता है|
C++ language को Bjarne Stroustrup नें 1979 में Bell labs में develop किया था| सबसे पहले इसका नाम C with classes था लेकिन 1983 में इसका नाम C++ रखा गया|
Language Sun Microsystem के द्वारा develop किया गया था जिसमें team के तौर पर तीन मेम्बर थे James Gosling, Patrick Naughton और Mike Sheridan. Java language पहली बार 23 मई 1995 को release हुआ था|
C++ में Virtual Keyword, Operator overloading, Friend keyword, Typedef Keyword इस्तेमाल होते हैं|
Java में ये Virtual Keyword, Operator overloading, Friend keyword, Typedef इस्तेमाल नहीं होता है मतलब कि जावा इन सभी keyword को सपोर्ट नहीं करता है|
C++ डायनामिक एवं आटोमेटिक कंपाइलेशन को अनुमति नहीं देता हैं।
जावा डायनामिक एंड आटोमेटिक कंपाइलेशन को सपोर्ट करता हैं।
C++, C प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का ही आधुनिक संस्करण हैं, जिसमें ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग कॉन्सेप्ट्स का इस्तेमाल किया गया हो।
Java Programming C और C++ के सिंटेक्स और मुलभुत सिद्धांतों से काफी प्रभावित हैं।
C++ में वेब एप्लेट की सुविधा नहीं हैं।
Java में वेब एप्लेट की सुविधा हैं।
C++ को WOCA कॉन्सेप्ट् पर बनाया गया था, WOCA का अर्थ हैं राईट वन्स कम्पाइल एव्रीवेयर.
जावा को WORA कॉन्सेप्ट् पर बनाया गया था, WOCA का अर्थ हैं राईट वन्स रन एनीवेयर।
C++, इवेंट ड्रिवेन प्रोग्रामिंग को सपोर्ट नहीं करती।
Java में आप इवेंट ड्रिवेन प्रोग्रामिंग का इस्तेमाल कर प्रोग्राम लिख सकते हैं।
C++ में गार्बेज कलेक्शन, प्रोग्रामर की जिम्मेदारी होती हैं।
जावा में आटोमेटिक गार्बेज कलेक्शन की सुविधा दी गयी हैं।
नेटिव लैंग्वेज इंटरफ़ेस प्रोग्रामिंग के लिए C++ में सपोर्ट नहीं हैं।
जावा नेटिव लैंग्वेज इंटरफ़ेस प्रोग्रामिंग को सपोर्ट करता हैं।
मल्टीथ्रेडिंग और सिंक्रोनायजेशन जैसी कॉन्सेप्ट्स C++ में सपोर्ट नहीं करती।
मल्टीथ्रेडिंग और सिंक्रोनायजेशन जैसी कॉन्सेप्ट्स का जावा में सपोर्ट करती हैं।
C++ में आप मल्टीपल इनहेरिटेंस का इस्तेमाल कर सकते हैं।
मल्टीपल इनहेरिटेंस, जावा में सपोर्ट नहीं करता।
C++ पॉइंटर्स को सपोर्ट करता हैं।
जावा में पॉइंटर्स के लिए कोई सुविधा नहीं है।
प्रिमिटिव टाइप्स के लिए C++ में क्लासेज का प्रावधान नहीं हैं।
प्रिमिटिव डाटा टाइप्स के लिए जावा में रेपर क्लास का प्रावधान हैं।
C++ रन टाइम पर ऑब्जेक्ट्स नहीं तयार करता हैं।
जावा प्रोग्रामिंग में new न्यू इस कीवर्ड की मदत से रन टाइम में ऑब्जेक्ट्स तयार किए जा सकते हैं।
Conclusion

C++ and Java Difference in Hindi में आपको बहुत सारे अंतर देखने को मिल जायेंगे जिसको आपने ऊपर पढ़ा होगा.

वैसे देखा जाये तो C++ programming language से ज्यादा secure java programming language हैं.

सी प्लस प्लस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सिस्टम को application programming के लिए develop किया जाता है जबकि Java को प्रिंटिंग सिस्टम के लिए interpreter के जैसा क्रिएट किया गया था.

दोस्तों मैंने इस पोस्ट के माध्यम से आपको जो C++ और Java के बीच का अंतर बताया हैं, क्या आपको समझ में आ गए है?

यदि आपका जवाब हाँ है तो यह बहुत ही अच्छी बात है और यदी आपको कोई डाउट है तो आप नीचे दिये कमेंट बॉक्स में या फिर मुझे मेल कर के भी अपना डाउट क्लियर कर सकते हैं.

मुझे उम्मीद है कि यह पोस्ट आपको बहुत ही पसंद आया होगा और अब मैं आपसे गुजारिश करूंगा कि आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया के माध्यम से शेयर करें और साथ ही साथ अपना फीडबैक भी जरुर दें|

Request: यदि आपको लगता है की इस पोस्ट में provide किया गया content (Difference Between C++ and Java in Hindi) में कोई गलती है तो आप मुझे तुरंत कन्फर्म करें मैं उस गलती को सुधारने का प्रयास करूँगा.

इस लेख को आपने अपना कीमती समय दे कर अंत तक पढ़ा उसके लिए आपका धन्यवाद…

Must Read :

C++ और Java के बीच क्या अंतर होता है ?
C++ और Java के बीच क्या अंतर होता है ?

C++ is a general-purpose programming language created by Bjarne Stroustrup as an extension of the C programming language, or "C with Classes". Java is a general-purpose programming language that is class-based, object-oriented, and designed to have as few implementation dependencies as possible.

Editor's Rating:
5
Himanshu Grewal

मेरा नाम हिमांशु ग्रेवाल है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमे आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, इंग्लिश स्पीकिंग, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

1 thought on “C++ और Java के बीच क्या अंतर होता है ?”

Leave a Comment

0 Shares
Share via
Copy link