बाल दिवस पर कविता – Children’s Day Poem on Chacha Nehru in Hindi

प्यारे बच्चों, यदि आप अपने विद्यालय में आने वाले बाल दिवस के उपलक्ष पर हो रहे प्रतियोगिता में बाल दिवस पर कविता बोलना चाहते हैं और उसी की खोज में इस लेख तक आ पहुचे हैं तो आप सही जगह पर हैं.

क्यूंकी आज के इस लेख में, मै बाल दिवस पर कविता अपडेट करने जा रहा हूँ| जो कि बहुत ही आसानी से आप याद कर के स्टेज पर बोल कर सुना सकते हैं.

आप और मैं हम सभी जानते हैं कि भारत में बाल दिवस यानि बच्चो का दिन भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जी (पंडित जवाहरलाल नेहरू) के जन्म दिन के दिन 14 नवम्बर के दिन मनाया जाता है.

अब आप शायद यह सोच रहे होंगे कि मैंने ऊपर वाली पंक्ति में भारत शब्द क्यों जोड़ा, तो चलिये मैं आपको जानकारी देने के लिए बता देता हूँ की बाल दिवस सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि कई देशों में बहुत हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जाता है.

वैसे मैंने इसपर भी एक लेख पहले ही लिखा हुआ है, जिसमे मैंने अन्य देशो के बाल दिवस की दिनांक और उसका कारण भी बताया है|

चलिये अब अपने टॉपिक की और आते हैं और बाल दिवस पर कविता पढ़ना शुरू करते हैं.

नोट : यदि आपको यह कविता अच्छी लगे तो इसे आप अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूले|

बाल दिवस पर कविता – Children’s Day Quotes in Hindi with Images

आज की हमारी पहली हिन्दी पोएम का शीर्षक है चाचा नेहरु प्यारे थे| तो चलो अब हम शुरू करते है अपनी यह हिन्दी कविता|

चाचा नेहरु प्यारे थे,
भारत माता के राजदुलारे थे!,
देश के पहले पधानमंत्री थे,
स्वतंत्रता के सैनानी थे!

Children’s Day Quotes in Hindi with Images

अचकन में फूल लगाते थे,
हमेशा ही मुस्काते थे!
बच्चो से प्यार जताते थे!
चाचा नेहरु प्यारे थे!

बाल दिवस पर कविता हिंदी में

देश विदेश यह घूमते थे,
बहुत सारी जानकारी प्राप्त करते थे,
फिर भी अपने देश से यह प्यार करते थे!
चाचा नेहरु राजकुमारे थे!

शिक्षक दिवस पर कविता

बच्चे इनको सदा प्यार से,
चाचा नेहरू कहते।
चाचाजी इन बच्चों के बीच,
बच्चे बनकर रहते है॥

Children's Day Poem in Hindi

एक गुलाब ही सब पुष्पों में,
इनको लगता प्यारा।
भारत मां का लाल यह,
सबसे ही था न्यारा॥

बाल दिवस पर कविता - Children’s Day Poem in Hindi

सारे जग को पाठ पढ़ाया,
शांति और अमन का।
भारत मां का मान बढ़ाया,
था यह ऐसा लाल चमन का॥

बाल दिवस पर छोटी सी कविता – Very Short Poem on Children’s Day in Hindi

यह जो दूसरी बाल दिवस पर कविता है यह बहुत ही छोटी कविता है| तो यदि आपका बच्चा या कोई छोटा भाई अभी छोटी कक्षा में है तो आप उसे यह कविता याद करा सकते हैं.

हम भारत के भाल बनेंगे,
वीर जवाहरलाल बनेंगे,
सीखी तुमसे बहादुरी है,
हम दुश्मन के काल बनेंगे।
तुमने जो सपने देखे,
साकार करें हम
तुम्हारी यह अभिलाषा..!

नोट : आप चाहे तो बाल दिवस की कविताएं को यहाँ से कॉपी करके अपने व्हाट्सएप्प या फेसबुक या फिर इंस्टाग्राम पर पेस्ट कर के बाल दिवस के दिन अपडेट भी कर सकते हैं| (लोग अक्सर छोटी कविता को पढ़ना पसंद करते हैं|)

Chacha Nehru Poem in Hindi – 14th November Poem in Hindi

चाचा नेहरु ने देखे थे,
नव भारत के सपने,
सपने पूरे कर सकते थे,
उनके बच्चे अपने.

ऐसी शिक्षा हमें आपसे
ऐसी शिक्षा हमें आपसे
मिली यही सौभाग्य हमारा
मरकर भी हो गया अमर जो
चाचा नेहरू सबका प्यारा

शालाओं में भी होते हैं,
नये नये आयोजन,
जिन्हें देख आनंदित होते,
हम बच्चों के तन मन.

Poems on Jawaharlal Nehru in Hindi – Essay on Jawaharlal Nehru in Hindi

तुमने किया स्वदेश स्वतंत्र, फूंका देश-प्रेम का मन्त्र,
आजादी के दीवानों में पाया पावन यश अभिराम !

चाचा नेहरू, तुम्हें प्रणाम !

सबको दिया हृदय का प्यार, चाहा जन-जन का उद्धार,
भारत मटा की सेवा में, समझ लिया आराम हराम!

चाचा नेहरू, तुम्हें प्रणाम !

पंचशील का गाया गान, विश्व -शांति की छेड़ी तान,
दुनियां को माना परिवार, बही प्रेम-सरिता अविराम !

चाचा नेहरू, तुम्हें प्रणाम !

पाकर तुम-सा अनुपम लाल, हुआ देश का ऊंचा भाल,
भूल नहीं सकते तुमको हम, अमर रहेगा युग-युग नाम!

चाचा नेहरू, तुम्हें प्रणाम!

मैं सही बोलूँ तो मुझे इस कविता के बोल बहुत ज्यादा पसंद आए हैं और आने वाले बाल दिवस पर मैं अपने भाई को यही कविता दूंगा याद करने के लिए, ताकि वो अपने स्कूल में स्टेज पर इस कविता को बोल सके.

चाचा नेहरू पर कविता हिंदी में – जवाहरलाल नेहरू पर कविता हिंदी में

“नेहरु चाचा आओ ना
दुनिया को समझाओ ना
बच्चे कितने प्यारे होते
कोई उन्हे सताये ना
हरु चाचा आओ ना
मधुमुस्कान दिखाओ ना
तुम गुलाब कि खुशबू हो
बचपन को महकाओ ना
नेहरु चाचा आओ ना
उजियारा फैलाओ ना
देशभक्त हों, पढें लिखें
एसा पाठ पढाओ ना
नेहरु चाचा आओ ना”

Bal Diwas Poem in Hindi – Bal Diwas Kavita in Hindi

चाचा नेहरू की कविता – नेहरू चाचा तुम्हें सलाम

“नेहरू चाचा तुम्हें सलाम।
अमन-शांति का दे पैगाम॥

जग को जंग से बचाया।
हम बच्चों को भी मनाया॥

जन्मदिवस बच्चों के नाम।
नेहरू चाचा तुम्हें सलाम॥

देश को दी हैं योजनाएं।
लोहा और इस्पात बनाए॥

बांध बने बिजली निकाली।
नहरों से खेतों में हरियाली॥

प्रगति का दिया इनाम।
नेहरू चाचा तुम्हें प्रणाम॥

बाल दिवस पर कविता – Children’s Day Poem in Hindi – Children’s Day Poems For Kids

इस दिन हम सब बच्चें मिलकर,
गीत ख़ुशी के गाते.

चाचा नेहरु के चरणों में,
श्रद्धा सुमन चढ़ाते.

बाल दिवस के इस अवसर पर,
एक शपथ यह खाओ.

ऊँच नीच का भेद भूला कर,
सबको गले लगाओ.

जिस दिन लाल जवाहर ने था,
जन्म जगत में पाया।

उसका जन्मदिवस भारत में
बाल दिवस कहलाया।।

वैसे तो यह कविता भी छोटी है, लेकिन बाल दिवस के दिन चाचा नेहरू को याद कर के गाने के लिए सबसे अच्छी है, बाकी आपकी श्रद्धा है आपको कौन सी कविता पसंद आई आप वही याद करें.

दोस्तों यह थे Top 7 Children’s Day Hindi Poem अगर आपको बाल दिवस पर कविता पता है अच्छी-अच्छी तो उनको आप कमेंट के माध्यम से हमारे और बाकि सभी लोगो के साथ शेयर करे.

आपको यह बाल दिवस पर कविता कैसी लगी वो हमको जरुर बताए और अगर आपको लगता है की इस लेख में कुछ बदलाव होना चाहिए तो आप हमको वो भी बता सकते हो.

और जैसा की मैंने उपर बताया था की अगर आपको हमारा यह कविता वाला आर्टिकल अच्छा लगा हो तो इसको आप अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करना न भूले.

Himanshu Grewal

मेरा नाम हिमांशु ग्रेवाल है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमे आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, इंग्लिश स्पीकिंग, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

19 thoughts on “बाल दिवस पर कविता – Children’s Day Poem on Chacha Nehru in Hindi”

  1. Pahli baar aap ke blog ko visit kiya muje bahut acha laga aap ke blog ko dekh kar or aap ke article ko maine padha jo really usefull hai

  2. arora.kapil1495@gmail.com
    hey this is kapil here i also wrote a poem in hindi on the basis of natures tendency and human tendency. how the people and their thinking goes change with the change of circumstances.

    paani jo maange vo pyas hai ye zindgi
    barish ki bundo ka ehsaas hai ye zindgi
    kbhi khilta phool jo baago mei hai
    murjhaai haalat ka alfaaz hai ye zindgi

    kbhi dosti ke naam pr dga hai ye zindgi
    zinda jeene walo mei murda laash hai ye zindgi
    misri si ghulti kadwaahat ka raaz hai ye zindgi
    daaman khushiyo ka odhe dukho ka phaad hai ye zindgi

    raam rheem to satyug ke avtaar they
    pr kalyug ka raavan raaz hai ye zindgi
    such ki raah pr to gandhi chle
    pr jooth ke naam pr jai jai kar hai ye zindgi

    fir bhi paida krne wale
    us khuda ki karazdaar hai ye zindgi

Leave a Comment

0 Shares
Share via
Copy link