Computer क्या है ? (पूरी जानकारी हिंदी में)

आज के इस लेख में हम जानेंगे कि Computer Kya Hai और इसकी सरचना कब और कैसे हुई, तो चलिये Computer in Hindi की जानकारी प्राप्त करना शुरू करते हैं.

Post Contents

कंप्यूटर क्या है – What is Computer in Hindi

Computer क्या है या फिर What is Computer ? यह एक ऐसा सवाल है जिसका जवाब हमे तीसरी या चौथी कक्षा में ही रटा दिया गया था, और आज के education system में तो पहली कक्षा के बच्चों को भी इस सवाल का जवाब ज्ञात होता है.

लेकिन आपको क्या लगता है, कंप्यूटर सिर्फ उतना ही है, जितना हमे मालूम है?

यदि आपका जवाब हाँ है तो मैं आपको बता दूँ कि आप गलत हैं.

Computer Ki Jankari के लिए मैं आपको बता दू कि कंप्यूटर शब्द (computer word) अपने आप में ही एक बहुत बड़ा शब्द है, जिसकी परिभाषा से आप उसके बारे में ज्ञात नहीं लगा सकते हैं, तो चलिये आज हम इस लेख के माध्यम से कंप्यूटर की डीटेल में जानकारी प्राप्त करते हैं.

लेख को शुरू करने से पहले मैं आपको बता दूँ कि इस लेख में हम Computer Kya Hai, कंप्यूटर किसके द्वारा और कब बनाया गया, कंप्यूटर काम कैसे करता है इत्यादि जैसे सभी सवालों के जवाब जानेंगे.

आवश्यक सूचना : यह लेख आपके ज्ञान के भंडार को बढ़ाने के साथ-साथ आपको इस काबिल भी बना देगा कि यदि किसी Interview में आपसे कंप्यूटर का इतिहास (कंप्यूटर हिस्ट्री) के बारे में पूछा गया तो आप सभी सवालो के सही जवाब दे सकेंगे.

तो दोस्तों देर किस बात की है, बिना देरी किए बढ़ते हैं आगे और शुरू करते हैं आज के इस लेख को और जानते हैं What is Computer in Hindi के बारे में…!

Information About Computer in Hindi

Introduction of Computer in Hindi

What is Computer in Hindi

जैसा कि हमने जो आज तक कंप्यूटर की परिभाषा रटी हुई है उसमे भी हम बोलते हैं कि कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है, जिसको कि कार्य को और आसान बनाने हेतु डिज़ाइन किया गया था.

आप चाहे तो इसको और बढ़ा कर यह भी बता सकते हैं कि कंप्यूटर शब्द लेटिन भाषा के एक शब्द “Computare” से लिया गया है, जिसका अर्थ है कैलकुलेशन करना या फिर Programmable Machine.

Computer Full Form in Hindi

वैसे तो आपने पहले ही Computer की Full Form याद कर ली थी, लेकिन आइये एक बार फिर से हम कंप्यूटर की फुल्ल फॉर्म क्या है पढ़ लेते हैं.

Computer Introduction in Hindi :

  • C » Commonly
  • O » Operated
  • M » Machine
  • P » Particularly
  • U » Used for
  • T » Technical
  • E » and Educational
  • R » Research

तो अब जब हमने कंप्यूटर की फुल्ल फॉर्म भी याद कर ली है तो चलिये अब आगे बढ़ते हैं और जानते हैं कि कंप्यूटर का निर्माण किनके द्वारा और कब किया गया था.

Who is The Inventor Of Computer in Hindi

पहले कंप्यूटर का आविष्कार कब और किसने किया ?

 Charles Babbage Images

दोस्तों, हम किसी भी एक व्यक्ति का नाम कंप्यूटर के निर्माण में नहीं ले सकते हैं क्यूंकि जो पहला कंप्यूटर बना था और आज के कंप्यूटर में आसमान जमीन का अंतर आ गया है.

19वी शदी में Charles Babbage नामक एक प्रसिद्ध गणित के प्रोफेसर ने ही इसकी शुरुआत करी थी, इसलिए ही शायद उन्हें Father of Computer का टैग मिला था.

उन्होंने एक एनालिटिकल इंजन (Analytical Engine) (पहला मैकेनिकल कम्प्यूटर) को डिजाइन करा था, जो कि सुककेससेर था और इसे ही आज के मॉडर्न कंप्यूटर (modern computer) का बेसिक फ्रेमवर्क माना जाता है.

इन्हें जनरेशन में क्लासिफाइड यानि बाट दिया गया और प्रत्येक जेनेरेशन अपने पूर्व जनरेशन से ज्यादा इंप्रूव और मॉडिफाइड वर्शन था.

Computer History in Hindi – Computer Essay in Hindi

वही सन् 1882 में दुबारा से एक गणित के प्रोफेसर ने जो कि ब्रिटिश थे उन्होंने और Charles Babbage जो कि पहले ही एक डिज़ाइन तैयार कर चुके थे, उन दोनों ने मिल कर पहला Steam-powered automatic mechanical calculator बनाया और उसको Difference Engine का नाम दिया.

अब आप सोच रहे होंगे कि ये वही कैलकुलेटर है जिसे आपने कई दुकानों पर इस्तेमाल होता हुआ देखा होगा, यदि आप सच में यही सोच रहे हैं तो मैं आपको बता दूँ कि आप गलत सोच रहे हैं.

क्योंकि यह एक नार्मल कैलकुलेटर से कई ज्यादा था और वही ये capable भी था कि वह एक साथ बहुत सारे सेट्स के नंबर को एक साथ कंप्यूटर करें और अंत में उत्तर हार्ड कॉपी में प्रदान करें.

फिर Difference Engine को और अच्छा बनाने में Ada Lovelace ने Charles Babbage की मदद की और फिर वो कंप्यूटर अब polynomial equation को भी compute करने के सक्षम हो गया.

इसके बाद 1837 में, Charles Babbage ने general mechanical computer के बारे में सोचा और इसका description तैयार किया और आगे चल कर इसी का नाम difference engine का successor होने वाला था और इसका नाम analytical engine सोचा था.

लेकिन Charles Babbage के रहते उनका यह सपना पूरा नहीं सो सका, फिर बाद में सन् 1991 में Charles Babbage के सबसे छोटे पुत्र Henry Babbage ने इस मशीन का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा पूरा किया जो कि प्राय सभी बेसिक कैलकुलेशन कर पाने में सक्षम था.

अब सवाल यहाँ यह आता है कि यदि कोई आपसे पूछे कि कंप्यूटर का आविष्कार किस सन् में हुआ था तो आप क्या जवाब देंगे?

सबसे पहला (Mechanical computer) मैकेनिकल कंप्यूटर का सन् 1882 में Charles Babbage के द्वारा आविष्कार हुआ था, लेकिन ये अब के कंप्यूटर जिसको हम अपने घरों और ऑफिस में इस्तेमाल में लाते हैं उनके जैसा बिलकुल भी नहीं दिखाई देता था.

तो अब यदि आपसे कोई पूछे कंप्यूटर के फाउंडर का नाम (Who is the founder of computer) तो यकीनन ही आप सही जवाब दे सकेंगे, तो चलिये अब हम कंप्यूटर के मुख्य तौर पर जो 3 काम है उनको डीटेल में जानते हैं.

History Of Computer in Hindi

  1. सबसे पहला काम होता है डाटा को लेना जिसको कि कंप्यूटर में Input भी कहते हैं.
  2. दूसरा काम होता है डाटा को रीड कर के प्रोसेसिंग करना, अर्थात जो कमांड दिया गया है उसके अनुसार काम करना.
  3. तीसरा और आखिरी काम होता है उस काम को processed कर के रिजल्ट देना और उसे Output कहा जाता है.

तो चलिये अब हम एक बार Generations of Computer के बारे में पढ़ते हैं क्यूंकि उससे आपको यह ज्ञात होगा कि कंप्यूटर की डेवलपमेंट कब से शुरू हुई है.

History Of Computer in Hindi : First Generation (1940-1956) Vacuum Tubes

Vacuum Tube

इस जनरेशन के कंप्यूटर में Vacuum Tubes को Circuitry और Magnetic Drum को मेमोरी के लिए इस्तेमाल में लिया जाता था.

यह साइज में काफी बड़े हुआ करते थे जिसकी वजह से इसको चलाने में काफी शक्ति का इस्तेमाल होता था और साइज में ज्यादा बड़ा होने के कारण इससे हीट की भी समस्या होती थी.

उस जनरेशन के कंप्यूटर में Machine Language का इस्तेमाल किया जाता था, उदाहरण के तौर पर UNIVAC and ENIAC Computers को आप याद रख सकते हैं.

History Of Computer in Hindi : Second Generation (1956-1963) Transistors

Transistors

इस जनरेशन के कंप्यूटर में अब Vacuum Tubes के जगह Transistors का इस्तेमाल किया जा रहा था, जो कि कम जगह लेने के साथ-साथ, साइज में छोटे भी थे, फास्टर और सस्ते भी थे और ज्यादा energy efficient भी थे.

पहले जनरेशन के कंप्यूटर के मुकाबले यह कम हीट निकालते थे लेकिन फिर भी इनमे भी हीट की समस्या अभी भी थी.

इनमे High level programming language जैसे – COBOL और FORTRAN का इस्तेमाल किया जाता था.

कंप्यूटर का इतिहास : Third Generation (1964-1971) Integrated Circuits

Integrated Circuit

अब इस जनरेशन के कंप्यूटर में पहली बार Integrated Circuit का इस्तेमाल किया गया था, जिसमे Transistors को छोटे-छोटे टुकड़ो में Silicon chips के अंदर डाला जाता था, जिन्हें सेमी कंडक्टर कहा जाता है.

इस जनरेशन के computer में पिछले दोनों जनरेशन के कंप्यूटर के मुकाबले प्रोसेसिंग करने की क्षमता काफी हद तक बढ़ गई थी, और तभी इसको मार्केट में भी लॉंच किया गया था.

Definition of Computer in Hindi Language : Fourth Generation (1971-Present) Microprocessors

CPU in Hindi

नाम से ज्ञात हो रहा है कि इस जनरेशन के कंप्यूटर में Microprocessors का इस्तेमाल किया गया था जिससे हजारों Integrated Circuit एक ही सिलिकॉन चिप में डाले गए थे.

Microprocessors के इस्तेमाल से कंप्यूटर की एफेसियंस और भी बढ़ गई थी और यह बहुत ही कम समय में बड़े-बड़े कैलकुलेशन कर पा रहे थे.

Definition of Computer in Hindi : Fifth Generation (Present & Beyond) Artificial Intelligence

Computer Information in Hindi

दोस्तों, मैं आपको बता दूँ कि इस इस समय के कंप्यूटर ने Artificial Intelligence के इस्तेमाल से आज तक के समय पर अपनी जगह बनाई हुई है.

नई टेक्नोलॉजी जैसे स्पीच Speech recognition, Parallel Processing, Quantum Calculation जैसे चीजे भी इसमें इस्तेमाल में आने लगी है.

वैसे तो एक कंप्यूटर के कई components होते हैं लेकिन यह कुछ पॉइंट जरुरी हैं जिनको कि आपको हमेशा याद रखना चाहिए.

Important Components of Computers in Hindi
  1. Input storage
  2. Output storage
  3. CPU (Central processing Unit)
  4. Memory
  5. Mass Storage Device

ऊपर हमने इनपुट, आउटपुट और प्रोसेसिंग के कार्य के बारे में तो जान लिया था, आइए अब हम एक एक कर कंप्यूटर के बाकी सभी कार्यो पर भी एक बार फोकस कर लेते हैं.

तो चलिये सबसे पहले हम कंप्यूटर मदरबोर्ड के बारे जानकारी (Computer Motherboard Information in Hindi) के बारे में जानते हैं कि आखिर ये मदरबोर्ड क्या होता है और यह कंप्यूटर में एक जरूरी रोल कैसे प्ले करता है.

Information About Computer Motherboard in Hindi

Information About Computer Motherboard in Hindi

कंप्यूटर की जानकारी हिंदी में… (कंप्यूटर पर निबंध)

कंप्यूटर के मुख्य सर्किट बोर्ड को ही मदरबोर्ड कहा जाता है, वैसे दिखने में तो यह एक पतली प्लेट कि तरह ही दिखता है परंतु यह पाने अंदर कई चीजों को धारण किए होता है, जैसे-

  • CPU
  • Memory
  • Connectors
  • Hard Drive
  • Optical Drive
  • Expansion Card Video
  • Audio Controller
  • Ports of Computer

तो हम ऐसा बोल सकते हैं कि कंप्यूटर का मदरबोर्ड डायरेक्टली या इनडायरेक्टली कंप्यूटर के बाकी सभी पार्ट्स से जुड़ा होता है.

अगला है सीपीयू, दोस्तों कुछ और याद हो न हो ये तो हमे अब तक याद है कि सीपीयू को कंप्यूटर का ब्रेन कहा जाता है| चलिये एक बार इसको भी विख्यात में देख लेते हैं.

CPU क्या है – Central Processing Unit in Hindi

Central Processing Unit in Hindi

CPU, कंप्यूटर के मदरबोर्ड में पाया जाता है.

एक कंप्यूटर में हो रहे सभी क्रिया पर इसकी नजर रहती है और जितनी ज्यादा एक सीपीयू की स्पीड (CPU speed) होगी उतनी ही जल्दी यह प्रोसेसिंग भी कर पाएगा.

तो चलिये अब हम आगे बढ़ते हैं और जानते हैं कि एक कंप्यूटर में RAM किस प्रकार से अपना रोल प्ले करती है?

RAM क्या है – Random Access Memory in Hindi

रैम को आप शॉर्ट टर्म मेमोरी भी बोल सकते हैं.

जब भी एक कंप्यूटर में कैलकुलेशन की जाती है तो यह कुछ समय के लिए उस रिजल्ट को RAM में सेव कर लेता है.

ध्यान रहे मैंने ऊपर कुछ समय कहा है, अर्थात जब अचानक से लाइट कटने पर आपका सिस्टम बंद हो जाता है तब आपका डाटा उसमे सेव नहीं रहता है.

इसलिए कहा जाता है कि जब कभी आप अपने कंप्यूटर में कोई जरूरी काम कर रहे हो तो उसे एक निर्धारित समय के बाद सेव करते रहे, इससे पावर सप्लाइ के अचानक से बंद होने पर आपका डाटा उड़ेगा नहीं.

RAM को MB (megabytes) और GB (gigabytes) में ही मापा जाता है, और किसी भी सिस्टम में जितना ज्यादा RAM होगा उतना ही हमारे लिए अच्छा भी होगा.

हार्ड ड्राइव इन हिंदी : यह कंप्यूटर का वो कॉम्पोनेंट है जहाँ सॉफ्टवेयर, डॉक्यूमेंट और दूसरी सभी फाइल को लंबे समय के लिए सेव किया जाता है.

Expansion Card in Hindi : नाम से ही आपको ज्ञात हो रहा है कि एक्सपेंशन यानि जगह को बढ़ाने के लिए जिस कार्ड का इस्तेमाल किया जाता है उसको एक्सपैंशन कार्ड कहते हैं.

वैसे तो आज कल के मदरबोर्ड में पहले से ही स्लॉट मौजूद होते हैं, जिससे हम अलग से किसी कार्ड को ऍड करने की आवश्यकता नहीं होती है.

What is The Difference Between Computer Software and Computer Hardware in Hindi
कंप्यूटर सॉफ्टवेयरकंप्यूटर हार्डवेयर
सॉफ्टवेयर को केवल देखा जा सकता है.हार्डवेयर को देखा व छुआ दोनों जा सकता है.
सॉफ्टवेयर कंप्यूटर प्रोग्रामिंग के द्वारा बनती है.हार्डवेयर प्लास्टिक, लोहे, तांबे आदि के प्रयोग से बनता है.
सॉफ्टवेयर के प्रकार होते हैं: सिस्टम सॉफ्टवेयर, एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर, यूटिलिटी सॉफ्टवेयर आदि.हार्डवेयर के प्रकार होते हैं: माउस, मॉनिटर, CPU, कीबोर्ड आदि.
सॉफ्टवेयर के उदाहरण : Antivirus, Disk cleaner, Disk manager, Windows defender, Microsoft office, VLC media player, Chrome browser etc.हार्डवेयर के उदाहरण : कीबोर्ड, माउस, मॉनिटर, हार्ड डिस्क, प्रोसेसर, कैमरा, मेमोरी, ग्राफ़िक्स कार्ड, मदर बोर्ड, कैबिनेट इत्यादि।

चलिये अब हम आगे बढ़ते हैं और जानते हैं कि कंप्यूटर के कितने प्रकार हैं जो कि आज मार्केट में आसानी से देखने को मिल जाते हैं.

Types of Computer in Hindi – Computer Ke Prakar (कंप्यूटर के प्रकार)

Examples Of Types Of Computer in Hindi

1. Desktop Computer Information in Hindi

डेस्कटॉप कंप्यूटर वो कंप्यूटर हैं जिनको हम अपने घरों, स्कूल और ऑफिस में टेबल पर उसके बाकी सभी पार्ट जैसे सीपीयू, कीबोर्ड, स्पीकर इत्यादि को रख कर इस्तेमाल करते हैं.

डेस्कटॉप कंप्यूटर में हम पहले जो चौड़े मॉडेल और आज कल जो पतले (LED, LCD) मॉडेल के कंप्यूटर होते हैं दोनों को गिन्नित कर सकते हैं.

2. Laptop in Hindi

इसके बारे में तो मुझे आपको बताने की आवश्यकता ही नहीं होगी, क्यूंकि बच्चे – बच्चे को इसके बारे में ज्ञात है.

डेस्कटॉप कंप्यूटर से लैपटॉप बस इस मामले में बढ़िया है कि इसे आप जहाँ कंफर्टेबल हैं वहाँ पर बैठ कर चला सकते हैं और इसमे चार्जिंग का सिस्टम इसे और बेहतर बनाती है.

3. Tablet

इसे आप छोटा लैपटॉप या बड़ा मोबाइल कुछ भी बोल सकते हो, क्यूंकि इसका साइज़ इन दोनों के मध्य ही आता है.

इसमें मोबाइल की ही तरह चार्जिंग का ऑप्शन होता है जहाँ आप इसको चार्ज करने के बाद मोबाइल के तौर पर इस्तेमाल में ला सकते हैं.

4. Server

जब भी हम इंटरनेट के माध्यम से ज्ञान का आदान एवं प्रदान करते हैं तो उसको हम सर्वर के माध्यम से ही करते हैं और उसको सर्वर टाइप कंप्यूटर (server type computer) कहा जाता है.

कंप्यूटर का उपयोग अथवा कंप्यूटर का महत्व हिंदी में

तो चलिये दोस्तों अब हम आगे बढ़ते हैं और जानते हैं कि इन कंप्यूटर का कहाँ-कहाँ और किस प्रकार से इस्तेमाल होता है, पहले मैं एक छोटी लिस्ट बना रहा हूँ उन सभी जगह की और फिर जानेंगे कि वहाँ पर कैसे इसका इस्तेमाल होता है.

List of Places where computer are used : Application Of Computer in Hindi
Educationशिक्षा
Hospitalअस्पताल
Sportsखेल
Businessव्यवसाय
Science and Researchविज्ञानं एवं अनुसंधान
Entertainmentमनोरंजन
Governmentसरकार
Defenceरक्षा
Whether departmentमौसम विभाग
Bankingबैंक के क्षेत्र में

नोट : यदि आपका कोई छोटा बच्चा है, जो कि अभी प्राथमिक कक्षा में हैं तो आप उनको ये 10 जगह या जीतने वो याद कर सके उतने जगह के नाम याद करा सकते हैं जहाँ कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जाता है.

कंप्यूटर का उपयोग कितना लाभकारी है – Essay on Use of Computer in Hindi

शिक्षा विभाग में कंप्यूटर का इस्तेमाल :

एक समय हुआ था जब किसी भी चीज को यदि डीटेल में जानकारी चाहिए होती थी तो बच्चों को लाइब्रेरी जाकर मोटे-मोटे किताबों को छानना पड़ता था.

लेकिन कंप्यूटर के उपयोग से और खास कर इंटरनेट के इस्तेमाल से यह सब बहुत ही आसान हो पाया है, किसी भी टॉपिक पर जानकारी हासिल करने के लिए अब बस कुछ सेकंड का काम हो गया है.

इसके बाद स्कूल में पढ़ रहे एक – एक बच्चे के बारे में जानकारी आज कल कंप्यूटर में ही सेव की जाती है, जिससे स्कूल के मैनेजमेंट स्टाफ और शिक्षक का काम आसान हो गया है.

हॉस्पिटल में कंप्यूटर का इस्तेमाल :

कई तरह के बीमारी का इलाज अब कंप्यूटर के माध्यम से ही होता है, इससे हॉस्पिटल के स्टाफ के लिए मेडिकल टेस्ट का रिपोर्ट तैयार करना और उस डाटा को अपने पास सेव कर के रखना ताकि यदि कभी भविष्य में उसकी जरूरत पड़े तो आसानी से काम बन सके.

स्पोर्ट्स में कम्प्यूटर का इस्तेमाल :

खेल जगत में एक प्लेयर के पर्सनल इनफार्मेशन से लेकर उसने अपने खेल (जो कि वो खेलता है) उसमे उसका कैसा प्रदर्शन रहा है वह सभी काम अब फाइल के द्वारा ना करके कंप्यूटर के माध्यम से ही सेव कर के रखा जाता है.

कभी जरूरत पड़ने पर फिर उस जानकरी को एक जगह से दूसरी जगह पर कंप्यूटर के माध्यम से भेजा जाता है.

बिजनेस में कंप्यूटर का इस्तेमाल :

चाहे हम बात करे एक बॉस की या फिर एक एम्प्लोयी की, बिज़नेस के मामले में आपको सबके पास पर्सनल लैपटॉप देखने को जरूर मिलता है.

अब वो समय गया जब मोटी – मोटी फाइल को लेकर घूमा जाता है, अब सारा काम माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस (Microsoft office) के माध्यम से करके आसानी से शेयर कर दिया जाता है.

Science & Research में कंप्यूटर का इस्तेमाल :

जैसा कि मैंने ऊपर भी कहा कि अब वो समय गया जब मोटी – मोटी फाइल को लेकर घूमा जाता है, अब सारा काम सॉफ्ट कॉपी के माध्यम से ही किया जाता है.

तो रिसर्च करते समय कई बार कई तरह का डाटा हमे सही नहीं मिलता है तो फिर हमे उस पर दुबारा से काम कर के सही डाटा को निकालना होता है तो वो काम भी कंप्यूटर के माध्यम से ही हो पाता है.

मनोरंजन में कम्प्यूटर का इस्तेमाल :

इसके बारे में मुझे आपको ज्यादा बताने कि अवश्यकता नहीं है, क्यूंकि आप सभी इससे काफी अच्छे तरीके से रूबरू हैं.

गाना सुनना हो, फिल्म देखना हो, गेम खेलना हो इत्यादि के लिए आप कंप्यूटर का इस्तेमाल जरूर करते होंगे.

सरकारी दफ्तरों में कम्प्यूटर का इस्तेमाल :

आज कल तो Sarkari Naukri में भी अलग से कम्प्यूटर ऑपरेटर के लिए भर्ती होती है, उसके पीछे ही वजह यही है कि अब सरकारी काम भी कंप्यूटर के माध्यम से होता है.

सैलरी डिटेल, ट्रांसफर लिस्ट, प्रमोशन लिस्ट, बिलिंग इत्यादि सभी का काम अब कंप्यूटर के मदद से आसानी से और कम समय में किया जा रहा है.

डिफेंस में कम्प्यूटर का इस्तेमाल :

बाकी सभी कामो के साथ-साथ Defence के क्षेत्र में कंप्यूटर का इस्तेमाल और भी तरह के कामों के लिए किया जाता है जैसे कि मिशन तैयार करने के लिए, कौन सा मिसाइल से हमला हो रहा है उसकी जानकारी पाने के लिए, एक दुसरे से communication करने के लिए future plan तैयार करने के लिए इत्यादि.

मौसम विभाग में कम्प्यूटर का इस्तेमाल :

कई बार आपने न्यूज़ में सुना ही होगा कि कल का मौसम या आने वाले वर्ष में गर्मी या सर्दी रेकॉर्ड तोड़ेगा, वो सब भी कंप्यूटर, इंटरनेट और सैटेलाइट के माध्यम से ही हो पाता है.

बैंकिंग में कंप्यूटर का इस्तेमाल :

किसी भी बैंक में आप चले जाओ, बैंक में काम कर रहे सभी स्टाफ के टेबल पर आपको एक सिस्टम जिसमे वो काम करते हैं देखने को जरूर मील जाएगा.

बैंक अकाउंट खुलवाने से लेकर, इंटरेस्ट, पैसे डालना निकालना, इंटरनेट बैंकिंग की सेवा को एक्टिवेट करना और लोन लेने जैसे सभी कार्य कंप्यूटर की मदद से ही बैंक में किए जाते हैं.

अब हम चलते हैं इस लेख के आखिरी टॉपिक पर जहां हम कंप्यूटर के advantages & disadvantages (कंप्यूटर के फायदे और नुकसान) को जानेंगे, तो चलिये शुरू करते हैं.

Advantages and Disadvantages of Computer in Hindi

वैसे इसमें कोई शक नही है कि कंप्यूटर के आने से हमारा काफी काम सरल हो गया है अपने सुपर प्रोडक्ट की मदद से जैसे Speed, Accuracy, Storage इत्यादि.

कंप्यूटर से अपनी कोई भी फाइल save कर सकते हो, इंटरनेट का उपयोग कर सकते हो इत्यादि ऐसे अनेकों काम है जिसको करने में कंप्यूटर आपकी मदद करेगा.

हम कह सकते है कि कंप्यूटर आपके एक मित्र की तरह ही है जो सदैव आपकी मदद करेगा क्यूंकि ये बहुत ही फ्लेक्सिबल होता है.

वैसे कंप्यूटर के बहुत सारे फायदे है ठीक उसी तरह इसके कुछ नुकसान भी है जिसका पता आपको होना चाहिए.

Advantages of Computer in Hindi – कंप्यूटर के लाभ और फायदे
  • Computer Multitasking in Hindi (मल्टीटास्किंग क्या है)

कंप्यूटर के एडवांटेज में मल्टीटास्किंग का एक बहुत बड़ा हाथ हैं.

सिर्फ कुछ ही सेकंड में आप इसके multiple task, numerical problems, multiple operation को आसानी से कैलकुलेट कर सकते हो.

क्या आपको पता है ? कंप्यूटर आसानी से trillion of instructions per second में कैलकुलेट कर सकते हैं.

इसमें आप एक साथ बहुत काम कर सकते हो जैसे कि आप अपने कंप्यूटर में गाने सुन रहे हो, इसके साथ ही आप वर्ड डॉक्यूमेंट भी बना रहे हो अथवा इसके साथ ही आप इंटरनेट से software download background में चल रहा है, तो इसका सीधा उदाहरण ये है कि आपका कंप्यूटर आपके लिए ‘मल्टीटास्किंग’ कर रहा है.

  • Speed – स्पीड

Calculating device के अलावा इसमें कोई भी बहुत सारे फीचर है, तो जब इतने सारे फीचर एक कंप्यूटर में है तो सीधी सी बात है की ये हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा भी बना है.

कंप्यूटर के high speed की वजह से ये इसका एक प्लस पॉइंट बनता है जो कंप्यूटर को और अधिक प्रिय बनाता है.

Computer speed की वजह से हम सारे काम बड़ी ही सरलता से कर सकते है जैसे कोई सॉफ्टवेर का उपयोग करना, movies download करना इत्यादि.

  • Data Security (डाटा सिक्योरिटी)

Digital Data को प्रोटेक्ट करना ही Data Security कहलाता है जैसे कि पासवर्ड, फाइल्स, डाक्यूमेंट्स आदि.

Cyber Attack अथवा access attack की रक्षा हेतु कंप्यूटर हमारे डिजिटल डाटा को unauthorized uders से बचाती है.

  • घर बैठे पैसे कमाना

आपने Google पर कई आर्टिकल पढ़े होंगे और YouTube पर वीडियो भी देखि होगी जिसमे आपने पाया होगा कि आप घर बैठे कंप्यूटर और इंटरनेट के माध्यम से 5000-50,000 तक के रुपये एक महीने में कमा सकते हैं.

  • ज्यादा फ़ाइल सेव रहती है

हर स्मार्ट फोन में हमे लिमिटेड स्टोरेज मिलती है जिसकी वजह से मेमोरी फुल होने के बाद हमे सारा डाटा लैपटॉप या कोमुटर में सेव करना पड़ता है और वह लम्बे समय तक हमारे पास रहती है.

  • समय बचाती है

जैसे कि मैंने ऊपर भी आपको बताया था कि एक समय हुआ था जब किसी भी चीज की यदि डीटेल में जानकारी चाहिए होती थी तो बच्चो को लाइब्रेरी जाकर मोटे-मोटे किताबों को छानना पड़ता था.

लेकिन कंप्यूटर के उपयोग से और खास कर इंटरनेट के इस्तेमाल से यह सब बहुत ही आसान हो पाया है, किसी भी टॉपिक पर जानकारी हासिल करने के लिए अब बस कुछ सेकंड का काम हो गाया है.

Computer ने एक इंसान का करीबन 80% तक का समय बचाया है.

  • संचार का अच्छा माध्यम है

यह तो आपने भी महसूस किया होगा कि मोबाइल के मुकाबले आप कंप्यूटर से संचार अच्छे और शांति से कर पाते हैं, फिर चाहे हम किसी भी सोशल मीडिया की बात करे.

Disadvantages of Computer in Hindi – कंप्यूटर की हानियाँ और नुकसान

ऊपर मैंने आपको computer ke fayde बताये थे अब मैं आपको computer ke nuksan बताऊंगा.

  • Computer Virus and Hacking Attacks (कंप्यूटर वायरस और हैकिंग अटैक्स)

कंप्यूटर वायरस और कंप्यूटर विषाणु को कंप्यूटर प्रोग्राम (computer program) कहा जाता है.

हैकिंग एक unauthorized access है जिसमे ओनर को आपके बारे में पता नही होता है और वायरस एक destructive program भी है.

आपके कंप्यूटर में वायरस किसी भी स्थान से आ सकता है जैसे कि email attachment के द्वारा (आपके ईमेल पर कई ऐसे मेल आ सकते है जिसमे हिडन तरीके से वायरस छुपा हुआ होता है.

USB से भी वायरस आपके कंप्यूटर में आ सकता है.

किसी भी infected website से भी वायरस आपके कंप्यूटर में आ सकता है, इसलिए हो सके हो (https) भरोसेमंद वेबसाइट का ही उपयोग करें.

अगर वायरस एक बार आपके कंप्यूटर में आ जाये तो इसको कंप्यूटर से हटाना थोडा मुश्किल हो सकता है अथवा ये आपके कंप्यूटर को खराब भी कर सकता है.

  • Online Cyber Crimes

कंप्यूटर अथवा इंटरनेट के जरिए online cyber crime काफी तेजी से बढ़ रहा है, तो इससे बचने के लिए secure internet connection का इस्तेमाल करें अथवा अपना पासवर्ड स्ट्रोंग रखे.

  • मोटापा बढ़ता है

चूंकि हमें कंप्यूटर पर एक जगह पर लंबे समय तक बैठ के काम करना होता है इस वजह से हम कम चलते हैं और हमारा शरीर फैलने लगता है.

अक्सर आपने महसूस किया होगा कि कंप्यूटर पर काम करने वाले व्यक्ति का पेट आपको निकला हुआ मिलता होगा.

  • रक्त संचार की समस्या

कंप्यूटर में काम करते समय हम ज्यादा समय तक एक ही पोजीशन में बैठे रहते हैं जिसके वजह से खून का सर्कुलेशन (Blood Circulation) अच्छे से नहीं हो पाता है, जिसके कारण लोगों को थकान, पैरों में दर्द, और ब्लड क्लॉट जैसी मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है.

  • समय की बर्बादी

कुछ लोग कंप्यूटर का अनुत्पादक गतिविधियों से इस्तेमाल करके अपना मूल्यवान समय बर्बाद करते रहते हैं, पूरा दिन कंप्यूटर के सामने बैठे रहते हैं और गेम खेल कर, विडियो देखकर, या फालतू की चीजें करके अपना समय बर्बाद करते हैं.

  • दृष्टि में कमी

लगतार कंप्यूटर की स्क्रीन को देखते रहने से आंखों की रोशनी खराब भी हो सकती हैं, इसलिए कंप्यूटर के लगातार इस्तेमाल करते समय भी बिच-बिच में थोडा ब्रेक लें और कुछ मिनट के लिए आँखें बंद करके आराम करें.

कंप्यूटर का भविष्य – Computer Kya Hai in Hindi

वैसे तो बदलते समय के अनुसार, जिस प्रकार टेक्नोलॉजी में काफी बदलाव आ रहा है ठीक उसी तरह कंप्यूटर में भी काफी बदलाव आ रहा है.

जिस प्रकार पहले जब कंप्यूटर काफी महंगे आते थे और फीचर भी कम मिलते है, वही आज के समय में कंप्यूटर आपको कम पैसों में मिल जायेंगे और फीचर भी आपको ज्यादा मिलेंगे.

जैसे जैसे भविष्य में लोगों की जरूरते बढ़ेगी, वैसे वैसे कंप्यूटर में बदलाव आते रहेंगे.

वो दिन भी ज्यादा दूर नही जब कंप्यूटर हमारे मन से नियंत्रित होगा. आज कल लोग कुछ इस तरह से इंटरनेट पर सर्च कर रहे है जैसे कि:

  • Scientists Optical Computer
  • DNA Computer
  • Quantum Computer
  • Neural Computer इत्यादि.

सिर्फ इतना ही नही Artificial Intelligence के ऊपर भी ज्यादा ध्यान दिया जा रहा है ताकि ये अपने आप इस काम को कर सके.

Computer GK in Hindi – कंप्यूटर से संबन्धित सामान्य ज्ञान

1. कंप्यूटर के आविष्कारक कौन हैं ?

  • वॉन न्यूमेन
  • जे एस किल्बी
  • चार्ल्स बैबेज
  • इनमें से कोई नहीं

उत्तर : चार्ल्स बैबेज

2. सबसे पहला कंप्यूटर का नाम क्या था ?

  • ATARIS
  • ENIAC
  • TANDY
  • NOVELLA

उत्तर : ENIAC

3. आधुनिक कम्प्यूटर की खोज सर्वप्रथम कब हुई ?

  • 1949
  • 1951
  • 1946
  • 1947

उत्तर : 1946

4. कम्प्यूटर के क्षेत्र में महान क्रांति कब से आई ?

  • 1977
  • 2000
  • 1955
  • 1960

उत्तर : 1960

5. कंप्यूटर का हिन्दी नाम क्या है ?

  • गणना करनेवाला
  • संगणक
  • हिसाब लगानेवाला
  • परिगणक

उत्तर : संगणक

6. कंप्यूटर साक्षरता दिवस कब मनाया जाता है ?

  • 5 दिसम्बर
  • 14 दिसम्बर
  • 22 दिसम्बर
  • 2 दिसम्बर

उत्तर : 2 दिसम्बर

7. CPU का पूर्ण रूप क्या है ?

  • Central Processing Unit
  • Central Problem Unit
  • Central Processing Union
  • इनमें से कोई नहीं

उत्तर : Central Processing Unit

8. इनमें से कौन सर्च इंजन नहीं है ?

  • Google
  • Yahoo
  • Baidu
  • Wolfram Alpha

उत्तर : Wolfram Alpha

9. निम्न में कौन इनपुट इकाई है ?

  • माऊस
  • की-बोर्ड
  • स्कैनर
  • इनमें से सभी

उत्तर : इनमें से सभी

10. 1 किलोबाइट (KB) कितने बाइट के बराबर होते है ?

  • 1024 बाइट
  • 1024 मेगाबाइट
  • 1024 गीगाबाइट
  • इनमें से कोई नहीं

उत्तर : 1024 बाइट

Conclusion (निष्कर्ष) – Computer हिंदी में

तो दोस्तों इस लेख में मैंने आपको Computer Kya Hai अथवा Computer in Hindi से जुड़ी लगभग सभी तरह की जानकारी आपको दी है, यदि कोई छुट गई है और आप उसके बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आप कमेंट के माध्यम से मुझे बता सकते हैं.

आज आपने कंप्यूटर क्या है कंप्यूटर की परिभाषा क्या है अथवा कंप्यूटर की विशेषताएं के बारे में जाना हैं.

आपने इस लेख को अंत तक पढ़ा उसके लिए आपका धन्यवाद, अंत में आपसे बस इतना बोलना चाहूँगा कि इस लेख को आप अपने मित्रों के साथ सोशल मीडिया के माध्यम से शेयर करना ना भूलें.

Tags : Computer Details in Hindi, Computer Definition in Hindi, Computer Knowledge in Hindi PDF

Computer
Computer क्या है ? (पूरी जानकारी हिंदी में)

कंप्यूटर का अविष्कार Charles Babbage ने सन् 1837 में किया था. अन्य नाम - (संगणक, कंप्यूटर, परिकलक), इनको modern computer का जनक भी कहा जाता है. यह एक programmable machine है.

Editor's Rating:
5
Himanshu Grewal

मेरा नाम हिमांशु ग्रेवाल है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमे आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, इंग्लिश स्पीकिंग, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

1 thought on “Computer क्या है ? (पूरी जानकारी हिंदी में)”

Leave a Comment

0 Shares
Share via
Copy link