Children's Day

बाल दिवस पर 10 वाक्य, निबंध, भाषण, इतिहास, महत्व

10 Lines on Children's Day in Hindi
Written by Himanshu Grewal
FREE YouTube Video Tutorials

10 Lines on Children’s Day in Hindi 2020

बाल दिवस जिसे हम Children’s Day के नाम से भी जानते हैं। बच्चों को समर्पित इस दिवस के बारे में सुनते ही बच्चों का खिलखिलाते चेहरा, चाचा नेहरू का बच्चों के प्रति स्नेह का ख्याल हमारे दिमाग में आता हैं। अतः आज हम इस लेख में आपके साथ बाल दिवस पर 10 लाइन निबंध साझा कर रहे हैं। इसके साथ ही हम आपको बाल दिवस पर भाषण, बाल दिवस का महत्व, बाल दिवस का इतिहास, बाल दिवस पर निबंध तथा इससे जुड़े कुछ उपयोगी तथ्य भी आज इस लेख में जानेंगे।

तो अगर आप भारत में धूमधाम से मनाए जाने वाले बाल दिवस के विषय में विस्तार से जानकारी हासिल करना चाहते तो इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें। तो आइए सबसे पहले हम यह जानते है बाल दिवस क्यों मनाया जाता है 10 लाइन

👇 लोकप्रिय लेख 👇
Happy Children’s Day Images and Wallpapers

10 Lines on Children’s Day in Hindi

  1. 👉 देश में वर्ष 1959 से लगातार हर साल 14 नवंबर को बाल दिवस मनाया जा रहा है।
  2. 👉 बाल दिवस बच्चों को खुशी, उत्साह से भर देता है। इस अवसर पर विद्यालयों में उनके लिए कई सांस्कृतिक कार्यक्रम एवं प्रतियोगिताएं आयोजित होती हैं।
  3. 👉 इस दिन पंडित जवाहरलाल नेहरू को श्रद्धांजलि अर्पित कर देश सेवा हेतु उनके द्वारा किए गए संघर्ष एवं देश के विकास में उनके योगदान को याद किया जाता है।
  4. 👉 पंडित नेहरू देश के बच्चों को आने वाला भविष्य बताकर उनके बेहतर भविष्य एवं विकास हेतु कार्य करने के पक्षधर थे। इसलिए बच्चे भी उन्हें अपना आदर्श मानकर उन्हें प्यार से चाचा नेहरू कहकर बुलाते थे।
  5. 👉 इस मौके पर अनेक विद्यालयों में तथा अन्य स्थानों पर बच्चों को टॉफी चॉकलेट बांट कर खुश किया जाता है।
  6. 👉 इस मौके पर कुछ देशों की सरकारें बच्चों के सामाजिक कल्याण हेतु योजनाएं भी लागू करती है।
  7. 👉 इस अवसर पर स्कूलों में बच्चों के खेलकूद एवं मनोरंजन हेतु कई समारोह आयोजित किए जाते हैं, जिसमें जीतने वाले बच्चों को इनाम भी दिया जाता है।
  8. 👉 बच्चों को समर्पित इस दिन का उन्हें साल भर से इंतजार रहता है।
  9. 👉 विश्व में पहली बार चिल्ड्रंस डे की लगभग डेढ़ सौ साल पूर्व 1857 में मैसाचुसेट्स के एक चर्च में मनाने से शुरुआत की गई थी।
  10. 👉 विश्व सार्वभौमिक बाल दिवस 20 नवंबर को मनाया जाता है हालांकि बाल दिवस का यह पर्व विश्व के अनेक देशों द्वारा अपने अंदाज में अलग-अलग तिथि को मनाया जाता है।

बाल दिवस पर बच्चों के अधिकार

बाल दिवस का पर्व जनता का ध्यान देश के सभी बच्चों के अधिकारों की ओर भी आकर्षित करता है। सविधान में दिए गए बच्चों के इन अधिकारों की सुरक्षा एवं देखभाल करना सभी माता-पिता एवं समाज के लोगों का कर्तव्य है।

Essay on Bal Diwas in Hindi

  • जीवन जीने हेतु बच्चों की बुनियादी आवश्यकतायें जैसे पर्याप्त भोजन, आश्रय, और चिकत्सकीय आवश्यकताओं की पूर्ति करना।
  • जीवन के विकास हेतु शिक्षा का अधिकार धार्मिक एवं सांस्कृतिक गतिविधियों में अपनी इच्छा से भाग लेने का अधिकार, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार इत्यादि इसमें शामिल है।
  • बच्चों का अपराधों से बचाव करने हेतु सविधान सभी महत्वपूर्ण अधिकार देता है, जिनमें बच्चों से मारपीट, गाली गलौज तथा शोषण के खिलाफ आवाज उठकर न्याय पाने की व्यवस्था कि गई है।
  • इसके साथ ही विभिन्न सामाजिक गतिविधि में भाग लेने का अधिकार, शांतिपूर्ण सभा का आयोजन करने का अधिकार भी शामिल है।

सविधान में उल्लेखित इन उपरोक्त अधिकारों के बावजूद भी बच्चों के खिलाफ होने वाले अपराधों के आंकड़े यह दर्शाते है कि आज भी समाज में बच्चे पूरी तरह सुरक्षित नहीं है, आज भी शहरों एवं गांव में कई बच्चे शोषण अपराधों से युक्त जिंदगी जी रहे है जिन्हें जरूरत है घर, समाज के स्नेह एवं देखभाल की।

इसके साथ ही बात की जाए बच्चों तक पहुंचने वाली बुनियादी आवश्यकताओं एवं उनके विकास की तो आज भी देश में लाखों ऐसे बच्चे है जो पर्याप्त भोजन चिकित्सा जैसी सुविधाओं से अभी भी वंचित है। जिस वजह से शिक्षा का अधिकार आज भी उन तक नहीं पहुंच पाया है। 2 वक्त की रोटी के लिए कई बच्चे काम की तलाश में कम उम्र से ही देखे जा सकते हैं। तो जरूरत है ऐसे बच्चों को सरकार एवं समाज के देखरेख-मदद की, ताकि इन्हें भी हंसते खेलता जीवन शिक्षा इत्यादि सभी सुविधाएं बाकी बच्चों की तरह मिल सके।


बाल दिवस भारत में पहली बार कब मनाया गया?

👉 वर्ष 1947 में मिली देश को आजादी के पश्चात पहली बार वर्ष 1959 में बच्चों को समर्पित एक दिन “बाल दिवस” के तौर पर मनाया गया।

👉 हालांकि शुरू में बाल दिवस को मनाने की तिथि 20 नवंबर घोषित की गई थी क्योंकि वैश्विक स्तर पर बाल दिवस पूरे विश्व में आज भी 20 नवंबर को ही मनाया जाता है। लेकिन वर्ष 1964 में हुए पंडित नेहरू के निधन के पश्चात उनके जन्मदिन (14 नवंबर) को भारत में बाल दिवस मनाने का फैसला किया गया। और तभी से भारत में बाल दिवस 14 नवम्बर को देशवासियों द्वारा मनाया जा रहा है।


बाल दिवस किन किन देशों द्वारा मनाया जाता है?

अमेरिका, कनाडा तथा विश्व के अनेक विकसित एवं विकासशील देशों में चिल्ड्रंस डे मनाया जाता है। हालांकि विश्व में सार्वभौमिक बाल दिवस 20 नवंबर को मनाया जाता है। लेकिन भारत की तरह कई ऐसे देश हैं जो अलग-अलग तिथियों में इस चिल्ड्रंस डे को मनाते हैं।

👉 जैसे सिंगापुर में 1 अक्टूबर को चिल्ड्रंस डे (बाल दिवस) मनाया जाता है इस मौके पर सिंगापुर में छोटे बच्चों को छुट्टी दे दी जाती है। तथा विद्यालयों में अनेक तरह के सांस्कृतिक कार्यक्रम मेले, परेड इत्यादि आयोजित किए जाते हैं। इस प्रकार विश्व के अनेक देशों में अलग-अलग तिथियों एवं अंदाज से चिल्ड्रन डे मनाया जाता है।


Children’s Day Speech 2020 in Hindi

भारत में चिल्ड्रन डे कैसे मनाया जाता है?

बच्चों के लिए यादगार इस दिन के मौके पर स्कूल तथा कॉलेज में विभिन्न प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रम समारोह आयोजित किए जाते है जिनमें बढ़ चढ़कर छात्रों द्वारा हिस्सा लिया जाता है। और इन प्रतियोगिताओं कार्यक्रमों में शानदार प्रदर्शन करने वाले छात्रों के मध्य पुरूस्कार / इनाम भी बांटा जाता है।

इस दिन की शुरुआत स्कूल में बाल दिवस की स्पीच के साथ शुरुआत होती है जिसके माध्यम से पंडित नेहरू द्वारा देश के विकास में संघर्ष एवं बच्चों के बेहतर जीवन के लिए उनके द्वारा किए गए प्रयासों एवं योगदानों को याद किया जाता है। इस मौके पर बच्चों को शिक्षा का महत्व बताकर देश के भविष्य निर्माण में उनकी भूमिका को समझाने का प्रयास किया जाता है। छुट्टी के अंत में बच्चों को टॉफी, चॉकलेट बांट कर उन्हें खुशी-खुशी घर की ओर विदा किया जाता है।

इस दिन घर में भी बच्चों के मनोरंजन हेतु परिवार के सदस्यों द्वारा उन्हें उनकी पसंदीदा मूवी दिखाई जाती है, बाहर घूमने ले जाया जाता है उनके पसंदीदा व्यंजन बनाकर खिलाया जाता है। इस तरह हर्षोल्लास से मनाए जाने वाले इस पर्व का बच्चों को वर्ष भर से ही इंतजार रहता है।


बाल दिवस पर भाषण | Speech on Children’s Day in Hindi

जैसा कि आप सभी को ज्ञात है आज 14 नवंबर का दिन है और आज हम यहां सभी एक यादगार पर्व बाल दिवस को मनाने के लिए उपस्थित हैं! अतः इस मौके पर मैं बाल दिवस की महत्वता को अपने शब्दों में आपके समक्ष रखने जा रहा हूं।

प्रत्येक वर्ष देशवासियों द्वारा बाल दिवस 14 नवंबर को देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की याद में उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करने हेतु मनाया जाता है। पंडित नेहरू को देश के इतिहास में उन महान नेताओं में से गिना जाता है जिन्होंने देश की आजादी में तथा आजादी के पश्चात देश को विकास की राह पर ले जाने में प्रमुख योगदान दिया। पंडित नेहरू को अपने महान व्यक्तित्व के लिए भी जाना जाता है। वह बच्चों से बेहद प्रेम करते थे जिस वजह से बच्चे उन्हें प्यार से चाचा नेहरू कह कर पुकारते थे।

अक्सर मंच से अपने भाषणों में पंडित नेहरू बच्चों की स्तिथि पर, उनके अधिकारों पर अपने विचार जनता के समक्ष रखते थे। आजादी के समय गरीबी से जूझ रहे देश में हर बच्चे को पर्याप्त मूलभूत सुवधाएं (भोजन, कपड़ा, आश्रय) तथा बच्चों तक शिक्षा पहुंचाने का पंडित नेहरू ने भरसक प्रयत्न किया। नेहरू के शब्दों में आज के बच्चे देश के भविष्य का निर्धारण करेंगे। अतः बच्चों का विकास देश के विकास में भागीदार बनेगा।

पंडित नेहरू कहते थे कि मेरे पास बड़ों से मिलने का समय ना हो परंतु बच्चों से मिलने का समय मेरे पास हमेशा रहता है। उनके इन वाक्यों से पता चलता है कि वह बच्चों से कितना स्नेह करते थे। यही कारण था कि मरणोपरांत उनकी जन्म तिथि को बाल दिवस के लिए चुना गया। और आज भी देशवासियों द्वारा हर साल 14 नवंबर को बाल दिवस मनाकर पंडित नेहरू को उनके महान विचारों एवं कर्मों के लिए श्रद्धांजलि अर्पित की जाती है। धन्यवाद…


Interesting Facts About Children’s Day in Hindi

  • संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा वर्ष 1954 में 20 नवंबर का दिन सार्वभौमिक बाल दिवस के तौर पर घोषित किया गया। लेकिन भारत में बाल दिवस 14 नवंबर को तथा विश्व के अन्य देशों में यह अलग-अलग तिथियों में मनाया जाता है।
  • क्या आप जानते है भारत में बाल दिवस बनाने की शुरुआत वर्ष 1959 में 20 नवंबर की तारीख के साथ हुई थी। लेकिन वर्ष 1964 में नेहरू के आकस्मिक निधन के बाद उनके जन्म दिवस (14 नवंबर) को बाल दिवस मनाने का फैसला किया गया।
  • दुनिया के अधिकांश देश स्वयं के राष्ट्रीय बाल दिवस मनाते है परंतु ब्रिटेन एकमात्र ऐसा देश है जो राष्ट्रीय बाल दिवस नहीं मनाता।
  • दुनिया के लगभग 50 से अधिक देश 1 जून को चिल्ड्रंस डे मनाते हैं।
  • दुनिया के विभिन्न देशों के विद्यालयों में चिल्ड्रंस डे के मौके पर सांस्कृतिक कार्यक्रम तथा अन्य समारोह आयोजित किए जाते हैं।
  • विश्व भर में बाल दिवस के मौके पर छात्रों के बीच मिठाइयां, चॉकलेट, टॉफी इत्यादि बांटी जाती है।
  • बाल दिवस बच्चों के अधिकारों उनकी देखभाल एवं उनकी शिक्षा के प्रति लोगों का ध्यान आकर्षित करता है। यह दिवस उन बच्चों की स्थिति को बेहतर करने के लिए भी जागरूक करता है जो आज भी मूल सुविधाएं से वंचित हैं।

How To Celebrate Children’s Day in Lockdown

हर बच्चा इतना खुश नसीब नहीं होता उसे अपने मां बाप का प्यार मिल सके और अगर आप अपने शहर / क्षेत्र में किसी अनाथ आश्रम में जाए तो आप पाएंगे ये बच्चे जो अपने मां-बाप से बिछड़ चुके है इन्हें जरूरत है प्यार, देखभाल स्नेह की। तो अगर आप इस बाल दिवस को यादगार बनाना चाहते है तो आप अनाथालय जाकर छोटे छोटे बच्चों से भेंट कर सकते है, यहां दिए गए टिप्स आपके बाल दिवस को यादगार बनाने में आपकी सहायता करेंगे।

बाल दिवस कैसे बनाएं?

👉 अनाथालय जाकर आप बच्चों के साथ समय बिताएं। उनके साथ कुछ फन एक्टिविटी करें, वाकई नन्हे मुन्ने बच्चों के साथ बिताए यह पल आपको सदा याद रहेंगे।

👉 बच्चों के बीच टॉफी, चॉकलेट इत्यादि बांट कर उन्हें बाल पर्व की शुभकामनाएं दें।

👉 आप बच्चों के बीच कंपटीशन, एक्टिविटी जैसे डांसिंग सिंगिंग रख सकते है और प्राइज डिस्ट्रीब्यूशन कर सकते हैं।

👉 इसके अलावा आप बच्चों को इस शानदार मौके पर कुछ किताबें, पुराने कपड़े या खिलौने भेंट कर उनके चेहरे पर खुशी लाकर इस दिन को यादगार बना सकते हैं।

सिर्फ अनाथालय ही आपके क्षेत्र, शहर में अगर गरीब बच्चे है तो इस बाल दिवस उनके साथ खुशियां बांट कर आप इस दिन को यादगार बना सकते हैं।

इन्हीं अंतिम शब्दों के साथ आज का हमारा यह लेख समाप्त हो रहा है, हमें आशा है इस वर्ष आपका बाल दिवस शानदार रहेगा। आपको हमारी तरफ से बाल दिवस की ढेर सारी शुभकामनाएं। अगर आपको आज का यह लेख पसंद आया है तो ज्यादा से ज्यादा शेयर करके इस लेख को तैयार करने में हमारे द्वारा की गई मेहनत को सफल बनाएं।

– 10 Lines on Children’s Day in Hindi

About the author

Himanshu Grewal

मेरा नाम हिमांशु ग्रेवाल है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमें आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, इंग्लिश स्पीकिंग, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

Leave a Comment