15 August Speech in Hindi – सभी छात्रों और अध्यापकों के लिए 15 अगस्त पर देशभक्ति भाषण हिंदी में

शीर्षक : 15 August Speech in Hindi – भारत का 15 अगस्त पर हिंदी भाषण|

भारत का स्वतंत्रता दिवस पंद्रह अगस्त को मनाया जाता है| इस दिन सन् 1947 को हमारा भारत देश अंग्रेजो के चंगुल से आजाद हुआ था| आजादी की ख़ुशी के अवसर पर हम 15 अगस्त अर्थात स्वतंत्रता दिवस मनाते है.

आपके स्कूल और कॉलेज में स्वतंत्रता दिवस के लिए भाषण सुनाने के लिए कहा जाता होगा तो आज मै आप सबको स्वतंत्रता दिवस के लिए भाषण देना जा रहा हूँ.

दोस्तों, भाषण देने से हम बोलने में अच्छे होते है क्यूंकि कभी कभी ऐसा होता है की हम हर जगह बोल नहीं पाते| भीड़ में हम खुद से कण्ट्रोल खो देते है और बोल नही पाते इसिलए मै आपको सिंपल सरल भाषण देने जा रहा हूँ जिसे आप बिलकुल सरल भाषा में आप अच्छे से बोल सकते है| तो चलिए इंडिपेंडेंस डे पर भाषण के इस लेख को पढ़ना शुरू करते है.

नोट : अगर आप 15 अगस्त पर भाषण के अलावा देशभक्ति हिंदी कविता भी पढ़ना चाहते हो तो आप 15 अगस्त पर देशभक्ति कविता शीर्षक: सरहद मुझे पुकारती है वाला लेख पढ़ सकते हो.

तो आईये मेरे प्यारे मित्रों, 15 August Speech in Hindi का लेख पढ़ना शुरू करते है| अगर आपको भाषण पसंद आये तो इस लेख को अपने अन्य मित्रों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर अवश्य करें.

Latest 15 August Speech in Hindi For Teachers (150 Words)

Latest 15 August Speech in Hindi For Teachers

सभी अध्यापक गण और मेरे सभी अभिभावकों को मेरा प्रणाम..!

सबसे पहले मै आप सभी को सादर आमंत्रित करता हूँ| आप सभी अपना कीमती समय लेकर यहाँ आये इस स्वतंत्रता दिवस के पर्व को मनाने के लिए और मै आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई देता हूँ.

आप सभी जानते है की 15 अगस्त 1947 को हमारा देश आजादी को प्राप्त हुआ था| एक समय था जब लोग आजादी पाने के लिए संघर्ष कर रहे थे| अंग्रेजो ने भारतीयों पर बहुत अत्याचार किया था और लोग उसे सहन कर रहे थे.

लेकिन कुछ ऐसे अनोखे हिरे भारत में जन्मे जिन्होंने भारत को आजादी दिलाने के लिए अपना सब कुछ खो दिया| उनके भी परिवार थे लेकिन उन लोगो ने अपने पुरे भारतीय परिवार के बारे में सोचा और बस आजादी के लिए जंग लड़ने निकल गए.

उन स्वतंत्रता सेनानियों के कारण ही भारत आजाद हुआ था और उन महान व्यक्तियों के बलिदान की वजह से ही भारत आजाद हुआ था|

उन्होने इस देश को आजादी दिलाने के लिए अपना सब कुछ खो दिया खुद की जान की परवाह तक नहीं की और आखिरकार उन्होने देश को आजादी दिला ही दी.

आज मिलकर हमे उन्हें सलामी देनी चाहिए और उनका शुक्रिया अदा करना चाहिए क्यूंकि आज जो हम है उनके बलिदान की वजह से ही है.

-धन्यवाद

पोपुलर लेख » (देशभक्ति कविता) भारत माँ के जवान सपूतों के लिए

15 अगस्त 1947 पर देशभक्ति भाषण हिंदी में (200 शब्द)

15 अगस्त 1947 पर देशभक्ति भाषण हिंदी में

सभी अध्यापक गण और मेरे सभी मित्रो को सुबह का नमस्कार..!

आज के इस मंगल अवसर पर आप सभी यहाँ इक्क्ठे हुए है| आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ.

आप सभी इस पर्व को मनाने के लिए आज यहाँ बहुत उत्साह के साथ आये है| आप सभी को भारतीय होने पर गर्व होना चाहिए और मै जानता हूँ की आप सभी को खुद के भारतीय होने पर बहुत गर्व महसूस भी होता होगा.

भारत सबसे बड़ा लोकतान्त्रिक देश है| भारत अपनी विविधता और एकता के लिए बहुत प्रसिद्ध है.

हमारे पूर्वजो ने भारत देश को अंग्रेजो से आजाद कराने के लिए ना जाने कितने संघर्ष करे, कितनी लड़ाईया करी| उन्होने इतने संघर्ष किये की वो लोग मर कर भी अमर हो गए और आज हम उन्हें याद कर रहे है.

अगर उस समय भारत में वो अनमोल हिरे ना पैदा हुए होते तो शायद भारत आजादी के मुकाम पर ना पहुंचा होता.

अगर भारत आज एक आजाद और लोकतान्त्रिक देश है तो ये सिर्फ और सिर्फ हमारे पूर्वजो की क़ुरबानी और उनके बलिदान के कारण ही है.

आज हम झंडा फहराकर और अपने पूर्वजो को याद करकर उन्हें सलामी देंगे और उन्हें याद करके उन्हें शुक्रिया अदा करेंगे क्यूंकि उन्होने उस समय जो अपने देश के लिए किया वो अब कोई नहीं कर सकता| – धन्यवाद..!

Best 15 August Speech in Hindi For School Students

Best 15 August Speech in Hindi For School Students

मेरे माननीय अध्यापक गण और यहां आये मेरे सभी सहपाठियों को मेरा सादर प्रणाम..!

सबसे पहले तो मै मेरे अध्यापक का बहुत बहुत शुक्रिया करूंगा जिन्होंने मुझे भारत के महान देशवासियों के लिए देशभक्ति भाषण देने का मौका दिया.

आज मै आप सबको बताना चाहूंगा की भारत देश आज एक आजाद देश है| यहा सब अपनी मर्जी से रह सकते है, किसी भी भारतीय नागरिक पर कोई रोक टोक नहीं है परन्तु भारतीय होने के नाते हमे हमारे देश के कानून और नियमो का पालन भी करना चाहिए यही हमारे भारतीय होने की पहचान है की हम अपने देश के नियम कानून का पालन कर रहे है.

आजादी ! जब भी हम आजादी का नाम सुनते है तो दिल में एक जोश भर जाता है| आज हमारे आजाद रहने और भारत के आजाद होने का कारण सिर्फ और सिर्फ वो स्वतंत्रता सेनानी है जिन्होंने भारत के लिए अपनी जान तक कुर्बान करदी.

उस समय भारत के लोग इतने आगे नहीं थे जितने की आज है| आज हम टेक्नोलॉजी के साथ साथ बहुत आगे बढ़ रहे है.

आज भारत बहुत आगे बढ़ चूका है लेकिन कुछ कुछ जगह ऐसी भी है जहां अब भी लोग पिछड़े हुए है इसिलए आज हमे ये वचन लेना चाहिए की हम शिक्षित बनेंगे तो सभी को शिक्षित बनने के लिए प्रेरित करेंगे.

आप लोगो ने सुना भी होगा पढ़ेगा इंडिया तभी तो बढ़ेगा इंडिया..!

हमारे पूर्वजो ने तो हमारे देश को बचाने के लिए ना जाने कितनी क़ुरबानी दी है हमे भी अपने देश के लिए कुछ करना चाहिए इसिलए आज से हम भारतीय नागरिक होने के साथ साथ एक समाज सेवक भी बनेंगे और भारत को आगे बढ़ाने के हर प्रयास करेंगे.

आज के समय में सबसे अधिक बातचीत शिक्षित वर्ग की होती है यदि आप शिक्षित है तो आप अपने पेरो पर खड़े हो सकते है.

जैसे की आज हमारे बड़े कहते है की हम पढ़ लेते तो कुछ बन जाते लेकिन हम भी आगे जाकर ऐसा सोचे ऐसा नहीं होना चाहिए इसिलए हमे पढ़ना चाहिए, कुछ बनना चाहिए ताकि हम अपने देश को और आगे बड़ा सके और सबसे पहले शुरुआत खुदसे होती है.

हम सर्वप्रथम खुद शिक्षित होंगे फिर अपने परिवार को भी शिक्षित होने को कहेंगे और फिर समाज को जिससे की हम और हमारा देश और कामयाबी की और बढ़ता चला जाए.

राष्ट्रीय गान : जन गण मन अधिनायक जय हे भारत भाग्य विधाता

15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर हिंदी भाषण – Best Speech on Indian Independence Day in Hindi

Best Speech on Indian Independence Day in Hindi

मेरे सभी शिक्षकों और मेरे सभी सहपाठियों को मेरी और से प्रणाम..! आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की बहुत बहुत शुभकामनाएं.

दोस्तों, अपने देश से अटूट प्यार करना ही देश भक्ति है| एक सच्चे एक देशभक्त का सर्व श्रेष्ठ गुण यह है की अपने देश के लिए अपने प्राणो तक की भी चिंता न करना, देश के लिए अपने प्राण त्यागने पड़े तो ये भी कर देना.

आज मै आप सब से आजादी के विषय में कुछ बात करना चाहता हूँ| दोस्तों, भारत सोने की चिड़िया कहा जाने वाला देश है आज भी भारत किसी सोने की चिड़िया से कम नहीं है| अंग्रेजो ने आकर इस सोने की चिड़िया पर कब्जा करना चाहा और उन्होने 200 साल तक हमारे भारत देश पर राज किया.

उनके जुल्म को सहना किसी अत्याचार से कम नहीं था| व्यापार करने आये फिरंगी इस देश पर कब्जा ही जमाने बैठ गए लेकिन फिर भारत के स्वतंत्रता सेनानियों ने जन्म लिया जिन्होंने ना जाने कितनी लड़ाईया लड़ी, ना जाने कितने अत्याचार सहे, न जाने कितनी बार जेल गए.

उन्होंने अपने सुख का त्याग किया, अपने देश के सुख के लिए उन्होने अपने ऊपर कितने ही जुल्म सहन किये तब जाकर ये देश आजाद हुआ है.

सेकड़ो वर्ष गुलामी की जंजीरो में जकड़ा रहा है हमारा देश भारत.!

भारत की आजादी के लिए कई लाख लोगो ने अपना सुख, चैन गवा दिया और आजादी की लड़ाई लड़ने चल पड़े| उन्होने अपने प्राणो की आहुति दी जिससे की हम लोग आने वाली पीढ़ी सुखी रह सके.

भारत माँ के वो सभी सपूत आज हमारे लिए प्रेरणा के स्त्रोत है| उन विरो का रण हम कभी नहीं चूका सकते है.

आजादी का दिन भी किसी त्यौहार से कम नहीं है जैसे हम हमारे सभी त्योहारों को बड़े ही धूम धाम से मनाते है ऐसे ही हमे आजादी के दिन को भी बड़े ही धूम धाम से मनाना चाहिए क्यूंकि आज हम अगर खुलकर रह रहे है, खा रहे है, पि रहे है तो सिर्फ और सिर्फ स्वतंत्रता सेनानियों की वजह से|

हम आज एक बहुत अच्छी जिंदगी जी रहे है वरना एक समय था जब लोग मर मर कर जी रहे थे वो भी अपने ही देश में, अपनी ही जन्म भूमि पर|

  1. रानी लक्ष्मी बाई जी जिन्होंने अंग्रेजों से लगातार 2 हफ्ते तक युद्ध किया था|
  2. लाल बहादुर शास्त्री जी जिन्होंने “जय जवान जय किसान” का नारा लगाया था और देश के लोगो को आजादी की जंग लड़ने के लिए प्रोत्साहित किया था|
  3. बाल गंगा धर तिलक जिन्होंने पुरे भारत घूम घूम कर लोगो को प्रेरित किया|
  4. लाला लाजपत राय जो एक आंदोलन के दौरान बुरी तरह घायल हुए और फिर उनकी मृत्यु हो गई|
  5. चंद्र शेकर आजाद, मंगल पांडेय, भगत सिंह, भीम राव अम्बेडकर और भी कई ऐसे स्वतंत्रता सेनानी थे जिन्होंने इस देश को आजादी दिलाने के लिए ना जाने कितने जुल्म सहन किये|

आज भारत आजाद है और हम सभी एक आजाद जिंदगी जी रहे है सिर्फ और सिर्फ उन लोगो की वजह से जिन्होंने देश के लिए अपनी जान तक ग्वादी.

आज हम झंडा फहराकर उन स्वतंत्रता सेनानियों को सलामी देंगे| अब बस मै इतना कहना चाहूंगा की अपनी जन्म भूमि से प्रेम कीजिये और हमेशा अपनी देश की सेवा के लिए तटपर रहिये. -धन्यवाद|

15 August Speech in Hindi For Teacher – Speech on 15 August in Hindi For Class 10 To 12

Speech on 15 August in Hindi For Class 10 To 12

नमस्कार, यहाँ उपस्थित आदरणीय प्रधानाचार्य जी, अतिथिगण, शिक्षकगण एवं मेरे प्रिय सहपाठियों, सर्वप्रथम आप सभी को मेरी और से स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं.

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि यहाँ आज हम सभी एक वजह से एकत्रित हुए हैं, और भारत के नागरिक होने के कारण हम सभी के लिए यह बहुत ही गर्व की बात है|

(ध्यान रहे इन पंक्तियों को बोलते समय आपकी आवाज में आपके अंदर की खुशी झलकनी चाहिए) कि आज हम यहाँ पर भारत के आजादी का जश्न मनाने के लिए उपस्थित हुए है.

जिन वीर जवानो के वजह से आज मैं सुरक्षित यहाँ खड़ा होकर दो शब्द बोल पा रहा हूँ, उन सभी स्वतंत्र सेनानियों और देश के वीरों को मेरा कोटि-कोटि प्रणाम.

जैसा कि मैंने पहले भी कहा कि हम यहां आज आज़ादी यानि स्वतंत्रता दिवस मनाने के लिए एकत्रित हुए हैं तो चलिये आजादी क्या है ? इसी से मैं अपने भाषण का आरंभ करता हूँ – दोस्तों दुनिया के प्रत्येक जिव, प्राणी और व्यक्ति को जीने के लिए स्वतंत्रता चाहिये होती है.

किताबों के माध्यम से हुमे यह ज्ञात हुआ है कि हिंदुस्तान पर हमेशा से ही शासकों और राजाओं ने आक्रमण किया है| भारत वासियो को अपना बंदी बना कर रखा है.

लेकिन वही दूसरी और यह बात भी बिलकुल सत्य है कि, हमारे देश में उस वक़्त लोकतंत्र नहीं था लेकिन उसकी जगह राजतंत्र था.

राजतंत्र शब्द का अर्थ है राज्यों का शाशन| अब दोस्तों शासन तो वही होगा जहां कुछ होगा| मेरा यह बोलने का अर्थ बस इतना है कि मेरा भारत तब भी इतना समृद्ध था कि इसे देखने की हर किसी की इच्छा होती थी.

आपने कई बार सुना भी होगा कि उन दिनों भारत को एक सोने की चिडिया का देश के नाम से जाना जाता था, और सिर्फ इसीलिये ही 17वि सदी से यूरोपीय व्यापारियों ने भारत की खूबी को मापा और भारत में आगमन किया.

यूरोपियन देश के व्यापारी हमारे देश भारत में आकर व्यापार करने लगे| यहाँ तक तो फिर भी ठीक था, परंतु अग्रेजों ने भारत के लोगो के साथ काम करने में कई तरह की तकलीफ का सामना किया जिस वजह से उन्होने ईस्ट इंडिया कंपनी की स्थापना की और भारत के जगह अपने सैनिकों की बढ़ोतरी करने लगे.

इसी बदलाव के कारण अग्रेंजो की नीति में बहुत बड़ा परिवर्तन आया, और उनकी फिर हिंदुस्तान पर कब्जा करने की चाहत भी धीरे-धीरे पूरी हो गई.

शुरुआती दिनो में तो उन्होने छोटे बिजनस से भारत में काम करना प्रारम्भ किया, लेकिन कुछ ही दिनों में उन्हे यह समझ आ गाया था कि, भारत में भाईचारा और भाई-भाई में झगडा बहुत ज्यादा है.

यहां के राजा के लिये सत्ता और जीत एक दूसरे भाई के जान से ज्यादा बहुत महत्वपूर्ण है.

इसीलिये वे सबसे पहले राजाओं को जूठा दिलासा दिलाया और कहा कि “राजा और अंग्रेज़ आपस में हाथ मिला लें जिसके बदले अंग्रेज़ उन्हे कुछ ना कुछ मोटी रकम या कही पर जमीन देंगे” जो कि झुटा वादा था.

इसी रणनीति और कूटनीति के वजह से वो धीरे-धीरे 18वी सदी में भारत के अनेक राज्यों में अपना वश कर लिया और अपने व्यवसाई को भारत में पूरी तरीके से फैला लिया.

और फिर उसके बाद शुरू हुयी जुल्मो की बारिश, जहां भारत के लोगो को अपने ही वतन में परिकियो का अत्याचार सहना पड रहा था.

दोस्तों मैं आपको बता दूँ कि वो कुछ ऐसे अत्याचार थे जो मानव धर्म को बिलकुल भी शोभा नहीं देते थे.

लेकिन फिर आप ही बताइये कि भारतीय भी चुप क्यों बैठते? और फिर कई वीर जवानो और स्वतंत्रता सेनानियों ने अपनी बुद्धि का इस्तेमाल किया और भारत में अनेक प्रकार के आंदोलन चालू किए गए, अपनी जान कि आहुतियाँ दी और हमारे भारत को अंग्रेज़ों से मुक्त कराया.

अंत मे मैं आप सभी से गुजारिश करना चाहूँगा कि आइए एक बार मिल कर उन्हे याद करते हैं जिंहोने अपने देश के लिए अपने जान तक कि कुरबानी दे दी.

अंत में मेरे सभी काबिल शिक्षकों को भी धन्यवाद जिंहोने मुझे इस काबिल समझा और मुझे इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेने का अवसर मुझे प्रदान किया|

धन्यवाद|

जरुर पढ़े ⇓

प्रिय मित्रों, आज मैंने आप सभी को 15 August Speech in Hindi Language में दी है और मै उम्मीद करता हूँ की आप सभी को 15 अगस्त पर भाषण पसंद आया होगा.

आप सभी अपने स्कूल, कॉलेज में इस भाषण को बोले और अगर ये 15 अगस्त पर स्पीच आपको पसंद आया हो तो इस लेख को फेसबुक, ट्विटर, गूगल+, व्हाट्सएप्प इत्यादि पर शेयर जरूर करे और कमेंट भी करें. धन्यवाद !

भारतीय गणतंत्र दिवस⇓

15 Comments

  1. Bishnu sahu July 2, 2018
  2. Vivek Raj July 3, 2018
  3. Aditya Shrivastava July 28, 2018
  4. Satta July 28, 2018
  5. NIRAJ Kumar July 29, 2018
  6. Gagan singh July 30, 2018
  7. HARENDRA KUMAR August 9, 2018
  8. Renu August 10, 2018
  9. vivek August 11, 2018
  10. Athar siddiqui August 13, 2018
  11. AT Singh Yadavansi August 13, 2018
  12. vijay August 13, 2018
  13. Ajay August 14, 2018
  14. Sofiqul Islam August 15, 2018
  15. Srushti September 4, 2018

Leave a Reply