Father's Day

मेरे पापा पर कविता

Hindi Poem on Father for Father's Day
Written by Himanshu Grewal
FREE YouTube Video Tutorials

प्यारे बच्चों और पाठकों, आप सभी का Hindi Poem on Father के इस लेख में HimanshuGrewal.com पर बहुत-बहुत स्वागत हैं।

फादर्स डे (पिता दिवस) और (पितृ दिवस) के इस पावन पर्व पर आज मैं आपके साथ Best Father’s Day Hindi Poem शेयर करने जा रहा हूँ जिसको आप अपने पापा के साथ शेयर कर सको।

पिता के लिए यह दिन बहुत ही खास दिन होता है, इस दिन सभी बच्चे अपने पिता के लिए कुछ-न-कुछ स्पेशल करते है जिससे वह अपने पिता को खुशियाँ दे सके।

वैसे पिता को ख़ुशी देने के लिए कोई एक दिन फिक्स नही हैं हम अपने पापा को किसी भी दिन गिफ्ट दे सकते है और उनको सरप्राइज दे सकते है, पर जिस तरह आप अपने जन्मदिवस के दिन बहुत प्रसन्न होते हो उसी तरह सभी पिता फादर्स डे के दिन खुश होते है क्योंकि इस दिन वह उम्मीद लगाते है कि उनके बैठे/बैटी अपने पिता के लिए कुछ खास करेंगे जिससे वह और ज्यादा प्रसन्न हो सके।

कुछ बच्चे इस दिन Fathers Day Wishes Shayari Download करते है, तो कुछ बच्चे इस दिन पिता के लिए हिन्दी भाषण लिखते हैं और उनको अपने स्कूल/कॉलेज और अपने प्यारे पापा के सामने सुना सके। Father’s Day 2020 के दिन कविता का भी बहुत क्रेज है। अधिकतम सभी किड्स अपने पिता के लिए पापा पर कविता लिखते है और उनको अपने पापा के सामने शेयर करते हैं।

इस लेख में, मैं आपके साथ फादर्स डे पर कविता शेयर करने जा रहा हूँ जिसको आप कॉपी करके अपने डैड के सामने प्रस्तुत कर सको।

इसको भी जरुर पढ़े ⇒ Heart Touching Poems on Father in Hindi

Best Hindi Poem on Father

Heart Touching Poem on Father in Hindi Font

नोट: यहाँ पर जो Hindi Poem on Father Day 2020 मैं आपके साथ शेयर करने जा रहा हूँ इसको आप पेपर पर उतार सकते हो और अपने परिवार वालों के साथ इस कविता को शेयर कर सकते हो।

Father’s Day Poem in Hindi को पढ़ने के बाद हमको कमेंट करके जरूर बताएं कि आपको यह पिता दिवस पर कविता कैसी लगी। आपके विचार जानने के बाद हम इस लेख को और अच्छा बनाएंगे और यहाँ पर आपके लिए बेस्ट से भी ज्यादा बेस्ट कविता साझा करेंगे।


इसे भी पढ़ें

माता पिता दिवस पर भाषण


पिता पर कविता


प्यारे पापा सच्चे पापा,
बच्चो के संग बच्चे पापा |
करते हैं पूरी हर इच्छा,
मेरे सबसे अच्छे पापा |

दिन रात जो पापा करते हैं,
बच्चे के लिए जीते मरते हैं |
बस बच्चों की खुशियों के लिए,
अपने सूखो को हरते हैं |

पापा हर फ़र्ज निभाते हैं,
जीवन भर कर्ज चुकाते हैं |
बच्चे की एक ख़ुशी के लिए,
अपने सुख भूल ही जाते हैं |

फिर क्यों ऐसे पापा के लिए,
बच्चे कुछ कर ही नही पाते |
ऐसे सच्चे पापा को क्यों,
पापा कहने में भी सकुचाते |

पापा का आशीष बनाता है,
बच्चे का जीवन सुखदाइ,
पर बच्चे भूल ही जाते हैं,
यह कैसी आँधी है आई |

जिससे सब कुछ पाया है,
जिसने सब कुछ सिखलाया है |
कोटि नमन ऐसे पापा को,
जो हर पल साथ निभाया है |

प्यारे पापा के प्यार भरे,
सीने से जो लग जाते हैं |
सच्च कहती हूँ विश्वास करो,
जीवन में सदा सुख पाते हैं |

Beautiful Lines for Father in Hindi

Short Poem on Parents in hindi

मुझे उम्मीद है कि ऊपर जो Fathers day kavita हैं आपको असंद आई होगी.

अगर आपको कविता पसंद आई तो इस कविता को अपने सभी दोस्तों और परिवार वालो के साथ सोशल मीडिया पर शेयर जरुर करें.

अब में आपके साथ दूसरी Best Hindi Poem on Father day शेयर करने जा रहा हूँ जिसका शीर्षक है: मेरे प्यारे प्यारे पापा. तो आईये पढ़ना शुरू करते हैं.


Fathers Day Poems in Hindi


मेरे प्यारे प्यारे पापा
मेरे दिल में रहते पापा

मेरी छोटी सी ख़ुशी के लिए
सब कुछ सह जाते है पापा

पूरी करते हर मेरी इच्छा
उनके जैसा नही कोई अच्छा

मुम्मी मेरी जब भी डांट
मुझे दुलारते मेरे पापा
मेरे प्यारे प्यारे पापा ॥

मेरे पापा पर कविता


कभी अभिमान तो कभी स्वाभिमान है पिता
कभी पृथ्वी तो कभी ब्रह्मांड है पिता
अगर जन्म दिया है माँ ने
जिनसे मिली पहचान मुझे
पिता है वो…”

“कभी कंधे पे चड़ाकर मेला दिखता है पिता…
कभी बनके घोड़ा घुमाता है वो पिता…
माँ अगर मैरों पे चलना सिखाती है…
तो पैरों पे खड़ा होना सिखाता है पिता…”

“कभी रोटी तो कभी पानी है पिता…”
कभी बुढ़ापा तो कभी जवानी है पिता…
माँ अगर है मासूम सी लोरी…
तो कभी ना भूलने वाली कहानी है पिता…”

“कभी हंसी तो कभी अनुशासन है पिता…
कभी मौन तो कभी भाषण है पिता…
माँ अगर घर में रसोई है…
तो घर में आता जिससे राशन वो है पिता…”

“कभी ख़्वाब को पूरी करने की जिम्मेदारी है पिता…
कभी आंसुओं में छिपी लाचारी है पिता…
माँ अगर बेच सकती है जरुरत पे गहने…
तो जो अपने को बेच दे वो व्यापारी है पिता…”

“कभी हंसी और खुशी का मेला है पिता…
कभी कितना तन्हा और अकेला है पिता…
माँ तो कह देती है अपने दिल की बात…
सब कुछ समेटे आसमान सा फैला है पिता…

“माँ की ममता को तो… 
सब ने ही स्वीकारा है…
पर पिता की परवरिश को…
कब किसने ललकारा है…!!

मुश्किल की घड़ियों में अक्सर…
मेरे साथ खड़े थे वो...
मेरी गलतियां थी फिर भी……
मेरी खातिर लड़े थे वो…!!

कमियों का अहसास…
मुझको कभी हो न पाई…
कपकपा कर सोते थे वो…
मेरे ऊपर डालके रजाई…!!

माँ की गोदी की गर्माहट…
के बराबर उनकी थपकी…
कंधा उनका बिस्तर बनती…
आँखे हलकी सी जो मेरी झपकती…!!

उनके हौसले ने कभी न…
आँखे नम होने दिए है…
जितनी थी मेरी जरूरत…
सबको तो पूरी किया है…!!

उनकी लाड में जो पाया…
थोड़ी कड़वापन सही…
मेरी खातिर मुझे डाटा…
था वही बचपन सही…!!

जिंदगी की दौड़ में अब…
अपने पैरों पर खड़े…
उनके जज़्बों की बदौलत…
मुश्किलों से हम लड़े…!!

सर पे उनका साया जब तक…
चिंता न डर है कोई…!!
उनके कंधों की बदौलत बढ़ रही है जिंदगी……!!

नोट: यहां हमने आपको इंटरनेट से प्राप्त कुछ चुनिंदा कविताएं आपके साथ शेयर की। हमें नहीं पता इतनी प्यारी कविताएं किसने लिखी हैं परंतु आपसे अनुरोध है यदि आपको उनका नाम, जानकारी है तो प्रूफ के साथ हमें कमेंट में जरूर बताएं ताकि हम इन कविताओं के साथ उनका नाम भी सम्मिलित कर सके।


पिता का महत्व क्या है?

पिता पर कविताएं पढ़ने के बाद अब हम पिता के महत्व को समझने के लिए यहां एक कहानी लेंगे।

Importance of Father Essay in Hindi

एक बार की बात है एक पिता ने अपने नन्हे पुत्र की बहुत अच्छे से परवरिश की। उसके लालन पालन से लेकर उसकी अच्छी पढ़ाई हेतु काफी संघर्ष कर पढ़ाया और आगे जाकर उनका बेटा एक सफल व्यक्ति बना। परंतु काम की वजह से अब उनका बेटा उनसे दूर चला गया था।

अब पिता की उम्र धीरे-धीरे बढ़ रही थी और वे बुजुर्ग अवस्था में आ चुके थे। 1 दिन पिता को पुत्र से मिलने की इच्छा जगी और वह पुत्र से मिलने चल दिए।

पुत्र के ऑफिस में जाते ही दूर से ही उनकी दृष्टि अपने पुत्र पर पड़ी उन्होंने देखा पुत्र सूट पैंट पहने हुए ऑफिस में बैठा हुआ है। उसके आगे पीछे कई सारे कर्मचारी घूम रहे हैं यह सब दूर से देखते ही पिता का सीना गर्व से चौड़ा हो गया। पिता सरल स्वभाव से पुत्र के पास गए और पिता को देखते ही पुत्र ने उनका स्वागत किया जाए, नाश्ता मंगवाया।

अब लंच का समय था पिता अपनी सीट से उठकर पुत्र के पास गए और अपना हाथ उसके कंधे पर रखा और पूछा एक बात बताओ तुम्हारी नज़र में इस दुनिया का सबसे शक्तिशाली आदमी कौन है?

तो पुत्र ने झट से कहा पिताजी मैं और कौन?

पुत्र के मुंह से यह शब्द सुनते ही पिता को काफी दुख हुआ और उनकी आंख भर आई। उन्होंने ऑफिस से जाने का मन बना लिया और जैसे ही वे Gate के पास पहुंचे वे पीछे मुड़े और फिर पूछा बेटा बताओ, दुनिया का सबसे शक्तिशाली आदमी कौन है?

मेरे पिताजी! यह सुनते ही उसके पिता जी का दिल गदगद हो उठा और उन्होंने कहा परंतु अभी तो तुमने कहा था कि मैं सबसे शक्तिशाली हूं।

पुत्र ने कहा हां, पिताजी मैंने तब ऐसा इसलिए कहा था क्योंकि उस समय आपका हाथ मेरे कंधे पर था और जिसके कंधे पर अपने पिता का हाथ हो वह तो दुनिया का सबसे शक्तिशाली आदमी हुआ ना। यह सुनते ही पिताजी की आँख नम हो गई और उन्होंने अपने पुत्र को कस कर गले लगा लिया।

इस कहानी से हमें सीख मिलती है कि जिसके सिर पर पिता का हाथ होता है दुनिया का सबसे शक्तिशाली इंसान होता है।

इस बात को बेहतर तरीके से वह व्यक्ति समझ सकता है अपने पिता को खो चुका हूं अतः हमें सदैव अपने पिताजी का सम्मान करना चाहिए उनकी सेवा करना चाहिए। हम चाहे कितनी भी अच्छे पद पर क्यों ना चले जाए हम हमेशा रहेंगे तो उनके पुत्र ही। यह सोचकर हमें उनसे हुई छोटी मोटी गलतियों को नजरअंदाज कर यह सोचना चाहिए कि जिस तरह उन्होंने हमें बचपन में खुश रखा, अब हमारी यह जिम्मेदारी हैं।


कुछ बातें जो पापा से सीख सकते हैं?
  • परिवार के प्रत्येक सदस्य का ख्याल रखना

पिता न सिर्फ अपने बच्चों को और पति को प्यार करते है बल्कि वह घर के प्रत्येक सदस्य को प्यार करते हैं और जब भी आवश्यकता पड़ती है उपस्थित होते हैं। पारिवारिक जिम्मेदारी किस तरह निभाई जाती है इसकी ट्रेनिंग किसी कोचिंग सेंटर, स्कूल से नहीं ली जा सकती वह पिताजी से ली जा सकती हैं।

  • माफ करना

छोटी-छोटी बातों को नजरअंदाज करना दूसरों की गलतियों को माफ करना यह बड़ा गुण पिता के पास होता है हम तो मानो किसी की छोटी गलती को दिल पर लगा कर बैठ जाते हैं, निराश हो जाते हैं तो यह सबसे बड़ा गुण जो हमें अपने पिता से सीखना चाहिए।

  • मेहनत | परिश्रम करना

दुनिया में एक पिता अपने बच्चों परिवार के लिए कड़ी मेहनत करता है और रोजाना करता है अतः किसी भी कार्य को मेहनत से पूर्ण करने का यह बेहतरीन गुण पिता से सीखा जा सकता है।

  • सीखना जारी रखना

कोई पुरानी घटना हो या अपने काम की कोई चीज़ हो उसे सीखने में पिताजी जरा भी नहीं झिझकते लेकिन बच्चे अक्सर ऐसा नहीं करते। एक पुत्र/ पुत्री को अपने जीवन में सीखते रहने का यह गुण जरूर सीखना चाहिए।

  • मुश्किल परिस्थितियों में हार न मानना

अक्सर आपके घर में भी कई बार ऐसी परिस्थिति आ जाती होंगी जब आपको लगता होगा मानो जिंदगी में सबसे बुरा समय चल रहा हो, परंतु इस परिस्थिति में एक पिता धैर्य और हिम्मत के साथ परिस्थिति का सामना करते हुई परिवार को उस परिस्थिति से बाहर निकाल देते हैं जो गुण आपको जरूर सीखना चाहिए।

Essay on Father in Hindi for Class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12

My Father Essay in English 10 Lines for Class 1 to 8th

10 Lines on My Father in English

New Hindi Poem on Father का यह लेख अब यहीं पर खत्म होता है और मैं उम्मीद करता हूँ कि आपको कविता पसंद आई होगी।

आपको फादर्स डे पोएम कैसी लगी हमको कमेंट करके जरूर बताएं और अगर आपके पास कोई कविता या विचार है जिसको आप हमारे और सभी दोस्तों के साथ शेयर करना चाहते हो तो आप उसको भी कमेंट करके बता सकते हो।

पिता के इस आर्टिकल को जितना हो सके उतना फेसबुक, ट्विटर और व्हाट्सएप्प पर शेयर जरूर करें जिससे बाकि बच्चे भी अपने पिता के लिए बेस्ट पोएम लिख सके।

आपको पिता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

About the author

Himanshu Grewal

मेरा नाम हिमांशु ग्रेवाल है और यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमें आपको दुनिया भर की बहुत सारी जानकारी मिलेगी जैसे की Motivational स्टोरी, SEO, इंग्लिश स्पीकिंग, सोशल मीडिया etc. अगर आपको मेरे/साईट के बारे में और भी बहुत कुछ जानना है तो आप मेरे About us page पर आ सकते हो.

1 Comment

  • आपकी पोस्ट बहुत अच्छी थी।

    पढ़कर अच्छा लगा।

    इसे हमारे समक्ष रखने के लिए धन्यवाद !

Leave a Comment