म्यूचुअल फंड

म्यूच्यूअल फण्ड क्या है ? कैसे करें निवेश – पूरी जानकारी हिंदी में

Written by Himanshu Grewal

आज मै आपको मार्किट में बहुत ही चर्चित टॉपिक म्यूच्यूअल फण्ड के बारे में आपके साथ कुछ खास जानकारी शेयर करने जा रहा हूँ, तो आइये पढ़ते हैं Mutual Funds in Hindi का ये आर्टिकल और अच्छे से समझते है की म्यूच्यूअल फण्ड क्या है.

ज्यादातर लोगों को म्यूचुअल फंड अथवा इस जैसे अन्य वित्तीय शब्दजाल सुन कर डर लगता है. आप बारीकी से इसे देखो तो म्यूचुअल फंड को समझने के लिए डरने की आवश्यकता नहीं है.

दोस्तों आपने अक्सर म्यूच्यूअल फण्ड के बारे में काफी कुछ सुना होगा आज मै आपको म्यूच्यूअल फण्ड इन हिंदी के इस आर्टिकल में-

  1. म्यूच्यूअल फण्ड क्या है?
  2. म्यूच्यूअल फण्ड में काम कैसे होता है?
  3. म्यूच्यूअल फण्ड में क्या होता है?
  4. म्यूच्यूअल फण्ड के प्लानिंग क्या है?
  5. म्यूच्यूअल फण्ड मार्किट में क्यों आई?

इन सभी चीजों के जवाब दूंगा, बस आपको जवाब जानने के लिए इस लेख को आखिर तक पढ़ना होगा.

तो आइये दोस्तों अब बिना समय गवाये सबसे पहले हम जानते हैं सबसे पहले प्रशन का उत्तर-

सबकी पसंद ⇒ शेयर बाजार क्या है? (शेयर मार्केट की पूरी जानकारी हिंदी में)

म्यूच्यूअल फण्ड क्या है हिंदी में जानिए

चलिये इस टर्म को बहुत साधारण तरीके से समझते हैं, मान लेते हैं आप एक निवेशक हैं और आपको शेयर और स्टॉक मार्केट का कोई आइडिया नहीं है.

अब आपको किसी प्रोफैशनल या विशेषज्ञ की मदद चाहिये, जो आपको “क्या करना चाहिये“, “कैसे करना है” यह सब बतायेगा| अब इस मोड़ पर आ के आप किसी ऐसे इन्सान से बात करना चाहेंगे जिसे इन चीजों की अच्छी जानकारी हो.

मै आपको बता दूं की निवेशकों की एक बड़ी संख्या के द्वारा जमा पैसा राशी को म्यूचुअल फंड कहते हैं जिसे एक फण्ड में डाल दिया जाता है.

फण्ड मेनेजर इस पैसे को विभिन्न वित्तीय साधनों में निवेश करने के लिए अपने निवेश प्रबंधन कौशल का उपयोग करता है.

शायद अब आपको समझ आ गया होगा म्यूच्यूअल फण्ड इन हिंदी क्या है ?

अगर हम बिलकुल आसान शब्दों में बात करे तो हम ऐसा बोल सकते हैं की आप हर महीने अपने सेविंग एक जगह जमा करेंगे और कुछ साल (जो की फिक्स पीरियड होगा) बाद आपको अच्छे मुनाफे के साथ आपके पैसे मिलेंगे.

चलिए अब अगले प्रशन की बात कर लेते हैं-

म्यूच्यूअल फण्ड में काम कैसे होता है?

म्यूचुअल फंड कई तरह से निवेश करता है जिससे उसका रिस्क और रिटर्न निर्धारित होता है.

चलिए मै आपको एक उदाहरण से म्यूच्यूअल फण्ड में काम होने का तरीका समझाता हूँ-

मान लीजिये, एक म्यूचुअल फंड स्कीम है सुपर रिटर्न्स फंड, जिसे सुपर रिटर्न एसेट मैनेजमेंट कंपनी लॉन्च करती है| यह कंपनी नये ऑफर के साथ बाजार में आयेगी, उस ऑफर का नाम है सुपर रिटर्न मिड कैप स्कीम.

कुछ दोस्त मिल कर एक जमीन का टुकडा खरीदना चाहते हैं| सौ वर्ग गज के जमीन के टुकडे की कीमत एक लाख रुपये है| अब यदि इस फंड को दस रु कि युनिट्स में बांटेंगे तो 10,000 यूनिट बनेंगे.

निवेशक जितने चाहे उतने यूनिट अपनी निवेश क्षमता के अनुसार खरीद सकते हैं, यदि आपके पास केवल एक हज़ार रुपये निवेश के लिए हैं तो आप सौ यूनिट खरीद सकते हैं| उसी अनुपात में आप भी उस निवेश (जमीन के) मालिक हो गए.

अब मान लीजिये की इस एक लाख के निवेश की कीमत बढ़ कर एक महीने के बाद रुपये 1,20,000 हो गयी, अब इस निवेश के अनुसार यूनिट की कीमत निकाली जायेगी तो दस रुपये वाला यूनिट अब बारह रुपये का हो चुका है.

जिस निवेशक ने एक हजार रुपये में सौ यूनिट खरीदे थे, बारह रुपये प्रति यूनिट के हिसाब से अब उसका निवेश (100 x 12) रुपये 1200 हो चुका है.

इसमें से अर्जित अन्य आय के साथ-साथ निवेश के मूल्य में वृद्धि को लागू व्यय, भार और करों को घटाने के बाद यूनिटों की संख्या के साथ अनुपात में निवेशकों / यूनिट धारकों को बांट दिया जाता है.

नोट = आप जितना ज्यादा समय अपना पैसा म्यूच्यूअल फण्ड में लगायेंगे उतना ही आपको प्रॉफिट मिलेगा|

फायदा = इससे आप देख सकते हैं की एक निवेशक जो कि बड़ा निवेश नहीं कर पाता, उस के पास छोटे छोटे यूनिट्स में निवेश करने की सुविधा है.

दोस्तों शायद अब आपको म्यूच्यूअल फण्ड में क्या होता है इस प्रशन का उत्तर मिल गया होगा.

अगला प्रशन बहुत ही अच्छा है की आखिर म्यूच्यूअल फण्ड के प्लानिंग क्या है?

Features of Mutual Fund in India

जिस तरह मार्किट में शेयर के भाव बढ़ते घटते रहते हैं ठीक उसी तरह से म्यूच्यूअल फण्ड के प्लानिंग में भी बदलाव आते रहते हैं.

जब हम Types of Mutual Funds in Hindi को समझने की कोशिश करते हैं तो यहाँ आपको बता दें कि म्यूचुअल फण्डों को हम मुख्य रूप से दो श्रेणियों में बाँट सकते हैं ओपन एंडेड और क्लोज्ड एंडेड|

ओपन एंडेड ⇒ योजना अवधि के दौरान किसी भी समय निवेशक इकाइयों यानि यूनिट्स को खरीद या बेच सकता है. इसकी कोई निश्चित मैच्योरिटी यानि परिपक्वता तिथि नहीं होती.

क्लोज्ड एंडेड ⇒ केवल योजना की शुरुआत में जब NFO यानि New Fund Offer जारी किया जाता है तभी निवेश कर सकते हैं.

क्लोज्ड एंडेड योजना में एक मैच्योरिटी यानि परिपक्वता तिथि पहले से निर्धारित होती है, परिपक्वता तिथि से पहले क्लोज्ड एंडेड योजना से बाहर नहीं निकला जा सकता इसलिए कह सकते हैं कि क्लोज्ड एंडेड योजना में लिक्विडिटी अर्थार्थ तरलता नहीं होती है.

  1. आईसीआईसीआई प्रूडेंश‍ियल म्यूचुअल फंड
  2. बिड़ला म्यूचुअल फंड
  3. रिलायंस म्यूचुअल फंड
  4. एक्स‍िस म्यूचुअल फंड
  5. एचडीएफसी म्यूचुअल फंड

ये है भारत के कुछ सबसे ज्यादा चर्चित म्यूच्यूअल फंड्स जो की बैंक से जुड़े हैं.

आप इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद एक बार अपने निजी बैंक में जा के म्यूच्यूअल फण्ड से जुडी सारी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

कहने का मतलब है की प्रॉफिट और घाटा को मध्य नज़र रखते हुए सारी चीज़े प्लान की जाती हैं – ताकि किसी भी ग्राहक हो ज्यादा नुकसान ना हो.

सबसे अच्छा टॉपिक और इसका उत्तर हर इन्सान जानना चाहेगा और वो बात है की म्यूच्यूअल फण्ड मार्किट में क्यों आई?

History of Mutual Fund in Hindi

विकसित अर्थव्यवस्था के लिए व्यापक भागीदारी के साथ एक मजबूत वित्तीय बाजार आवश्यक है| इस व्यापक उद्देश्य से भारत का पहला म्यूचुअल फंड 1963 में स्थापित किया गया था.

अर्थात् – भारत में यूनिट ट्रस्ट ऑफ इंडिया (यूटीआई), भारत सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक की पहल पर, बचत और निवेश को प्रोत्साहित करने और आय में भागीदारी को प्रोत्साहित करने के लिए.

(अधिग्रहण, धारण, प्रबंधन और प्रतिभूतियों के निपटान से निगम को प्राप्त मुनाफा और लाभ; को मध्य नज़र रखते हुए ये फैसला लिया गया और आज बजार में इसका बहुत नाम भी है|)

आज के म्यूच्यूअल फण्ड के इस लेख में अब मै आपके साथ आखिरी टॉपिक शेयर करने जा रहा हूँ ⇒ एसआईपी क्या है ?

What is SIP Mutual Fund in Hindi

What is stock market in India?

एसआईपी (सिप) एक सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (Systematic Investment Plan) है.

एसआईपी आपके पैसे का निवेश करने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है, जहां समय की नियमित अंतराल पर एक छोटी सी राशि का निवेश किया जाता है और यह निवेश शेयर बाजार में जुड़ा होता है और समय के साथ अच्छे रिटर्न उत्पन्न करता है.

आपके पसंद के लेख⇓

मुझे उम्मीद है की आपको म्यूच्यूअल फण्ड क्या है इस विषय में सभी जानकारी आपको प्राप्त हो गयी होगी.

अगर आपको म्यूच्यूअल फण्ड का यह लेख अच्छा लगा हो और आपको यह सभी जानकारी जो म्यूच्यूअल फण्ड में गुसने से पहले सभी को होनी चाहिए वो मिली हो तो दोस्तों इस जानकरी को अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर ज़रूर करे.

About the author

Himanshu Grewal

मेरा नाम हिमांशु ग्रेवाल है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमे आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, इंग्लिश स्पीकिंग, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

2 Comments

  • एसआईपी आपके पैसे का निवेश करने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है, जहां समय की नियमित अंतराल पर एक छोटी सी राशि का निवेश किया जाता है और यह निवेश शेयर बाजार में जुड़ा होता है और समय के साथ अच्छे रिटर्न उत्पन्न करता है.

Leave a Comment