राष्ट्रीय युवा दिवस पर निबंध – National Youth Day Essay in Hindi

नमस्कार, आज के इस लेख मे मै आपके लिए राष्ट्रीय युवा दिवस पर निबंध अपडेट करूंगा, जिसको पढ़ कर आपको अवश्य ही काफी सहायता मिलेगी और आप आने वाले युवा दिवस पर अपने विद्यालय एवं विश्वविद्यालय में होने वाले निबंध लेखन प्रतियोगिता में भाग लेकर शायद कोई स्थान हासिल कर लें|

निबंध को पढ़ने से पहले आइये जानते हैं कि राष्ट्रीय युवा दिवस कब से मनाया जाता है और क्यू मनाया जाता है.

राष्ट्रीय युवा दिवस क्यों मनाया जाता है ?

राष्ट्रीय युवा दिवस कब मनाया जाता है ? : प्रतिवर्ष, 12 जनवरी को|

भारत के वीर नेता स्वामी विवेकानंद जी अपनी पूरी ज़िंदगी में बड़े बच्चो यानिकी युवा पीढ़ी के लिए कई फैसले लिए जो बच्चो के भविष्य एवं विकास के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं| उनका मानना था कि युवा ही हमारा भविष्य है और हमे उनके ऊपर ज्यादा ध्यान देना चाहिए और यह बिलकुल सत्य भी है.

उनके देहांत के बाद भारत मे कई बार इस टॉपिक पर मुद्दे उठे कि उनसे जुड़ा हमे याद करने के लिए कुछ भी क्यू नहीं है ? अंत में कई तरह वाद और विवाद होने के बाद भारत सरकार ने 1985 को अंतरराष्ट्रीय युवा वर्ष और उसी वर्ष से स्वामी विवेकानंद जी के जयंती के दिन यानिकि 12 जनवरी को राष्ट्रीय युवा दिवस घोषित किया|

क्यूंकी स्वामी विवेकानंद जी बच्चो के लिए कई कदम उठाए थे इसलिए युवा दिवस पर विद्यालय एवं विश्वविद्यालय में कई तरह के प्रतियोगिता आयोजित किए जाते हैं, जो बच्चे भाग लेने के इच्छुक होते हैं वो अपना बेहतर परदर्शन भी देते हैं.

यकीनन ही आपके विद्यालय मे भी 12 जनवरी को राष्ट्रीय युवा दिवस पर भाषण बोलने या फिर युवा दिवस पर निबंध लिखने कि प्रतियोगिता ज़रूर दी होगी और यदि आप हिस्सा लेने के इच्छुक है तो मै आपको बताना चाहता हूँ कि मैंने राष्ट्रीय युवा दिवस पर स्पीच का एक लेख पहले ही अपडेट कर दिया जिसमे मैंने प्रति वर्ग (उम्र के हिसाब से) स्पीच को अपडेट किया है, ताकि बच्चो को याद करने में किसी भी तरह कि कोई समस्या ना आए.

ठीक उसी तरह से आज मै राष्ट्रीय युवा दिवस पर निबंध लेखन का लेख अपडेट करूंगा, जिससे यदि आप एक प्रार्थमिक विद्यालय के छात्र के है तो आप अपने लेवेल के अनुसार याद कीजिये और यदि मध्यम वर्गीय है तो आपका लेवेल उन प्रार्थमिक बच्चो से कई ऊपर होगा| तो चलिये दोस्तो आइये अब निबंध पढ़ना शुरू करते हैं.

अब मै आपको बताता हूँ कि मै किन-किन कक्षा के लिए कितने-कितने शब्दो का निबंध लिख कर अपडेट करूंगा।

  1. कक्षा 3, 4, एवं 5 के क्षात्रों के लिए 300 शब्दों का युवा दिवस पर निबंध
  2. कक्षा 6, 7 एवं 8 के क्षात्रों के लिए 600 शब्दों का युवा दिवस पर निबंध

राष्ट्रीय युवा दिवस पर निबंध – National Youth Day Essay in Hindi

National Youth Day Essay in Hindi

भारत में, “राष्ट्रीय युवा दिवस” प्रत्येक वर्ष 12 जनवरी को मनाया जाता है, इस दिन महान भारतीय दार्शनिक, स्वामी विवेकानंद जी का जन्म हुआ था|

भारत सरकार ने 1984 में राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में 12 जनवरी की तिथि को घोषित किया और 1985 से हर साल 12 जनवरी को भारत में राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है|

स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी 1863 में कोलकाता (कलकत्ता) में हुआ था| उनका मूल नाम नरेन्द्र नाथ दत्त था। उनके पिता, विश्वनाथ दत्त कलकत्ता उच्च न्यायालय में एक वकील थे, उनकी माता भुवनेश्वरी देवी एक ग्रहणी थी.

स्वामी विवेकानंद ने पैदल ही पूरे भारत की यात्रा की। 1893 में शिकागो धर्म संसद में गए और 1896 तक अमेरिका में रहे| स्वामी विवेकानंद ने 9 दिसंबर 1898 को कलकत्ता के निकट गंगा नदी के किनारे बेलूर में “रामकृष्ण मठ” की स्थापना की| उन्होंने “रामकृष्ण मिशन” की स्थापना की|

स्वामी विवेकानंद एक संत व भारत के सच्चे देशभक्त थे| उन्होंने कई विषयों पर अपने बहुमूल्य विचार दिये हैं| स्वामी विवेकानंद ने योग, राजयोग तथा ज्ञानयोग जैसे ग्रंथों की रचना की|

स्वामी विवेकानंद की शिक्षाएं देश की सबसे बड़ी दार्शनिक संपत्ति हैं| इस दार्शनिक गुरु की जन्म तिथि पर युवा दिवस घोषित करने का उद्देश्य आने वाली पीढ़ी में इन पवित्र आदर्शों को पैदा करना है.

राष्ट्रीय युवा दिवस का दिन रामकृष्ण मठ और रामकृष्ण मिशन के मुख्यालय के साथ ही उनकी शाखा केन्द्रों पर स्वामी विवेकानंद के प्रति काफी श्रद्धा के साथ मनाया जाता है|

विभिन्न स्थानों पर इस दिन मंगल आरती, होम, ध्यान, भक्ति-गीत, धार्मिक प्रवचन और संध्या आरती आदि का आयोजन होता है। देश की लगभग सभी शिक्षण संस्थाओ, विद्यालयों, कॉलेज में राष्ट्रीय युवा दिवस बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है, और इसके पीछे खास वजह यही है कि स्वामी विवेकानंद ने युवा को मध्य नज़र रखते हुये कई फैसले लिए.

जरुर पढ़े » स्वामी विवेकानंद का जीवन परिचय, उनकी मृत्यु का कारण

राष्ट्रीय युवा दिवस पर निबंध – Essay on National Youth Day in Hindi

Essay on National Youth Day in Hindi

राष्ट्रीय युवा दिवस उत्सव पौष कृष्णा सप्तमी तिथि में वर्ष 1863 में 12 जनवरी को स्वामी विवेकानंद का जन्म हुआ था| स्वामी विवेकानंद का जन्म दिवस हर वर्ष रामकृष्ण मिशन के केन्द्रों पर, रामकृष्ण मठ और उनकी कई शाखा केन्द्रों पर भारतीय संस्कृति और परंपरा के अनुसार मनाया जाता है.

विद्यालयों एवं कॉलेज में राष्ट्रीय युवा दिवस पर गतिविधिया (क्रिया-कलाप) खेल, सेमिनार, निबंध-लेखन, के लिये प्रतियोगिता, प्रस्तुतिकरण, योगासन, सम्मेलन, गायन, संगीत, व्याख्यान, स्वामी विवेकानंद पर भाषण, परेड आदि के द्वारा सभी स्कूल, कॉलेज में युवाओं के द्वारा राष्ट्रीय युवा दिवस (युवा दिवस या स्वामी विवेकानंद जन्म दिवस) मनाया जाता है.

भारतीय युवाओं को प्रेरित करने के लिये विद्यार्थियों द्वारा स्वामी विवेकानंद के विचारों से संबंधित व्याख्यान और लेखन भी किया जाता है|

उनके आंतरिक आत्मा को प्रोत्साहन, युवाओं के बीच भरोसा, जीवन शैली, कला, शिक्षा को बढ़ावा देने के लिये देश के बाहर के साथ ही पूरे भारत भर के कार्यक्रमों में भाग लिये लोगों के द्वारा विभिन्न प्रकार के दूसरे कार्यक्रमों की प्रस्तुति भी होती है.

उत्तर प्रदेश में मिशन भारतीयम के द्वारा सभी उम्र समूह के लिये एक दो दिन कार्यक्रम आयोजित किया जाता है| इस कार्यक्रम में दर्जनों क्रियाएँ शामिल है और इसे बस्ती युवा महोत्सव के नाम से जाना जाता है.

इस दिन को सरकारी, गैर-लाभकारी संगठन के साथ ही कॉरपोरेट समूह अपने तरीके से मनाते हैं| कार्यक्रम की शुरुआत भोर में पवित्र माता श्री शारदा देवी, श्री रामाकृष्णा, स्वामी विवेकानंद और स्वामी रामकृष्णनंदा के पूजा के साथ होती है|

भक्तों और पूजारियों के द्वारा पूजा के बाद एक बड़ा होम (हवन) किया जाता है| उसके बाद भक्तगण पुष्प अर्पित करते हैं और स्वामी विवेकानंद की आरती करते हैं। और अंत में प्रसाद वितरण किया जाता है.

Why Do We Celebrate National Youth Day in Hindi – राष्ट्रीय युवा दिवस महत्व व इतिहास

राष्ट्रीय युवा दिवस महत्व व इतिहास

स्वामी विवेकानंद के विचार, दर्शन और अध्यापन भारत की महान सांस्कृतिक और पारंपरिक संपत्ति हैं| युवा देश के महत्वपूर्णं अंग हैं जो देश को आगे बढ़ाता है इसी वजह से स्वामी विवेकानंद के आदर्शों और विचारों के द्वारा सबसे पहले युवाओं को चुना जाता है| इसलिये, भारत के सम्माननीय युवाओं को प्रेरित करने और बढ़ावा देने के लिये हर वर्ष राष्ट्रीय युवा दिवस मनाने की शुरुआत हुई.

कार्यक्रम को उत्साह पूर्वक मनाने के लिये स्कूल और कॉलेज को रुचिकर ढंग से सुसज्जित करते हैं| स्वामी विवेकानंद एक महान इंसान थे जो हमेशा देश की ऐतिहासिक परंपरा को बनाने और नेतृत्व करने के लिये युवा शक्ति पर विश्वास करते थे और मानते थे कि विकसित होने के लिये देश के द्वारा कुछ उन्नति की जरुरत है|

अब अंत मे मै युवा दिवस पर चर्चित कथन लिख कर इस निबंध को समाप्त करना चाहूँगा:-

राष्ट्रीय युवा दिवस पर स्वामी विवेकानंद द्वारा कहे गये कथन निम्न प्रकार हैं – Swami Vivekananda Quotes on Youth in Hindi

Swami Vivekananda Quotes on Youth in Hindi

#1. “उच्चतम आदर्श को चुनो और उस तक अपना जीवन जीयो| सागर की तरफ देखों न कि लहरों की तरफ|”- स्वामी विवेकानंद

#2. “कुछ सच्चे, ईमानदार और ऊर्जावान पुरुष और महिलाएं एक वर्ष में एक सदी की भीड़ से अधिक कार्य कर सकते हैं|” – स्वामी विवेकानंद

#3. “धर्म आदमी में पहले से ही देवत्व की अभिव्यक्ति है।” – स्वामी विवेकानंद

#4. “धन पाने के लिये कड़ा संघर्ष करों पर उससे लगाव मत करो।”- स्वामी विवेकानंद

#5. “जो गरीबों में, कमजोरों में और बिमारियों में शिव को देखता हैं, वो सच में शिव की पूजा करता हैं|”- स्वामी विवेकानंद

#6. “प्रत्येक आत्मा संभावित परमात्मा है।”- स्वामी विवेकानंद

#7. “दिन में एकबार खुद से बात अवश्य करों……नहीं तो आप संसार के सर्वश्रेष्ठ व्यक्ति से मिलने से चूक जाओंगे।”- स्वामी विवेकानंद

#8. “मेरा विश्वास युवा पीढ़ी में है, आधुनिक पीढी से मेरे कार्यकर्ता आ जायेगें।”- स्वामी विवेकानंद

#9. “काम, काम, काम – बस यही आपके जीवन का उद्देश्य होना चाहिये।”- स्वामी विवेकानंद

#10. “पृथ्वी का आनंद नायकों द्वारा लिया जाता हैं – ये अमोघ सत्य हैं| एक नायक बनो और सदैव कहो “मुझे कोई डर नहीं है।””- स्वामी विवेकानंद

#11. “महसूस करो कि तुम महान हो और तुम महान बन जाओगें।”- स्वामी विवेकानंद

चलिये दोस्तो अब मै इस लेख का यही पर अंत कर रहा हूँ, आशा है इस लेख से आपको राष्ट्रीय युवा दिवस के बारे में जानकारी मिली होगी| आप चाहे तो इस लेख को अपने जानकारों के साथ सोश्ल मीडिया के माध्यम से शेयर भी कर सकते हैं.

यदि आपको राष्ट्रीय युवा दिवस पर निबंध से जुड़ी कुछ ऐसी जानकारी है जो मैने अपने लेख में नहीं लिखी हो तो आप कमेंट के माध्यम से मुझसे शेयर करना बिलकुल भी न भूले, आपको यह लेख कैसा लगा वो भी आप मुझे कमेंट से जरूर बताए.

आप अपने ज्ञान को दूसरों के साथ बाटते रहे, क्यूंकी ज्ञान बाटने से हमेशा बढ़ता है – इस लेख को अंत तक पढ़ने के लिए आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद..!

क्या आपको पता है ? ⇓

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Himanshu Grewal

मेरा नाम हिमांशु ग्रेवाल है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमे आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, इंग्लिश स्पीकिंग, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

Leave a Comment