Children’s Day Poems in Hindi – बाल कविता

बाल दिवस की कविता को शुरू करने से पहले सभी प्यारे बच्चों को हिमांशु ग्रेवाल की और से बाल दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं| आज के लेख में मैं आपके साथ Children’s Day Poems in Hindi Language में शेयर करने जा रहा हूँ|

लेकिन कविता पढ़ने से पहले आइए थोड़ी बाते कर लेते हैं बाल दिवस के बारे में की बाल दिवस क्यों मनाया जाता है और बाल दिवस को मनाने का महत्व क्या है?

भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पं.जवाहरलाल नेहरू का जन्मदिन 14 नवंबर को आता है और इसी दिन को विशेष तौर पर “बाल दिवस” के रूप में मनाया जाता है, क्योंकि नेहरू जी को बच्चों से बहुत प्यार था और बच्चे उन्हें “चाचा नेहरू” पुकारते थे.

बाल दिवस बच्चों को समर्पित किया गया भारत का एक राष्ट्रीय त्योहार है, देश की आजादी में भी नेहरू जी का बड़ा योगदान था| प्रधानमंत्री के रूप में उन्होंने देश का उचित मार्गदर्शन किया था.

दरअसल बाल दिवस की नींव 1925 में रखी गई थी, जब बच्चों के कल्याण पर “विश्व कांफ्रेंस” में बाल दिवस मनाने की सर्वप्रथम घोषणा हुई.

भारत के स्वतंत्र होने के बाद 1954 में दुनिया भर में इसे मान्यता मिली|

बाल दिवस बच्चों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण दिन होता है क्यूंकी इस दिन स्कूली बच्चे बहुत खुश दिखाई देते हैं.

वे इस दिन सज-धज कर अपने विद्यालय में जाते हैं क्यूंकी विद्यालयों में बच्चो के लिए विशेष कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं और वो उनमे बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेते हैं और फिर वे अपने चाचा नेहरू को प्रेम से स्मरण करते हैं.

कई जगह तो बाल मेले भी आयोजित होते है जिसमे बच्चे अपनी बनाई हुई वस्तुओं की प्रदर्शनी लगाते हैं और इसमें बच्चे अपनी कला का प्रदर्शन करते हैं जैसे नृत्य, गान, नाटक आदि प्रस्तुत किए जाते हैं.

कई बच्चे नुक्कड़ नाटकों के द्वारा अपना प्रदर्शन देते हैं और आम लोगों को शिक्षा का महत्व उस नाटक के माध्यम से सभी लोगो को बताते हैं.

हम सभी जानते हैं की बच्चे देश का भविष्य है और इसीलिए हमें सभी बच्चों की शिक्षा की तरफ ध्यान देना चाहिए| खास तौर पर बाल श्रम रोधी कानूनों को सही मायनों में पूरी तरह से लागू किया जाना चाहिए.

अनेक कानून बने होने के बावजूद बाल श्रमिकों की संख्‍या में वर्ष दर वर्ष वृद्धि होती जा रही है| इन बच्चों का सही स्थान कल-कारखानों में नहीं बल्कि स्कूल है.

चलिये दोस्तों, अब हम लेख के शीर्षक की और चलते हैं और पढ़ते हैं बाल दिवस पर कविता को|

नोट: अगर आपको यह चिल्ड्रेन्स डे हिंदी पोएम अच्छी लगे तो इसे आप अपने दोस्तों के साथ सोश्ल मीडिया पर शेयर करना न भूले.

Children’s Day Poems in Hindi – हिंदी कविता बचपन

Children's Day Poems in Hindi

बचपन है ऐसा खजाना
आता है न जो दोबारा
मुश्किल है इसको भुलाना
वो खेलना, कूदना और खाना,
मोज मस्ती में बलखाना!

Children Day Messages in Hindi

वो माँ की ममता, वो पापा का दुलार,
भुलाए ना भूले, वो सावन की फुहार!
मुश्किल है इसको भुलाना…..

वो कागज की नाव बनाना
वो बारिश में खुद को भीगना!
वो झूले झुलना और मुस्काना,
वो पतंगों का उड़ना उड़ना!
मुश्किल है इसको भुलाना…..

Children's Day Shayari in Hindi

वो यारों की यारी में सब भूल जाना,
और डंडे से गिल्ली को दूर उड़ना!
वो होमवर्क से जी चुराना,
और टीचर के पूछने पर बहाने बनाना!
मुश्किल है इसको भुलाना….

Children's Day Essay in Hindi For Kids

वो एग्जाम में रटते लगाना,
फिर रिजल्ट के डर से घबराना!
वो दोस्तों के साथ साईकिल चलाना
वो छोटी-छोटी बातो पर रूठ जाना
मुश्किल है इसको भुलाना….

वो माँ का प्यार से मनाना
वो पापा के साथ घुमने जाना
और पिज्जा और बर्गर खाना
याद आता है अब वो जमाना,
बचपन है ऐसा खजाना,
मुश्किल है इसको भुलाना…

जरुर पढ़े ⇓

Children’s Day Poems From Teachers in Hindi

Children's Day Poems From Teachers in Hindi

नेहरू चाचा तुम्हें सलाम
अमन-शांति का दे पैगाम
जग को जंग से बचाया
हम बच्चों को भी मनाया
जन्मदिवस बच्चों के नाम
नेहरू चाचा तुम्हें सलाम
देश को दी हैं योजनाएं
लोहा और इस्पात बनाए
बांध बने बिजली निकाली
नहरों से खेतों में हरियाली
प्रगति का दिया इनाम
नेहरू चाचा तुम्हें प्रणाम

Best Poem on Chacha Nehru in Hindi – चाचा नेहरू प्यारे थे

चाचा नेहरु प्यारे थे
चाचा नेहरु प्यारे थे,
भारत माता के राजदुलारे थे!,
देश के पहले पधानमंत्री थे,
स्वतंत्रता के सैनानी थे!
अचकन में फूल लगाते थे,
हमेशा ही मुस्काते थे!
बच्चो से प्यार जताते थे!
चाचा नेहरु प्यारे थे!
देश विदेश यह घूमते थे,
बहुत सारी जानकारी प्राप्त करते थे,
फिर भी अपने देश से यह प्यार करते थे!
चाचा नेहरु राजकुमारे थे!
बच्चे इनको सदा प्यार से,
चाचा नेहरू कहते।
चाचाजी इन बच्चों के बीच,
बच्चे बनकर रहते है॥
एक गुलाब ही सब पुष्पों में,
इनको लगता प्यारा।
भारत मां का लाल यह,
सबसे ही था न्यारा॥
सारे जग को पाठ पढ़ाया,
शांति और अमन का।
भारत मां का मान बढ़ाया,
था यह ऐसा लाल चमन का॥
बाल दिवस की कविता|

मुश्किल है बचपन को भुलाना – पंडित जवाहरलाल नेहरू जी पर कविता

वो यारों की यारी में सब भूल जाना
और डंडे से गिल्ली को दूर उड़ाना
वो होमवर्क से जी चुराना
और टीचर के पूछने पर बहाने बनाना
मुश्किल है बचपन को भुलाना
वो एग्जाम में रट्टे लगाना,
फिर रिजल्ट के डर से घबराना!
वो दोस्तों के साथ साईकिल चलाना!
वो छोटी-छोटी बातो पर रूठ जाना
मुश्किल है बचपन को भुलाना

बाल दिवस है आज साथियों – बाल दिवस पर हास्य कविता हिंदी में

बाल-दिवस है आज साथियो, आओ खेलें खेल ।
जगह-जगह पर आज मची है, खुशियों की रेलमपेल ।
वर्षगाँठ चाचा नेहरू की, फिर से आई है आज…
उन जैसे नेता पर पूरे भारतवर्ष को है नाज।
दिल से इतने भोले थे वो, जितने हम नादान,
बूढ़े होने पर भी मन से थे वे सदा जवान ।
हमने उनसे मुस्काना सीखा, सारे संकट झेल
हम सब मिलकर क्यों न रचाए ऐसा सुख संसार
जहां भाई भाई हों सभी, छलकता रहे प्यार,
न हो घृणा किसी ह्रदय में, न द्वेष का वास,
न हो झगडे कोई, हो अधरों का हास,
झगडे नहीं परस्पर कोई, सभी का हो आपस में मेल,
पड़े जरूरत देश को, तो पहन लें हम वीरों का वेश,
प्राणों से बढ़कर प्यारा है हमें अपना देश,
दुश्मन के दिल को दहला दें, डाल कर नाक नकेल
बाल दिवस है आज साथियों, आओ खेलें खेल…

बाल दिवस पर कवितायें – Poem on Children’s Day in Hindi For Teacher

कितनी प्यारी दुनिया इनकी,
कितनी मृदु मुस्कान।
बच्चों के मन में बसते हैं,
सदा, स्वयं भगवान।
एक बार नेहरू चाचा ने,
बच्चों को दुलराया।
किलकारी भर हंसा जोर से,
जैसे हाथ उठाया।
नेहरूजी भी उसी तरह,
बच्चे-सा बन करके।
रहे खिलाते बड़ी देर तक
जैसे खुद खो करके।
बच्चों में दिखता भारत का,
उज्ज्वल स्वर्ण विहान।
बच्चे मन में बसते हैं,
सदा स्वयं भगवान।
बच्चे यदि संस्कार पा गए,
देश सबल यह होगा।
बच्चों की प्रश्नावलियों से,
हर सवाल हल होगा।
बच्चे गा सकते हैं जग में,
अपना गौरव गान।
बच्चे के मन में बसते हैं,
सदा स्वयं भगवान।

बाल दिवस पर बच्चों के लिए कविता – Children’s day Poems in Hindi

कितनी प्यारी दुनिया इनकी,
कितनी मृदु मुस्कान।
बच्चों के मन में बसते हैं,
सदा, स्वयं भगवान।
एक बार नेहरू चाचा ने,
बच्चों को दुलराया।
किलकारी भर हंसा जोर से,
जैसे हाथ उठाया।
नेहरूजी भी उसी तरह,
बच्चे-सा बन करके।
रहे खिलाते बड़ी देर तक
जैसे खुद खो करके।
बच्चों में दिखता भारत का,
उज्ज्वल स्वर्ण विहान।
बच्चे मन में बसते हैं,
सदा स्वयं भगवान।
बच्चे यदि संस्कार पा गए,
देश सबल यह होगा।
बच्चों की प्रश्नावलियों से,
हर सवाल हल होगा।
बच्चे गा सकते हैं जग में,
अपना गौरव गान।
बच्चे के मन में बसते हैं,
सदा स्वयं भगवान।

यह थी कुछ कविता चिल्ड्रेन्स डे के उपलक्ष पर|

आपको Children’s Day Poems in Hindi कैसी लगी हमको कमेंट करके जरुर बताए और अगर आपके पास कोई कविता है तो आप कमेंट में वो कविता हमारे साथ शेयर कर सकते हो.

और हाँ जैसे की मैंने उपर कहा की अगर आपको यह हिंदी कविता अच्छी लगे तो इसे अपने दोस्तों के साथ social media पर शेयर करना न भूले.

हैप्पी बाल दिवस 🙂

28 Comments

  1. HindIndia November 7, 2016
    • Himanshu Grewal November 7, 2016
      • jess November 6, 2017
      • sakshi khatkar November 13, 2018
        • Himanshu Grewal November 14, 2018
  2. Baluram dhaker November 9, 2016
  3. Upneet kaur November 10, 2016
  4. Ramesh Prajapati Singrauli November 12, 2016
  5. KAVYA November 12, 2016
    • Himanshu Grewal November 12, 2016
  6. komal November 13, 2016
  7. Dinesh March 1, 2017
  8. Neha Prajapati October 25, 2017
  9. Mintu Singh November 8, 2017
  10. Pushpa kumari November 9, 2017
  11. Anju November 13, 2017
  12. GopaL Nishad November 13, 2017
  13. Supreet kaur chandi November 14, 2017
    • Himanshu Grewal November 14, 2017
  14. Tejpal November 14, 2017
  15. samiksha December 24, 2017
  16. Arnav Mahajan November 2, 2018
  17. Rekha November 12, 2018
  18. Sam November 13, 2018
  19. honey November 14, 2018

Leave a Reply